बस मे बेटी के सामने मेरी चुदाई

मैं चक्की पटेल हू वैसे कभी कभी मैं मज़ा चखती हू बात तब की है, जब मैं मेरी सात साल की बेटी को लेके बस से चड़ी तब देखा एक नवजवान, लड़के की बाजुवालि सीट खाली थी हम ने एकदुसरेको देखा बहोत अछा, लड़का था उसको भी मैं बहोत पसंद आई मैं उसके बगल मे बैठ गयी, बेटी खड़ी थी वो बेटी को बोला आओ मेरे गोद मे बैठ जा मैं उसे देखने, लगी और बेटी को बोली जा बेटा मामा के गोद मे बैठ जा वो ना ना करने लगी, मैने उसे समझा के उस लड़के के गोद मे बेटी को बिठाया उसने एक हाथ, बेटीके कमरमे डाला और उसे पकड़के रखा अब वो लड़का आहिस्ते आहिस्ते मुझे, छूने लगा मुझे अछा लगने लगा मैं कुछ बोली नही अब वो बूब्स को टच करने लगा तो मैं थोड़ी उसके तरफ झुकी अब वो समझ गया था मुझे अछा लग रहा है तो उसने पूरा पंजा मेरे बूब्स पर रखा और आछेसे दबाया मैं कुछ नही बोली तो वो आहिस्ते आहिस्ते ब्लाउस मे हाथ डालने लगा तो मैं उसके तरफ और झुकी अब वो ब्लाउस मे हाथ डालके जैसाही बूब्स दबाने लगा.

मैने उसके हाथ पर आँचल रखा और एक बार उसका हाथ दबाया इतनेमे बेटी हलचल करने लगी मैं समझ गयी उस लड़के का लंड टाइट हुआ होगा और बेटी के गॅंड पर धक्का मारता होगा बेटी उठने लगी वो बोला क्या हुआ बेटी बैठ जाओ उठने लगी मैं बोली बैठ चुप चाप वो तेरा मामा है बेटा बैठ वो फिरसे बैठी उस लड़ाकेने उसके कमर मे हाथ डालके दबा के रखा था अब वो कस कस के मेरे बूब्स दबाने लगा मैं उसे पूरी तरह साथ दे रही थी इतनेमे उसने बेटी को एक मिनट के लिए उठाया मैं सब समझ गयी थी उसने झटसे ज़िप खोली और बेटीको फिर बिठाया अब बेटी को ज़्यादा तकलीफ़ होने लगी वो उठी मैने देखा उसका लंड बाहर आया था मैने बेटी को बोला चुप चाप बैठ अब उस लड़के ने फिरसे बेटी को उठाके बैठनेके टाइम पीछेसे बेटी का स्कर्ट उपर उठाया मैं समझ गयी अब बेटी की गॅंड के बीचो बीच उसने लंड रखा था.

अब वो और ज़ोर ज़ोर से मेरे बूब्स दबाने लगा तो मैने आहिस्तेसे उसके हाथ पर हाथ रखा और नीचे खिचने लगी वो समझ गया अब वो मेरे जाँघो पर हाथ रखाके मेरी सारी उठाने लगा और उसने सारी के अंदर हाथ डाला बेटी बार बार पीछे देखनेकी और उठनेकी कोशिश कर रही थी और बोल रही थी मम्मी मुझे खड़ा होना है मैने उसे गुस्से मे बोला चुप चाप बैठ और आगे खिड़की के बाहर देख जैसा ही लड़के ने मेरे चुत पर हाथ रखा बेटी उछालने लगी मैं समझ गयी अब उसका लंड बहोत ही टाइट हुआ होगा बेटी की गॅंड मे घुसानेकी कोशिश करता होगा मैने लड़केके तरफ देखा हम दोनोंकि आँखोमे हवस थी अब वो चुत मे उंगलिया डालने लगा इतनेमे बेटी उठी मैने गुस्सा किया उसने झटसे बेटीको लंड पर बिठाने के टाइम बेटिका अंडरवेर साइड मे किया और बेटीको एक हात से कसके दबाके रखा और मेरे चुतमे ज़ोर जोरसे उंगलिया घुसाने लगा और मैं हाहाहा हहहा करने लगा.

More Sexy Stories  Boss Ke Saath Mast Chudai

मैं उसे देखने लगी मैं समझ गयी अब उसका निकलने वाला है उसने मुझे इशारा किया इतनेमे बेटी चिल्लाके उठी उसकी गॅंड मे पिचकारी उड़ी थी जैसे ही बेटी उठी मैने झटसे उसका लंड मूह मे पकड़ा और खचा खच मूठ मारने लगी और बेटी को इशारेसे चुप रहनेको कहा मेरे हाथ के पंजे मे माल ही माल भर गया था छपछपछपछप आवाज़ भी आने लगी वो आहिस्ते बोल रहा था बस करो बस करो तब भी मैं खचाखच मूठ मार रही थी एक दो पिचकारी बेटी के स्कर्ट पर भी उड़ी बेटी की गॅंड तो पूरी तरहसे चिकनाहट मालसे भर गयी थी मैने झटसे बेटीके स्कर्ट के पीछे के भाग से उसका लंड पोछा और उसने लंड अंदर डाला मैने भी मेरे कपड़े ठीक किए इतनेमे स्टॉप आया बेटी रो रही थी चल भी नही पा रही थी मैने कैसे कैसे उसका हाथ पकड़के बाहर लाया वो लड़का मुझे देख रहा था मैं झटसे बस स्टॉप जा के सामने वाले टाय्लेट मे घुसी

बेटिकि गॅंड धोलि उसे शांत किया स्कर्ट भी साफ किया और हम बाहर आए सामने रास्ते पर वो खड़ा था हम ने फिर एकदुसरे को देखा उसने वहिसे मुझे इशारा किया मैं समझ गयी उसका फिर टाइट हुआ है बगलमेहि सिनिमा हॉल था वो इशारे मे गिडगीदाने लगा मेरे चुतमे भी आग लगी थी आख़िर हम सिनिमा हॉल मे गये हॉल एकदम खाली था पिछेके टिकेट लिए थी मैने बेटी को समझा के एक कोनेमे बिठाया और मैं उसके बगलमे बैठी अब वो दबाने किस करने चुतमे उंगलिया डालने लगा मैने भी उसका लंड बाहर निकाला और फिर मैं उठी सारी उठाई अंडरवेर साइड की और उसका लंड पकड़के चुतमे घुसाने लगी लंड अंदर जाता रहा मैं उस पर बैठती रही पूरा लंड अंदर घुस गया था मैं सिसकिया लेने लगी और उपर से ज़ोर जोरजोरसे उसके लंड पर बैठती गयी वो भी नीचे धक्का मारता मैं भी उपर्से क्या मस्त लंड था उसका धबधबधबधाबमाई उपर नीचे कर रही थी बेटी भी चुपके से देख रही थी.

More Sexy Stories  पड़ोसन आंटी की चोदन कहानी

पर मुझे सिर्फ़ चुदवाने की पड़ी थी आख़िर रफ़्तार तेज हुई सारी खुर्ची हिलने लगी कुछ आदमी पीछे देखने लगे और चिर्र्र्र्र्र्र्र्ररर चिर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर चिर्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर मेरी चुत माला माल हुई हम दोनो ठंडे हुए कुछ लोगोने यह सब देखा भी हमने झट से कपड़े ठीक किए कुछ लोग हमे पकड़ने आए इसके पहले हम भाग गये वो कई चला गया मैने टॅक्सी की और घर आई बेटीके कपड़े चेंज किए बेटी बोली मैं पापा को बोलूँगी तुमने क्या किया मैं बोली बोल ना मैं नही डरती तेरे पापा से उसके लंड मे कहा ताक़ात है देखना तूने वो लड़का तेरी गॅंड को कैसे लंड से उठा रहा था तेरे पापा मे उतना ज़ोर नही है दो दिन बीत गये उसने पापा को कुछ नही बोला अब मेरे मे ताक़त आई मैने बेटी के सामने नौकरको बोला रामू मेरी गॅंड बहोत दुखती है थोड़ी मालिश करेगा वो समझ गया मैने उसे चुपकेसे बहोत बार चुदवाया था आज मैं बेटीको भी दिखाना चाहती थी मैने बेटी को बोला बेटी तू बाहर खड़ी रहना कोई आएगा तो दौड़के आना.

और मैं नौकरको लेके बेडरूम मे गयी नौकर मेरे गॅंड की मालिश करने लगा आहिस्ते आहिस्ते मैने सारे कपड़े उतारे पूरी नंगी हुई थी मैं मेरी बेटी चुपकेसे देख रही थी फिर मैने नौकारके लूँगी मे हाथ डाला और लंड निकाला और मूह मे लेके चूसने लगी और बड़बड़ाने लगी कितना मोटा हैरे तेरा कितना स्वादिष्ट है रे मेरे पतिका तो बहोत छोटा नरम गंदा है तेरा क्या मस्त हैरे हहाहह और मैने पैर उपर उठाए और चिल्लाई ठोक ठोक हहहह्हहहह बहोत मज़ा आरही है और कसके और कसके अहहहहहहा और बेटीको चुत गॅंड लंड सब दिखा दिखाके चुदवाने लगी जैसा ही पानी चला गया नौकारने लूँगी पहनी और वो चला गया मैं आधी नंगी थी मैने बेटीको आवाज़ दी वो तुरंत अंदर आई वी मुझे देखने लगी मैं बोली बेटी तू बड़ी होगी ना तो मैं तुझे खूबखूब खुश रखूँगी और बेटी को चूमने लगी और बोली बेटी कभी किसिको बोलो नही बेटी बोली मैं किसिको नही बोलूँगी. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके