दोस्त की बहन निकली लंड की शौकीन

सेक्स एडिक्ट गर्ल Xxx कहानी मेरे दोस्त की छोटी बहन की चुदाई की है. वो चुदाई की शौकीन थी तो मैंने भी उसकी चुदाई का जुगाड़ लगाया.

लेखक की पिछली कहानी: रंडी क्लासमेट ने मुझे कॉलबाय बनाया

मेरा नाम रवीश कुमार है, मैं रांची झारखंड से हूं.
मेरी उम्र 27 साल है।
मैं देखने में सामान्य हूं, लम्बाई 5’6″, बॉडी भी सही है।

मेरा लन्ड 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है, मैं चोदने में पक्का खिलाड़ी हूं।
मुझे चूत की चिकनाहट और गरमाहट बहुत पसंद हैं. जो सुकून लंड को चूत में डालने के बाद मिलता हैं कहीं नहीं मिल सकता।
ख़ुशी हो या गम … चूत चोद के आप ख़ुशी को दुगना कर सकते हैं और गम को भुला सकते हैं।

यह सेक्स एडिक्ट गर्ल Xxx कहानी मेरे कॉलेज के समय की है जब मैंने अपनी दोस्त की बहन की चुदाई की। तब मैं और मेरा दोस्त दोनों 22 साल के थे.

स्कूल में मेरा एक दोस्त बना जिसका नाम अंकित था, उसकी चार बहनें थी।

मेरे दोस्त की सबसे बड़ी का नाम स्वाति था, उस वक्त उसकी उम्र 30 साल होगी, दिखने में ठीक ठाक थी।
उसकी शादी को 6 साल हो चुके थे, उसकी 2 बेटी हैं।

स्वाति से छोटी ख़ुशी है, उसकी उम्र तब 27 साल थी। दिखने में थोड़ी मोटी थी, भोजपूरी हीरोइन को टक्कर देने वाला चेहरा और शरीर था।
बड़े बड़े चूचे और गांड है जिन्हें देख कर किसे का भी लंड खड़ा हो जाए।
उसकी शादी को 4 साल हो गए हैं, उसकी भी 1 बेटी है।

ख़ुशी के बाद नेहा हैं, उसकी उम्र 25 साल थी। नेहा का कुछ भी खास नहीं … बस उसके पास चूत है, इसलिए वो बहुत इतराती है।
नेहा के लिए कहावत है कि ना चूत ना चूचे … ख्वाब ऊंचे ऊंचे!
उसकी भी शादी 1 साल पहले हो गई हैं।

सबसे छोटी का नाम प्राची है, उसकी उम्र 20 साल थी। वो देखने में मस्त माल है, जीरो फिगर, 32 साइज के चूचे, 28 की गांड, चेहरा भी बहुत खूबसूरत है।

मुझे बहुत से दोस्तों ने चारों के किस्से सुनाए थे कि सब साली सेक्स एडिक्ट रण्डी हैं, दस दस लंड से मरवाती हैं।
बहुत से दोस्तों ने मुझसे पूछा कि मैंने किसे चोदने के लिए अंकित से दोस्ती की है.
सबको लगता था कि मैंने नेहा और प्राची को चोदने के लिए अंकित से दोस्ती की है।

बारहवीं के बाद अंकित पढ़ाई के लिए ओडिशा चला गया, उसके परिवार में सिर्फ उसके मां बाप और प्राची थी।
कुछ काम होने पर मुझे ये लोग बुला लिया करते थे।

एक दिन मैं अंकित के घर गया तो घर पे सिर्फ प्राची थी.
प्राची ने दरवाज़ा खोलने में देर की तो मुझे थोड़ा शक हुआ।

प्राची थोड़ी हाम्फ रही थी, उसकी लिपस्टिक फैली हुई थी, कपड़े भी थोड़े हड़बड़ी में पहने हुए लग रहे थे।
उसकी हालत देख मुझे यकीन हो गया ऊपर चुदाई चल रही थी।

मैंने प्राची को उसकी लिपस्टिक फैलने की बात बोली तो वो थोड़ा चौंक गई और अपने कपड़े भी ठीक करने लगी।

मैंने प्राची से पूछ लिया- कोई दोस्त है क्या रूम में?
प्राची ने डरते हुए ना बोल दिया।

मैं उसके रूम की ओर बढ़ने लगा तो उसने मुझे रोक दिया और कबूल लिया कि उसका बॉयफ्रेंड हैं उसके रूम में!
तो मैं मामला समझते हुए वहां से निकल लिया।

कुछ दिन के बाद प्राची मुझे डिस्को बार में मिली, वहां वो एक चाचा जैसे आदमी के साथ बैठी हुई थी।

मैंने रात में उससे पूछा तो उसने मुझे कहानी सुना दी कि जहां इंटर्नशिप करती हैं वहां के बॉस के साथ लंच पे गई थी।

कुछ दिन के बाद मैंने प्राची को मूवी थियेटर में एक नए लड़के के साथ पकड़ा, दोनों मूवी के नाम पे चोदम पट्टी करने आए थे।

मैं मूवी छोड़ के प्राची की लाइव ब्लू फिल्म देखने लगा.

प्राची को उस लड़के ने किस किया, उसके चूचे दबाए, टॉप को ऊपर कर के उसके दूध पिए, प्राची ने उसका लन्ड चूसा।

मैंने रात में प्राची से मूवी के बारे में पूछा तो वो डर गई, और मना करने लगी।

तो मैंने उसे डराने के लिए लिए बोल दिया कि हम लोग पांच दोस्त थे सबने उसकी पूरी फ़िल्म देखी है।

उसने अंकित को नहीं बताने के लिए बोला.
मैंने भी उसे समझा दिया कि अंकित को पता नहीं चलेगा।

हम लोग बात करने लगे तो मैंने प्राची को मूवी के लिए पूछ लिया।
वो तैयार हो गई लेकिन उसने बोला कि उसके पास बाहर जाने के लिए नए कपड़े नहीं हैं।

अगले दिन मैं उसे शॉपिंग कराने ले गया, उसने दो टॉप लिया, कुछ मेकअप का सामान लिया।

अगले दिन वो सज धज के मूवी जाने लिए आई. उसने मेरी दी हुई टॉप पहनी थी।
प्राची बहुत सेक्सी माल लग रही थी, मेरा लन्ड खड़ा हो गया था।

More Sexy Stories  मकान मालिक के घर में मिली कुंवारी चूत

मैंने एक बकवास सी मूवी की कॉर्नर की दो टिकट ली, हम दोनों अपनी सीट पे बैठ गए।

थियेटर लगभग खाली था, कुछ कपल ही थे जो अपना मूवी बनाने आए थे।

हॉल की लाइट बंद होते ही मैंने प्राची के कंधे पे हाथ रख दिया, उसने कुछ विरोध नहीं किया।
मैं धीरे धीरे उसके कन्धे को सहलाने लगा, वो मेरी तरफ़ देखने लगी।

मैंने देर नहीं की और उसके होंठों को चूमने लगा, उसने भी अपने होंठ खोल कर सहमति दे दी।
अब हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे.

मैंने प्राची के टॉप के ऊपर से चूचियों को दबाना शुरु कर दिया।

बीस मिनट की चूमा चाटी करने के बाद मैंने अपना लन्ड बाहर निकाल कर प्राची के हाथ में दे दिया, वो किस करते हुए लंड को हिलाने लगी।
कुछ मिनट किस करने के बाद मैंने प्राची का सर अपने लंड के तरफ़ धीरे धीरे धकेलने लगा।

प्राची मेरा इशारा समझ गई, उसने मेरे लन्ड को किस करना शुरू किया।
धीरे धीरे वो मेरे लन्ड पे जीभ घुमाने लगी, 5 मिनट तक वो मेरे लन्ड को जीभ से चाटते रही।

उसके उसने बाद उसने अपने मुंह में थूक जमा की ओर लंड को अच्छे से चूसा, जैसे कि वो अपने थूक से लंड को धोना चाहती थीं।
1 मिनट तक लंड को अपने थूक से गीला किया और फ़िर उसने थूक दिया।

उसके बाद प्राची मेरे लन्ड को बीस मिनट तक चूसती रही।

थियेटर में होने के कारण हम लोग कभी कभी रुक जाते थे तो माल गिरने में समय लग रहा था।

प्राची भी चूसते चूसते थक गई थी तो उसने दांत से लन्ड को रगड़ना शुरु किया, मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मेरा पानी उसके मुंह में भर गया।
उसने बेशर्मी से अपना मुंह खोल कर मेरा माल दिखाया और फ़िर पी गई।

उसके बाद मैं उसके चूचों से खेलने लगा।

मूवी के इंटरवल में हम लोग खाने के लिए पिज़्ज़ा, बर्गर, कोल्ड ड्रिंक ले आए, हम दोनों ने पिज़्ज़ा बर्गर खत्म किया।

कोल्ड ड्रिंक पीते हुए प्राची को किस करने लगा, मैं अपने मुंह से उसके मुंह में कोल्ड ड्रिंक देने लगा।
कोल्ड ड्रिंक भी खत्म हो गई।

दो टोमैटो केचअप के पैकेट बच गये थे तो प्राची मेरे लन्ड को जींस से बाहर निकाल कर लंड पे केचअप लगाने लगी।
तब उसने लंड चूसना शुरू किया, मजे ले कर वो लंड चूस रही थी।

प्राची झुकी हुई थी, मैंने उसके टॉप में हाथ डाल कर उसके चूचे दबाने शुरू कर दिए।

थोड़े देर के बाद मैं उसके मुंह में झड़ गया उसने पानी को पी गई।

हम ने अपने कपड़े ठीक किए और बात करने लगे।

मैंने प्राची को रूम चलने को बोला, वो तुरंत तैयार हो गई।
हम थियेटर से निकले खाना पैक कराने लगे.

मुझसे प्राची ने कहा कि उसे बहुत ज़ोर की भूख लगी हैं, पेट में और नीचे भी
प्राची ने कहा कि एक राऊंड के बाद खाना खाएंगे।

मैं अपने दोस्त के रूम पहुंचा, रूम बंद करते ही, प्राची मुझपे झपट पड़ी।

किस करते हुए उसने मेरे जींस चड्डी को नीचे कर दिया, बोलने लगी- दो घंटे से रगड़ रहे हो, अब बर्दाश्त नहीं हो रही है।

मैंने अपनी जींस को पूरा उतार दिया.
तब तक प्राची ने भी अपनी जींस उतार दी.
और वो कॉन्डम को फाड़ कर मेरी तरफ़ बढ़ा दी।

मैंने कॉन्डम लगाया.
प्राची की तरफ़ देखा तो वो अपनी चूत को थूक से गीला रही थी।

मैंने बिस्तर के किनारे पे प्राची को खींचा और उसकी चूत पे लंड सेट कर के धक्का दिया।
पूरा लंड एक बार में अंदर घुस गया.

मैं सटासट उसकी चूत चोदने लगा।

प्राची की दोनों टांगें हवा में फैली हुई थीं.
मैं खड़े होकर ताबड़ तोड़ धक्के लगा रहा था।

दस मिनट की चुदाई में प्राची झड़ गई लेकिन मेरा नहीं हुआ था क्यूंकि प्राची दो बार मेरा लन्ड चूस के झाड़ चुकी थी।

मैं बिस्तर पे लेट गया और प्राची को ऊपर आने को बोला.
प्राची मेरे लन्ड पे बैठ के कूदने लगी।

मेरे दोस्त की सबसे छोटी बहन मस्त रण्डी की तरह चुद रही थी।

पांच मिनट कूदने के बाद वो फ़िर से झड़ गई.
वो नीचे लेट गई और मुझे जल्दी झड़ने को बोलने लगी।

मैंने प्राची के ऊपर चढ़ कर चूत में लंड घुसा दिया और तेज़ी में धक्के लगाने लगा; उसके होंठों को भी चूसने और काटने लगा.
बिना रुके मैंने पांच मिनट धक्के लगाए और मैं झड़ गया।

प्राची उठकर बाथरूम गई, मैं भी उसके पीछे गया, उसने अपनी चूत को साफ किया।
मेरे सामने ही उसने पेशाब किया.
पेशाब के साथ उसका सफेद माल भी बाहर आ रहा था।

मैंने भी पेशाब कर के लंड को धो लिया।

प्राची और मैंने नीचे कुछ नहीं पहन रखा था, हम दोनों ने वैसे ही खाना खाया।
हम लोग आराम से खाना खाते हुए बात कर रहे थे.

More Sexy Stories  कॉलेज की गर्लफ्रेंड की मस्त चुत की चुदाई फ़ीजिक्स लैब में

खाना खत्म होने के बाद बीस मिनट के बाद प्राची ने कहा- एक बार और करते हैं और यहां से चलते हैं।

मैंने प्राची को किस करना शुरू किया और उसके टॉप को खोल दिया।
प्राची ने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी, मैंने उसकी ब्रा को खोल दिया, मैं उसकी चूची को चूसने लगा।

प्राची ने मेरे शर्ट और बनियान को खोल दीया और बोली- जब तक पूरे शरीर से शरीर नहीं रगड़ता है, तो मजा नहीं आता है।

मैं प्राची के ऊपर चढ़ कर उसे किस कर रहा था और चूचे दबा रहा था।
नीचे मेरा लन्ड भी उसकी चूत में जगह बनाने को बेताब था.

लेकिन प्राची ने अपने दोनों टांगों को सटा के रखा था जिससे चूत में लन्ड नहीं घुस रहा था।

प्राची मेरे लंड की तड़प को देखते हुए मुझे और जोर जोर से किस करने लगी।
फ़िर प्राची ने मुझसे चूत चूसने को कहा.
मैंने उसकी बात सुनकर उसकी चूत पे मुंह लगा दीया।

मैं उसकी चूत को चाटने लगा, उसके चूत के दाने को चूस रहा था।

प्राची को यह पसंद आ रहा था, वो मेरे बालों को सहलाते हुए मेरे मुंह को अपने चूत में दबाने लगी।

थोड़े देर चूत चूसने के बाद मैंने उसे 69 पोजिशन में आने को कहा.
प्राची मान गई।

मैंने प्राची को नीचे कर के उसके मुंह में अपना लन्ड डाल दिया और उसकी चूत को चाटने लगा।

वो धीरे धीरे मेरे लन्ड को चूस रही थी, मुझे मजा आ रहा था।

लेकिन मैं उसके मुंह को चूत समझ के चोदने लगा जिससे प्राची को अकबक लगने लगीं, उसने मुझे रोकने की कोशिश की पर मैं मुंह में लंड अंदर बाहर किए जा रहा था।
प्राची ने मुझे रोकने के लिए दांत लगा दिए मेरे लन्ड पे जिससे मुझे लंड मुंह से निकालना पड़ा।

प्राची ने गुस्सा करते हुए मुझे गाली दी और बोलने लगी कि वो कोई रण्डी नहीं है, मुझसे ये सब नहीं होगा।

मैंने प्राची को समझाया और दोबारा उसकी चूत को चूसने लगा.
अब वो उखड़े हुए मन से लेटी हुई थी।

मैंने प्राची से माफी मांगी और उसे शॉपिंग कराने का बोला तो उसका मूड थोड़ा ठीक हुआ।

उसने अपने पर्स से टोमैटो केचअप निकाला और अपनी चूत के चारों तरफ लगा दी, मैं सारा केचअप चाट गया।

प्राची ने मुझे ऊपर की ओर खींचा.
मैंने उसके चूचों को चूसना शुरू किया और लंड को चूत पे रगड़ने लगा।

किस करते हुए मैंने उसकी चूत में लंड घुसा दिया और धक्के लगाने लगा।

दस मिनट की ठुकाई के बाद प्राची ने मुझे नीचे लेटा के मेरे लन्ड पे बैठ के कूदने लगी।

मैंने प्राची की गांड पे थप्पड़ मारना शुरू किया तो वो मुझे गुस्से से देखने लगी और बोली- थप्पड़ से लाल निशान बन जाते हैं, और इस गांड के चाहने वाले बहुत हैं, सबको समझाना पड़ेगा।
मैं समझ गया ये साली पक्की रांड है।

मैं उसकी कमर को पकड़ कर कूदने में मदद करने लगा.

वो दस मिनट कूदने के बाद झड़ गई और बगल में लेट गई।

मैंने उसे डॉगी स्टाइल में होने को कहा.
वो डॉगी स्टाइल में आ गई, मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड पेल दिया।

मैं उसके बाल पकड़ कर उसे चोदने लगा.
प्राची मुझे फ़िर से घूरने लगी तो मैंने उसके चूचों को पकड़ लिया और चोदने लगा।

डॉगी स्टाइल की दो मिनट की चुदाई में प्राची की चूत ने पानी छोड़ दिया, मैंने धक्के लगाना चालू रखा।

दस मिनट तक चोदने के बाद मैं प्राची को नीचे लेटा के उसके ऊपर चढ़कर चोदने लगा।

मैं भी अब झड़ने के मकसद से चोद रहा था, मैंने धक्के लगाने की स्पीड को बढ़ा दिया।
पांच मिनट की चुदाई की बाद मैं भी झड़ गया।

बीस मिनट के बाद हम दोनों ने कपड़े पहने, प्राची ने अपना मेकअप ठीक किया और हम लोग रूम से निकल गए।

मैंने प्राची को कुछ खाने का पैक करवा दिया, उसे कुछ शॉपिंग करवा दिया। मैंने प्राची को ब्यूटी पार्लर जाने के लिए कुछ पैसे भी से दिए।
प्राची खुश हो गई।

मैंने प्राची को अगली बार मिलने का पूछा तो वो जल्दी ही मिलने का बोल कर चली गई।

उसके बाद मैं हर चौथे दिन प्राची को चोदने लगा, कभी उसके घर, कभी अपने दोस्तों के रूम पे!
बदले में शॉपिंग करा देता था तो हम दोनों खुश हो जाते थे।

प्राची से मेरी अच्छी दोस्ती हो गई तो उसने अपने जन्मदिन पे मुझे एक मस्त माल की चूत दिलवाने का वादा किया।

प्रिय पाठको, कैसी लगी आपको मेरी सेक्स एडिक्ट गर्ल Xxx कहानी? मेल और कमेंट्स में बताएं.
[email protected]