सेक्सी पंजाबी भाभी की कामुकता शांत की

भाभी आराम आराम से खुद लंड अंदर बाहर करके ऊह्ह्ह्ह्ह !!! आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह !!! की मधाम मधाम सिसकियाँ भरने लगी, इस आराम आराम की चुदाई में मज्जा तो आ रा था पर मेरा लंड काफ़ी दीनो से प्यासा था और आफ़त मचाने के चक्कर में था, मैने भाभी की गॅंड पकड़ी और झटके मरने शुरू कर दिए.

अब भाभी की सिसकियों ने दम पकड़ा और ऊऊऊह्ह्ह !!! ओऊओह्ह !! की जगह अब आअह्ह्ह्ह्ह्ह !!! आआह्ह्ह्ह्ह !!! हाअवव !!! हावव !!! की आवाज़ आने लगी, ज़ाहिर था की भाभी अब लंड का लोहा फील कर रही थी, फिर मैने भाभी को सीधा लेटा दिया और उनकी टाँगें पीछे की तरफ फोल्ड करके घुटने उनकी चेस्ट पर लगा दिया.

अब मैं सच में आफ़त मचाना चाहता था.उनकी चूत बहुत लूझ थी इसलिए मैने भाभी को कहा की भाभी गॅंड मारनी है भाभी बोली मैने कभी नही गॅंड मे डलवाया, मैने उनकी गॅंड को थोड़ा सा गीला किया और लंड रख दिया उनकी गॅंड पर.

भाभी मना करती रही पर मैं नही माना, गॅंड बहुत टाइट थी काफ़ी ज़ोर लगाने के बाद भी लंड आधा ही अंदर जा रा था, भाभी अपने दोनो हाथो से अपना मूह दबा रही थी, आअधे लंड को ही मैं अंदर बाहर करने लगा, भाभी मुझे दूर करने की कोशिश कर रही थी पर मैं उनको समझने में लगा था की भाभी पहले थोड़ा दर्द होगा पर बादमे आपको मज्जा आएगा,

मैने लंड को बाहर निकाल के थोड़ी देर उनकी चूत में डाला जिससे लंड लूब्रिकेट हो गया और आसानी से अंदर बाहर हो सकता था.

मैने फिर से भाभी की टाँगें पीछे की और इस बार एक ज़ोर का झटका मारा जिससे लंड पूरा अंदर चला गया, भाभी आआअह्ह्ह्ह्ह !!! उह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह !! उह्ह्ह्ह्ह्ह्ह !!! करके चीख रही थी, मैने गॅंड की चुदाई ज़ारी रखी.

More Sexy Stories  भाभी को अपनी पर्सनल रंडी बनाया

10 मिनट की मुशक्कत के बाद जब भाभी को थोड़ी ठीक लग रही थी और आराम महसूस कर रही थी, मैने उनके आँखों से बह रहे आँसुओं को सॉफ किया, मैने लंड बाहर निकाला, नीचे देखा तो उनकी गॅंड पर खून लगा हुआ था, वर्जिन गॅंड का मज्जा पहली बार आया थंऐन भाभी के पास आ के लेट गया.

भाभी गुस्सा हो गई थी, भाभी बोली रॉबिन हरामी कही के , तू आदमी नही जानवर है, मैने कहा भाभी अब मज्जा भी आपको ही आएगा देख लेना आपकी सारी शिकायते दूर हो जायेंगी.

फिर मैने उनको टेढ़ा (साइड पोज़ ) में लेटया और उनकी उपर वाली टाँग को थोड़ा सा आगे करके पीछे से उनकी गॅंड में लंड डाला, इस बार कोई मुस्किल नही हुई और लंड आसानी से अंदर बाहर होने लगा.

अब भाभी को भी आनंद आने लगा और भाभी भी उउउह्ह्ह्ह !!! उउउफफफफफफ्फ़ उउम्म्म्म !!! की मोन करने लगी, 10 मिनट तक मैं भाभी को इसी तरहा चोदता, फिर भाभी बोली रॉबिन चुत मे डालो, भाभी को सीधा लेटा के मैने उनकी टाँगें फेला दी और बीच मे आ के लंड उनकी चूत में डाल के चोदने लग गया.

भाभी ने मुझे बाहों मे भर लिया और हम स्मूच करने लगे, पता ही नही चला कब हमारी ज़ोरदार चुदाई ने रोमॅंटिक चुदाई का मोड़ ले लिया, भाभी सस्स्सिईईईई !!!! ऊउउउह्ह्ह्ह्ह !!! आआअह्ह्ह्ह !!! ससिईईईईईईई !!! की सिसकियाँ भरने लग गई.

मैं भाभी का सारा चेहरा चूमने लग गया और उनके बूब्स भी दबाता रा, फिर हम दोनो बेड से नीचे आ गये, भाभी ने मेरी तरफ फेस करके अपनी एक टाँग उठा के बेड उपर रख ली, मैं उनके सामने आ गया, थोडा सा मैने अपने आप को अड्जस्ट किया था की लंड उनकी चुत के सामने आ जाए.

More Sexy Stories  भाभी और उसकी छोटी बेहन की चुदाई

हम दोनो ने फिर से एकदुसरे के मूह में मूह डाल लिया, भाभी ने लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल लिया, मैने फटाफट झटके मारने शुरू किए, झटको की बढ़ती तेज़ी के साथ भाभी की किस भी ज़ोर पकड़ रही थी, मैं अब झड़ने वाला था, भाभी को भी इसका एहसास हो गया था.

भाभी बोली मेरे अंदर मत झड़ना प्लीज़, मैने कहा भाभी आपने पिछली बार भी मना कर दिया था, भाभी बोली फिर गॅंड मैं डाल ले, चूत मे रिस्क है, मैने लंड निकाला और फटाफट भाभी को दीवार की तरफ फेस करके घोड़ी बना के लंड गॅंड में डाल दिया.

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि देसीकाहानी पर कहानियों का ये दौर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

मैने ज़ोरदार झटके मारने शुरू कर दिए थे की मेरे लंड में एक बूँद भी ना बचे, भाभी हहाम !! अम्म्म्मम !!! अम्म्म्म!!! की आआहएं भारती रही और मैने उनकी गॅंड में झड़ के उनकी गॅंड भर दी, मैने काफ़ी देर तक यू ही लंड उनकी गॅंड में रखा और पीछे से उनको हग करके खड़ा रा, हम दोनो लंबी लंबी साँसें भर रहे थे.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *