रॉंग नम्बर से मिली लड़की की चूत चुदाई

कॉलेज गर्ल फक का मजा मुझे एक अनजान लड़की की कॉल आने से मिल गया. वो लड़की शायद फोन पर ही अपने लिए लंड ढूँढ रही थी. हम दोनों की बात बन गयी.

अन्तर्वासना के सभी पाठक पाठिकाओं को रघु की तरफ़ से सादर प्रणाम।

दोस्तो, यह कॉलेज गर्ल फक की बात 2014 की बारिश की है जब हुदहुद तूफ़ान आया हुआ था.
बाक़ी जगहों की तरह लखनऊ में भी भयंकर बारिश हो रही थी।

मैं यहाँ नया था चूँकि शहर में मेरी काफ़ी लोगों से जान पहचान थी तो कॉलेज ख़त्म करके मैं यहाँ तैयारी करने आया और रूम ले के तैयारी करने लगा।

मेरा रूटीन बहुत ही सामान्य था, कोचिंग दिन में और जिम शाम में!
उन दिनों से ही मैं कसरत का काफ़ी शौक़ीन था।

चूँकि सामान्य मनुष्य एक ही रूटीन से बोर हो जाता है तो मैं भी कभी कभी अपने दोस्तों के यहाँ चला जाता था और घर का अहसास ले आता था।

एक ऐसी ही शाम मैं अपने दोस्त के घर से खाना खाकर वापस लौट रहा था और आते ही मुझे अपने फ़ोन पर एक रॉंग नम्बर से कॉल आई।
ऐसे तो मैं अंजान नम्बर की काल नहीं उठाता लेकिन उस दिन उठा ली।

सामने से किसी ने बहुत ही पतली और मीठी आवाज़ में ‘हेल्लो’ कहा।
मैंने पूछा- जी, किनसे बात करनी है?
फिर सामने से झेंप खाई हुई आवाज़ आई- सॉरी, लगता है रॉंग नम्बर लग गया है।

नारी सम्मान वाले स्वभाव की वजह से मैंने भी कहा- कोई नहीं होता है, इसमें सारी बोलने जैसा कुछ भी नहीं। गलती किसी से भी हो सकती है।
मैंने इतना कहा ही था कि तब तक फ़ोन कट गया।
मुझे ये व्यवहार बड़ा अजीब लगा।

ख़ैर ऐसे दो दिन और बीते फिर एक मैसेज़ आया- उस दिन के व्यवहार के लिए क्षमा, आशा है आपने मुझे माफ़ किया होगा, शुभ रात्रि।
शुभ रात्रि लिखा होने की वजह से मैंने कॉल नहीं की.

तो सुबह तड़के उस नम्बर से कॉल आई और सामने से वही सुरीली आवाज़- आप पहली बार में मुझे बड़े अछे व्यवहार के लगे लेकिन आप तो बड़े अकड़ू निकले!

मैंने कहा- हाय ना बाय, तुमने तो मुझे डाँटना शुरू कर दिया।
इस पर वो हंसने लगी।

हमारी ऐसे ही कुछ हफ़्ते सामान्य बातें शुरू हुई और हम धीरे धीरे एक दूसरे से खुलने भी लगे।

ऐसे ही एक दिन उसने मुझसे मिलने की बात भी और हमने मिलके जगह और समय निर्धारित किया।

चूँकि हम वीडियो कॉल कर चुके थे इसलिए भीड़ में एक-दूसरे को पहचानना आसान था।

अब आपको उसका परिचय तो बता दूँ, उसका नाम रुख़्सार था।
सामान्य गोरी और उमर के हिसाब से बिल्कुल सटीक फ़िगर 32-28-32, इतनी सुंदर कि किसी का भी मन डाल जाए, फिर मैं किस ख़ेत की मूली हूँ!

More Sexy Stories  घर में दो भोसड़े और एक सीलपैक चुत मिली- 2

ख़ैर हम मिले, साथ में वक़्त बिताया, मैंने उसे और अच्छे से जाना और बताया अपने बारे में!
मैंने उसके गालों पे किस भी किया, उसने ‘कोई देख लेगा’ यह बोल कर डाँटा क्यूँकि वो लोकल थी।

हमारी बातों में अब इतना बदलाव आया कि वो घूम फिर के मिलने की इच्छा ज़ाहिर करने लगी।

मन तो मेरा भी था कि इस कॉलेज गर्ल फक का मजा लूं.

ख़ैर मैंने उसे अपने फ़्लैट पे बुलाने का निर्णय किया।
मैं खाना अच्छा बनाता हूँ इसलिए मैं खाना बना कर उसका इंतज़ार करने लगा।

वह तय समय दोपहर के 1 बजे आई।
मैंने सामान्य स्वागत के साथ उसे गले लगाया और पानी के लिए पूछा.

लेकिन उसकी आँखों से लग रहा था कि उसे कुछ और ही चाहिए था।
जानता मैं भी था … लेकिन चाहता था वो पहल करे, मुझे औरत का यह गुण आकर्षित करता है।

फिर हम मेरे लैप्टॉप पे कुछ देखने लगे.

इतने में उसने मुझे मुँह से पकड़ा और मुझे किस करने लगी।
मैं भी उसका साथ देने लगा और कभी उसके निचले तो कभी ऊपर के होंठ अपने मुँह में भर लेता.

हम ऐसे ही 10 मिनट तक किस करते रहे. हम दोनों की सांसें तेज हो गयीं।

फिर मैं धीरे धीरे उसके कपड़े उतारने लगा और उसके बदन को चूमने लगा।
उस दिन वो टाइट कुर्ती और सलवार में थी.

तो जब मैं उसकी कुर्ती उतार रहा था तो उसने दोनों हाथ ऊपर करके मेरा साथ दिया.
फिर मैंने पीछे जाकर उसकी ब्रा को उतार फेंका और उसके कबूतर आज़ाद कर दिए.

मैंने उसके बूब्स को जगह जगह काटना और चूसना शुरू कर दिया।

वो आह आह शी करते हुए आवाज़ें करने लगी और मेरे कपड़े भी उतारने लगी।

हम दोनों ऊपर से नंगे थे.

फिर मैंने उसे हग किया और आगे का रास्ता तय करने लगा।

सलवार ढीली होने की वजह से नाड़ा खोलते ही नीचे गिर गयी और फिर दिखी उसकी ब्लैक पैंटी जिसमें वो किसी मोम की गुड़िया की तरह दिख रही थी।

मैंने उसे फिर से लिटा कर उसकी पैंटी उतार दी जिसका उसने कमर उठा कर समर्थन दिया।

मेरे लिए नारी सुलभ लज्जा के पीछे उनकी इच्छा जानना ज़रूरी होता है।
फिर मैं उसको जगह जगह चूमने और काटने लगा और वो आहें भरने लगी।

मैंने कान की लौ से शुरू की और फिर गर्दन और क्लीवेज़ से होते हुए नाभि तक पहुँचा।

मैं जैसे जैसे नीचे आता … उसकी आहें उतनी ही तेज होने लगी।
फिर मैं नीचे उसकी चूत पर पहुँचा जो पहले से ही एकदम साफ़ और गीली थी।

मैंने थोड़ी देर उसकी चिकनी गीली चूत में जीभ नुकीली करके चटा और उसका पानी निकाल दिया।

अब उसकी बारी थी, उसने मेरी पैंट और अंडरवीयर एक साथ एक झटके में उतार दिया जिससे मेरा फ़नफ़नाता हुआ 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लंड उसके चेहरे के सामने आ गया।

More Sexy Stories  गांड मे अंकल का मोटा लंड लिया

पहले वो उसे देखती ही रही एकटक … फिर मेरे कहने से उसने सहलाना और चूमना शुरू किया।
थोड़ी देर में वो उसे आइसक्रीम की तरह चाटने लगी.

मैंने अपना पानी उसके मुँह में ही उससे पूछ कर निकाल दिया.
उसने मुझे बोला था कि उसे लंड का पानी चखना है। उसने एक एक बूँद चाट के साफ़ भी की.

इसके बाद हम एक दूसरे की बांहों में लेट गए।

फिर वो मेरे लंड को चाट कर खड़ा करने की कोशिश में लग गयी और मैं 69 में होकर उसकी चूत चाटने लगा।

एक दूसरे को तैयार करने के बाद मैंने उसे पलंग के एक किनारे खींचा और उसके तड़पने पर उसकी चूत में लंड लगा दिया।

मैंने अभी आधा ही लंड अंदर किया कि वो चीखने लगी और अपने हाथ से अपना मुंह भी दबाने लगी।
उसे प्यार से किस करते हुए मैंने धीरे धीरे अपना लंड अंदर किया ताकि उसे ज़्यादा दर्द ना हो और उसने भी इसमें मेरा पूरा साथ दिया।

मैं उसे चोदते समय कभी उसके दायें तो कभी बायें बूब मुँह में ले लेता तो कभी उसकी जीभ को अपने मुँह में भर लेता और ताबड़ तोड़ चुदाई करने लगा.

फिर मैंने उसकी चूत में लंड डाले डाले ही पलटी मारी और वो मेरी ऊपर हो कर उछल उछल के चुदने लगी.
और उसके हिलते हुए चूचे देख कर मुझे और जोश आने लगा।

15 मिनट की चुदाई में हमने 3 पोजिशन ट्राई की और इसमें वो 3 बार झड़ी भी!

आख़िर में जब मैं झड़ने को हुआ तो उसे बताया कि मेरा निकलने वाला है.
उसने कहा- मेरे अंदर ही डालो, मैं इसका पूरा मज़ा लेना चाहती हूँ।

मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में निकाल दिया.

फिर मैं उसके नीचे की तरफ़ लेट के उसकी चूत से निकल रहे अपने रस को देखने लगा.
वो इससे शर्मा गयी।

इतने में उसके घर से तुरंत आने का फ़ोन आया.

हम साथ में नहाए और जल्दी से बाथरूम में एक और राउंड निपटा कर तैयार होकर निकल गए।

मैंने उससे उसके घर से कुछ दूर पर ड्रॉप किया और दुबारा मिलने का वादा करके वो चली गयी।

फिर ये हमारा हर हफ़्ते का काम बन गया।

5 साल बाद कुछ कारणों से हम अलग हो गए लेकिन अब भी उसके साथ बिताए पलों की मेरे दिल में वही जगह है।

आशा करता हूँ कि आपको मेरी कॉलेज गर्ल फक की कहानी अच्छी लगी होगी.
अपना फ़ीड्बैक नीचे दी हुई मेरी ईमेल आइडी पर दें ताकि आगे मैं अपने अनुभवों को और भी बेहतर तरीक़े से आपके साथ साझा कर सकूँ।