ऑफीस फ्रेंड की वाइफ चुदाई

हेलो फ्रिंड्स मेरा नाम राकेश है मैं जम्मू से हूँ, हाइट 5’9” हेल्दि और मेरे लंड का साइज़ 6” है पर 2 इंच मोटा और चुत का तेल निकालने के लिए काफ़ी. सेक्स स्टोरी

ये कहानी 2 हफ्ते पहले की है, मेरे ऑफीस के फ्रेंड मदन जो की आसाम का रहने वाला है उसकी शादी कुछ 20 दिन पहले हुई है, और वो 1 मंथ की छुट्टी के बाद अपनी बीवी के साथ जम्मू आ गया था.

वो हमारी फॅक्टरी के ऑफीस ब्लॉक के अप्पर वाले रूम मैं से एक रूम मे रहता है, मेरा रूम भी उनके पास है, हमारी अच्छी बनती है.

मदन की वाइफ एक कमसिन कली है नाम मीरा (नाम चेंज्ड), मीरा मदन से कुछ 6 साल छोटी है और हाइट भी कम है उसकी लगभग 4 फीट होगी पर फिगर एकदम मस्त, एक दम टाइट हार्ड बूब्स अबाउट 34 28 की कमर और 30 की कमर, छोटी थी पर फुल चालू टाइप फीलिंग, मुझ से सेम डे मिली और शाम को घुल मिल गयी.

बात सॅटर्डे की है, मैने मदन से शादी की पार्टी माँगी, फॅक्टरी मैं 5.30 छुट्टी हो गयी थी, मैने उसे कहा कल छुट्टी है तो यार दारू पीला आज, मदन दारू के मामले मे लालची था, बोला मेरे पास तो पैसे हैं नहीं अभी अगले हफ्ते दे दूँगा, मैने उसे 1000 दिए और कहा पार्टी तो आज ही लेनी है तू बाइक ले जा और समान ले आ चाहे तो भाभी को भी साथ ले जा पर चिकन भी ले आना.

मदन भाभी को ले कर नीचे आया मेरे से चाबी ली और अभी बैठा ही था की बोला रूको मेरा मोबाइल अप्पर रह गया, भाभी तो मैने ऑफीस मैं बिताया, मदन चाबी लेने गया.

थोड़ी टाइम मे मदन आया तो भाभी उठी और मैं उनके पीछे था, जैसे ही डोर के पास पहुँची मैने प्यार से उनकी गॅंड पर हाथ टच किया और बाहर निकला, बाइक पर बैठी तो मुझे देख कर उसने स्माइल दी, वो चले गये और 6.30 तक वापिस आए वित ऑल मेटीरियल्स.

More Sexy Stories  शादी शुदा औरत की हॉट चुदाई

मैने भी ऑफीस बंद किया और फॅक्टरी का मेन गेट अंदर से बंद किया, मैं रूम मे गया और जाते समय पूछा किस टाइम आउ,

भाभी – आप नहा धो कर आ जाओ राकेश जी.

मदन – हान तब तक मछली बन जाएगी.

नहा कर मैने शॉर्ट्स पहनी विदाउट अंडरवेर विथ सॅंडो ऑन टॉप और दरवाजा खड़काया, भाभी ने खोला दरवाजा, बोली आओ जी.

मैं – मदन कहाँ है.

भाभी – नहा रहे हैं.

भाभी किचन मे गयी और फिश प्लेट मे डाली, और आवाज़ लगाई भाई साहब ज़रा इधर आना, चाट मसाला उतार कर दो उन्होने उपर रखा है.

मैं – मैं उतार दू यार आप को उठाउ और आप उतरो गे.

भाभी – छ्हि अभी तो आप ही उतार दो, फिर कभी उठा लेना.

मैने उतार कर दिया और रूम मे आ कर नीचे बैठ गया, छोटा सा टेबल लगा था मेरे सामने मदन बैठ गया और साइड पर भाभी.

मदन ने ड्रिंक्स बनाए, सला लालची मेरे स्माल और अपने लार्ज बनाता गया हम 2 2 पेग डाउन हुए थे, की भाभी डिन्नर रेडी कर रही थी किचन मे, बर्फ ख़तम हुई और भाभी को बोला फ्रिज मे से बर्फ दे, डब्बा बड़ा था तो उस से टूटी नहीं.

मदन उठने लगा तो लड़खहाड़ाया तो मैने कहा रुक मैं तोड़ कर लता हूँ, मैने भाभी से डब्बा लिया तो एक हाथ पकड़ा, उसने हल्की सी स्माइल दी, और कब मैने सींक के पास बर्फ तोड़ चक्का था तो बोली अब मुझे दे दो मैं छोटे पीस कर के ले आती हूँ मैने ओके कहा और जैसे ही मुड़ा फिर से उसकी गॅंड दबा दी, उसके मूह से हल्की सी आह निकली, पर वो मदन से कुछ नहीं बोली और मेरी हिम्मत बढ़ गयी.

खाना बना कर हुमारे पास आ कर बैठ गयी, फॅक्टरी एरिया मैं 8 – 10पीयेम लाइट का कट होता है और जैसे ही लाइट गयी, भाभी का हाथ मेरे थाइस पर आया और प्यार से उसने दबाया.

More Sexy Stories  Sex With Married Auntie In Delhi

पहले तो मुझे लगा शायद मैं सपना देख रहा हूँ पर जब मैने मोबाइल की टॉर्च ओंन की तो भाभी स्माइल कर रही थी, एक दम आराम से बैठी हुई थी.

मैं कॅंडल लेने किचन मे गया कॅंडल तो मिल गयी पर माचिस नहीं थी तब भाभी ने कहा भाई सहाब रूको मैं देती हूँ माचिस, मदन वहीं बैठा रहा और भाभी मेरे पास से गुज़री और मेरे लंड पर उनका हाथ टच हुआ, लंड मे हरकत आई और थोड़ा हिल गया.

भाभी ने माचिस जलाई और कहा.

भाभी – लगता है उन से बड़ा है.

मैं – वोहतो देख कर पता लगेगा, अगर तुम चाहो तो आज ही देख सकती हो.

भाभी – आप उनको संभलो पहले.

मैने फिर कॅंडल उठाई और भाभी के लेफ्ट बूब को प्यार से दबाया और बाहर आ गया.

हुमारी बॉटल ख़तम होने वाली थी मैने तो 2 पेग पिए थे बाकी मदन गटक गया था.
उसने लास्ट के 2 प्याग बनाए और भाभी को कहा खाना ले आ अब, दोनो ने लास्ट प्याग लगाए और मेरे दारू चढ़ने की आक्टिंग चालू की.

मैं – यार बहुत चढ़ गयी है अब तो रूम तक भी जाना मुश्किल है.

मदन – खाना तो खा ले अब.

मैं – हन हन हमारी भाभी के हाथ का खाना तो खाना ही है.

हम तीनो ने साथ मे बैठ कर खाना खाया.

खाना खाते ही मदन वॉशरूम चला गया.

रत के 9.30 हुए थे, मदन उठ नही पा रहा था तो मैने उसे उठाया और उसके बेड पर उसको छोड़ा, भाभी मुझे छोड़ने डोर तक आई, तो मैने ज़ोर की आवाज़ लगाई, भाभी टॉर्च ले आओ बाहर अंधेररा है, मेरे तो नीचे रूम तक छोड़ आओ फिर दरवाजा बंद कर लेना.

Pages: 1 2

Comments 1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *