कामवाली बाई बनी घरवाली

Desi Gandi Kahani Naukrani Kaamwali Bani Gharwaali हेलो दोस्तो. होप आप सब मज़े मे है. आज जो देसी गंदी कहानी नौकर नौकरानी मैं आप सब के लिए लाया हू. वो एक सच्ची घटना पे है. जो की एक महीने पहले हुआ था मेरे साथ.. ये कहानी मेरे एंड मेरे घर में खाना बनाने आने वाली के बीच है.

अपने बारे में बता दू मैं आप लोगो को. मेरा नाम राज है और मैं हैद्राबाद में रहेता हू. अगर कोई आंटी या फीमेल/ महिला हैद्राबाद की जिसको सॅटिस्फॅक्षन चाहिए मुझे कॉंटॅक्ट कर सकते है और वक़्त ना लेते हुए अब कहानी पे आता हू.

तो जैसे मैने आपको बताया की ये मेरे घर खाना बनाने वाली और मेरे बीच हुए रिलेशन्षिप की है. बात उस वक़्त की है जब मेरी फॅमिली अपनी समर वेकीशन के लिए घर गये हुए थे. और मैं यहा अकेले था. मेरे वाइफ ने उसको बोल दिया था की वो मेरे खाने पीने का ध्यान रखे.

मैं उस दिन अर्ली मॉर्निंग मेरी फॅमिली को स्टेशन ड्रॉप करके घर आके सो गया था. उस्दीन मेरी ऑफीस की छुट्टी थी तो मैं आके एक अछी सी स्टोरी पड़ते पड़ते सो गया. मेरी आँख खुली जब काम वाली आके बेल बजाई.

उस वक़्त मेरा ध्यान नही था के मेरा लंड पूरा खड़ा था और मेरे पैंट मे टेंट बना हुआ है. मैं आधी नींद में दरवाजा खोला. उसने मुझे देखा और एक स्माइल दी और अंदर चली गयी.

कुछ देर बाद मैं मूह हात धोके आया और चाय के लिए पूछा. वो चाय देते वक़्त मुस्कुरा रही थी. मैं काफ़ी दिनसे उसको चोदने के ख्वाब देख रहा था बट कोई चान्स नही मिल पा रहा था. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

उसको मुकुराते देख मैं उसको पूछा क्या हुआ आज बड़ी मुस्कुरा रही हो. तो उसने कुछ नही कहा और मुकुराते हुए अपने काम करने चली गयी. मैं चाय लेके उसके पीछे किचन मे चला गया और फिर से पूछा तो उसने शरमाते हुए पूछा की सुबह आपको क्या हुआ था पैंट में तंबू क्यूँ बना रखा था,

यह सुनते ही मुझे थोड़ी श्रम आ गई. बट फिर मैने सोचा की यही सही मौका है अगर आज कुछ नही किया तो कुछ नही होगा. मैने उसको कहा के आपको ही याद कर रहा था और तंबू हो गया. तो वो शर्मा गयी. मैं समझ गया की कुछ तो है. वो भी चाहती है की कुछ हो..

वो उस वक़्त आटा गुन्द रही थी. मैं उसके पीछे जाके उसके कमर पे हाथ रखकर उसे थोड़ा अपनी तरफ खिछा और अपने खड़े हुए लॅंड उसके गॅंड मे सटा दिया. वो थोड़ा अपने आपको छुड़ाने की कोशिश कर रही थी. पर पूरा ज़ोर नही लगा रही थी.

More Sexy Stories  भाभी और उनकी कामवाली के साथ ग्रूप सेक्स

मैं धीरे से अपने हात पीछे से उसके पेट और बेल्ली बटन पे घूमाते हुए बोला की आपने इसे खड़ा किया है अब आप ही इसको शांत करो और ये बोलके मैं उसके कान और गले पे किस करने लगा. वो हल्के से अपना सिर पीछे करली और मेरे से सॅट गयी और बोली ये कैसे करे. अगर किसी को पता चल गया तो.. मैने कहा क्या तुम बाहर जाके बोलोंगी या मैं जाके बोलूँगा तो वो हस्दी और मुझे पूरा विषवास हो गया की अगले एक महीने तक मेरा काम बन गया..

मैने उसको पीछे से पकड़ के किस करना शुरू किया और उसके बूब्स को दबाना शुरू किया. वो बड़े प्यार से बोली. काम ख़तम करलू फिर आती हू.. मैने उसे अपना काम करने दिया और मैं नहा धोके रेडी हो गया.

उसने जल्दी से अपना काम ख़तम किया और मेरे पास बेडरूम मे आके बोली अब क्या करना है काम हो गया मेरा. मैने कहा कहा हुआ काम. देखो अभी भी खड़ा है. वो शर्मा के सिर नीचे करली. मैं खड़ा हुआ उसके पास गया और उसका हात पकड़ के हल्के से अपने पैंट के उपर से लॅंड पे रखा. उसने फट से उसको पकड़ लिया और बोली आपका तो बहुत बड़ा और मज़बूत है मेरे पति का तो इसका आधा भी नही है..

मैं बोला चिंता मत करो आज से अगले एक महीने तक के लिए ये तेरा है रोज तुझे 2 बार तो कम से कम चोदुन्गा. वो दिन में दो बार आती है काम करने. वो खुश हो गयी और उसने अपना हात मेरे पैंट के अंदर डाल कर मेरा लंड से खेलना शुरू किया मैं उसको किस कर रहा था. फिर उसने मेरे लंड को पैंट से बाहर निकाला और खुद अपने घुटनो पे बैठ के मेरे लंड को चुम्मा देने लगी.

फिर लीक किया और अपने मु में लेलिया और लॉलीपोप के तरह चूसने लगी. मैं तो जैसे सातवे आसमान पे था. उसने करीब 20मीं तक मेरा लंड चूसा. जब मेरा निकलने वाला था तो वो और ज़ोरसे चूसने लगी और मैने सारा पानी उसके मूह में ही छोड़ दिया. वो सारा पानी पी गयी और मेरे लंड को चूसके सॉफ कर दिया. अब मैने उसको खड़ा किया और धीरे धीरे उसकी सारी उतार दी किस करते हुए.

फिर उसका ब्लाउस और पेटी कोर्ट भी खोल दिया. उसने कोई ब्रा या पैंटी नही पहेनी थी. बिना ब्रा के भी उसके बूब्स पूरे तने हुए एंड टाइट थे. मैने फटसे एक बूब्स को मूह में ले लिया और दूसरे को अपने हात से दबाने लगा. वो सिसकारिया लेने लगी और उसकी सासे तेज़ हो रही थी.
अब मैने उसको बेड पे लिटा दिया और उसको सिर से लेके पैर तक किस करना शुरू किया. जैसेही मैं उसके चुतपे किस और लीक किया वो तड़प गयी और मेरे सिर को अपने चुतमे दबाने लगी. मैं भी पूरे जोश से उसकी चुत चाट रहा था. उसने 5मीं में ही अपना पानी छोड़ दिया.

More Sexy Stories  पड़ोसन भाभी का प्यार या वासना- 2

अब कहने लगी की और इंतेज़ार नही होता जल्दी से अपना लंड अंदर डालो. मैने अपना लंड उसके मूह में दे दिया उसने उसको चूस के खड़ा कर दिया और बोली अब जल्दी करो. नही रहा जा रहा… मैने उसे बिस्तर पर लेटा के उसके गॅंड के नीचे तकिया लगाया और उसके पैर फैलाक़े चुत पे अपना लंड लगाया तो वो मचल उठी और मैने अपना लंड उसकी चुत पे रगड़ना शुरू किया. अंदर नही डाल रहा था.

वो मचल रही थी और आआहह उउउउउउउउईईई की आवाज़ निकाल रही थी. फिर उसने मेरा लंड अपने हातसे पकड़ा और अपने चूत के मूह पे लगाया एंड मैने भी हल्का सा धक्का दिया तो लंड के सामने का हिस्सा उसकी चुत में चला गया. वो चिल्ला उठी दर्द से. वो एकदम टाइट थी एक वर्जिन की तरह. मैं उसे किस करने लगा और थोड़ी देर वेट किया.

उसको थोड़ा दर्द कम हुआ तब मैने एक फुल धक्का मारा और मेरा 6 इंच का लंड एक ही शॉट में पूरा अंदर डाल दिया. वो चिल्लाने लगी. निकालो मैं मर जाउन्गि. मैं कुछ देर वैसे ही रहके बादमे धीरे धीरे आगे पीछे करना शुरू किया. वो भी अब मस्ती में आ रही थी और अपना कमर उठा उठा के मेरा लंड अपनी चुत में ले रही थी.

करीब 20मिनट तक उसे कंटिन्यू चोद रहा था उसी बीच वो करीब 3 बार अपना पानी छोड़ चुकी थी. अब मेरा भी निकलने वाला था तो मैने पूछा कहा छोड़ू. वो बोली अंदर ही छोड़ दो मुझे फील करना है.. मैने अपनी स्पीड थोड़ा ज़्यादा किया और सारा पानी उसके चुत में छोड़ दिया. फिर हम लेट के एक दूसरे को किस करते सो गये थोड़ा.. उस दिन वो शाम तक मेरे साथ थी और हम ने पूरे दिन में करीब 6 बार सेक्स किया.. उसके बाद अगले एक महीने तक हम रोज़ सेक्स करते. कभी कभी वीकेंड पे वो मेरे साथ ही रह जाती और हम बहुत मज़े करते. वो कहानी मैं फिर लिखूंगा…

मुझे अपना फीडबॅक देने के लिए कृपया कहानी को ‘लाइक’ ज़रूर करे, ताकि कहानियों का ये दौर देसीकाहानी पर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

दोस्तो आपको ये देसी गंदी कहानी नौकर नौकरानी कैसी लगी प्लीज़ अपना फीडबॅक शेयर करिएगा.. किसी भी फीमेल को हैद्राबद में मेरी ज़रूरत हो तो ज़रूर ईमेल करे हम साथ में बहुत मज़े करेंगे..