वासना की न खत्म होती आग-10

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    वासना की न खत्म होती आग-9


  • keyboard_arrow_right

    वासना की न खत्म होती आग-11

  • View all stories in series

अब तक आपने पढ़ा..
होटल के कमरे में अन्दर जाते ही जो नज़ारा मैंने देखा उसे देख कर तो मेरे जैसे होश ही उड़ गए।
अब आगे..

मैं दरवाजे के सामने ही खड़ी थी और वो नजारा मुझे सुधबुध खोने पर विवश कर रहा था।
अन्दर मैंने देखा के बिस्तर पर दो मर्द हैं.. जिसमें से एक पीठ के बल लेटा हुआ नज़ारा देख रहा था और दूसरा भी नंगा लेटा हुआ अपने लिंग को हाथ से सहला रहा था।

उनके पास में एक बहुत गोरी औरत थी, जिसके भरे-भरे स्तन और उठे हुए चूतड़ थे वो भी एकदम नंगी.. टांगें फैला कर पीठ के बल लेटी हुई थी। उसके ऊपर एक 50-55 साल का आदमी उसकी टांगों को पकड़े हुए हवा में झुलाते हुए अपने लिंग को उसकी योनि में तेज़ी से धकेलता हुआ अन्दर-बाहर कर रहा था।

इतना देख कर अभी मैं हैरान ही थी कि शालू ने मेरा हाथ पकड़ अन्दर खींचा। मैंने दो कदम आगे बढ़ाए ही थे कि मेरी बाईं ओर मैंने देखा कि एक औरत चेयर पर आगे की तरफ नंगी हो कर झुकी हुई है और पीछे वो मेरा दोस्त उसके स्तनों को दबोचे हुए उसके योनि में लिंग घुसा कर धक्के दे रहा था।

मैं जब बाहर से अन्दर आ रही थी तो कराहने, सिसकने और हाँफने की आवाज उम्म्ह… अहह… हय… याह… बढ़ती जा रही थीं और जब अन्दर आई तो ऐसा माहौल था कि पूरा कमरा उन दोनों औरतों की कराहों से गूंज रहा था।

मुझे देखते ही मेरे उस पुराने मित्र ने धक्के लगाने छोड़ दिए और वो मेरी तरफ आ गए। तभी वहाँ बिस्तर पर लेटा हुआ आदमी खड़ा होकर उस औरत के पास चला गया। लेकिन उस औरत ने उसे मना किया और कहा- पहले इन सबसे मिल तो लेने दो।

मुझे आई देख कर वे लोग भी.. जो बिस्तर पर सम्भोग कर रहे थे.. वो भी अलग हो गए और सब लोग बैठ कर मेरी ओर देखने लगे।

मैं तो शर्म से पानी-पानी हुई जा रही थी साथ ही ये नज़ारे देख कर घबराने के साथ-साथ कुछ दंग भी थी। मेरे सामने 4 नंगे मर्द और दो नंगी औरतें थीं। हम तीनों बबिता शालू और मैं ही बस कपड़ों में थे।

तब मेरे उस मित्र ने कहा- शालू और बबिता से तो आप मिल ही चुकी हो। इन से मिलो.. ये रामावतार जी हैं, बबिता के पति।

रामावतार वो थे.. जो नंगी औरत के साथ बिस्तर पर सम्भोग कर रहे थे। वो जो लेटा हुआ था और बिस्तर पर जो औरत संभोग कर रही थी.. उनके बारे में बताया गया।

‘ये विनोद और अमृता हैं.. पति-पत्नी हैं।’

फिर वो जो मेरे मित्र के हटने के बाद उठ कर खड़े हुए थे.. वो कांतिलाल जी थे और जिसके साथ मेरा मित्र खुद सम्भोग कर रहा था.. वो रमाबेन जी थीं.. मतलब कांतिलाल की पत्नी थीं।

रामावतार और बबिता कानपुर से आए थे। कांतिलाल और रमा जी गुजरात से.. और विनोद और अमृता कनाडा में रहते थे। वे कनाडा से छुट्टियों में यहाँ आए थे।
ये सब व्यस्क दोस्तों को खोजने की साईट से ही मिले थे।

अब इन सभी से मुझे भी मिलवा दिया गया था। सबसे जान पहचान होने के बाद मैंने थोड़ी राहत की सांस ली.. क्योंकि उनकी सोच बड़े खुले विचारों की थी। उनकी सोच जानकर ऐसा लगा.. जैसे ये भारतीय नहीं बल्कि कोई विदेशी लोग हों।

विनोद और अमृता तो खैर हिंदी कम अंग्रजी ज्यादा ही बोलते थे। सबके अपने-अपने परिवार और बच्चे थे.. सिवाए शालू के.. क्योंकि वो शादीशुदा नहीं थी।

शालू ही अकेली हम में सबसे कम उम्र की थी.. बाकी हम सब 45 के ऊपर ही थे। बबिता 40 की थी, रामजी 43, अमृता 46 की, शालू 32 की और मैं 47 की, विनोद 50, रामावतार जी 48, कांतिलाल भी 50 के थे।

मैंने ऐसा पहली बार नजारा देखा कि नंगे होकर कुछ लोग मुझे अपना परिचय दे रहे हैं। मेरा ध्यान तो बस इस पर था कि अब आगे क्या होगा। उनकी बातों से तो ऐसा लग रहा था जैसे उनके लिए ये सब आम बात थी.. पर मेरे लिए ये सब नया था।

इन सबसे मुझे तारा की उन सारी बातों पर यकीन हो चला था जिसमें उसने अलग-अलग लोगों के साथ सामूहिक सम्भोग की बात कही थी।

मैं ये सब सोच ही रही थी कि तभी मेरे पीछे से कांतिलाल जी ने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मेरा पल्लू नीचे गिरा दिया, मैं तुरंत पीछे घूमी तो वो मुझे देख कर मुस्कुरा रहे थे।

मैंने पलट कर अपना पल्लू वापस उठाने का प्रयास किया तो मेरे पुराने वाले मित्र ने मेरा हाथ पकड़ कहा- इन खूबसूरत स्तनों को क्यों छुपा रही हो?

मेरे ब्लाउज से मेरे अधनंगे स्तन दिख रहे थे और सबकी निगाहें मेरे स्तनों पर थीं।

तभी अमृता और रमा जी मेरे सामने खड़े हो गए और मेरे स्तनों की बराबरी अपने से करने लगीं। अमृता बिलकुल किसी गोरी अंग्रेज की तरह ही गोरी, लम्बी और सुन्दर थी। उसके स्तन करीब 36 इंच के एकदम सुडौल थे। उसके कूल्हे भी उठे हुए थे.. योनि के बाल साफ़ किए हुए थे जिस वजह से उसकी योनि फूली हुई और एकदम चमकती हुई दिख रही थी।
उसकी योनि के द्वार पर सम्भोग की वजह से पानी सा लगा था.. जिससे ये अंदाज़ा हो रहा था कि उसकी योनि अभी भी गीली थी।

यही हाल रमा जी का भी था, उनकी योनि पर भी पानी सा था और उनकी योनि की दोनों पंखुड़िया बाहर की ओर लटकी सी थीं। उनकी योनि पर हल्के काले बाल थे.. जो कि छंटाई किए हुए थे। उनके स्तन अमृता से बड़े और गेहुंए रंग के थे और उन पर बड़े-बड़े चूचुक थे।

तभी बातें करते हुए रमा जी मेरे ब्लाउज के हुक खोलने लगी। उन्होंने एक-एक करके मेरे ब्लाउज और ब्रा खोल कर अलग कर दिया।

इसके बाद क्या था.. कांतिलाल जी ने मेरे स्तनों को पीछे से दबाते हुए मुझे बिस्तर पर खींच लिया और मुझे अपने ऊपर पीठ के बल लिटा कर मेरे गर्दन और गालों का चुब्बन शुरू कर दिया। पता नहीं मुझे अजीब सा लग रहा था फिर भी मैं विरोध नहीं कर रही थी।

कांतिलाल जब मेरे स्तनों को दबाते हुए मुझे चूम रहे थे.. तब अमृता ने मेरी साड़ी खींच कर खोल दी थी और पेटीकोट का नाड़ा भी खोल कर उसे खींचते हुए निकाल कर दूर फेंक दिया था।

अचानक मैंने देखा के मेरी बाईं ओर विनोद आ गिरा और उसके ऊपर शालू चढ़ गई। शालू जोरों से होंठों को होंठों से लगाकर चूमने लगी।

विनोद तो पहले से नंगा था सो विनोद धीरे-धीरे शालू को चूमते हुए उसके कपड़े उतारने लगा और कुछ ही पलों में शालू भी नंगी हो गई। इधर कांतिलाल जी के हाथों की पकड़ और भी मजबूत सा लगने लगी थी।

मुझे और मेरे कूल्हों के बीच उनका तना हुआ लिंग मुझे चुभता सा महसूस हो रहा था। तभी मेरी जांघों पर किसी के गरम हाथों का स्पर्श हुआ मैंने अपना सर थोड़ा ऊपर करके देखा तो मेरा वो पुराना दोस्त मेरी ओर मुस्कुराता हुआ मेरी योनि को पैन्टी के ऊपर से चूमने लगा। उसकी नज़रें मेरी ओर थीं और होंठ मेरी योनि के ऊपर थे। अचानक उन्होंने मेरी पैन्टी को पकड़ एक झटके में खींच का निकाल दिया और मुझे पूरी तरह से निर्वस्त्र कर दिया।

इसके तुरंत बाद ही उन्होंने मेरी योनि को चाटना शुरू कर दिया। इधर कांतिलाल जी मुझे जोरों से पकड़े हुए अपने ऊपर लिटाए थे और मेरे स्तनों को बेरहमी से मसलते हुए मेरी गर्दन.. कंधों पर चुम्बनों की बरसात किए जा रहे थे।

मेरे पुराने मित्र की मेरी योनि में घूमती हुई जुबान मुझे बैचैन सी करने लगी। मेरे बदन में गर्मी सी आने लगी और योनि गीली ही होती चली जा रही थी।
मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी इंसान पर किसी बुरी आत्मा का साया हावी होता चला जाता है.. वैसे ही मेरे बदन पर वासना का साया हावी होता जा रहा हो।
अब तो मुझे यूँ लगने लगा कि मैं अब वासना के अधीन होती जा रही हूँ।

मेरी बैचैन इतनी बढ़ गई कि मैं पूरी ताकत लगा कर कांतिलाल जी की बांहों से आजाद हो उठ बैठी।
वो लोग एकाएक मुझे देखने लगे.. शायद उन्हें लगा होगा कि मुझे ये पसंद नहीं आया।

मैंने कुछ पलों के लिए सांस ली.. तो सामने देखा रामावतार जी कुर्सी पर बैठे हुए थे और उनका लिंग रमा जी पकड़े हुए थीं। उनके बगल में बबिता जी भी खड़ी थीं।

वो लोग सभी मुझे आश्चर्य से देख रही थीं.. तभी मैंने अपने उस दोस्त को पकड़ा और होंठों से होंठ लगा उन्हें चूमने लगी। ये देख सभी को थोड़ी राहत सी मिली और फिर से सब अपने-अपने कामों में लग गए।

मेरे चूमने की स्थिति देखते ही कांतिलाल जी उठ कर फिर से मेरे पीछे से मेरे स्तनों से खेलने और मुझे चूमने लगे।

मैंने चोर नजरों से कमरे का नजारा देखने की सोची.. फिर हल्के से आँखों को खोल कर देखा तो हमारे ठीक सामने रामावतार जी वैसे ही कुर्सी पर बैठे थे और रमा जी उनका लिंग चूसने के साथ सहला भी रही थी, वो जमीन पर घुटनों के बल खड़ी हुई थीं।
बबिता रामावतार जी के होंठों से होंठों को लगा चुम्बन कर रही थीं।

इस वासना के खुले खेल को देख कर मेरी कामोत्तेजना और बढ़ गई थी।

आपके विचारों का स्वागत है।
[email protected]
कहानी जारी है।

More Sexy Stories  चूत की आग में जल रही थी वो