तन्हा चूत की प्यास लंड से बुझी- 3

जबरदस्त चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैडम मेरे साथ कुछ अलग तरह का सेक्स करना चाहती थीं. उन्होंने लिक्विड चॉकलेट लगा कर ओरल सेक्स का जोरदार मजा लिया.

नमस्कार साथियो, मैं विक्की विन फिर से आपके सामने हाजिर हूँ. अब तक की जबरदस्त चुदाई की कहानी
तन्हा चूत की प्यास लंड से बुझी- 2
में आपने पढ़ा था कि मैडम मेरे साथ कुछ अलग तरह का सेक्स करना चाहती थीं. इसलिए वो अपने हाथ में लिक्विड चॉकलेट का एक जार लिए हुए कमरे में आ गई थीं.

अब आगे की जबरदस्त चुदाई की कहानी:

मुझे समझते देर न लगी कि अब एक्साइटमेंट का एक अलग मजा होने वाला है.

मैंने भी आगे बढ़ते हुए उंगली से थोड़ा सी लिक्विड चॉकलेट ले ली और उनके होंठों पर लगा दी. फिर धीरे-धीरे मैं अपनी जीभ से उनके होंठों पर लगे हुए लिक्विड चॉकलेट को चूस कर साफ करने लगा.

लिक्विड चॉकलेट साफ करते करते मैं उन्हें किस करने लगा. वह मुझे बड़ी गौर से देखने लगीं. शायद मैडम यह कह रही थीं कि तुम मेरे इशारों को समझ लेते हो.

इसके बाद मैडम ने भी थोड़ा सा लिक्विड चॉकलेट अपनी उंगलियों पर लेकर मेरे लंड पर लगा दिया. फिर धीरे-धीरे वो नीचे आकर मेरे लंड पर लगे चॉकलेट को अपनी जीभ से धीरे-धीरे चाटने लगीं.
उन्होंने लिक्विड चॉकलेट को चाटते हुए ही मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और बहुत ही अच्छे तरीके से मेरे लंड को चूसने लगीं.

मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. मेरे मुँह से आनन्द भरे स्वर ‘आह आह …’ निकल रहे थे.
कभी मैडम मेरे लंड को पूरे अपने मुँह में ले लेतीं, तो कभी लंड के सुपारे को चाटने लगतीं. वे लंड को अपने मुँह में लेकर बड़े चाव से चूस रही थीं. सचमुच मेरे लिए ये एक आनन्ददायक अनुभव था.

कुछ देर बाद दोबारा से उन्होंने मेरे लंड पर लिक्विड चॉकलेट को लगाया और फिर से लंड चूसने लगीं. अब मैं भी उनके मुँह में अपने लंड को आगे पीछे करने लगा. उनके सर को पकड़कर मैं आगे पीछे करने लगा. वे भी इस पल का बहुत ही मस्ती से आनन्द से लेते हुए लंड चूस रही थीं. मेरे लिए भी इस तरह का अनुभव एकदम नया अनुभव था.

कुछ देर लंड चूसने के बाद मैंने उन्हें उसी पोजीशन में रखते हुए उन्हें घुमा दिया. चूंकि हम दोनों खड़े थे, तो अब उनकी चूत मेरे मुँह पर आ गई और मैंने भी चॉकलेट लेकर उनकी चूत की फांक पर लगा दी.

मैडम की गोरी चुत की रंगत अब ब्राउन हो गई थी. मैं धीरे-धीरे उनकी चूत को चाटने लगा. हम दोनों सिसकारियां लेते हुए बड़े ही मजे से एक दूसरे के अंग को चूस रहे थे.

उनकी चुत से चॉकलेट जैसे ही खत्म होती, मैं फिर से उनकी चूत पर चॉकलेट लगा देता और चूसने लगता. मुझे उनकी मीठी चुत इतनी अधिक टेस्टी लग रही थी कि अब मैं अपनी जीभ को नुकीली करके उनकी चूत में अन्दर तक डाल कर नमकीन चुतरस का स्वाद लेने लगा था.

चूंकि मैडम की चूत एकदम टाइट थी. तो उनको भी मेरी जीभ से मजा आ रहा था. उनकी वासना से लबरेज सिसकारियां और भी बढ़ने लगी थीं.

इसी बीच उनकी चुत से एक बार पानी भी निकल गया था. नमकीन चुतरस के स्वाद के साथ चॉकलेट का स्वाद लेना मुझे एक अलग तरीके की मस्ती का अहसास दिला रहा था.

कुछ देर बाद मैं उन्हें लेकर बिस्तर पर आ गया और उन्हें पटक दिया.

वे मुझसे कहने लगीं- मुझे तो तुमसे प्यार हो गया है.
मैंने भी जबाव में कहा- आप भी बहुत अच्छी हो … मुझे भी आपसे प्यार होने लगा है.
वो मुझसे कहने लगीं- सच में यार कितना मजा दे रहे हो … तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिले. मैंने जिंदगी का कितना महत्वपूर्ण समय गंवा दिया.
मैंने उनसे कहा- आप चिंता मत करो अभी कोई देर नहीं हुई है.

More Sexy Stories  डांस टीचर से दोस्ती और चुदाई के बाद प्यार- 1

उसके बाद मैं उनके ऊपर चढ़ गया और किस करने लगा. मैं चाहता था कि अब वो मुझे जब हुकुम करें … तब ही लंड अन्दर पेलूंगा. मैं उनके ऊपर था और उन्हें किस कर रहा था. इस समय मेरा लंड उनकी चूत के छेद के ठीक सामने था और चूत के दाने को रगड़ रहा था.

उन्होंने अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत की फांकों के बीच में रखा और मुझे धक्का देने के लिए बोला. मैंने हल्का सा धक्का दे दिया. मेरा लंड उनकी चूत में घुसता चला गया.

मैडम की कसी हुई चुत में मोटे लंड के सरक जाने से उनके मुँह से ‘आह्ह … मार दिया …’ निकल गया.

वो मेरे नीचे से ही मचल रही थीं. उन्होंने मुझसे कहा- अब तुम जैसे चाहो अपनी पोजीशन फिक्स कर लो, मैं नीचे से ऊपर नीचे करती हूं.
मैंने वैसा ही किया और रुक गया.

मैडम नीचे से अपनी गांड उठाते हुए चूत को लंड पर आगे पीछे करने लगीं. मैं उन पर झुका हुआ था तो वो चुदाई के साथ मुझे किस भी करने लगीं. फिर मैडम ने मेरा एक हाथ अपने चूचों पर रख दिया और दबाने के लिए कहने लगीं.

अब मैं भी आराम आराम से धक्के देते हुए उनकी चुदाई करने लगा. मेरे मुँह में उनकी एक चूची का निप्पल दबा हुआ था.

थोड़ी देर तक मैडम की चुदाई करने के बाद उनका जिस्म अकड़कर झुरझुराया और उनका पानी निकल गया. पानी झाड़ते ही मैडम मेरे नीचे ही निढाल हो गईं. वो मुझसे बिल्कुल संतुष्ट दिख रही थीं. उनकी चूत का पानी निकल गया था, तो लंड छप छप की आवाज करने लगा था.

मैंने अपने लंड को उनके चूत में ही रोक दिया और उनको किस करना चालू कर दिया.

कुछ पल बाद मैडम ने बगल से चॉकलेट उठाते हुए कहा कि चॉकलेट अभी भी बची हुई है … उसका यूज़ करना नहीं चाहोगे?

आज पता नहीं क्यों … मैं उनके हर इशारे को अच्छे तरीके से समझ रहा था. मैंने उनकी बात को समझ लिया कि मैडम क्या चाहतीं हैं.

मैंने कहा- ओके जान … आप इसी तरह लेटी रहो.

उनके हाथ से मैंने चॉकलेट का जार ले लिया. थोड़ी सी चॉकलेट को उनके होंठों पर लगा दी. कुछ उनके मम्मों पर लगा दी. और जो बची हुई चॉकलेट को नीचे हाथ ले जाकर उनकी चूत पर लगा दी.

फिर मैंने कहा- बोलो डार्लिंग.. कहां से चॉकलेट को चाटना शुरू करूं?
उन्होंने मस्ती से आंख दबाते हुए कहा- जहां से तुम्हारी मर्जी.

मैंने सोचा कि नीचे से ही शुरू करता हूं.

मैंने लंड चुत से खींचा और उनकी चूत पर लगी हुई चॉकलेट को धीरे धीरे चाटना शुरू कर दिया.

उनका शरीर कसमसाने लगा था, लेकिन उनके सेक्सी शरीर के हर महत्वपूर्ण अंग पर चॉकलेट लगी हुई थी, तो वह हिल भी नहीं पा रही थीं.
उनको भी बहुत मजा आ रहा था. मैंने उनकी चूत को अच्छे से चाटा.

उसके बाद उन्होंने सेक्सी अंदाज में मुझे उंगली से इशारे से अपने करीब बुलाया.
मैं समझ गया और मैंने अपना सर उनके सीने के पास कर दिया.

मैडम ने मेरा मुँह अपने चूचों पर लगा दिया. मैं भी बहुत मस्ती भरे अंदाज में उनकी दोनों चूचियों को बारी बारी से चूसने लगा. मैडम की मीठी चूचियों को चूसने में मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.
कुछ देर बाद धीरे-धीरे मैं मैडम के ऊपर आने लगा.
मैडम बोलीं- अभी होंठों में भी चॉकलेट लगी हुई है. वो तुम मुझे चोदते हुए चाटना.

मैंने अपना लंड उनकी चूत में रखा और एक जोर का धक्का लगा दिया. उनके मुँह से जैसे ही ‘अओह …’ निकलने वाली थी … मैंने झट से अपना मुँह मैडम के होंठों पर रख दिया. इस तरह उनकी एक मस्ती भरी सीत्कार दब कर रह गई. अब मैं चुत में धक्के लगाने लगा. साथ ही उनके होंठों को चूसने लगा.

More Sexy Stories  जिगोलो की कामुक दुविधा-1

इस तरह चुदाई में मैं कभी तेज तो कभी धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.

मैडम की चूत अभी भी बहुत टाइट लग रही थी. जैसे-जैसे चुदाई अपनी चरम पर पहुंच रही थी, वो भी अपने नाखूनों को मेरी पीठ पर गाड़ रही थीं.

उनका यूं नौंचना मुझे भी अच्छा लग रहा था. मैं भी उन्हें पूरी रफ्तार से चोदे जा रहा था. कोई पांच मिनट बाद मैडम फिर एक बार झड़ गईं. मगर अभी मैं उन्हें पूरी रफ़्तार से चोद रहा था.

कुछ देर बाद मुझे लगा कि अब मेरा भी निकलने वाला है. मैंने अपनी रफ्तार थोड़ी कम की और उन्हें किस करने लगा.

मैडम को किस करने के बाद मैंने उनकी चूत में जोर से धक्का मारा और फिर से धकापेल चुदाई करने लगा.

मैडम वाकयी बहुत प्यासी थीं. मैं भी उनकी इच्छापूर्ति में लगा हुआ था. अब उन्हें फिर से लंड अच्छा लग रहा था. मैं भी ताबड़तोड़ चुदाई किए जा रहा था.
अब तो मैडम इतनी तेज आवाज निकाल रही थीं कि अगर कोई आस पास होता, तो जरूर पूछने आ जाता कि मैडम क्या हो गया है.

एक मिनट की चुदाई के बाद मेरा पानी निकलने वाला था. उनका तो ना जाने कितनी बार पानी निकल चुका था.

जब मेरा पानी निकलने को हुआ, तो मैंने उनसे फिर पूछा- अबकी बार पानी कहां निकालूं?
उन्होंने मुस्कुरा कर कहा- मेरे मुँह में निकालो.

मैं तुरंत अपना लंड उनकी चूत से निकालकर उनके मुँह के पास ले गया. उसी पल उन्होंने बची हुई पूरी चॉकलेट मेरे लंड पर उड़ेल दी और मेरे लंड को चूसने लगीं. मैं मस्ती से आंखें बंद करके उनके मुँह में अन्दर तक लंड दे रहा था. वे भी जोर जोर से लंड चूसने लगीं.

तभी मेरा पानी निकल गया और मैं कटे हुए पेड़ की तरह उनके ऊपर ही छाने लगा. मैं पूर्णरूपेण थक गया था.
कुछ देर के बाद मैं उनके ऊपर से उठकर उनके बगल में ही बिस्तर पर लेट गया.
वो भी मेरी बांहों में आकर लेट गईं.

सांसों को नियंत्रित करने के बाद मैं उनसे बातें करने लगा. मैंने पूछा- आप कैसा महसूस कर रही हो?
जबाव में उन्होंने एक प्यारा सा किस दिया और बोलीं- इस खुशी के लिए तुम्हारा धन्यवाद.

हम दोनों यूं ही लेटे रहे.

कुछ देर के बाद उन्होंने बोला कि अब हमें सो जाना चाहिए … सुबह फिर उठना है.

मैंने घड़ी देखी तो घड़ी में 3:00 बज रहे थे. मैंने उनसे पूछा कि सुबह सुबह इतनी जल्दी क्यों उठना?
वो बोलीं- सुबह हम 3-4 दिन के लिए बाहर जाएंगे. मैं चाहती हूं कि तुम मेरे साथ रहो और हम दोनों फुल मस्ती करें. अगर हम यहां पर रहेंगे, तो आस पड़ोस वाले पूछेंगे ही.

मुझे भी उनकी बात सही लगी.

हम दोनों नंगे ही चिपक कर सो गए.

सुबह आठ बजे उठकर हम दोनों तैयार हुए और उनकी कार से ही अपनी यात्रा पर निकल गए. उस समय मुझे उनका बाजार से कपड़े खरीद लेने का मतलब समझ आया कि वो क्यों कह रही थीं कि बाद में समय नहीं मिलेगा.

तो दोस्तो, यह थी मेरी इस मोहतरमा के साथ चुदाई की कहानी. मैडम की चुत को संतुष्टि देने वाली सेक्स कहानी.

इस सेक्स कहानी का अगला भाग भी लिखूंगा, जिसमें मैंने उनके साथ तीन-चार दिन बिताए. वो लगभग हनीमून के बराबर ही रहे. वो सेक्स कहानी भी मैं जल्द ही आपके समक्ष लाऊंगा.

अब आप मुझे बताइए कि आपको जबरदस्त चुदाई की कहानी कैसी लगी … अच्छी लगी तो मेल जरूर कीजिएगा और सुझाव जरूर दीजिएगा.
मेरी सेक्स कहानी पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.
[email protected]