रिश्ते में बहन के साथ सेक्स सम्बन्ध- 4

हॉट सेक्सी गर्ल Xxx चुदाई का मजा मुझे मिला मेरी रिश्ते में बहन से! उसने मुझे अपने घर बुलाया और अपनी कुंवारी बुर का उपहार दिया. आप भी मजा लें.

दोस्तो, मैं अगम एक बार फिर से आपको अपनी पड़ोसन और रिश्ते में लगने वाली दूर की बहन की चुत चुदाई की कहानी सुनाने के लिए हाजिर हूँ.
पिछले भाग
बहन बनी गर्लफ्रेंड ने दिया सरप्राइज
में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी लवी को गोद में उठा कर बिस्तर पर ले जाने लगा था.

अब आगे हॉट सेक्सी गर्ल Xxx चुदाई:

मैंने देर ना करते हुए उसे बेड पर ले जाकर लिटा दिया और उसके होंठों पर किस करने लगा.
वो मेरे होंठों अपने होंठों पर पाते ही थोड़ा गर्म होती जा रही थी.

मैंने धीरे से अपने जीभ को उसके चेहरे पर फिराना शुरू कर दिया और अब मैं उसकी गर्दन को चूमने लगा.
जिससे वो काफ़ी उत्तेजित होती जा रही थी.

फिर जब मैंने उसकी आखों में देखा तो ऐसा लग रहा था जैसे वो काफ़ी टाइम से सेक्स की भूखी हो.

मैं ऐसे ही धीरे धीरे हल्का सा नीचे आया और उसके मम्मों से थोड़ा ऊपर किस करने लगा.

अपने एक हाथ को मैं उसकी छाती पर फेरने लगा, जिससे वो और भी ज़्यादा गर्म हो गई थी.

मैंने देर ना करते हुए उसे उठाया और खड़ा कर दिया. धीरे धीरे करके उसकी ड्रेस निकाल दी और साइड में रख दी.

अब वो मेरे सामने ब्लू कलर की ब्रा और पैंटी में थी.
उसे देख कर मैं बोला- तुम इस ब्लू ड्रेस में ज़्यादा मस्त लग रही हो.
वो हंसती हुई बोली- देख लो … कहीं कुछ देर बाद बोलो कि तुम अब ज़्यादा मस्त लग रही हो.

मैं कुछ नहीं बोला और उसे बिठाने लगा.

उसी वक्त उसने मुझे बेड पर धक्का दे दिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गई.

वो मेरा कुर्ता निकालने लगी, जिसमें मैंने भी उसकी मदद की.

फिर वो मुझे पागलों की तरह किस करने लगी.
मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कोई भूखी देसी कुतिया को विदेशी कुत्ता मिल गया ही और वो उससे चुदवाने के लिए उस पर टूट पड़ी हो.

वो धीरे से मेरी छाती पर किस करती हुई नीचे बढ़ रही थी.
अगले कुछ पलों में उसने मेरा पजामा भी निकाल दिया.
मेरा 7 इंच का लंड मेरे अंडरवियर में से बाहर झांक रहा था जिस पर वो हाथ फिरा रही थी.

वो बोली- ये महाशय तो कुछ ज़्यादा ही उतावले हैं.
मैंने कहा- वो तो होगा ही.

फिर मैंने उसे झटके से नीचे पलट दिया और उसके ऊपर आकर उसे किस करने लगा.
मैं उसके जिस्म पर जीभ फिराने लगा, जिससे वो गर्म आहें भरने लगी, उसकी हल्की हल्की मादक आवाजें निकलने लगीं.

फिर मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूसने लगा था.
उसके बाद मैंने उसकी पीठ पर हाथ ले जाकर उसकी ब्रा के हुक खोल दिया. उसकी ब्रा उसके बदन से अलग कर दी.

फिर मैंने उसके बड़े बड़े मम्मों को अपने मुँह में रगड़ा और एक को मुँह में लेकर चूसने लगा. मैं कभी इस बूब को चूसता, कभी दूसरे को.

इससे वो एकदम से उत्तेजित हो रही थी; मुझे अपने दूध पीने के लिए उकसा रही थी.

मैं धीरे से जीभ फिराते हुए उसके पेट पर आ गया.
फिर जैसे ही मैं उसकी नाभि पर अपनी जीभ फिराने लगा, वो तो पागल सी हो गई.
अब वो बहुत ज़्यादा उत्तेजित हो रही थी.

मैं धीरे से नीचे आ गया और उसकी पैंटी पर से ही एक किस किया.
जिस पर उसके मुँह से आह निकल गई.

मैं उसकी चुत को छोड़ कर उसके चारों तरफ जीभ फिराने लगा, जिससे वो पगला उठी और बोलने लगी कि अगम अब बर्दाश्त नहीं होता, ज्यादा मत तड़पा … बस अब मेरी ले ले.

पर मैं कहां मानने वाला था.

मैंने ऐसे ही उसकी टांगों पर जीभ फिराना जारी रखा. कुछ देर बाद जब वो कुछ ज़्यादा ही बोलने लगी- मुझे मत तड़पाओ प्लीज़ मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूँ.

वो अपने मम्मों पर हाथ फिराने लगी और मचलने लगी तब मैंने उसकी पैंटी निकाल दी जोकि पूरी गीली हो चुकी थी.

अब मैं उसकी चुत के पास किस करने लगा तो उसने मेरा सिर पकड़ा और मेरा मुँह अपनी चुत पर दबा दिया.

वो बोली- चाट इसे … अब बहुत देर हो गई तुझे तड़पाते हुए … अब नहीं रहा जाता.

मैं उसकी चुत को चाटने लगा.
उसकी चुत पर एक भी बाल नहीं था.
वैसे उसके पूरे शरीर पर एक भी बाल नहीं था.

जब मैंने उससे ये बात पूछी कि लगता है आज तुमने अपनी चुत की अच्छे से झांटें साफ़ की है.
वो बोली- बाबू घर पर नहीं, पार्लर से फुल बॉडी वॅक्सिंग करवाई है तुम्हारे लिए.

More Sexy Stories  दोस्त की सहेली संग चुदाई युद्ध- 3

मैंने कहा- अच्छा जी इतना ध्यान रखती हो मेरा?
वो बोली- वो सब बातें बाद में करना … पहले जो काम जरूरी है, वो करो.

मैं अपनी जीभ को उसकी चुत में डालने लगा और अन्दर बाहर करने लगा.
जिससे वो ‘आ उऊहह ईहह …’ की मादक सिसकारियां लेने लगी.

लगभग 5 मिनट बाद वो मेरे मुँह पर ही झड़ गई और मैं उसका थोड़ा सा पानी पी गया, जिसका स्वाद कुछ हल्का नमकीन और कुछ कसैला सा था.

अब वो कुछ शांत होकर बैठी और अपनी कातिलाना नज़रों से मुझे देखती हुई बोली- तुम मुझे तड़पा तड़पा कर मारोगे.

इस पर मैंने उसे किस किया और कहा- अभी नहीं जान, अभी तो तुमसे बहुत काम है.

वो इस पर हंसी और बोली- अच्छा जी.
मैंने अब देर ना करते उसे अपना अंडरवियर निकालने का इशारा किया और कहा कि गन्ना चूसो.

मगर वो लंड चूसने को मना करने लगी- नहीं यार, मुझसे नहीं होगा. मुझे ये पसंद नहीं है.
फिर मैंने कहा- पसंद तो सब आ जाएगा … एक बार मुँह में तो लो, क्यों इतनी एक्टिंग कर रही हो.

वो बोली- अच्छा बाबा और कुछ?
मैंने कहा- फिलहाल कुछ नहीं जी.

अब वो बेड पर से उतरी और मेरे पैरों की तरफ आ गई.
उसने मेरा अंडरवियर निकाला तो मेरा लंड उसे देख कर फुंफकार मार रहा था.

वो मेरा बड़ा लंड देख कर घबरा गई और बोली- तुम तो मुझे मार ही दोगे … ये तो इतना बड़ा है.
मैं बोला- जान कुछ नहीं होगा.

वो बोली- मुझे तो लगा था कि इतना बड़ा नहीं होगा, पर ये तो ज़्यादा ही बड़ा है.

मैंने उससे कुछ ना बोलते हुए उसके चेहरे को पकड़ा और अपने लंड के ऊपर ले आया.
फिर अपने लंड के टोपे को उसके मुँह से रगड़वाने लगा.

उसने धीरे धीरे मुँह खोला और मेरे लंड के टोपे को चाटने लगी.
पहले तो वो कुछ नखरे करने लगी, फिर धीरे धीरे वो खुद ही मेरे लंड को चूसने लगी.

जैसे ही उसके होंठों का स्पर्श मैंने अपने लंड पर पाया, मेरे तो शरीर में एक करेंट सा दौड़ने लगा.
वो मेरे आधे लंड को चूसे जा रही थी.

मैंने उसके चेहरे को पकड़ा और पहले तो आराम से, फिर थोड़ा तेज़ी से उसके मुँह को लंड पर ऊपर नीचे करने लगा.
धीरे धीरे मैंने अपने लंड को उसके हलक तक उतार दिया, जिससे उसका दम घुटने लगा और वो मुझे अपना हाथ मारने लगी.

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और वो लंबी सी सांसें लेती हुई बोली- क्या मुझे मारने का प्लान था?
मैं बोला- अरे नहीं जान … वो तो बस मजा आ रहा था.

वो बोली- यार मुझसे नहीं होगा … तुम्हारा काफ़ी बड़ा है.
मैं बोला- क्या तुम्हारा … साफ बोलो न … इसे लंड बोलते हैं, बोलो लंड.

वो बोली- हां वही … यार इतने बड़े से मेरी चूत फट जाएगी … मेरा मतलब तुम्हारे इतने बड़े लंड से.
मैंने कहा- कुछ नहीं होगा … मैं हूँ ना!

वो बोली- अच्छा ठीक है, मैं तेल लेकर आती हूँ.
अब वो तेल लेकर आई और उसने पहले तो खूब सारा तेल मेरे लंड पर लगाया फिर मैंने उसकी चुत पर तेल लगाया.

अब मैंने उसे अपने नीचे लिया और उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया.
इससे उसकी चुत हल्की सी ऊपर उठ गई.

फिर मैंने अपने लंड को उसकी चुत पर सैट करके फांकों में रगड़ा.
वो मस्त होने लगी और उसने अपनी टांगें फैला दीं.

धीरे से मैंने एक धक्का मारा, मगर मेरा लंड फिसल गया.

मैंने फिर से लंड का सुपारा चुत पर लगाया तो इस बार लवी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चुत की दरार में लगा दिया और पकड़ के रखा.

मैंने जैसे ही पहला धक्का मारा, मेरे लंड के आगे का हिस्सा उसकी चुत में घुस गया और वो हल्का सा चिल्ला दी- आयई … मर गई!

मगर मैंने बिना रुके एक और धक्का दे मारा, जिससे मेरा आधा लंड उसकी चुत में घुस गया.

वो कसमसाने लगी और चिल्लाने लगी- आए ईयीई मर गई इई मैं … आआहह उउउहह!

अब मैं कुछ देर रुक गया और उसे किस करने लगा, उसके मम्मों को मसलने लगा.

फिर जब उसका दर्द कम सा हुआ तो मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रखे और उसे पकड़ एक ज़ोर से धक्का दे मारा.

इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चुत की जड़ में चला गया.
वो फिर से चिल्लाने को हुई, तो उसकी चीख मेरे मुँह में दब कर रह गई.

फिर मैंने कुछ पल बाद जब अपने होंठ उसके होंठों पर से हटाए, तो वो चिल्लाने लगी- आंह मर गई में तो … आंह अगम अपने इसे बाहर निकालो … मेरी चुत फट गई … मैं मर जाऊंगी प्लीज़ बाहर निकालो.

More Sexy Stories  चुदाई में शह और मात- 2

मैं उसे चुप करवाने लगा.
वो चुप तो हुई … पर उसकी आंखों से पानी आ रहा था.
उसे सच में काफ़ी दर्द हो रहा था.

मैंने उसे समझाया- बाबू बस अब दर्द नहीं होगा.
पर वो सुन ही नहीं रही थी.

मैं ऐसे ही रुका रहा और उसके मम्मों से खेलने लगा.
जब उसका दर्द कम हुआ, तो वो अपनी कमर हिलाने लगी.

अब मैंने भी धीरे से अपने लंड को लवी की चूत में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.
मैं अभी धीरे धीरे धक्के लगा रहा था और वो ‘आअहह उउउहह …’ की मादक आवाजें निकाल रही थी.

अब मैंने अपनी कुछ स्पीड बढ़ा दी, जिससे वो अपनी तेज आवाजें ‘आहह उऊहह आएयई आआहह …’ की निकालने लगी और इसी के साथ झड़ गई.

वो झड़ कर निढाल लेटी रही.
उसकी चुत का चिकना पानी मेरे लंड को भिगोता हुआ बाहर निकल रहा था जिससे चादर भी गीली हो गई थी.

मैं उसे किस करने लगा और धक्के मारता रहा.
फच फच की आवाज के साथ लंड को चूत में आने जाने में सुगमता होने लगी थी.

फिर एक मिनट बाद वो फिर से गर्म हो गई और अब मैं उसे तेज़ी से धक्के मारे जा रहा था.

मुझे उसे चोदते हुए लगभग 20 मिनट हो गए थे पर मैं झड़ा नहीं था.
मुझे यही बात समझ नहीं आ रही थी कि ये कैसे हुआ.
जबकि मुठ मारने में मुझे कभी भी इतना समय नहीं लगा था.

मैं अभी यही सोच रहा था कि लवी बोली- अगम तुम्हारा इतनी जल्दी नहीं होगा, अभी तो तुम्हें टाइम लगेगा.

मैं चौंकते हुए उसकी ओर देखने लगा- क्या मतलब .. क्यों देर लगेगी मुझे?
वो हॉट सेक्सी गर्ल हंस कर बोली- वो जो तुमने कोल्ड ड्रिंक पी थी, मैंने उसमें सेक्स टाइम बूस्ट करने की गोली डाली थी.

मैंने उससे पूछा- ऐसा क्यों किया?
वो बोली- ये हमारी फर्स्ट नाइट है, तो मैं इसे ऐसे ही कैसे जाने देती.

मैं कुछ नहीं बोला और उसे तेज़ी से धक्के देते हुए बोला- ये तुम्हारा सही काम था, अब मैं बताता हूँ तुमको कि फर्स्ट नाईट की चुदाई का मतलब क्या होता है.

मैंने अपने धक्कों की स्पीड बहुत तेज बढ़ा दी जिससे वो चिल्लाने लगी और बोली- यार आराम से चोदो आअहह उऊहह अयईई मर गई … आंह मारोगे क्या …. प्लीज़ आराम से चोदो.

मैं नहीं रुका और ताबड़तोड़ उसे चोदता गया.

तभी लवी ने मुझे कसके जकड़ लिया, जिससे मैं हिल ना पाऊं.

वो बोली- अब तभी छोड़ूँगी, जब तुम आराम आराम से करोगे.
मैंने उससे ओके बोला और अब मैंने अपना लंड उसकी चुत से बाहर निकाल कर उससे कुतिया बनने को बोला.

वो झट से कुतिया बन गई.
मैंने पीछे से उसकी चुत में लंड सैट किया और एक धक्के में पूरा लंड उसकी चुत को चीरता हुआ अन्दर चला गया.

वो फिर से चिल्लाई कि आएई मर गई … मादरचोद.
मुझे हंसी आ गई और मैंने कहा- साली, मैं भैनचोद बना हूँ … मादरचोद बना रही है, तो सोच ले!

वो हंसने लगी और प्यार से चुदाई करने की कहने लगी.

मैंने उसकी एक भी ना सुनते हुए फिर से मूड बना लिया.
अब मैंने एक हाथ उसकी कमर पर रखा और एक हाथ से कभी उसके बाल पकड़ कर खींचता, कभी कुछ करता. मगर लंड पेलना जारी रखा.

कुछ देर उसे ऐसे ही दर्द देने के बाद में रुक गया और उससे अपने लंड के ऊपर आने को बोला.

मैं सीधा लेट गया और वो मेरे लंड पर आकर बैठ गई.
अपनी चूत में लंड सैट करके ऊपर नीचे होने लगी. उसके मम्मे हिलने लगे तो मैं उसके उठकर उसके एक दूध को चूसने लगा और दूसरे को मसलने लगा.

उसे मजा आने लगा.

इस तरह से ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मेरा होने वाला था तो मैंने उससे पूछा- अब मेरा होने वाला है … कहां निकालूं?
वो बोली- अन्दर ही निकाल दो.

मैंने उसकी चुत में सारा वीर्य निकाल दिया.
वो भी मेरे साथ ही झड़ गई और निढाल होकर मेरे ऊपर ही लेट गई.

मैंने उससे पूछा- मैं कैसा लगा?
वो बोली- एकदम सॉलिड.
मैंने कहा- पहले वाले ठोकू से मिलान करो तो कैसा था?

वो बोली- मैंने उसका सिर्फ एक बार चूसा था.
मैंने उसे सीने से चिपका लिया.

वो बोली- अब आगे से उसका नाम मत लेना.
मैंने ओके कह दिया.

हम दोनों ने अगले आधा घंटा बाद फिर से Xxx चुदाई की लीला शुरू कर दी.

दोस्तो, अब इससे आगे की सेक्स कहानी मैं आपको अगली बार लिखूंगा.

आपको मेरी हॉट सेक्सी गर्ल Xxx चुदाई कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताइएगा.
[email protected]

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *