बड़ी चूचियों वाली गर्लफ्रेंड की चुदाई

बिग बूब्स गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे दोस्त ने मेरी दोस्ती एक लड़की से करवाई. हमने होटल में मिलने का प्लान बनाया. जब वो नंगी हुई तो उसके स्तन बहुत बड़े निकले.

मेरा नाम मोहित है.
आज मैं आपको अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी सुनाऊंगा.

एक दोस्त के जरिए मुझे सीमा से बात करने का मौका मिला.

सीमा मुझ से 2 साल बड़ी थी और मुझे उसके बदन में सबसे अच्छे उसके बड़े बड़े स्तन लगते थे, उसके बिग बूब्स का साइज 36D था.
उसका बदन भरा हुआ था और जब वह नंगी हो जाती थी तो उसे देखते ही लंड खड़ा हो जाता था.
इतने बड़े स्तन थे उसके!

तो बात सर्दियों की है.
मेरे दोस्त ने हमारी दोस्ती फोन पर ही करवाई थी. फोन पर ही हमारी बातें शुरू हुई और धीरे-धीरे मोहब्बत की बातें होने लगी.
हमने एक दूसरे को देखा नहीं था.

फिर हम दोनों ने मिलने का प्लान बनाया.
मैंने ओयो से होटल बुक किया और सीधा उसके शहर चला गया.

वह मुझ को लेने स्टेशन पर आ गई थी. मैं उससे पहली बार रूबरू हो रहा था तो मैं उसको ऐसा नहीं दिखाना चाहता कि मैं कोई हवस का पुजारी हूं तो मैंने उसको हेलो बोला और हाथ मिलाया उसने भी प्यार से हाथ मिलाया.

फिर हमने कैब बुक की और होटल की तरफ रवाना हुए.

रास्ते में मैंने उसको एक तो किस भी करी थी.

वह गर्म हो चुकी थी.
मैं उसकी जांघ पर बार-बार हाथ घुमा रहा था और उसके बिग बूब्स देखकर बस ऐसा लग रहा था कि इनको कब हाथ में लेकर और पीना शुरू कर दो.

आखिरकार हम होटल पहुंचे और हम कमरे में दाखिल हुए कमरे में घुसते ही हम एक दूसरे से से लिपट गए, मानो दो जिस्म एक जान!
इतना तो मैं भी गर्म नहीं था जितनी वह गर्म थी.

उसकी गर्म गर्म सांसें मेरी छाती पर लग रही थी और मेरा लंड खड़ा होकर उसके पेट पर टक्कर मार रहा था.

क्योंकि हम पहली बार मिल रहे थे तो हम एक दूसरे से इतना खुले भी नहीं थे.
और ना हमने कभी ऐसी बातें करी थी.

तो फिर हम दोनों अलग हुए.
उसने मुझसे कहा- चलो अब तुम नहा धो लो, थोड़ा आराम कर लो.
मैं बोला- ठीक है!

नहा कर मैं बाहर निकला तो मैं कपड़े वगैरह पहनने लगा और वह बिस्तर पर लेटी हुई थी.
वह बोली- मुझे पीना है!

पहले तो मैं चौंक गया, फिर मैं बोला- ठीक है!
मैं बोला- तुम भी नहा धो लो, तब तक मैं बाहर से सामान लेकर आता हूं.

फिर मैं बाहर बोतल लेने चला गया और वह नहाने चली गई.
मैं बाहर से ही ताला लगा कर चला गया था.

मैंने बोतल ली. सामने ही मुझे मेडिकल दिखा तो मैंने सोचा कि कंडोम भी ले लेता हूं. मैंने जल्दी से कंडोम लिया और सीधा होटल रूम में आ गया और बिस्तर पर आकर बैठ गया.

वह अभी भी अंदर ही थी, उसको नहीं पता था कि मैं बाहर बैठा हूं या शायद उसने जानबूझकर बाथरूम का गेट खोला और एकदम नंगी बाहर आ गई.

उसको देखकर तो मेरा लंड जैसे फटने को हो गया एकदम!
उसका गीला बदन, उसका गोरा रंग और चूचियों के लाल लाल निप्पल और एकदम चिकनी चूत देखकर तो मैं पागल ही हो गया.

वो एकदम से वापस बाथरूम में घुसी और टॉवल लगाकर वापस आई.

मैं भी सोचने लगा कि यह अपनी तैयारी से आई है तो यह भी कुछ सोच कर ही आई होगी.
मैंने उससे कुछ नहीं बोला.

More Sexy Stories  कॉलेज की 2 रंडियो की ग्रुप चुदाई

उसने जैसे ही अपना टॉप उठाया तो मैं उससे बोला- कुछ कंफर्टेबल सा पहन लो!
तो उसने हाफ पेंट और टीशर्ट पहन ली.

मैं तब तक पेग बनाकर तैयार था.
हम दोनों ने पीना शुरू कर दिया.

और ऐसे ही बातें करने लगे दो तीन पैग के बाद उसका मूड बनने लगा और उसको नशा होने लगा.

मैंने उसकी जांघ पर हाथ रख दिया.
उसने भी कुछ नहीं कहा.

फिर मैं बोला- सीमा, तुम बहुत अच्छी हो यार! मुझे इतनी खूबसूरत लड़की मिली है, मैं बहुत खुशकिस्मत हूँ.
मैं इतना सब इसलिए बोल रहा था क्योंकि मुझे भी हल्का हल्का सा नशा हो रहा था.

और मैं उसको गर्म करने की कोशिश कर रहा था, मेरा हाथ उसकी चूत के ऊपर तक पहुंच चुका था. और उसका शरीर भी ढीला हो रहा था, वह पैरों को खोल रही थी.

मैंने नजदीक आकर उसको किस किया.
तभी वह बोली- एक पेग और बनाओ.

मैंने उसको एक पेग और बना दिया.
पूरा पैग पीने के बाद उसको बहुत ज्यादा नशा हो गया.

उसका शरीर उसके कंट्रोल में नहीं था, वह पलंग से सेट कर बैठ गई.

मैंने भी जल्दी से दो पैग और डाले और बोतल साइड में रख दी.

फिर मैं उसके नजदीक आया और मैंने उसके होठों को किस किया.

उसके होंठ एकदम सॉफ्ट थे. इतने मुलायम होंठों को चूमते हुए मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रखा तो फिर हटा ही नहीं.
तो मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी क्योंकि मैं उसके स्तन देखने के लिए पागल हुआ जा रहा था.

इतने बड़े और सुंदर स्तन थे उसके कि मैं आपको यहां पर बयां नहीं कर सकता.

मैंने टी-शर्ट उतारी.
उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी तो उस बिग बूब्स गर्ल के दोनों स्तन मेरे सामने झूल रहे थे.

मैंने उसके होठों को छोड़कर स्तनों को अपने हाथों में भर लिया और अपने होठों से उनका रसपान करने लगा.

तभी उसके मुंह से सीत्कार छूट गई और वो एकदम उत्तेजित हो गई और लेट गई.

यह सब देखकर तो मुझे यह लग रहा था कि मैं इसकी चूत में अपना लंड डाल दूं.
लेकिन यह फर्स्ट टाइम था उसके साथ मेरा!
और मैं उसको बहुत ही अच्छे से करना चाह रहा था.

तो फिर मैंने उसके स्तनों का रसपान शुरू किया.
मैं उसके निप्पल के ऊपर अपनी जीभ को घुमा रहा था और अपना एक हाथ उसकी चूत पर लेकर रगड़ने लगा.

उसकी चूत तो मानो झरना हो गई थी, चूत इतनी गीली हो चुकी थी.
मुझे भी लम्बे अरसे से ऐसी रसीली चूत की तलाश थी जो आज पूरी होने वाली थी.

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसको पलंग के किनारे खींच लिया.
पैर पकड़कर और उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रखकर मैं उसकी चूत का रसपान करने लगा.

मैं इतना पागल हो गया था उसकी चूत चाटने में कि मुझे बिल्कुल भी घिन नहीं आ रही थी.

अब सीमा ने चिल्लाना शुरू किया और चिल्लाते हुए बोली- चोद दो मुझे!
उसकी आवाज में हवस थी.

यह सुनते ही मैं खड़ा हुआ और अपने लंड को सीधा उसके मुंह में दे दिया.
उसने भी देर ना करते हुए मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया.

मुझे ऐसा आनंद आ रहा था कि मैंने उसका सिर पकड़ कर अपने लंड को उसके गले तक डाल दिया और तभी उसको उल्टी हो गई क्योंकि उसने शराब भी ज्यादा पी ली थी.

More Sexy Stories  प्रीति की चुदाई खेत मे

उल्टी से मेरा लंड गंदा हो गया था.
मैं बाथरूम में अपने लंड को धोने गया.

उल्टी करने के बाद सीमा का भी नशा उतर गया था.

मेरे वापस आते ही वह भी बाथरूम में गई और हाथ मुंह धोने लगी.
और मैं पलंग पर लेट कर वरना लंड सहलाने लगा.

वह बाथरूम में से आई तो मुस्कुराती हुई मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गई और मेरे लंड को हाथ में लेकर अपने आप मेरी आंखों में आंखें डाल कर उसे चूसने लगी.

मेरा लंड तो बस फटने को हो रहा था.
मैं जल्दी में खड़ा हुआ और उसको वैसे ही उल्टा लिटा दिया.

सीमा भी खिलाड़ी थी, उसने भी मेरा साथ दिया और अपनी चूत उछालने लगी.
मैंने एक हाथ उसकी गर्दन पर रखा और अपने लंड को उसकी चूत पर सेट कर के एक जोरदार धक्का दिया.

अब उसके मुंह से एक मादक सी आहह निकली जिस में दर्द और हवस दोनों थी.

हम लाइट जला कर चुदाई कर रहे थे और मैं चोदते हुए सीमा को देख रहा था.
सीमा आंखें बंद करके मेरे लंड का मजा ले रही थी. उसके मुंह से बहुत तेज सिसकारियां निकल रही थी.
हवस का तो मानो उस कमरे में ज्वालामुखी सा फट गया था.

चुदाई करते हुए अभी कुछ ही मिनट हुए थे कि तभी सीमा ने मेरी पीठ को कस के नोचा और कंपकपाती हुई आवाज में बोली- रुकना मत, मेरा होने वाला है!

मैंने भी अपनी गति को तेज कर दिया और अपने लंड को पूरी ताकत से अंदर-बाहर करने लगा.
मेरा और सीमा का एक साथ रस स्खलन हुआ.

अब हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर लेते रहे.

थोड़ी देर बाद ही मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.
अबकी बार मुझे कंडोम का याद आया तो मैंने पेंट में से कंडोम निकाला.

तो सीमा हंसती हुई बोली- अब इसकी क्या जरूरत है, सारा तो तुमने अंदर भर दिया.
तो मैंने कंडोम का पैकेट उसकी तरफ फेंका और उसको अपने पास बुलाया.

मैं पलंग के नीचे खड़ा था और वह पलंग के कोने पर आकर लेट गई और मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया.

मैंने धीरे-धीरे करके अपना लंड उसकी गले तक डाल दिया.
उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे और मेरे लंड को अपने थूक से पूरा गीला कर दिया.

मैंने कहा- अब इस पर कंडोम चढ़ाओ.
उसने मेरे लंड पर कंडोम चढ़ाया और लाइट बंद कर दी.

फिर जो हमने चुदाई करी तो फिर रुके नहीं और सारी रात हम एक दूसरे को ऐसे ही प्यार करते रहे.

उस रात मैंने कई बार चुदाई करी थी.

जब सुबह मेरी आंख खुली तब तक वह नहा कर आ गई थी.

उसने मुझे अपनी चूत दिखाई.
उसकी चूत सूज गई थी.

फिर मैं उसको छेड़ने लगा और हमने फिर चुदाई करी.
इस बार तो वो रोने लगी थी.
तो मैंने भी दया करके फिर उसको छोड़ दिया.

हमारा रिश्ता 2 साल चला.
उसके बाद उसकी शादी हो गई.
अब उसके बच्चे भी हैं.

लेकिन मुझे उस जैसा सुख आज तक कोई नहीं दे पायी।

तो दोस्तो, यह थी मेरी सच्ची कहानी! अगर कोई गलती हुई हो तो क्षमा करना.
मैंने पहली बार अपना अनुभव अन्तर्वासना पर साझा किया है.

आपको बिग बूब्स गर्ल सेक्स कहानी पसंद आई होगी.
मुझे मेरी ईमेल आईडी [email protected] पर जरूर बताना।