विधवा मां और जवान बेटे की हवस

फॅमिली चुदाई कहानी एक विधवा और उसके जवान बेटे की है। पति की मौत के बाद मां की चूत को लंड की कमी खलने लगी। दोनों ने एक दूसरे में अपना सुख ढूंढ लिया। कैसे?

अन्तर्वासना के पाठको को मेरा नमस्कार! मेरा नाम आशीष है। मैं रायपुर, छत्तीसगढ़ में रहता हूं। ये मेरी अन्तर्वासना पर पहली फॅमिली चुदाई कहानी है।

दोस्तो, मैं पहले एक अन्य वेबसाइट पर कहानी लिखता था मगर अब मैंने अन्तर्वासना पर अपनी कल्पना पर आधारित सेक्स की कहानियां लिखने के बारे में सोचा है.

मैं अपनी पहली कहानी आप लोगों के सामने प्रस्तुत कर रहा हूं; उम्मीद करता हूं कि आप सबको मेरी ये कहानी पसंद आएगी।

मेरी ये कहानी मेरे एक पाठक ने मुझे ई-मेल करके बतायी है। उसने अपनी मां के साथ किए हुए चुदाई के अनुभव को मेरे साथ साझा किया था और वही मैं आप सबको बताना चाहता हूं।

तो दोस्तो, हमारी फॅमिली चुदाई कहानी की नायिका यानि मेरे रीडर की मां का नाम ललिता है और नायक का नाम चंदन है।
मैंने दोनों नाम प्राइवेसी के कारण बदल दिए हैं।

दोस्तो, इस कहानी की शुरुआत 2013 में उत्तराखंड के केदारनाथ में बाढ़ की घटना से होती है।

ललिता के पति केदारनाथ में टूरिस्ट गाइड थे और उसी बाढ़ में उनकी मृत्यु हो गई।
इस घटना की खबर जब ललिता और चंदन को मिली तो उनके लिए ये सदमा बर्दाश्त करना बहुत मुश्किल हो रहा था।
मगर अब आगे की ज़िन्दगी दोनों मां-बेटे को मिलकर ही काटनी थी।

चंदन के अलावा ललिता की एक बेटी भी है। उसका नाम कोमल है। मगर उसका इस कहानी में सिर्फ इतना ही काम है कि आप उसके बारे में जान लें कि चंदन की एक बहन भी है।

तो अब घर को चलाने के लिए और पैसों की जरूरत पूरी करने के लिए चंदन ने गांव की एक फैक्टरी में मजदूर का काम करना शुरू कर दिया।

ऐसे ही 7 साल बीत गए और अब चंदन 27 साल का हो गया और ललिता भी 47 की हो गई थी।
चंदन इतने वक़्त से मजदूरी का काम कर रहा था और इसी वजह से उसका शरीर एक दम हृष्ट-पुष्ट और बलिष्ठ हो गया था।

चंदन की जवानी अपने चरम पर थी; वो रोज़ रात को हस्थमैथुन करता था।

ललिता ने भी अपने पति के मरने के बाद से एक बार भी चुदाई नहीं की थी।
उसकी चूत में भी रह रहकर खुजली होती थी मगर वो मजबूर थी; उसकी चुदासी चूत की प्यास बुझाने वाला कोई नहीं था।

दूसरी ओर वो कभी भी बाहर किसी गैर मर्द से शारीरिक संबंध बनाने से डरती थी। इसलिए उसकी चूत की प्यास बहुत दिनों से दबी ही हुई थी।

अब उसकी ज़िन्दगी में एक नया मोड़ आने वाला था।

यह साल 2020 की कोरोना महामारी के दौरान हुआ।

ललिता मार्च में अपनी बेटी कोमल को अपने साथ लेकर मायके गयी थी होली का त्यौहार मनाने के लिए।

इसी बीच देश में लॉकडाउन लग गया और दोनों मां-बेटी वहीं मायके में फंस गयीं।
चंदन उन दोनों के साथ काम के कारण नहीं गया था। उसको कुछ समय पहले ही फैक्ट्री में सुपरवाइजर का पद दे दिया गया था तो उसका काम अब और बढ़ गया था।

चंदन ने इसी बीच फैक्ट्री की ही एक शादीशुदा महिला से शारीरिक संबंध बना लिया था।
उसने महिला मजदूर को बड़े पद का और ज़्यादा पैसों का लालच देकर अपनी शारीरिक जरूरत को पूरा करने का आसान रास्ता निकाल लिया था।

उस महिला और चंदन के बीच चुदाई की कहानी अगली बार बताऊंगा।

तो ऐसे ही लॉकडॉउन के दो महीने निकल गए। मई महीने के अंत में जैसे ही लॉकडॉउन खुला तो ललिता ने पहली ही बस पकड़ी और अपने गांव वापस आ गई।

कोमल ने नानी के घर रहना ज़्यादा सही समझा।

ललिता के ऐसे एकदम से घर वापस आ जाने के कारण चंदन को ज्यादा खुशी नहीं हुई और दुख अधिक हुआ क्योंकि अब वो उस मजदूरी करने वाली भाभी को घर बुला कर चुदाई का मज़ा नहीं ले सकता था।

ललिता ने घर आकर जब घर की हालत देखी तो चंदन को बुरी तरह से डांट दिया।
घर की हालत बहुत खराब थी। इधर उधर कचरा फैला हुआ था। कपड़े यहां वहां बिखरे हुए थे। एक अजीब सी गंध फैली हुई थी।

मां की गैर-हाजिरी में चंदन ने घर का बिल्कुल ख्याल नहीं रखा था।

ललिता ने घर की साफ सफाई करनी शुरू कर दी। इसी दौरान उसको घर के एक कोने में इस्तेमाल किया हुआ कंडोम मिला।

ये बात ललिता को खटकी कि उसकी गैर हाजिरी में चंदन घर में क्या करता था? किसको बुलाता था?

ललिता ने अपने पड़ोस में अपनी करीबी सहेली से पूछताछ की।
मगर उसकी सेहली को भी इस बारे में कुछ नहीं पता था।

दरअसल चंदन उस मजदूर भाभी को चोरी छुपे घर में लाता था।

ललिता ने अब खुद ही ठान लिया कि वो चंदन की हरकतों पर नजर रखेगी और ललिता का ये फैसला बहुत जल्दी रंग लाया।

एक रात को ललिता पानी पीने के लिए उठी तो उसने देखा कि चंदन के कमरे की लाइट जल रही थी और दरवाज़ा भी थोड़ा सा खुला हुआ था।
ललिता ने सोचा कि इतनी रात को चंदन क्या कर रहा है?

तो ललिता ने दरवाजे को हल्का सा धक्का दिया और अन्दर देखा।
वो अन्दर का दृश्य देखते ही बुरी तरह से चौंक गई।

अन्दर बिस्तर पर चंदन लेटा हुआ अपना लन्ड ज़ोर ज़ोर से ऊपर नीचे करके मुठ मार रहा था।

उसकी चड्डी नीचे ज़मीन पर पड़ी थी और वो अपना लंबा मोटा मूसल लन्ड आंखे बंद करके तेज़ी से ऊपर नीचे कर रहा था।

ललिता ये नज़ारा देख कर सकपका गई।
उसको चंदन पर गुस्सा भी आ रहा था।

मगर अपने बेटे को ऐसे देख कर उसकी जवानी पर शायद गर्व भी महसूस कर रही थी।

उसको झटका उसके बाद लगा जब उसने चंदन के मुंह से अपना ही नाम सुना।
चंदन मुठ मारते हुए ललिता … ललिता … करके बड़बड़ा रहा था। वो अपनी सगी मां को अपने ख्यालों में चोद रहा था।
ये सुनकर ललिता बिल्कुल स्तब्ध हो गई।

More Sexy Stories  करवा चौथ की शाम

ललिता की समझ में नहीं आ रहा था कि वो करे तो क्या करे।
उसका बेटा, जिसको उसने अपनी कोख में नौ महीने रखा, आज अपनी जवानी के जोश में अपनी मां को चोदने की बात सोच रहा है।

चंदन को अब ललिता ध्यान से देखने लगी।
उसने पाया कि चंदन का लन्ड उसके बाप के लन्ड से ज़्यादा लंबा, मोटा और तगड़ा है।

ये देख कर ललिता की चूत में खलबली मच गई।
उसने इतने साल बाद अपनी चूत में गीलापन महसूस किया।

फिर ललिता एकदम से भाग कर अपने कमरे में चली गई। उसने कमरे का दरवाज़ा बंद किया, अपनी नाइटी ऊपर करके अपनी चूत में उंगली करने लगी।

वो बहुत जोश में ज़ोर ज़ोर से अपनी चूत को रगड़ रही थी, उसमें दो दो उंगलियां अन्दर घुसाकर अन्दर-बाहर करने लगी।
उसको इस बात की कतई उम्मीद नहीं थी कि वो एकदम से इतनी जल्दी अपनी चूत से पानी छोड़ देगी।

जल्दी ही उसकी चूत का पानी निकल गया, वो हांफने लगी।
वो बिल्कुल थककर बिस्तर पर लेटी रही और सो गई।

ललिता ने अब रोज़ रात को चंदन को मुठ मारते हुए देखने का सोच लिया था।

ऐसा करके वो खुद भी गर्म हो जाती थी और रात में अपनी चूत में उंगली करके खुद को शांत कर लेती थी।
अब ऐसे ही दिन बीतने लगे।

ललिता ने एक दो बार सोचा कि उसको चंदन से इस बारे में बात करनी चाहिए।
मगर इसमें मां बेटे का रिश्ता बीच में आ रहा था।

इसलिए ललिता ने अब चंदन को इशारे देने की सोची।
ललिता अब रोज़ सुबह नहाकर सिर्फ टॉवल अपने ऊपर लपेटकर बाहर चंदन के सामने आ जाती थी।

वो बाल सुखाने के बहाने कभी कभी चंदन के सामने झुक जाती थी जिसके कारण ललिता की गोरी चिकनी मोटी मांसल जांघों का पूरा नज़ारा चंदन को देखने को मिलता था।

चंदन को अपनी मां की ऐसी हरकतों से मज़ा भी आता था। उसे अजीब भी लगता था कि ये अचानक से मेरी मां ऐसा क्यों कर रही है!
मगर फिर भी ललिता के इतने इशारे करने के बाद भी चंदन ने कुछ भी पहल नहीं की।

फिर एक रात को वो सब कुछ हो गया जिसने शायद मां बेटे के रिश्ते को बदल कर रख दिया।

हुआ यूं कि उनके गांव में बिजली का कट हो जाना बहुत आम बात थी और ये वक्त गर्मी का था।

बिजली गुल हो जाने के चलते चंदन ने घर में इनवर्टर लगवाया हुआ था मगर इनवर्टर भी सिर्फ ललिता के कमरे में लगे पंखे को ही चला पाता था।

ऐसी ही एक रात को लाइट गुल हो गई।
ललिता ने भी सोचा कि शायद आज कुछ मौका है चंदन को खोलने का!
ललिता का सोचना भी सही था।

उसने चंदन को अपने पास बुलाया और बोली- चंदन, आज तू मेरे पास यहां बिस्तर पर सो जा। देख कितनी गर्मी है और मुझे भी अंधेरे में अकेले सोते नहीं बनेगा। यहां पंखा भी चल रहा है।

चंदन- ठीक है मां, जैसा आप कहो।
चंदन ने ये बात थोड़े रूखे और अनमने ढंग से कही।
ललिता जानती थी कि उसने इस तरह रुखे ढंग से हां क्यों कहा।

ललिता शायद यही देखना चाहती थी कि क्या आज रात चंदन मुठ मारेगा या नहीं?
चंदन ने अपने कपड़े उतारे और चड्डी पहन कर ललिता के बगल में लेट गया।

ललिता ने भी एक ढीला सा गाउन पहन रखा था।

गर्मी थी तो दोनों में से किसी ने चादर भी नहीं ओढ़ी थी।

दोनों ही अब सोने का नाटक कर रहे थे लेकिन दोनों को ही नींद नहीं आ रही थी।

ऐसे ही कुछ देर में ललिता ने अपनी आंखे बंद कर लीं और खर्राटे लेने लगी।
ललिता की पीठ चंदन की तरफ थी।

चंदन ने देखा कि ललिता सो गई है तो उसने अपनी चड्डी उतारी और लन्ड हाथ में लेकर हिलाने लगा।
वो धीरे धीरे मुठ मारने लगा।

उसके मुठ मारने से बिस्तर थोड़ा हिलने लगा और चंदन भी थोड़ी आवाज़ें निकाल रहा था।
इसके कारण ललिता की आंखें खुल गईं और उसकी नींद टूट गई।

ललिता ने हल्का सा अपना सिर ऊपर उठाकर पीछे देखा तो चंदन को मुठ मारते पाया।

उसको को भी अब समझ नहीं आया कि वो क्या करे? चंदन को रोके या जो वो कर रहा है उसमें उसका साथ दे?

फिर ललिता ने सोचा कि यही मौका है, यही वक्त है अपनी इतने सालों की तड़प को और प्यास को बुझाने का!
उसने फिर हल्के से अपने गाउन को घुटनों तक ऊपर कर दिया और अपनी जांघों को थोड़ा खोल दिया जिससे चंदन उसकी जांघें देख सके।

उसने अपनी टांगें मोड़ लीं और गान्ड को बाहर निकाल कर चंदन की तरफ कर दिया।

चंदन ने देखा कि उसकी मां की गान्ड उसकी तरफ है और गाउन भी ऊपर घुटनों तक है।
अब चंदन ने भी अपनी मां की तरफ खुद को खिसका लिया और अपना लन्ड ललिता की गान्ड से रगड़ने लगा।

ललिता तो वैसे भी जाग रही थी; उसने चंदन का लन्ड अपनी गान्ड पर महसूस किया।

लंड का अहसास पाते ही ललिता की प्यास एकदम से बढ़ गई और उसने भी अपनी जांघों में थोड़ी हरकत करनी शुरू कर दी।

चंदन ने खुद को ललिता से बिल्कुल चिपका लिया और उसकी कमर पर, पेट पर, पीठ पर, और कंधों पर हाथ से सहलाने लगा।

फिर उसने धीरे से ललिता का गाउन ऊपर कमर तक कर दिया और ललिता की नंगी, गोरी, बड़ी, मोटी और भारी भरकम चिकनी गान्ड पर अपना लन्ड हाथ से पकड़ कर दो तीन बार पटका।
अब चंदन ने अपना हाथ ललिता के बूब्स पर रख दिया।

वो धीरे-धीरे अपनी कमर को हिला कर अपना लन्ड ललिता की गान्ड से रगड़ रहा था।
इसके साथ ही चंदन ने ललिता के बूब्स भी दबाने चालू कर दिए।

More Sexy Stories  गर्लफ्रेंड की चचेरी बहन और उसकी सहेली

वो गाउन के ऊपर से बूब्स को दबा रहा था और कसकर मसल रहा था।

ललिता पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी। उसके बूब्स को दबाने से वो हल्की हल्की सिसकियां ले रही थी- आह्ह … स्स्स … आह्ह … ऊम्म … आह।

इधर चंदन अपनी मां के बूब्स को जोर से मसल रहा था और बीच बीच में उसके निप्पलों को भी उंगलियों के बीच में पकड़ कर मसल देता था।

चंदन का इस तरह से ललिता के बदन के साथ खेलना उसे बहुत पसंद आ रहा था।
ललिता की चूत गीली होकर थोड़ा थोड़ा पानी छोड़ रही थी।

चूंकि चंदन जवान था तो उससे अब चोदे बिना रहा नहीं जा रहा था।
उसने अब साफ साफ बात करने की सोची।

वो उठा और अपनी मां के कान में बोला- मां मै जानता हूं कि तू जाग रही है। तेरी चूत भी नीचे से पूरी गीली हो चुकी है।

ललिता ने भी शर्म पीछे छोड़ अपनी चूत की सुनी और बोली- तो किस बात का इंतजार है तुझे मेरे बेटे? ले चाट ले अपनी मां की चूत, जिसने तुझे इस दुनिया में लाया है। पी जा इसके रस को! ये चूत अब तेरी है।

ऐसा बोल कर ललिता ने अपने घुटने मोड़ लिए और टांगें खोलकर चौड़ी कर दीं।

चंदन ने भी अब आव देखा ना ताव और झट से अपना मुंह, अपने होंठ अपनी मां की चूत में लगा दिए।

उसने अपनी जीभ से ललिता की चूत को ऊपर से नीचे तक पूरा चाटना चालू किया।
वो अपने होंठ से उसकी चूत के दाने को चूस रहा था, उसे खींच रहा था।

ललिता की चूत लगातार पानी छोड़े जा रही थी; उसको इतना मज़ा कभी नहीं आया था। ललिता की टांगें कांप रही थीं। उसको चरम सुख की ऐसी अनुभूति शायद उसके पति के साथ भी नहीं मिली थी जो आज उसका बेटा उसे दे रहा था।

चंदन ने चूत को चाट चाटकर एकदम चिकनी कर दिया था।

अब बारी थी इस चिकनी हो चुकी चूत की ताबड़तोड़ चुदाई की!
चंदन ने अपने लन्ड पर मुंह से थूका और उसको थोड़ा मसलकर लन्ड का टोपा ललिता की चूत के ऊपर रगड़ने लगा।

ललिता चंदन को गालियां देने लगी- साले मादरचोद … क्यों तड़पा रहा है इतना … मुझसे अब और सहन नहीं हो रहा है … मेरी चूत जल रही है अंदर से … इसमें पानी भर … इसकी आग को बुझा हरामी की औलाद … चोद दे जल्दी।

चंदन भी अपनी मां के मुंह से ये सब सुनकर और जोश में आ गया।
फिर उसने एक ही धक्के में पूरा का पूरा लन्ड एक बार में ही ललिता की चूत के अंदर उतार दिया।

ललिता की चीख निकल गई; उसका दर्द से बुरा हाल हो गया।
इतने सालों से जो चूत बिना लंड लिये सूखी पड़ी थी, आज उसने एक जवान मोटा मूसल जैसा लंड एक बार में अन्दर ले लिया था।
ये दर्द तो होना ही था।

मगर फिर चंदन ने भी धीरे धीर धक्के लगाने चालू किया ताकि उसकी मां को ज़्यादा दर्द ना हो।

आखिर वो निकला तो उसी चूत के अंदर से ही था और आज उसी चूत में उसने अपना लौड़ा डाला हुआ था।

चंदन के लिए भी ये एक सपने के सच होने जैसा था। जिस मां को चोदने के नाम से वो रोज़ रात को मुठ मारता था आज उसी मां की चूत की चुदाई करने का मजा उसे मिल रहा था।
ललिता तो बस अब पूरे चरम सुख को प्राप्त करने वाली थी।

उसकी चूत अब कभी भी अपनी धार छोड़ सकती थी मगर चंदन के लंड ने तो बस कुछ ही धक्के लगाए थे।
चंदन अब अपनी गति बढाने लगा और ललिता की चूत में ज़ोर ज़ोर से लंड को अंदर बाहर करके चुदाई तेज़ करने लगा।

ललिता की सिसकारियां अब चीखों में बदलती चली गईं- आह्ह … ईईई … मर गईई … ऊईई मां … ओह्ह … आह्ह आआआ … आहह … आराम से करर … कमीने … आह्ह फाड़ ही देगा क्या सच में … आईई … आआ!

ऐसी तगड़ी चुदाई का ललिता को बहुत समय से इंतजार था।
अब उसे घर में अपने बेटे के रूप में जवान लंड मिल चुका था।

चंदन अपनी मां के बूब्स भी ज़ोर से मसल रहा था और उन्हें दबा दबा कर लाल कर चुका था।

ललिता के लिए अब बर्दाश्त कर पाना मुश्किल होता जा रहा था।
वो अब कभी भी अपनी चूत से धार निकालने वाली थी।

इधर ललिता के ऊपर चढ़ा हुआ चंदन भी बुरी तरह हांफ रहा था।

चंदन- मां मेरा होने वाला है … मैं झड़ने वाला हूं। बोल कहां निकालूं अपना वीर्य??
ललिता- बेटे ये चूत अब सिर्फ तेरी है; अन्दर ही झड़ जा … मुझे मेरे बेटे का गरमा-गर्म वीर्य अपने अंदर चाहिए।

चंदन- ठीक है मां … जैसे तू बोले!
चंदन ने धक्के तेज़ कर दिए और फिर 4-5 धक्कों में ललिता की चूत को अपने वीर्य से भर दिया।

दोनों ही बुरी तरह से थक गए थे और पसीने से लथपथ थे। फिर ललिता ने अपना सिर चंदन की छाती पर रखा और दोनों एक दूसरे को सहलाने लगे। फिर वो उसका लंड थोड़ा हिलाकर सो गई।

चंदन भी ललिता के बदन को सहलाते हुए और उसके बूब्स को दबाते हुए सो गया।

आज दोनों मां-बेटे का एक नया रिश्ता शुरू हुआ था।
इस रिश्ते को कोई नाम नहीं दिया जा सकता लेकिन रिश्ता तो बन चुका था।

तो दोस्तो, कैसी लगी आप लोगों को ये मां-बेटे की फॅमिली चुदाई कहानी? कृपया मुझे मेरी ई-मेल आईडी पर मेल करके इसका रेस्पॉन्स ज़रूर दें और अगर आपको आगे की कहानी जाननी है तो मुझे कमेंट करके बताएं।

मुझे आपके मेल और कमेंट्स का बेसब्री से इंतजार रहेगा।
मेरा ईमेल आईडी है- [email protected]