पब में दो लंड से डबल मजा लिया

BDSM Slave सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक पब में मैंने दो ठरकी आदमियों को अपनी जवानी के जलवे दिखाकर गर्म किया. फिर उन्हें अपना गुलाम बनाकर अपनी गांड चूत चटवाई.

हाय दोस्तो, मैं सिमरन हूं, और जैसा कि मैंने पिछली कहानी में वादा किया था, इस BDSM Slave सेक्स स्टोरी में मैं आपको बताऊंगी कि उस दिन डांस क्लब के बाहर कार पार्किंग में एक जवान लड़के से चुदने के पहले मैंने पार्टी के अंदर क्या किया था।

ये रोमांच घर में शुरू हुआ था जब मैंने अपनी ब्लू कलर की सनड्रेस पहनी।
हाल ही मैंने कुछ वजन बढ़ाया है लेकिन ये सही जगह पर ही बढ़ा है, जैसे मेरी गांड और चूचियों के साइज में।

इसलिए मैंने उसी साइज की सनड्रेस चुनी ताकि मेरी मोटी भारी गांड के कर्व उसमें और ज्यादा उभर कर आएं।

मेरी सेक्सी गांड आगे झुकते समय और भी ज्यादा हॉट लग रही थी इसलिए ये मेरे लिए एक जाहिर सा फैसला था कि मैं सनड्रेस के नीचे पैंटी या थॉन्ग नहीं पहनूंगी।
ड्रेस पहनकर मैं बाहर गई और अपने हस्बेंड के सामने पोज करके दिखाया, ताकि उसकी प्रतिक्रिया देख सकूं।

पहली नजर में ही उसका मुंह खुला रह गया।
फिर उसने मुझे कोई दूसरी ड्रेस पहनने के लिए कहा.

लेकिन मैं उसकी इतनी नहीं सुनती।

जब हम दोनों पब में पहुंचे तो मेरी सहेली और उसका हस्बेंड मेरी ड्रेस को देखते ही रह गए।
उसके हस्बेंड की आंखें तो मेरी टाइट उठी हुई गांड और मेरे बड़े बड़े बोबों से हट ही नहीं रही थी।

हम दोनों सहेलियां अपने पतियों से अलग हो लीं ताकि पब को एन्जॉय कर सकें।

बार काउंटर पर हम अपने ड्रिंक लेने गईं।
चूंकि वहां पर सारे मर्द मुझे ही देखकर मुस्करा रहे थे तो मेरी सहेली ने भी अपनी ड्रेस को छाती से थोड़ा नीचे खींचा ताकि उसकी चूचियों को झलक भी दूसरों को मिल सके।

हमारे ड्रिंक के पैसे भी हमारे एक प्रशंसक ने ही दे दिए।
मैंने अपनी सखी का हाथ पकड़ा और हम डांस फ्लोर पर चले गए।

चूंकि फ्लोर पर लाइट्स झिलमिला रही थीं तो सही से किसी के चेहरे को पहचाना नहीं जा सकता था लेकिन दूसरी सभी चीजें महसूस की जा सकती थीं।

मेरी सहेली और मैंने अपनी सुडौल बॉडी को डांस फ्लोर पर हिलाना शुरू किया और जल्द ही हम दोनों उस हॉर्नी भीड़ का हिस्सा बन गईं।
दो मर्द हम में रुचि ले रहे थे और वो दोनों एक-एक के पीछे आकर खड़े हो गए।

उनमें से एक ने मेरी दोस्त की गांड पर लंड रगड़ना शुरू किया तो दोस्त ने मेरा हाथ पकड़ लिया।

वो दोनों मर्द आपस में जरूर दोस्त ही थे क्योंकि जो आदमी मेरे पीछे खड़ा था वो भी मेरे साथ वैसा ही कर रहा था।

हम दोनों अपनी चूचियों को सहलाने लगीं और उन दोनों हम सहेलियों को और करीब कर दिया।

अब मैंने दोस्त के चूतड़ों पर हाथ रख उनको दबाना शुरू कर दिया और पीछे से मेरी गांड अब और जोर से उस आदमी के लंड से रगड़ने लगी।

मेरा पार्टनर- हे बेब! हम कहीं और चलते हैं न! जहां पर ज्यादा प्राइवेसी हो।
मैं- फक ऑफ!
मैंने सहजता से कहा, मैं जानती थी कि वे हमें अपनी जगह पर ले जाकर चोदना चाहते हैं.

उसने मेरी गांड पर चुटकी काटी और अपने दोस्त के साथ वहां से चला गया।

मैं उसकी झुंझलाहट देखकर मुस्करा उठी और अपनी सहेली के साथ नाचना जारी रखा।
उनके लौड़ों को और ज्यादा तरसाने के लिए मैंने अपनी सहेली की ड्रेस को ऊपर उठा दिया ताकि उसकी गोरी चिकनी जांघें दिख जाएं।

मेरी सहेली ने भी मेरी ड्रेस को उठा दिया।
वो मेरी गांड को नंगी पाकर हैरान रह गई।
एक दूसरे की जांघों पर हाथ फेरते हुए हम दोनों अपने बदन हिला रही थीं।

इस वक्त मेरी सहेली का हस्बेंड आ गया और उसके पीछे खड़ा हो गया।
वो शायद इस बात को लेकर चिंता में था कि कहीं कोई और लंड उसकी बीवी की चूत में न चला जाए।
मैं कुछ मस्ती करने के बारे में सोच ही रही थी कि कोई मेरे पीछे आकर खड़ा हो गया।

अगर वो अपने नंगे लंड को मेरी जांघों में के बीच में नहीं घुसाता तो मैं शायद उसको और एन्जॉय करने देती।
लेकिन इतने से भी उसको संतुष्टि नहीं हो रही थी।

उसने मेरी चूचियों को पकड़ लिया पीछे से और जोर से अपना लंड मेरी गांड में लगाते हुए मुझे अपने बदन से सटा लिया।

वो बात करने लगा जैसे कि हम दोनों एक दूसरे को जानते हों।
वह ठरकी आदमी- तुम ही हो, मेरी रंडी! तुम्हारी चूचियां और गांड काफी बड़ी हो गई हैं। तुम्हें शांत होने के लिए लंड की जरूरत है!
वो मेरी नंगी चूचियों को भींचने की कोशिश कर रहा था।

लेकिन अगर मैं उसके हाथ अपने सीने से हटाने की कोशिश करती तो वो मेरी गांड में अपना लंड घुसा देता।
मैंने उसको अपनी चूचियों को दबाने दिया।

मेरी सहेली और उसका पति दोनों मेरी तरफ मुंह खोलकर देख रहे थे।

अब तक उस ठरकी आदमी का लंड पूरा सख्त हो चुका था और उसमें कुछ प्रीकम भी बाहर निकल आया था। मैंने उसके लंड को हाथ में भरा तो पता चला कि वो गीला हो रहा है।
मैं लंड से खींचकर उसको बार काउंटर के पीछे ले गई।

वो अब जंगलियों की तरह बर्ताव करते हुए जोर जोर से मेरी चूचियों को भींचने लगा। वो पीछे से मेरी नंगी गांड को भी दबा रहा था।
उसकी गर्म सांसें बता रही थीं कि वो कितना गर्म हो चुका है।

More Sexy Stories  जनवरी की सर्दी में तन की गर्मी शांत की

मैं भी हैरान थी कि जिस तरह से वो मेरे चूतड़ों को दबाते हुए फैला रहा था, मुझे अच्छा लग रहा था।
जैसे ही उसके हाथों को मेरी गांड के छेद का स्पर्श मिला, वो बेकाबू हो गया।
लेकिन मैं उससे छूटने की कोशिश कर रही थी।

उसके जोश ने मेरी टांगों को भी कमजोर कर दिया और मैं उसको स्मूच करने के लिए मजबूर हो गई।

उसने मेरी गांड पर फिर से थपथपाया और मुझे बिच कहा।
ये मेरे लिए बर्दाश्त के बाहर था।

यहीं पर मजा खत्म हो गया, कम से कम उसका …
मैंने उसके लंड को पकड़ा और अपनी हथेली में कसकर भींच लिया।

वो मेरे बदन को पकड़ने की कोशिश कर रहा था लेकिन मैं उसके लंड को भींचकर उसको ऐसा करने से रोक रही थी।

ठरकी आदमी- ओह! ऐसा मत करो। माल निकलने से पहले मैं तुम्हारी चूत चोदना चाहता हूं।
वो मेरी पकड़ से अपने लंड को छुड़ाने की कोशिश कर रहा था।

मुझे ये सब देखकर बड़ा मजा आ रहा था। कुछ ही पल बाद उसके लंड ने चिपचिपा गंदा सा माल मेरी हथेली में छोड़ दिया।
मैं- तुम्हारा तो जल्दी निकल गया, कुत्ते! बस यही जोश था जो तुम मेरी चूत चोदना चाहते थे?

उसने कुछ नहीं कहा लेकिन अपने शर्मिंदगी भरे चेहरे को लिए मेरी तरफ देखता रहा।
मैंने अपनी हथेली को उसके मुंह पर ही पौंछा।

इतने में ही एक बार टेंडर वहां आया और मेरे पीछे खड़ा होकर मेरी नंगी गांड को छूने लगा।

बारटेंडर- सॉरी डियर, लेकिन तुम्हें यहां से जाना होगा। उम्मीद है तुमने मजे कर लिए होंगे.
वो मेरी गांड पर उंगलियों को फिर रहा था.

मैं- अभी तक तो नहीं, तुम देखो, मेरा आशिक शीघ्र पतन वाला आदमी है। मेरी चूत में देने से पहले ही वो झड़ गया। शायद तुम इसे बता सको कि ये कैसे किया जाता है!

मैंने उसकी ओर शरारत भरी नजर से देखा, जैसे कि मैं हमेशा करती हूं, और ये ट्रिक काम कर गई।

बारटेंडर ने मुझे पीछे खींचते हुए अपनी छाती से सटा लिया।
वो लगातार मेरी गांड को सहला रहा था- जैसा तुम कहो मेरी जान … अब तुम देखो ब्रदर, ध्यान से देखो कि कैसे एक औरत को मर्द के जैसे चोदा जाता है।

मैं- दरअसल इस चूत को पाने के लिए तुम्हें एक भूखे की तरह बर्ताव करना पड़ेगा। मेरी चूत तब बहुत जल्दी और अच्छे से गीली होती है, जब कोई मर्द मुझे अपने लंड को मेरी चूत में देने के लिए भीख मांगता है।

जब मैंने अपनी गांड से उसके हाथ हटाकर उसे पीछे धकेला तो बारटेंडर को अहसास हुआ कि मैं क्या कह रही हूं।
उसने मेरी फिगर को देखा और फिर अपना प्यार जताने के लिए मेरे सामने घुटनों पर हो गया।

बारटेंडर- मेरी रानी! मुझे अपना गुलाम बना लो। मैं जैसे भी बन पड़ेगा तुम्हें खुश करने की कोशिश करूंगा। मुझे करने दो …

मैं- मुझे मिस्ट्रेस कहो और मैं तुम्हारे बर्ताव में भी ये देखना चाहती हूं, खाली शब्दों में नहीं। मुझे पता है कि ज्यादातर मर्द झूठे होते हैं। नंगे हो जाओ …

बारटेंडर ने तेजी दिखाई और जल्दी से अपने यूनिफॉर्म को उतार फेंका।
उसका लंड आधा तनाव में आ चुका था।

मैं उसके सामने जा खड़ी हुई और अपनी गांड को उसके लंड पर रगड़ने लगी- तुम देखो मेरे आशिक, मैं कैसे इसका लंड एक सेकंड में खड़ा कर दूंगी, मुझे उम्मीद है तुम इस आदमी से कुछ सीखोगे, है ना (बारटेंडर)?
बारटेंडर- हां, मेरी प्यारी रानी … प्लीज अपनी मस्त गांड से मेरे लंड को खड़ा कर दो।

मैंने अपनी सनड्रेस को ऊपर उठा दिया और अपनी नंगी गांड को उसके लंड पर रगड़ने लगी।
उसका लंड एकदम से तन गया और उसमें से कुछ प्रीकम भी बाहर आ गया।

वो ठरकी आदमी देख रहा था कि कैसे मैं उसके सामने किसी दूसरे मर्द के लंड को अपनी गांड से रगड़ रही हूं।

बारटेंडर अब काफी गर्म हो गया और वो अपने लंड को मेरी गांड में धकेलने लगा।
मैं उसके लंड पर थप्पड़ मारते हुए- तुम ये सब मत करो! हद में रहो गधे, मुझे अनुशासन दिखाओ।

बारटेंडर- आह येस … येस … मैं भूल गया। प्लीज माफ कर दो मेरी प्यारी रानी।
मैं- ओके, तो मेरी गांड को किस करो। मेरे चूतड़ों को किस करो और बताओ कि कैसी लग रही है मेरी गांड?

बारटेंडर ने अपने होंठ मेरे चूतड़ों पर रख दिए और उनके हर इंच भाग को किस करने लगा।
वो लगातार मेरी गांड की तारीफ करता जा रहा था कि ये कितनी बड़ी और गोल है।

मैंने उसके मुंह को अपनी गांड पर दबा दिया और उस ठरकी आदमी के थोड़ा और करीब चली गई- यहां देखो, कोई मर्द ऐसे मेरी गांड खुशामद करता है। अब देखो ये कैसे मेरी गांड की पूजा करता है। तुमने सुना बारटेंडर?

बारटेंडर ने मेरे चूतड़ों को हाथों में भरने की परमिशन मांगी।
मुझे ये बहुत प्यारा लगा और मैंने हामी भर दी।

उसने मेरी गांड के छेद को चाटने से पहले मेरी गांड की दरार को सब तरह से चाटा।
मैंने अपनी सनड्रेस को हटा दिया और दो आदमियों के सामने मैं बिल्कुल नंगी खड़ी हो गई।

मैं- ओह येस … चाटो मेरे छेद को … अपनी जीभ इसमें घुसा दो। मुझे ये पसंद है। मेरी आशिक को बताओ कि तुम कितना गंदा कर सकते हो। ओह् … देखो इसका लंड भी खड़ा हो रहा है। क्या तुम भी मेरी गांड को चाटना चाहते हो?

More Sexy Stories  संगीता की चुदाई स्टोरी

वो ठरकी आदमी ये सब देखकर गर्म हो रहा था और उसका लंड तनाव में आ रहा था।
उसने हां में गर्दन हिला दी।
लेकिन मैंने उसे मना कर दिया और उसके चिढ़ाने के लिए अपनी चूचियों के निप्पलों को भींचने लगी।

मैं- अब काफी देर हो गई। तुमने अपना मजा कर लिया, अब तुम कुछ नहीं कर सकते। अब अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाओ और देखो कैसे ये मर्द मुझे मजा देता है।

मैंने बारटेंडर को घुटनों पर आकर मेरी चूत चाटने को कहा। मैंने उस ठरकी आदमी को पकड़ कर उसका चेहरा मेरी क्लीन शेव की हुई चूत के पास कर दिया।
उन दोनों की जीभ मेरी चूत तक पहुंच सके, इसलिए मैंने अपनी टांगें चौड़ी कर दीं।

वो ठरकी आदमी भी अपनी किस्मत आजमाने लगा।
मैंने उसकी गोटियों में लात मारते हुए कहा- तुम मुठ मारो। तुम इसे देखते हुए मुठ मारो कि कैसे ये अपनी मिस्ट्रेस की चूत को चाटता है। करो, वरना मैं इसका लंड तुमसे ही चुसवाऊंगी।

वो मेरी चूत की चटाई देखते हुए अपने लंड की मुठ मारने लगा।
मैं इन दोनों मर्दों की गर्म सांसें अपनी चूत पर महसूस करते हुए मदहोश हो रही थी।

बारटेंडर का लंड पूरा कड़क हो चुका था।
इसलिए मैंने उस ठरकी आदमी को मेरे बदन से खेलने का एक और मौका देने की सोची।

मैं दोनों की बीच में खड़ी हो गई। बारटेंडर मेरी चूत को चाट रहा था और उस ठरकी को मैंने मेरी गांड का छेद चाटने का काम दिया।

उन दोनों ने अपनी जीभ मेरी चूत और गांड में सटा दी और मैं गांड को ऊपर नीचे करने लगी।
अब मैं दोनों की जीभ का पूरा मजा ले रही थी।

उस ठरकी आदमी का लंड एक बार फिर से तन गया।

फिर मैंने उसे खड़ा होकर अपना लंड मेरी जांघों के बीच में देने के लिए कहा।
चूंकि बारटेंडर एक असली मर्द था तो मैंने अपनी चूचियों को उससे सटा दिया।
वो ठरकी अपने लंड को मेरी जांघों में सटाने लगा।

दोनों इतने जोश में अपने लंड को रगड़ रहे थे कि मेरी गांड और चूचियां घनघना उठीं।
मैं- ओह येस … ऐसे ही अपनी रानी की सेवा की जाती है। कमॉन, मेरी जांघों में चोदते रहो … आह्ह … और तेज …

अचानक से उस ठरकी ने मेरी जांघों को पकड़ लिया और उसकी लम्बी सी आह निकली।
उस कमीने का एक बार फिर से जल्दी छूट गया था।
मैं- क्या दिक्कत है तुम्हारे साथ? तुम थोड़ी देर रोक कर नहीं रख सकते हो क्या?

वो आदमी हांफते हुए नीचे बैठ गया।
उसके चेहरे पर ऐसा आनंद छाया था जैसे वो कई घंटे से मुझे चोद रहा था।

मैंने उसे वहां से भगाने का सोचा।
मैं उसके चेहरे के पास जांघों के बल बैठने लगी।

इससे पहले की उसको पता चल पाता कि मैं क्या करने वाली हूं, मेरी चूत से पेशाब की धार उसके लंड पर गिरने लगी।
मैं- अब वहां बैठो और देखो कैसे ये आदमी सारा मजा ले जाता है।

अब मैंने बारटेंडर को अपनी बदन के पास खींचा और उस पर टूट पड़ी।
उसने मुझे मेरी गांड पर हाथ रखकर थामने की कोशिश की लेकिन मैंने उसके हाथों को हटा दिया।

मैं- सुनो, मेरे बदन को हाथ मत लगाओ, वरना तुम्हारा सारा मजा खराब हो जाएगा। समझे? मुझे राइड करने दो।

मैंने उसको कंधों से कसकर पकड़ लिया और उसके लंड को अपनी गांड में लेने लगी।
मैं तेजी से उसके लंड पर कूदती हुई आहें भरने लगी।
उसका लंड मेरी गांड में बिल्कुल गहराई तक जा रहा था जिससे मुझे और ज्यादा मजा आने लगा।

मैं- अब उस लूजर के पास चलो। उसे मेरी गांड की झलक मिलने दो।
बारटेंडर उस ठरकी के पास गया जो फर्श पर बैठा था।

अब बारटेंडर के लंड पर कूदते हुए मैं अपनी गांड को थोड़ा और ऊंचा उठा रही थी जिससे मेरी गांड उस आदमी के चेहरे के पास पहुंच रही थी।

मैं- ओह येस … ऐसे ही … आह्ह … ऐसे ही चोदो अपनी रानी … चोद दो!

बारटेंडर ने कुछ देर तो अपनी भावनाओं को काबू में रखा लेकिन फिर उसने मेरी गांड को थाम लिया और तेजी से मेरी गांड में लंड के धक्के लगाने लगा।
फिर अचानक से वो रुक गया और लंड को डाले रुका रहा।

उस कमीने ने मेरी गांड के अंदर ही अपना माल छोड़ दिया था।

मैं उसके ऊपर से हटी और अपनी गांड को उस दूसरे ठरकी आदमी के चेहरे पर रगड़ने लगी।
उसको मेरी गांड पर लगे चिपचिपे गंदे वीर्य का अहसास अपने चेहरे पर मिला।

मैंने गांड का सारा माल उसके चेहरे पर रगड़ दिया- ये था तुम्हारा ईनाम, मेरे झंडू लवर, एन्जॉय!

इसके बाद मैंने अपने आपको साफ किया और आराम से वहां से निकल गई; जाकर मैंने अपने हस्बेंड और उसके दोस्तों के साथ ड्रिंक ज्वॉइन कर लिया।

मेरी सहेली पूछने लगी- तो कैसा रहा?
मैं- डबल ट्रबल!
कहकर मैं मुस्करा दी.

मेरी फ्रेंड के हस्बेंड ने मुझे हैरानी से देखा और मेरे पति ने अपना चेहरा नीचे कर लिया।

तो ऐसे मैंने पब में मजा किया दोस्तो।
आप कमेंट्स और इनबॉक्स में मुझे बताएँ कि आप मेरी टाइट गांड और चूत को कैसे चोदना चाहोगे।
अन्तर्वासना साईट पर मेरी BDSM Slave सेक्स स्टोरी प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद।

मेरी कामुक कहानी पढ़कर, अगर कोई रीडर गर्म हो जाता है और मुझसे सीधे चैट करना चाहता है या कैम पर मुझे नंगी देखना चाहता है तो यहां क्लिक करें।