ऑफीस के अंकल से मेरी हॉट चुदाई

हेल्लो दोस्तों मैं आप सभी का नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है।

ही मैं स्नेहा फ्रॉम देल्ही. आज पहली बार अपनी स्टोरी लेकर आपकी सेवा मे हाज़िर हू. मेरी फिगर 34-32-34 है और मैं दिखने मे गोरी हू हाइट 5. 6 है. मैं **त की स्टूडेंट हू और ये कहानी कुछ दिन पहले की है. ये कहानी मेरी पहली चुदाई की है जब मम्मी के बॉस ने मेरी सील तोड़ी और मुझे चुदक्कड़ बना दिया.

उस वक़्त मैं सेक्स के बारे मे आच्छे से जानती थी लेकिन कभी की नही थी. मेरी मम्मी एक प्राइवेट कंपनी मे काम करती है और उनकी सेलरी भी ठीक ठाक है. मेरे पापा दूसरे सिटी मे रहते है. और कभी कबार ही घर आते है जिस से मम्मी ज़यादा सेक्स नी कर पति और इसलिए शायद संतुष्ट नी थी.

मम्मी और उनके बॉस आच्छे दोस्त भी थे और वो अक्सर मेरे घर आया करते थे. एक रात मैं सो कर उठी तो मम्मी के रूम से कुछ आवाज़ आ रही थी. मैं टाइम देखी तो 12 बज रहा था. मुझे लगा पापा है तो मैं उनके रूम जाने लगी लेकिन डोर लॉक था.

मैं वही खड़े होकर सुनने लगी. ध्यान से सुनने के बाद पता चल गया की ये बॉस अंकल की आवाज़ है. मैं समझ गयी की अंदर कुछ चल रहा है मैं खिड़की के पास गयी तो खिड़की ओपन थी. थोड़ा सा खिड़की खोली और देखने लगी मैं अंदर के हालात देखकर चौक गयी.

अंदर मेरी मम्मी पूरी नंगी थी और बॉस अंकल के लंड चूस रही थी. पहली बार किसी लंड के दर्शन हुए थे. अंदर मम्मी आच्छे से चूस रही थी और अंकल मम्मी के बूवस दबा रहे थे मैं उस वक़्त नाइटी मे थी तो मैं भी अंदर हाथ डालकर अपना बूब्स दबाने लगी मुझे मज़ा आने लगा एक अज़ीब सा एहसास होने लगा.

More Sexy Stories  Chote Bhai Ne chod ke kuwari seal tod di

फिर अंदर देखी तो बॉस अंकल मम्मी की चूत चाट रहे थे और कभी कभी उंगली डाल रहे थे तो मम्मी श आहह चिल्ला रही थी. ये देखकर मैं भी अपना उंगली अपने चूत के अंदर डालने लगी पर आच्छे से नही गया पर अंदर उंगली डालने पर बहुत अछा लगा.

मैं अपने चूत मे उंगली डाल रही थी और उनकी चुदाई देख रही थी अंकल का लंड बहुत बड़ा था अब मम्मी को लेटा कर अंकल उनके उपर लेट गये और उन्हे चोदने लगे उधर मम्मी आ आ आह आ ऑश कर रही थी और इधर मैं भी गरम हो रही थी.

थोड़ी देर बाद अंकल उठ गये और मम्मी भी उठ गयी फिर मम्मी घोड़ी की तरह बन गयी और अंकल उन्हे चोदने लगे. वो चिल्ला रही थी. इधर मैं अपने होश से बाहर हो रही थी ऐसा लग रा थी की मैं अंकल का लंड ले लू. पर क्या करती. अंकल मम्मी को रंडी की तरह चोद रहे थे. थोड़ी देर बाद अंकल झड़ गये. मेरे चूत मे से भी पानी निकल गया.

सुबह के तीन बज चुके थे मैं देखी की अंकल कपड़े पहने और मम्मी से बोले. अंकल -मज़ा आया क्या.

मम्मी-तुम्हारे लंड लेने के बाद तो जन्नत का एहसास होता है.

मम्मी -लेकिन अब तुम जाओ स्नेहा कभी भी उठ सकती है.

अंकल -तुम्हे तो कहता हू स्नेहा को भी मिला लो उसकी भी सील तोड़ दूँगा.

मम्मी -ठीक है अभी तुम जाओ. इतना सुन ने के वाद मैं अपने रूम मे चली गयी और देखी की अंकल भी चले गये. मैं सुबह उठी तो सब नॉर्मल था. अब मैं हर रात उठती और देखती की हर रात बॉस अंकल आ जाते थे.

More Sexy Stories  हिन्दी गंदी कहानी देसी चुदाई दूध पिता बच

अब मैं हर दिन उनकी चुदाई देखती और अपने चूत मे उंगली डाल कर खुद को शांत कर लेती. अब मेरा भी मन करने लगा था की मैं भी इस अंकल के लंड से प्यार करू पर वेट कर रही थी. एक रात मैं उनकी चुदाई देख रही थी तभी अंकल ने मम्मी से कहा.

अंकल – तुम स्नेहा का सील तोड़ने का मौका कब दोगि.

मम्मी-अरे यार मेरे पास कोई प्लान नही है तुम्हारे पास है तो तुम खुद ही कर लो.

अंकल -मेरे पास एक उपाय है.

मम्मी -क्या.

अंकल -मैं तुम्हारे चुदाई की वीडियो बना लेता हू और फिर स्नेहा को तुम्हारे इज़त का हवाला देकर ब्लॅकमेल करूँगा तो वो मान जाएगी. मम्मी-अगर मान जाएगी तो ठीक है तुम ही करो. इतना सुन कर मैं खुश हो गयी और अपने रूम मे चली गयी. अब मेरे लिए चुदाई का सपना सच होने वाला था.

अगले दिन शाम को अंकल घर पे आए. मम्मी किचन मे चाय बना रही थी वो सीधा मेरे रूम मे आ गये. मैं बेड पे बैठी थी तो वो बोले स्नेहा आओ तुम्हे एक वीडियो दिखाता हू. इतने मे मम्मी भी आ गयी. तो मैं अनजान बनते हुए बोली कैसा वीडियो. वो पेन ड्राइव निकाले और टीवी मे लगा दिए.

और मुझे वही बैठने को बोले. मैं लेफ्ट साइड मे बैठी और अंकल बीच मे और मम्मी अंकल के राइट साइड मे. टीवी पे वीडियो चलने लगा मम्मी लंड चूस रही थी. मैं पूछी ये क्या है तो अंकल बोले ये तुम्हारी मम्मी मेरा लंड चूस रही है और चुद्वा भी रही है. मम्मी सर झुका कर चुप चाप बैठी थी.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *