हैप्पी न्यू इयर भाभी की चूत चुदाई के साथ

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार, आज मैं आपके साथ अपनी एक सच्ची हिंदी सेक्स स्टोरी शेयर कर रहा हूँ। मैं कोई लेखक नहीं हूँ, अगर मेरी कहानी में कोई ग़लती हो जाए.. तो पहले से ही उसके लिए मैं आप सभी से माफी चाहता हूँ।

मेरा नाम अभिषेक है। मैं अन्तर्वासना का पिछले 5 साल से पाठक हूँ। मैं नागपुर का रहने वाला हूँ, पर अब मैं बैंगलोर में जॉब करने के कारण यहीं शिफ्ट हो गया हूँ।

सेक्सी पड़ोसन का दीवाना

यह कहानी कुछ दिन पहले की है। मैं जहाँ किराए से रहता था वहाँ मेरे रूम के सामने एक शादीशुदा कपल रहते थे। भाभी का फिगर 34-32-36 के लगभग का रहा होगा.. वो दिखने में बहुत खूबसूरत हैं। उनके पति सुबह दस बजे काम पर चले जाते हैं और रात में 8 बजे घर आते हैं।

भाभी अपने घर का काम संभालती हैं और वे घर में अकेली रहती हैं। मैं घर आते-जाते उनसे हमेशा बातें करता हूँ। मैं उन लोगों से अच्छा खुल गया था। रविवार की शाम को मैं भैयाज़ी के साथ सब्जी लाने जाता था, घर आने पर भाभी जी हम दोनों को चाय पिलाती थीं।

भाभी की उम्र 25-26 साल की रही होगी मगर दिखने में वो अब भी कमसिन लौंडिया जैसी ही लगती हैं। वो हमेशा घर में सलवार सूट पहनती हैं। यह बात नए साल की 2 तारीख की है.. जब मैं शाम को अपना काम ख़तम करके घर आया.. तो भाभी जी ने मुझे आवाज़ दी।

मैं- हाँ भाभी.. बस दो मिनट में फ्रेश होकर आता हूँ।

यह बोल कर मैं रूम में गया.. फ्रेश और रेडी होकर भाभी के घर आ गया।

मैं आपको एक बात बताना ही भूल गया कि जब से मैंने भाभी जी को देखा था तब से मुझे उनसे प्यार हो गया था, मैं दिन-रात उनके ही सपने देखा करता था, मैं रोज उनकी नाम की मुठ मार के ही सोता था, मैं किसी भी हालत में भाभी को भोगना चाहता था। मैं हमेशा यही सोचता कि भाभी को कैसे पटा कर चोद लूँ।

मैं भाभी के घर गया, भाभी ने काले रंग की नाइटी पहनी थी। उनके गोरे बदन पर काली नाइटी बहुत ही सेक्सी लग रही थी।
मैंने भाभी से पूछा- हाँ भाभी.. आपने मुझे बुलाया था?
भाभी ने मुस्कुरा कर ‘हाँ’ में जवाब दिया।

‘आपके भैया ऑफिस के काम से दो दिन के लिए दिल्ली गए हैं, आज शाम से आप दो दिन मेरे ही घर में खाना खाइएगा।’
उनकी बात सुनकर मेरा दिल खुशी से नाचने लगा। जिस वक़्त का मैं इंतज़ार कर रहा था.. वो वक़्त आ गया।
कहते हैं ना.. कि भगवान के घर देर है.. अंधेर नहीं।

भाभी- आप बैठिए.. टीवी देखते, मैं चाय बनाकर लाती हूँ।

ठंड का मौसम चल रहा था और शाम के 7 बज गए थे। मैं टीवी ऑन करके गाने देख रहा था। कुछ ही मिनट में भाभी चाय और बिस्किट लेकर आईं और मेरे पास सोफा में बैठ गईं।

More Sexy Stories  होली के बाद की रंगोली-14

उन्होंने मुझे चाय का एक कप दिया और एक उन्होंने भी ले लिया। अब हम दोनों ठंड के मौसम का मज़ा लेते हुए चाय पी रहे थे और टीवी में नए गाने सुन रहे थे।

भाभी ने मुस्कुरा कर पूछा- अभि जी चाय कैसी लगी?
मैं- चाय तो आपकी ही तरह स्वीट है।
भाभी इस बात पर शर्मा गईं- आप अच्छा मज़ाक कर लेते हैं।
‘भाभी ये मज़ाक नहीं था.. ये सच है.. आप रियली बहुत स्वीट और खूबसूरत हैं।’
मेरी इस बात पर भाभी और शर्मा गईं।

भाभी की प्यासी चूत

मैं- आप कितनी लकी हैं.. आपको कितने अच्छे पति मिले हैं.. आपका कितना ख्याल रखते हैं।
इस बात पर भाभी थोड़ी उदास हो गईं।
मैं- क्या हुआ भाभी.. मैंने कुछ ग़लत बोल दिया क्या? सॉरी आइन्दा से नहीं बोलूँगा।

भाभी- ऐसी कोई बात नहीं है, उनका किसी और लड़की से अफेयर चल रहा है। आपके भैया को नई-नई लड़कियां सिर्फ़ भोगने के लिए चाहिए, रात को घर आते हैं.. खाना ख़ाकर सो जाते हैं। मेरी अन्तर्वासना प्यासी ही रह जाती है। रविवार में एक बार मुझे भोगते हैं और रविवार में भी पूरा दिन बाहर रहते हैं। मेरा वो कोई ख्याल ही नहीं रखते।
ऐसा बोलकर भाभी रोने लगीं।

मैं- भाभी प्लीज़ मत रोइए, नहीं तो मुझे भी रोना आ जाएगा। आज भाभी की बात सुनकर मुझे भी थोड़ा बुरा लग रहा था और मेरी समझ में नहीं आ रहा था। आज भाभी ने अपनी दिल की बात मुझे बता दी।
‘भाभी मैं बहुत दिनों से आपको एक बात बताना चाहता था.. पर कभी हिम्मत नहीं बोलने की मगर आज बोल रहा हूँ.. आई लव यू.. मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ, भैया आपका ख़याल नहीं रखते तो मैं आपका ख्याल रखूँगा भाभी।’

मेरी यह बात सुनकर उनके चेहरे पर ख़ुशी आईं, मैंने उनको गले से लगा लिया और ‘आई लव यू..’ बोला।

फिर भाभी ने भी ‘आई लव यू टू..’ बोलकर मुझे ज़ोर से गले लगा लिया और मेरे चेहरे पे किस कर करने लगीं।
हम दोनों भी एक-दूसरे को ज़ोर-ज़ोर से किस कर रहे थे.. गालों पर, होंठों पर, गले पर.. सच में बहुत ही कामुकता का माहौल महसूस हो रहा था।

मेरा लंड भी सख्त होकर अपनी पूरी लम्बाई में आ गया था।

भाभी- मेरे अभिजी.. आज मुझे आप बहुत प्यार करिए.. मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ। मुझे न्यू इयर में न्यू साथी मिल गया.. हैप्पी न्यू इयर!

मैं भाभी को अपनी गोद में उठा कर उनके बेडरूम में लेकर आ गया और उन्हें बिस्तर पर लेटा दिया। अगले ही पल मैं उनके ऊपर आकर उनके होंठों को अपने होंठों से लगा कर किस करने लगा। भाभी भी मुझे पूरा सपोर्ट कर रही थीं।

बहुत ही मज़ा आ रहा था दोस्तों.. जिसे मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता। जिस भाभी के नाम की मैं रोज मुठ मारता था.. आज मैं खुद उससे चोदने जा रहा हूँ। अब मैंने उनकी काले रंग की नाइटी निकाल कर उन्हें अधनंगा कर दिया।

More Sexy Stories  शादी में गर्लफ्रेंड बना कर चोद दिया

भाभी की नाइटी उतरी तो अन्दर का नजारा एकदम हॉट था.. उन्होंने काले रंग की ही ब्रा-पेंटी पहनी हुई थी। उनका सेक्सी बदन देख कर मैं और भी उत्तेजित हो गया, मैंने उन्हें पूरी नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया।
मैं भाभी के मम्मों को दबा कर उनके कड़क निप्पलों को चूस रहा था।

भाभी की चूत चूसी

भाभी के चूचे बहुत ही सॉफ्ट थे, मैंने उन्हें दबाकर कड़क कर दिया।
उनकी नाभि भी बहुत क्यूट थी.. मैंने उसे भी किस करके खूब चूसा। उनकी दोनों टाँगों के बीच में आकर उनकी चूत को चूमा तो उन्होंने मेरे सिर को चूत पर दबा लिया।

अब मैं उनकी चूत में ज़ुबान डालकर उनको ज़ुबान से चोद रहा था। वो उत्तेजित होकर अपने दोनों मम्मों को दबा रही थीं और ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ कर रही थीं। उनकी इस आवाज़ से मैं और भी उत्तेजित होकर उनकी चूत को ज़ोर-ज़ोर से ज़ुबान से चोदने में लगा था। भाभी भी अपनी कमर उठा-उठा चूत चुसवाने के मज़े ले रही थीं।

भाभी- और कितना तड़पाएगा मुझे.. जल्दी से अपना लंड डाल कर मेरी चूत की प्यास बुझा दे.. कितने दिनों से मेरी चूत में आग लगी है.. भर दे जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड.. और फाड़ दे मेरी चूत को.. आह्ह.. जानू..

अब मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था। मैंने अपना लंड एक ही झटके में उनकी चूत में डाल दिया। भाभी की ज़ोर से आवाज़ निकल गई ‘उई.. माँ.. मर गई.. निकालो.. अपना लंड बाहर.. मर गई..’

मैंने उनकी एक न सुनी और जोर-जोर से लंड को अन्दर-बाहर करता रहा।

कुछ ही पलों में भाभी की चूत मजा लेने लगी- ‘आह.. और ज़ोर-ज़ोर से चोद मुझे आह्ह.. ऐसे ही और ज़ोर से ऐसे ही चोदते रह.. मुझे बहुत मज़ा आ रहा है..
भाभी चुदाई का मजा लेते हुए कामुक आवाजों में बड़बड़ाते हुए झड़ गईं।

मैं अब भी उनको ज़ोर-ज़ोर से चोद रहा था, उनकी चूत बहुत ही टाइट थी, मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था।

अब मेरी भी बारी आ गई, मैंने कुछ और तेज धक्के मारे और उनकी चूत में ही झड़ गया। उसके बाद भाभी बाथरूम गईं और बाहर आकर भाभी ने मुझे गले से लगा कर ज़ोर से मेरे होंठों और गालों पर किस किया।

मैंने भाभी को उस रात 4 बार चोदा।

तो दोस्तो, ऐसी थी मेरी न्यू इयर की चुदाई.. आप लोगों को कैसी लगी, मुझे मुझे मेल करके बताएं। मैं आप लोगों के अपनी भाभी और उनकी सहेली को चोदने की अपनी आपबीतियां कहानी के रूप में लिखूंगा।

[email protected]

What did you think of this story??