दीदी ने दिया चूत और गांड का तोहफा

दोस्तो, मेरा नाम अर्शदीप कौर है, मैं पंजाब के फिरोज़पुर जिले के एक गांव की रहने वाली हूँ। मैं बहुत ही चुदक्कड़ और हवस की पुजारिन हूँ और बहुत सारे लड़कों, शादीशुदा मर्दों और बूढ़ों के लंड अपनी चूत और गांड में लेकर अपनी गर्मी निकाल चुकी हूँ।

यह कहानी मेरी चुदाई की नहीं है बल्कि मेरे एक दोस्त और उसकी बड़ी सगी बहन की है।
आगे उसकी जुबानी पढि़ए।

मेरा नाम कर्णवीर सिंह है, मेरी आयु 19 साल, कद 5 फीट 8 इंच, मेरा रंग गोरा और जिस्म सुडौल है।
मेरे पिछले साल ही दाढ़ी मूंछें आई हैं और मैं शेव करके रखता हूँ। मेरा लंड करीब 7 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है।

मैं कई सालों से पोर्न मूवीज देख रहा हूँ और सेक्सी कहानियाँ पढ़ता हूँ। मुझे भाई बहन की चुदाई की सेक्स की कहानियाँ सबसे ज्यादा पसंद हैं।

मेरी सेक्सी दीदी

जब से सेक्स के बारे में मालूम हुआ है तब से अपनी बहन को चोदना चाहता था, मुझे अपनी बहन बहुत सेक्सी लगती है और हमेशा उसको ख्यालों में चोदता था और उसके नाम की मुठ मारा करता था। मैं हमेशा उसको सेक्सी नज़रों से देखता था और उसके बूब्ज़ और गांड का जायजा ले कर गर्म हो जाता था।

मैंने कभी सोचा नहीं था कि कभी अपनी बहन को चोदूंगा और वो भी वो मुझे खुद चोदने को बोलेगी।

मेरी बहन का नाम सिमरन है, घर में सब उसको सिमी बुलाते हैं और मैं दीदी बुलाता हूँ।
सिमी दीदी की आयु 21 साल और कद 5 फीट 5 इंच है। दीदी का रंग दूध की तरह सफेद और बदन बहुत सेक्सी है।

दीदी थोड़ी मोटी है और उनके बूब्ज़ और चूतड़ काफी बड़े-बड़े और मस्त हैं, दीदी की फिगर 36डी-30-36 है। दीदी का बदन भरा हुआ, चिकना, मस्त और जांघें मांसल हैं। दीदी की आंखों एवं बालों का रंग हल्का भूरा और होंठ लाल सुर्ख हैं। दीदी के बूब्ज़ एवं चूतड़ बाहर को उभरे हुए और गोल गोल हैं। दीदी के बूब्ज़ के निप्पलों का रंग हल्का गुलाबी है और निप्पल सख्त हैं। दीदी का पेट मुलायम एवं चिकना है और नाभि गहरी है। दीदी की चूत का छेद गुलाबी और कसा हुआ है।

सिमी ज्यादातर टाईट जींस, टाईट टॉप या बॉडी फिट शर्ट और ऊंची एड़ी के सैंडिल या जूते पहनती है। वो कभी-कभी पंजाबी सूट या साड़ी भी पहन लेती है। वो हर तरह के कपडो़ं में सेक्सी माल ही लगती है।

जब वो मटक मटक कर चलती है तो उसका गोरा रंग, बड़े बड़े बूब्ज़, लचकती कमर, मांसल जांघें, ऊपर-नीचे होती उभरी हुई मोटी गांड और मदमस्त हिलोरे खाती कामुक जवानी देखकर बूढ़ों के लंड भी बिना वियाग्रा को गोली खाए खड़े होकर उसे चोदने को व्याकुल हो जाते हैं।

मेरी दीदी चुदक्कड़ माल है, जब मैंने दीदी को पहली बार चोदा तब उसको दर्द नहीं हुआ बल्कि एक रंडी की तरह मजे लेकर चुदाई करवाई।
उसके बाद दीदी ने मुझे बताया कि उसके काफी सारे लड़कों एवं मर्दों से दोस्ती है जो उसे चोदते हैं। वो उनका लंड लेकर उनको मर्द होने का सुख देती है और अपनी एवं गांड चुदवा कर लड़की होने का सुख लेती है।

यह बात दिसम्बर में मेरे जन्म दिन की है, हम दोनों भाई-बहन पटियाला में अकेले रह कर पढा़ई करते हैं। मैं बीकॉम पहले साल में और दीदी बीकॉम तीसरे साल में है।
मेरे पापा के दोस्त का यहां एक फ्लैट है और हम दोनों भाई-बहन वहां रहते हैं।

मैं चोरी छिपे दीदी के बूब्ज़ और गांड को घूरता रहता था।

मेरे जन्म दिन पर हमने पार्टी रखी, पार्टी में मेरे दोस्त और दीदी की सब सहेलियाँ आईं। सबने मुझे गिफ्ट्स दिए लेकिन दीदी ने मुझे कुछ नहीं दिया।
मैंने दीदी की सवालिया नज़र से दीदी को देखा लेकिन दीदी मेरी तरफ देखकर मुस्करा दी। दीदी की मुस्कान में शरारत थी।

जब सभी लोग पार्टी मनाने लगे तो मैंने दीदी से पूछा कि गिफ़्ट क्यों नहीं दिया।
दीदी ने फिर शरारती मुस्कान होंठों पे लाकर कहा कि उसके पास खास गिफ़्ट है जो वो पार्टी खत्म होने पर देगी और दीदी ने मुझे गाल पर चूम लिया।

आज पहली बार मुझे दीदी के नर्म होंठों का स्पर्श मिला और मेरे जिस्म में अजीब सी हलचल हुई। मैं बेसब्री से पार्टी खत्म होने का इंतजार करने लगा, मुझे दीदी के गिफ़्ट के ख्याल आने लगे, मैं उनके गिफ़्ट में अलग अलग चीजों की कल्पना करने लगा।

शाम को 6 बजे पार्टी खत्म हुई और मैं अपने कमरे में जाकर गिफ्ट्स देखने लगा।

साड़ी में सजी मेरी दीदी का कामुक बदन

थोड़ी देर बाद दीदी मेरे कमरे में आई, दीदी ने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी, दीदी के ब्लाउज का गला काफी गहरा और पल्ला पारदर्शी था। दीदी एकदम सेक्सी और गर्म लग रही थी, पल्ले से दीदी का गोरा पेट एवं गहरी नाभि दिख रही थी और ब्लाउज के गले से दीदी के बूब्ज़ की गोलाइयाँ बाहर छलक रही थी।
ऐसा लग रहा था जैसे कोई रंडी अपने ग्राहक को रिझाने के लिए तैयार होकर आई है।

दीदी को देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया लेकिन मैंने खुद पर काबू रखते हुए दीदी से पूछा- क्या खास गिफ़्ट दे रही हो दीदी?
सिमी के चेहरे पर एक बार फिर शरारती मुस्कान दौड़ने लगी और मुझे कहा- मैं अपने भाई को वो गिफ़्ट दूंगी जो तुझे बहुत पसंद है, जिसको तू हमेशा ललचाई नज़रों से देखता है लेकिन किसी को बताता नहीं।

दीदी की चूत और गांड

मैंने कुछ देर सोचा और कहा- मैं समझा नहीं दीदी?
दीदी ने फटाक से कहा- मेरे बूब्ज़, मेरी चूत और मेरी गांड! मुझे मालूम है तुम मेरे बदन को देखकर गर्म होकर बाथरूम में जाता है और अपना पानी निकाल देता है। आज से तुझे हाथ से पानी निकालने की जरूरत नहीं पडे़गी, जब तुम्हारा दिल करे मुझे चोद लेना और मुझे भी चुदने के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा।

मेरे मुंह से कोई शब्द नहीं निकल रहा था और मैं एकटक दीदी के चेहरे को देख रहा था, जिस पर मुझे चुदाई की वासना दिख रही थी।
दीदी मेरे पास बैड पर बैठ गई और बोली- कितना सेक्सी है मेरा भाई… आज से मैं तेरी पत्नी और तू मेरा पति। जब दिल किया एक दूसरे की प्यास बुझा दिया करेंगे।

मैंने दीदी की नशीली आंखों में देखते हुए हां बोल दिया और दीदी की बातें सुन कर मेरा लंड खड़ा हो गया।

दीदी ने मेरी जींस के ऊपर से मेरा लंड पकड़ कर कहा- मेरे पति का लंड तो तैयार भी हो गया।
मैंने दीदी से कहा- यह तो आपको देखकर ही खड़ा हो जाता है दीदी लेकिन मैंने कभी किसी लड़की को चोदा नहीं।

दीदी ने मेरी गाल पर हल्की सी चपत लगाई और कहा- दीदी लोगों के सामने… अकेले में हम पति-पत्नी हैं और मेरा नाम सिमी है।

सिमी ने मुझ से पूछा कभी पोर्न मूवी देखी है तो मैंने जवाब दिया- ढेर सारी देखीं है और मेरे मोबाईल में बहुत सारी हैं, क्या तुम देखोगी सिमी डार्लिंग?
दीदी ने कहा- नहीं मेरे पति देव, आप बस वही करना जो लड़का पोर्न मूवी में करता है बाकी अपनी इस बिना शादीशुदा पत्नी पर छोड़ दो।

सिमी की बातें मुझ पर जादू सा कर रही थीं और मेरे जिस्म में आग लगने लगी।

दीदी सरक कर मेरे पास आ गई और मेरे होंठों पर अपने होंठ लगा कर मेरी जैकेट की जिप खोल दी। दीदी के मुंह से मुझे शराब और सिगरेट की महक आई लेकिन दीदी के नर्म और रसीले होंठों का स्पर्श अपने होंठों पर पाकर मुझे अजीब सा नशा होने लगा।

मेरे हाथ अपने-आप दीदी के बूब्ज़ पर चले गए और मैं दीदी के खरबूजे जैसे पर मुलायम बूब्ज़ दबाने लगा। दीदी मुझे बहुत प्यार से चूम रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था।

More Sexy Stories  ससुर और बहू की कामवासना और चुदाई-3

मैं भी दीदी का साथ देने लगा और दीदी के होंठों को चूमने लगा। दीदी काफी गर्म हो गई और मेरे निचले होंठ को अपने मुंह में खींच कर चूसने लगी। मैं भी दीदी के होंठ चूसने लगा और दीदी के मुंह में जीभ डालकर घुमाने लगा।

मैं आज पहली बार किसी लड़की को चूम रहा था, मुझे अंदाजा नहीं था मैं क्या कर रहा हूँ और सब कुछ अपने आप हो रहा था।
अचानक दीदी ने मेरी जीभ को जोर जोर से चूसना चालू किया और अपनी जीभ मेरे मुंह में धकेल दी। मैंने भी दीदी की जीभ को वैसे ही जोर जोर से चूसा।

हम दोनों बहुत उत्तेजित हो गए थे, दीदी मेरे बालों को सहलाते हुए और मैं दीदी के बूब्ज़ दबाते हुए एक-दूसरे की जीभ को जोर जोर से चूसने लगे और होंठों को चूमने और काटने लगे।

मैंने दीदी का ब्लाउज और ब्रा खोलकर निकाल दी और दीदी के नंगे बूब्ज़ दबाने लगा। मैं चुदाई के उत्तेजना में पागल होने लगा और बैड से खड़ा हो गया।
दीदी समझ गई कि मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गया हूँ और मुझ से खुद पर काबू नहीं हो रहा।
सिमी ने मेरी जींस और अंडरवियर एक झटके में निकाल कर अलग कर दिया।

दीदी ने मेरा लंड चूसा

मैंने दीदी से कहा- सिमी, मुझ से अब रहा नहीं जा रहा, जल्दी से लंड अपनी चूत में ले लो।
तो दीदी ने कहा- अभी नहीं पति देव, अभी आप बहुत गर्म हो और चूत नहीं चोद पाओगे। अभी एक बार पानी निकल जाने दो, दुबारा खड़ा करके चोदना, फिर सही से चुदाई होगी। अभी चूत में डाल कर तुम्हारा पानी जल्दी निकल जाएगा और मैं तड़पती रह जाऊंगी।

मैंने पूछा- तो क्या सिमी अपने हाथ से निकाल दूं?
दीदी ने मुस्करा कर ना में सिर हिलाते हुए मेरे लंड के टोपे को चूमा और मुंह में लेकर चूसने लगी।

मैंने दीदी को सिर से पकड़ा और दीदी के मुंह में तेज़ी से धक्के मारकर चोदने लगा। मेरा लंड दीदी के मुंह की गर्मी को ज्यादा देर झेल नहीं पाया और एक के बाद एक पिचकारी छोड़ते हुए दीदी के मुंह को वीर्य से भर दिया। मेरा वीर्य दीदी के होंठों के कोनों से टपकने लगा लेकिन दीदी अभी भी मेरे लंड को चूस रही थी मानो आखरी बूंद भी निचोड़ना चाह रही हो।

मैं खल्लास होकर बैड पर बैठ गया और दीदी मुंह साफ करने बाथरूम में चली गई।

जब दीदी वापस आई तो मुझे इतनी जल्दी झड़ने पर शर्म आने लगी और मैं दीदी से आंखें नहीं मिला पा रहा था।
दीदी ने मेरा चेहरा ऊपर किया और कहा- शर्म की कोई बात नहीं पति देव, पहली बार ऐसा होता है। अब देखना तुम मुझे कितना जबरदस्त तरीके से चोदोगे।

मैंने कहा- अब तो मेरा लंड छोटा हो गया, चूत में कैसे घुसेगा।

दीदी ने मेरे हाथ में शराब का गिलास देते हुए कहा- चूत में भी घुसेगा और गांड भी चोदेगा, तुम ये पी लो।
मैंने कहा- मैंने कभी शराब नहीं पी!
तो दीदी ने कहा- आज से पहले किसी लड़की का मुंह भी नहीं चोदा था।

मैंने नाक बंद करके गिलास खाली कर दिया, मैंने दीदी को गिलास पकडा़ने के लिए हाथ आगे किया लेकिन दीदी ने गिलास को शराब से आधा भर दिया और सोडा मिला दिया।

मैं बिना कुछ बोले वो भी गटक गया और दीदी साड़ी उतार कर सिगरेट पीते हुए मेरे पास बैठ गई।
मैं दीदी के सिगरेट और शराब पीने से सोचने लगा कि मेरी दीदी कितनी चालू है।

तभी दीदी ने मेरे होंठों पर सिगरेट लगा दी, मैंने धुंआ अंदर खींचा और मुझे खांसी आ गई। तब दीदी ने मुझे सिगरेट पीना सिखाई और मैं पूरी सिगरेट पी गया।

मुझ पर शराब का नशा चढ़ गया और दीदी ने मेरी जैकेट, शर्ट एवं बनियान निकाल कर पीछे धकेल दिया। दीदी मेरी गर्दन को चूमते हुए मेरी छाती को जीभ से चाटने लगी और मेरे निप्पलों को चूमने लगी, मेरे निप्पलों को प्यार से चूमते चूमते अचानक मुंह में भर कर खींचने और दांतों से काटने लगी।

मैं भी गर्म हो होने लगा और मेरा लंड फिर से तन गया, मैं दीदी के सिर को एक हाथ से अपनी छाती पर दबाते हुए दूसरे हाथ से दीदी के बूब्ज़ दबाने लगा।
यह मैं सोच कर नहीं कर रहा था बल्कि चुदाई के नशे में अपने आप हो रहा था।

दीदी ने मुंह नीचे किया और मेरे पेट को चूमते हुए दांत गड़ाने लगी और मैं मस्ती में सातवें आसमान की सैर कर रहा था।

सिमी ने मुझे बैड पर सीधा बैठा दिया और सामने खड़ी होकर अपने बड़े बड़े गोल बूब्ज़ मेरे चेहरे पर दबा दिए और मेरे हाथ पकड़कर अपने चूतड़ों पर रख दिए।

मैं बारी बारी से दीदी के बूब्ज़ चूसने लगा और दीदी के मोटे-मोटे चूतडो़ं को दबाने लगा।

दीदी मेरे सिर को अपने बूब्ज़ पर दबाते हुए हल्के-हल्के आहें भर रही थी। दीदी की आहें सुन कर मुझे और ज्यादा जोश आ रहा था और मैं उसके हल्के गुलाबी निप्पलों को मुंह में भरकर जोरशोर से चूसने लगा और बूब्ज़ को दांतों से काटने लगा।

मेरे काटने से दीदी और भी कामुक आहें भरती और दीदी के बूब्ज़ पर मेरे दांतों के लाल लाल निशान पड़ गए।

अब मैंने दीदी के नाजुक, गोरे, मुलायम और चिकने पेट को अपना निशाना बना लिया। मैं दीदी के पेट को जीभ से चाटने लगा और गहरी नाभि में जीभ डालकर चाटता। दीदी का पेट एक नाजुक जैली की तरह लग रहा था और जब मैं दीदी की नाभि में जीभ घुसा कर घुमाता तो दीदी मचलने लगती।

दीदी मेरा सिर अपने पेट पर दबा रही थी और मैं दीदी के पेट पर जोर शोर से दांत गड़ाने लगा। मुझे अब दीदी नहीं, एक पत्नी नहीं, बल्कि एक रंडी नज़र आ रही थी।

मेरे काटने से दीदी के पेट पर भी जगह जगह निशान बन गए लेकिन दीदी और भी ज्यादा कामुक हो रही थी।

दीदी की चूत चाटी

मैंने दीदी की चूत पर मुंह रख दिया लेकिन दीदी ने मुझे हटा कर बैड पर लेटा दिया। बैड पर लेट कर मैंने अपना और दीदी का बदन गौर से देखा।
मेरी छाती और पेट पर दीदी के दांतों के निशान और दीदी के बूब्ज़ और पेट पर मेरे दांतों के लाल लाल निशान साफ दिख रहे थे।

दीदी मेरे ऊपर 69 की अवस्था में आ गई और मेरे होंठों के पास चूत लगाकर बोली- अब चाटो!
मैं अपनी जीभ से दीदी की चूत चाटने लगा और दीदी मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी। मैं अपनी पूरी जीभ दीदी की चूत में डालकर चाटने लगा और दीदी मेरे लंड को मुंह में अंदर-बाहर करने लगी।

दीदी अपना सिर ऊपर करके तेज़ी से नीचे लाती और मेरा लंड दीदी के गले में उतर जाता। दीदी मेरे लंड को कुछ देर अपने गले में रखकर बाहर निकाल देती और फिर लंबी सांस लेकर गले में उतार लेती।

मैं दीदी की चूत में ऊंगली डालकर हिलाते हुए जीभ से चूत के दाने को रगड़ने लगा। मुझे लग रहा था मैं किसी और दुनिया में हूँ, यहां सिर्फ चुदाई होती है।

दीदी उठ कर टेबल पर बैठ गई और मुझे पास आने का इशारा किया।
मैं दीदी के सामने खड़ा हो गया और दीदी ने अपनी टांगें खोल दीं। उन्होंने मेरे हाथ अपने कोमल कंधों पर रख दिए और एक हाथ से मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत के गुलाबी छेद पर रख दिया।
दीदी ने दूसरा हाथ मेरी कमर में डालकर जोर से धक्का मारने को बोला।

More Sexy Stories  मेरी बीवी की सहेली मधु भाभी की चुदाई

सिमी ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और मैंने अपनी गांड को जोर से आगे धकेल दिया।
मुझे लगा दीदी को दर्द होगा लेकिन दीदी ने मजे से मेरे होंठों को मुंह में खींच लिया। मेरा लंड दीदी की चूत की मुलायम दीवारों से घिसते हुए आसानी से अंदर जा रहा था।

जैसे जैसे मेरा लंड दीदी की चूत के अंदर जा रहा था वैसे वैसे दीदी मेरे होंठों को जोर से चूस रही थी और मेरे लंड के टोपे में मिठास भर रही थी।
यह हिंदी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

मेरा पूरा लंड दीदी की चूत में समा गया और मैंने दीदी की आंखों में देखकर पूछा- सिमी, क्या तुम पहले से चुदी हुई हो?
दीदी ने हां में सिर हिला दिया।
मैंने फिर पूछा- किस से?

दीदी का जवाब सुन के दंग रह गया कि मेरी बहन इतनी बड़ी चुदक्कड़ है… दीदी ने कहा- मेरे 10-11 मर्द दोस्त हैं जो मुझको चोदते हैं और उनके कई दोस्त भी चोदते हैं। इसके अलावा जब उसके किसी मर्द दोस्त ने किसी से अपना काम निकालना होता है तब वो मुझे उस आदमी के पास भेज देता है और मैं अपनी चूत एवं गांड चुदवाने के बदले काम निकाल लेती हूँ।

सिमी ने कुछ रुकने के बाद कहा- ये सब बाद में… अभी मेरी प्यास बुझाओ।
मुझे गुस्सा तो बहुत आया कि मेरी बहन इतने मर्दों से चुदवाने जाती है लेकिन यह सोच कर गुस्सा चला गया जो दीदी ने किया, मैं भी वही कर रहा हूँ और सेक्स की भूख हर किसी को होती है, सबको अपनी भूख मिटाने का हक है।

मैंने दीदी को कस कर बाहों में भींच लिया और दीदी के बूब्ज़ मेरी छाती में गड़ गए। मैंने अपना लंड बाहर खींच कर फिर से चूत में पेल दिया और दीदी के मुंह से कामुक आह निकल गई।

मैं जोर जोर से धक्के मार कर दीदी की चूत चोदने लगा और फचच.. फच… की आवाज़ आने लगी। दीदी ने अपनी दोनों टांगें मेरी कमर पर लपेट लीं और गांड हिला हिला कर लंड अपनी चूत के अंदर-बाहर करने लगी।
मुझे लग रहा था कि मैं किसी पोर्न मूवी का हीरो हूँ और बहुत ही सेक्सी और गर्म पोर्न स्टार को चोद रहा हूँ।

मेरी दीदी की गांड

दीदी टेबल से उतर कर मेरी तरफ गांड करके खड़ी हो गई और अपने चूतड़ों की फांकें अपने हाथों से खोल दीं। मैं समझ गया दीदी क्या चाहती है।
सिमी ने मुझे अपनी गांड और मेरे लंड पर थूक लगाने को कहा और मैंने वैसे ही किया।

दीदी ने मुझे गांड के छेद पर लंड लगाने को कहा और मैं हाथ से गांड पर लंड लगा कर खड़ा हो गया। दीदी अपनी गांड को पीछे धकेलने लगी और मेरा लंड दीदी की गांड में जाने लगा।

जब आधा लंड दीदी की गांड में घुस गया तो दीदी ने अपनी गांड आगे खींच कर जोर से पीछे धकेल दी। मेरा लंड फचाक की आवाज़ से दीदी की गांड में समा गया।
दीदी का झटका इतनी जोर का था अगर मैंने दीदी को कमर से कसकर न पकड़ा होता तो पीछे गिर जाता लेकिन दीदी के इस जोर दार शॉट से मेरा लंड दीदी की गांड की गहराई की सैर करने लगा।

मैंने दीदी की कमर को पकड़ा और उनके चूतड़ों पर चपत लगाते हुए जोर जोर से गांड चोदने लगा।

दीदी अपनी गांड को बहुत सेक्सी तरीके से गोल गोल घुमाते हुए बहुत तेज़ी से आगे-पीछे करने लगी और बहुत ही कामुक आवाजें निकालने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’
जितनी जोर से में दीदी की गांड में शॉट मारता दीदी भी उतनी जोर से गांड आगे-पीछे करती।

दीदी के शॉटस से चुदाई की रफ्तार बहुत ज्यादा हो रही थी और हर शॉट पर दीदी कामुक आवाजें निकाती। दीदी की कामुक आवाज़ और शॉटस से मेरा जोश और भी बढ़ता जा रहा था और अद्भुत आनन्द मिल रहा था।

सिमी ने मुझे लंड गांड से निकाल कर चूत पर लगाने को कहा और मैंने लगा दिया।
इस बार मैं दीदी के जोरदार झटके के लिए तैयार था। दीदी ने जोरदार शॉट मारा और एक बार में ही लंड दीदी की चूत में उतर गया। मुझे लगा मेरे लंड का टोपा किसी चीज से टकरा गया और दीदी के मुंह से बहुत जोर से आहह निकली।

मैंने दीदी से पूछा तो उन्होंने बताया कि मेरा लंड उनकी बच्चेदानी के मुंह से टकराया है और जब लंड बच्चेदानी को ठोकर मारता है तो चुदाई का मजा ज्यादा आता है।

अब मैं पीछे से दीदी की चूत चोदने लगा और दीदी भी आगे से गांड मटका मटका कर चुद रही थी। मेरा लंड दीदी की चूत चोद रहा था और उनकी नर्म गांड का स्पर्श और भी मजा दे रहा था।

सिमी जोर जोर से चिल्ला कर गांड को आगे-पीछे करके चुद रही थी और मेरा लंड दीदी की बच्चेदानी के मुहाने पर ठोकर मार रहा था। जब मेरे लंड का टोपा दीदी की बच्चेदानी को ठोकर मारता तो मुझे बहुत आनन्द आता।

दीदी ने मुझे टांगें सीधी कर के बैड की बैक से पीठ लगाकर बैठा दिया और खुद घुटने मोड़ कर मेरे कंधों पर अपने मुलायम हाथ रख दिए।

सिमी ने अपने बड़े-बड़े बूब्ज़ मेरे मुंह पर लगाकर अपनी चूत को मेरे लंड पर टिका दिया और अपनी मोटी गांड को तेज़ी से नीचे की ओर धक्का दे दिया।

जैसे ही दीदी की चूत में लंड समाया दीदी जोर से चिल्लाई।
मैंने दीदी के दोनो बूब्ज़ हाथों में कस कर पकड़ लिए और दीदी अपनी गांड ऊपर-नीचे उछाल कर अपनी चूत में लंड लेने लगी। मैं दीदी के बड़े-बड़े बूब्ज़ को दबाते हुए दीदी की चूत चोदने लगा। दीदी की कामुक आवाजों से पूरा कमरा गूंज रहा था।

तभी दीदी ने अपनी चूत से मेरा लंड निकाल दिया और घूम गई, दीदी ने मेरी टांगों पर हाथ रखे और मेरी तरफ गांड करके अपनी चूत में लंड ले लिया। दीदी मेरी टांगों पर झुक गई और उनके बूब्ज़ मेरी टांगों पर रगड़ खाने लगे।
दीदी बहुत ही सेक्सी तरीके से अपनी मोटी गांड ऊपर उठाती और जब थोड़ा सा लंड उनकी चूत में रह जाता तो गांड को नीचे धकेल देती।

सिमी अपनी गांड को ऊपर-नीचे बहुत तेज़ी से उछाल रही थी और फच.. फचच… की आवाजें आ रही थीं।

दीदी अब नीचे लेट गई और मुझे ऊपर आने को बोला, मैं दीदी की टांगों के बीच आ गया, दीदी ने हाथ से पकड़ कर मेरा लंड अपनी चूत पर टिका दिया और मैंने जोरदार शॉट मारा।

अब दीदी की चूत बिल्कुल गीली थी और लंड सीधा दीदी की चूत की गहराई में जाकर रुका। उसके बाद में धड़ल्ले से दीदी की चूत चोदने लगा और दीदी भी नीचे से भूखी शेरनी की तरह गांड उचका उचका लंड खाने लगी।

कुछ देर बाद दीदी का बदन अकड़ने लगा और मुझे कस कर भींच लिया। मेरा जिस्म भी अकड़ने लगा और मैं तेज़ी से दीदी चूत चोदने लगा।
हम दोनों की रफ्तार काफ़ी बढ़ गई और हम ठंडी आहें भरते हुए एक साथ झड़ गए।

मैंने अपना लंड दीदी की चूत से निकाल लिया और दीदी जमीन पर खड़ी हो गई, दीदी की चूत से मेरा वीर्य टपक रहा था।

इसके बाद दीदी मुझे रोज चुदाई का सुख देने लगी लेकिन उसकी बाहर और मर्दों से चुदवाने की आदत मुझे अच्छी नहीं लगती।
मेरी कहानी पर अपने कमेंट्स अवश्य करें।
[email protected]

What did you think of this story??