ट्रेन में मिली महिला की सेक्स की प्यास-1

लेकिन वह और भी कुछ चाहती थी, अब वह धीरे-धीरे फिर से मेरे लंड के नीचे आ गई और मेरी पैंट की चेन खोल दी और उन्होंने मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और किसी भूखे से नहीं की तरह लंड चूसने लगी.

बहुत मस्त चूस रही थी वह … मुझे तो बहुत मजा आ रहा था. चूसते चूसते करीब 20 मिनट के बाद मुझे लगा कि अब मैं निकलने वाला हूं, मैंने कहा- धीरे-धीरे करो!
लेकिन वह समझ गई और वो और जोर-जोर से करने लगी और मेरा लंड पानी छोड़ गया. उन्होंने बड़े ही अच्छे तरीके से मेरा लंड चूस कर मुझे संतुष्ट किया और मेरी ओर देखा. हल्के अंधेरे में उनके चेहरे पर मुस्कान साफ दिखाई देते रही थी.
उन्हें खुश देख कर मुझे भी संतुष्टि मिली.
फिर उन्होंने मेरे लंड को अच्छे से चाट कर पैन्ट में सरका दिया और चेन लगा दी. फिर उन्होंने मुझे धन्यवाद दिया और मुझसे गले लग कर सो गई.

इतनी हसीन गर्म जिस्म वाली कामुक लेडी अगर पास में सोई हो तो नींद कहां से आती है. और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया, मेरा लंड रेशमा के बदन पर चुभ रहा था. उसके बाद भी वह मेरे सीने से लग कर सोई रही.
फिर 1 घंटे बाद जब हमारी नींद टूटी तो धीरे धीरे सुबह हो रही थी.

वो जागी और उठ कर उन्होंने अपने आप को सही किया और फिर से मुझे एक लंबा किस किया. मुझे समझ नहीं आ रही थी कि उन्होंने मुझमें क्या देखा था.

More Sexy Stories  मेरी बहेन नीलू और मेरी पहली चुदाई

उन्होंने फिर मुझे कहा- तुमने मेरा यह सफ़र बहुत ही खुश खुशनसीब बना दिया. मैं तुम्हें बहुत मिस करूंगी. काश तुम्हारे लंड को मैं अपनी चूत में ले पाती!
फिर मैंने उसके जवाब में कहा- कोई बात नहीं रेशमा जी, अब मुलाकात हो ही गई है तो अगर आप चाहो तो बार बार होती रहेगी और आप की चूत की अच्छी सी सेवा मैं कर दिया करुंगा.

उनको मेर बात पसंद आ गई, फिर उन्होंने मेरा नंबर मांगा और अपना नंबर भी मुझे दिया. उन्होंने मुझसे पूछा- क्या तुम जब भी मैं बुलाऊँ तो उसी दिन आ सकते हो?
मैंने कहा- रेशमा जी, पटना से रांची बहुत दूर है, आठ दस घंटे लग जाते हैं, अगर आपने मुझे बुलाना हो तो मुझे दो तीन दिन पहले बता देना और आने जाने का किराया भी दे देना तो मैं जरूर आ जाऊंगा.
उन्होंने कहा- ठीक है, जब भी मुझे आपको बुलाना होगा तो दो तीन पहले फोन पर बता दूंगी. और किराये का क्या है, वो तो जब तुम आओगे तो तुम्हें खुश करके ही भेजूंगी.

सुबह के सात बजे थे, फिर पटना आ गया और हम लोग अपना सामान उठाकर गाड़ी से उतरे और स्टेशन से बाहर जाने लगे. फिर उन्होंने मुझे हग किया और बाय बाय करके जाने लगी.
मैं उन्हें जाते हुए देखता रहा.

फिर जब मैं अपने रूम पर पहुंचा तो उन्होंने मेरे व्ट्सएप पर मुझे मैसेज किया- विकी, मैं पहुंच गई हूं. तुम अपने घर पहुंचे या नहीं?
मैंने भी रिप्लाई किया- रेशमा जी, मैं ठीक ठाक से अपने रूम पर पहुँच गया हूँ. आपकी बहुत याद आ रही है!

More Sexy Stories  गर्लफ्रेंड के घर में उसकी बहन के सामने चोदा

और फिर अपनी जिंदगी ऐसे ही चलने लगी. बीच बीच में रेशमा मुझसे फोन पर बात कर लेती थी, कभी कभी फोन सेक्स भी हो जाया करता था. व्ट्सएप पर तो रोज ही संदेशों का आदान प्रदान चलता रहता था.

कहानी जारी रहेगी. अन्तर्वासना के प्यारे पाठको, आपको मेरी हिन्दी सेक्स कहानी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके बतायें!

Pages: 1 2