वासना से भरी छोटी बहन की मजेदार चुदाई- 1

फिंगरिंग गर्ल सेक्स कहानी मेरी छोटी बहन की है. उसका गोरा चिट्टा बदन, भरे हुए बूब्स और मटकती गांड देखकर मेरा मन मचलने लगता है। एक दिन मैंने उसे चूत में उंगली करती देखा.

हेलो फ्रेंड्स,
मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूं।
यह फिंगरिंग गर्ल सेक्स कहानी मेरी और मेरी छोटी बहन पिंकू की है जिसमें मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी छोटी बहन को पटा कर उसकी चुदाई की।

मेरा नाम प्रभात है, और मैं मध्यप्रदेश में रहता हूं।
मेरी उम्र लगभग 23 साल है और मैं भी कॉलेज कर रहा हूं।

मैं एक मध्यम परिवार से आता हूं। मेरे परिवार में हम 5 लोग हैं, मैं, मम्मी पापा, एक छोटी बहन पिंकू और एक छोटा भाई है।

मेरी बहन पिंकू अभी 12वीं क्लास में है.
पिंकू और मेरी बहुत बनती है और हमारे बीच में बहुत प्यार है।

मेरी बहन पिंकू इतनी खूबसूरत है कि मैं उसे लफ्जों में बयां नहीं कर सकता, उसका कटीला फिगर देखकर हर किसी का लंड खड़ा हो जाता है।
उसका गोरा चिट्टा बदन, भरे हुए बूब्स और मटकती गांड देखकर मेरा मन मचलने सा लगता है।

बात कुछ दिनों पहले की है जब पिंकू के टेस्ट पेपर चल रहे थे, टेस्ट पेपर सुबह से होते हैं इसलिए पिंकू को सुबह जल्दी उठना होता है।

मैं एक दिन सुबह उठकर फ्रेश होने के लिए बॉथरूम की तरफ जाने लगा तभी मैंने देखा कि पिंकू अंदर नहा रही है और दरवाजा खुला हुआ है।

मैं जैसे ही दरवाजे पर पहुंचा, अंदर का नजारा देखकर मेरी आंखें खुली की खुली रह गई, पिंकू सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी।
पिंकू गजब की माल दिख रही थी।

मैंने इससे पहले कभी किसी लड़की को ऐसे नहीं देखा था।
पिंकू को देख कर मुझे ऐसा लगने लगा कि मेरे सामने कोई पोर्न स्टार खड़ी है।

मैं यह नजारा देख ही रहा था कि पिंकू अपनी ब्रा और पेंटी उतार दी.
हाय क्या नजारा था … पिंकू की मखमली चूद पर एक भी बाल नहीं था।

पिंकू के गोल बड़े बड़े बूब्स, कटीली पतली कमर, मस्त चिकनी चूद और मटकती हुई गांड देख कर मेरा 9 इंच का लन्ड खड़ा हो गया।

मेरा मन कर रहा था कि पिंकू को पटक कर यहीं चोद दूं लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता था।

मैंने देखा कि पिंकू अपनी उंगली छोटी सी गुलाबी चूत पर डालने लगी.

यह देखकर मेरा हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर चला गया और आगे पीछे होने लगा.

पिंकू अब गर्म होने लगी और जल्दी जल्दी अपनी प्यारी सी चूत पर उंगली करने लगी।
और एक हाथ से अपने बूब्स को दबाने लगी.

यह देखकर मैं मदहोश सा होने लगा.

पिंकू धीरे-धीरे सिसकारियां लेती हुई झड़ गई।
यह सब नजारा देख कर मैं धन्य हो गया।

पिंकू नहा के बाहर आने वाली थी इसलिए मैं वहां से चला गया.

तभी पिंकू बाहर निकली.
आज मुझे पिंकू कुछ ज्यादा ही खूबसूरत लग रही थी।
मैं फ्रेश होने के लिए वॉशरूम में गया लेकिन मेरी आंखों में अभी भी पिंकू का गोरा बदन और उसकी गुलाबी चूत घूम रही थी.

मैं गर्म था इसलिए जोर-जोर से मुठ मारने लगा और कुछ देर बाद झड़ गया।

पहले मेरे मन में पिंकू के लिए गंदे विचार नहीं थे लेकिन मैंने जब से पिंकू को बिना कपड़ों में देखा तभी से वह मेरे दिमाग में घूमने लगी.
अब दिन रात बस पिंकू के बारे में सोचने लगा।

मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी सगे भाई बहन की चुदाई की कहानियां पढ़ी और सोचने लगा क्या एक भाई अपनी बहन को चोद सकता है।
तभी मैंने बहुत सी ऐसी पोर्न वीडियो देखी जिसमें भाई बहन की चुदाई वाली वीडियो थी।

तब मुझे पिंकू को देखने का नजरिया ही बदल गया, मुझे समझ में आ चुका था कि एक लंड का रिश्ता बस चूत से होता है और वह कोई और रिश्ता नहीं देखता।

उस दिन मैंने कसम खा ली की एक ना एक दिन पिंकू को चोद कर ही रहूंगा।
अब मैं किसी भी प्रकार से पिंकू की मजेदार चुदाई करने की सोचने लगा.

मैं उसके करीब आने की कोशिश करने लगा। मैं जानबूझकर उसे छूने लगा, कभी गले लगाने के बहाने उसकी मखमली उभरी हुई गांड पर हाथ रख देता और कभी उसके बूब्स छू लेता।

More Sexy Stories  कमसिन पहाड़ी लड़की की बुर चुदाई- 1

कभी-कभी उससे पढ़ाने के बहाने उसकी जांघों पर हाथ रखकर मजे लेने लगा.

पिंकू को लगता था कि या भाई-बहन के बीच का प्यार है लेकिन मेरी प्यारी पिंकू को कहां पता था कि उसका भाई उसकी धमाकेदार चुदाई और उसकी मचलती जवानी का रसपान करने वाला है।

अब मैं पिंकू को चोदने का प्लान बनाने लगा लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं।

एक दिन की बात है वह कमरे में झुक कर झाड़ू लगा रही थी.
पिंकू ने एक ढीली सी टीशर्ट डाली थी जिससे मुझे उसके बूब्स दिखाई दे रहे थे.
मैं उसके बूब्स को देखने लगा.

तभी पिंकू ने मुझे देखते हुए पकड़ लिया और मुस्कुराती हुई बोली- क्या हुआ भैया?
मैं बोला- कुछ नहीं ऐसे ही!
पिंकू समझ चुकी थी कि भैया क्या देख रहे हैं।

अगले दिन सुबह जैसे ही मैं सोकर उठा.
पिंकू चाय लेकर आ गई.

मेरा लंड उस समय खड़ा था.
मैंने देखा कि पिंकू मेरे लंबे लंड को देख रही है.
फिर पिंकू चली गई।

मैं सोचने लगा कि पिंकू जवान हो गई है, उसका मन भी तो चुदाई के लिए करता होगा. उसे भी तो लंड की जरूरत होगी आखिर वह भी इंसान ही है. उसे भी तो लगता होगा कि कोई उसकी चुदाई कर दे।

अब बस पिंकू की यादों में ही दिन गुजर रहे थे और मैं पिंकू के नाम का मुठ मार रहा था।

तभी एक दिन सुबह मुझे पता चला कि नानी जी की तबीयत काफी खराब है.

पापा जी और मम्मी जी ने बताया कि वे तीन-चार दिन के लिए नानी के यहां जा रहे हैं.
मैं पापा और मम्मी को स्टेशन तक छोड़ने चला गया और कुछ देर बाद वापस आ गया।
पिंकू भी आज स्कूल नहीं गई थी.

अब मैं और पिंकू घर पर अकेले ही थे क्योंकि मेरा छोटा भाई बुआ जी के यहां रहता है और वह वहीं से अपनी पढ़ाई करता है।

मुझे पता था कि पिंकू की चुदाई का इससे अच्छा मौका अब नहीं मिलने वाला है.
और मौका मिलते ही मैंने पिंकू के मोबाइल में 3-4 भाई और बहन की चुदाई वाली वीडियो डाउनलोड कर दी।

पिंकू का मोबाइल बेड पर रखकर मैं टीवी देखने के बहाने बाहर आकर टीवी देखने लगा।
और इंतजार करने लगा कि पिंकू कितनी जल्दी वीडियो देखे.

उसकी चुदाई का ख्याल करके मन ही मन खुश होने लगा.

तभी पिंकू कुछ देर बाद खाना खाकर कमरे में गई और मोबाइल चलाने लगी।
मुझे पता चल चुका था कि मेरी प्यारी पिंकू भाई बहन की चुदाई वाली वीडियो देख चुकी है क्योंकि मैंने वे वीडियो ओपन करके ही रखे थे।

कुछ देर बाद पिंकू मेरे पास आई और बोली- भैया, मैं सोने जा रही हूं, खाना टेबल पर रखा है आप खा लेना!
और उसने अंदर से दरवाजा लगा लिया।

मैंने जल्दी-जल्दी अपना खाना खत्म किया क्योंकि मुझे पता था कि अंदर कुछ होने वाला है।

मैं जल्दी से पीछे वाली खिड़की पर गया और झांक कर देखने लगा.

अंदर का नजारा देखकर मुझे लगा मानो मैं स्वर्ग में पहुंच गया हूं और मेरे सामने एक खूबसूरत अप्सरा बिना कपड़ों में है।

मैंने देखा पिंकू बिना कपड़ों में बिस्तर पर लेटी हुई है, मस्ती से पोर्न वीडियो देख रही है, कभी वह अपने जन्नत नुमा बूब्स को मसल रही है तो कभी अपने दांतों से अपने रसीले होठों को काट रही है.

उसके निप्पल एकदम गुलाबी थे। आज पिंकू क्या क़यामत लग रही थी।

यह नजारा देख मेरा लंड इतना बड़ा हो गया कि मानो अभी पैन्ट फाड़ के बाहर निकल आएगा.
अब मैं अपने आप से कंट्रोल खोने लगा।

मुझे लग रहा था कि अभी जाकर मैं अपनी पिंकू की चूत फाड़ चुदाई कर दूं और उसके मखमली दूधों को चूस चूस कर और भी बड़े कर दूं.
फिर मैंने सोचा अभी यह सही समय नहीं है, सब्र का फल मीठा होता है.

यह सोचकर मैंने अपने आप को कंट्रोल किया।

पिंकू से अच्छी लड़की मैंने जिंदगी में पहले कभी नहीं देखी थी, उसके सामने तो पोर्न स्टार भी फेल है।

अब मैं अपना मोबाइल निकाल कर वीडियो बनाने लगा.

पिंकू और बहुत गर्म हो चुकी थी और जोर-जोर से आहें भरने लगी. पिंकू अपनी दो उंगली लगातार की चूत में अंदर बाहर कर रही थी।
उसके मुंह से फक-मी फक-मी की आवाजें निकलने लगी.

More Sexy Stories  कॉलेज टूर में लंड चुसाई का मजा- 1

कुछ देर बाद उसकी मक्खन से चूत ने अपना काम रस छोड़ दिया और पिंकू बेड पर सीधे निढाल होकर गिर पड़ी।

मैंने पूरी वीडियो बना ली.

अब मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो पा रहा था इसलिए मैंने बाथरूम में जाकर पिंकू की मदमस्त जवानी और चूत की वीडियो देखकर जोर जोर से लंड हिलाने लगा.
कुछ देर बाद मेरा भी काम रस निकल गया।

मैं समझ चुका था कि मेरी प्यारी पिंकू को भी लंड की जरूरत है.
मैंने सोच लिया था कि आज चाहे कुछ हो जाए मैं पिंकू को चोद के रहूंगा.
अब मैं रात होने का इंतजार करने लगा।

शाम होने ही वाली थी, इतने में पिंकू मेरे पास आई और बोली- भैया चलो ना आज मार्केट चलते हैं, मुझे कुछ कपड़े खरीदने हैं।

मैं भी तो इसी मौके की तलाश में था, मैंने धीरे से उसकी गांड चमाट लगा दी.
मेरे हां करते ही पिंकू बहुत खुश हो गई और उछल कर मेरे गले लग गई।

उसके बदन की मदमस्त खुशबू ने मुझे अपना दीवाना बना लिया, मैंने अपने दोनों हाथ उसके पिछवाड़े पर रखकर हल्का सा दबा दिया।
मैंने मन में बोला- चल पिंकू, चुदाई से पहले तुझे मार्केट घुमा के लाता हूं।

फिर मैं और पिंकू तैयार होकर मार्केट की तरफ निकल गए.

आज पिंकू कुछ ज्यादा ही सेक्सी लग रही थी, आस पड़ोस के लड़के सब पिंकू को ही देख रहे थे।

पिंकू मुझसे बिल्कुल सट कर बैठ गई, जिससे उसके बूब्स मेरी पीठ पर महसूस हो रहे थे।

मैं जानबूझकर जोर जोर से ब्रेक लगाने लगा जिससे पिंकू के बूब्स मुझे पूरी तरह महसूस होने लगे.

इसी तरह आनंद लेते हुए हम मार्केट पहुंच गए.
पिंकू कुछ कपड़े खरीदने लगी.

तभी मैंने रात के इंतजाम के लिए पिल्स वगैरह ले ली।

हमने रात का खाना भी यहीं से ले लिया और सीधे घर आ गए.

रात के लगभग 8:00 बज गए, मैंने और पिंकू ने साथ में खाना खाया इसके बाद टीवी देखने लगे।

मैंने टीवी पर एक हॉरर फिल्म लगा दी जिससे पिंकू को डर लगने लगा और वह उठकर मेरे पास आकर बैठ गई.

मैं भी उससे सटके बैठ गया.
हम दोनों बातें करने लगे.

तभी मैं उसकी जांघों पर हाथ रख दिया.
उसके विरोध न करने पर कभी उसके गालों को और कभी कानों को सहलाने लगा।

बातों ही बातों में मैंने पिंकू से अपने साथ ही सोने के लिए बोला लेकिन पिंकू मना करने लगी.

मैंने बहाना बनाते हुए बोला- प्लीज पिंकू सो जा ना … आज बस की तो बात है, आज मुझे बहुत डर लग रहा है प्लीज सो जा ना प्लीज!
पिंकू बोली- भैया, तुमको कब से डर लगने लगा?
मैंने बोला- देख पिंकू हम दोनों घर पर अकेले हैं और अभी हॉरर फिल्म देख रहे थे, अगर रात को तुझे डर लगने लगेगा तो तू क्या करेगी, प्लीज मान जा ना!

बहुत मनाने के बाद पिंकू मान गई, कुछ देर बातें करने के बाद पिंकू को नींद आने लगी।

मैं टीवी देख रहा था इसलिए लाइट ऑफ कर दी थी.

पिंकू उठी और बोली- भैया मुझे नींद आ रही है मैं सोने जा रही हूं!

इतना कहकर पिंकू अपने कपड़े वही चेंज करने लगी, उसने एक ढीली सी फ्रॉक पहन ली और नीचे कुछ नहीं पहना, वह सोते समय ब्रा नहीं पहनती है।

मैंने जैसे ही पीछे मुड़ के देखा, पिंकू गजब का माल देख रही थी, उसकी गोरी चिकनी चिकनी टांगें देख कर मैं तड़प उठा।

पिंकू बोली- भैया, मैं सो रही हूं जब आप टीवी देख लेना तो आप भी सो जाना.
इतना बोल कर वह सोने चली गई.

मैं मन ही मन सोचने लगा कि पिंकू तुझे अभी कहां सोने दूंगा, अभी तो तेरी मस्त मस्त चुदाई बाकी है।

तो मैं भी टीवी ऑफ करके कमरे में चला गया और पिंकू से सटकर बगल में लेट गया.

आपको यह फिंगरिंग गर्ल सेक्स कहानी कैसी लगी?
[email protected]

फिंगरिंग गर्ल सेक्स कहानी का अगला भाग: वासना से भरी छोटी बहन की मजेदार चुदाई- 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *