पतियों की अदला बदली-5

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    पतियों की अदला बदली-4

  • View all stories in series

रेखा ने अपने बॉस की पत्नी को वादा किया था कि वो रात को अपने पति का लंड दिखाएगी।

रात को रेखा ने जानबूझ कर अनिल को व्हिस्की एक पेग ज्यादा लेने दी और बेड पर वो ज्यादा ही सेक्सी अदाएं करने लगी। योजना के मुताबिक़ उसने सीढ़ियों का दरवाजा खुला छोड़ा और बाहर की लाइट बंद थी।

अनिल तो उसके मम्मों पर पिला पड़ा था … कपड़े दोनों के उतारे हुए थे… बाहर हल्की सी आहट हुई, रेखा समझ गई की प्रिया है, उसने अनिल से कहा- अब बर्दाश्त नहीं हो रहा, मेरी चूत की खुजली मिटाओ…

बॉस की बीवी को अपने पति का लंड चुसवाया

ऐसा सेक्सी निमंत्रण पाकर अनिल बेड पर घुटनों के बल बैठा और रेखा की चूत को चूसने लगा।
रेखा भी पलटी और दोनों 69 पोजीशन में एक दूसरे के यौन अंग चूसने लगे।

रेखा ने देखा कि प्रिया पर्दे की पीछे है और उसकी उंगलियाँ अपनी चूत को मसल रहीं हैं।
रेखा ने अनिल से कहा- रुको, मैं लाइट बंद कर दूं…

रेखा लाइट बंद करके प्रिया का हाथ पकड़ कर उसे बेड के पास ले आई और अपनी चूत फिर अनिल के मुह में दे दी पर अनिल का लंड प्रिया को चूसने को दे दिया।

प्रिया तो जैसे पागल हो गई… अनिल दो मिनट में ही बावली खेल गया, बोला- रेखा, आज तुझे क्या हो गया? क्या खा जाएगी मेरे लंड को? फिर यह कैसे तेरी चूत की खुजली मिटाएगा?

रेखा ने प्रिया को जाने का इशारा किया पर वो तो लंड छोड़ने को तैयार ही नहीं थी।

रेखा को कहना पड़ा कि आज तुम्हारे लंड में बड़ा मजा आ रहा है, ऐसा लग रहा है जैसे समीर का चूस रही हूँ, तुम भी ऐसा सोचो जैसे प्रिया तुम्हारा लंड चूस रही हो।

प्रिया का नाम सुनते ही अनिल का लंड और भड़क गया और उसने सारा माल प्रिया के मुँह में छोड़ दिया।
प्रिया वहाँ से दबे पाँव भागी।

अब रेखा ने वाशरूम आकर अपनी उंगली से ही अपनी चूत शांत की और बाहर आई।

अगले दिन सुबह दोपहर को प्रिया आई और रेखा को चूमकर थैंक्स बोला।
रेखा ने पूछा- मुझे समीर का लंड कब चुसवाओगी?
तो प्रिया बोली- तू अनिल को पटा ले। मैं समीर को पटा लूंगी, एक रात के लिए दोनों पति बदल लेते हैं।

आईडिया तो धांसू था… पटाना किसे था, अनिल, समीर और रेखा तो तैयार थे, प्रिया अब तैयार हो गई बस शर्म उतरनी बाकी थी!

अगले दिन प्रिया को कुछ शॉपिंग करनी थी, उसने रेखा से कहा मार्किट चलने को, क्योंकि उसे तो यहाँ के मार्किट का अंदाज नहीं था। रेखा ने तबीयत ठीक न होने का बहाना बना कर उसे यह सलाह दी कि वो समीर से कह कर अनिल को उसके साथ भेज दे।

प्रिया ने समीर को कहा तो उसने दोपहर बाद अनिल को फ्री कर दिया, अनिल प्रिया को लेकर मार्किट चला गया। मार्किट में तो थोड़ी देर का काम था, 3 बजे दोनों खाली हो गए, सामान गाड़ी में रखकर मॉल में सागर में साउथ इंडियन खाने चले गए।
दोनों ने अलग अलग डिश मंगाई पर शेयर कर के खाईं।

खाने के बाद प्रिया ने मैक डोनाल्डस से सोफ्टी ली, अनिल ने नहीं ली पर एक ही सोफ्टी से दोनों ने खा ली।
अब उनके बीच कोई दूरी नहीं थी।

अनिल ने प्रिया को एक सूट भी खरीदवाया, ट्रायल रूम में सूट बार बार पहन कर देखने और दिखाने के लिए प्रिया ने हर बार अनिल को बुलाया।
हर नजदीकी के पल में प्रिया को अनिल का लंड चूसना याद आ जाता और अनिल अपने मन ही मन में प्रिया के मम्मों के साइज़ की कल्पना कर रहा था।

शाम 5 बजे करीब दोनों घर पहुंचे, प्रिया ने गाड़ी से उतरने से पहले अनिल का हाथ अपने हाथ में लेकर थैंक्स किया तो अनिल ने भी बिना परवाह किये उसका हाथ चूम कर मोस्ट वेलकम बोला।
उसे घर पर ड्राप करके अनिल ऑफिस चला गया।

घर पर प्रिया ने रेखा को सामान दिखाते हुए सूट के बारे में कुछ नहीं बताया।
दोनों में यह तय हुआ कि आज कुछ धमाकेदार करते हैं… दोनों इस मूड में थी कि अगर हो गया तो आज रात को पति बदल लेंगी एक रात के लिए!

रेखा प्रिया को लेकर ब्यूटी पार्लर चली गई, दोनों ने फेशियल और स्किन टोनिंग कराई जिसमें उनके पूरे जिस्म पर एक अद्भुत सी चमक आ गई थी, वहीं पैडिक्योर और मेनीक्योर करा कर रेखा ने तो ऑरेंज कलर का नेल पेंट लगवाया और प्रिया ने रेड कलर का!

घर आकर दोनों ने मिलकर डिनर रेखा के किचन में ही तैयार किया और कुछ कटलेट्स बना लिए।

समीर और अनिल का मैसेज था कि वो लोग रात 9 बजे तक आयेंगे।

पतियों की अदला बदली की पूरी तैयारी

प्रिया ऊपर नहाने चली गई और रेखा भी बाथरूम में घुस गई। आज दोनों ने नेल पेंट से मैचिंग कलर के फ्रॉक और बेलीज पहनीं थीं, दोनों क़यामत ढा रही थी।

गोरा चमकता बदन और उसपे सुर्ख लाल और नारंगी रंग की लिपस्टिक… आज तो समीर और अनिल को कोई मौका मिलना ही नहीं था।
इन दोनों ने क्या सोचा है यह दोनों के पतियों को मालूम नहीं था।

समीर जैसे ही अपने फ्लैट में पहुँचा, प्रिया बेड ठीक कर रही थी, उसने शीट नई बदली थी और पूरा कमरा महक रहा था।समीर खुश हो गया, बोला- आज क्या बात है?
प्रिया बोली- आज मूड बढ़िया है और डिनर भी रेखा ने बनाया है… बस फटाफट आप तैयार हो जाओ और नीचे चलो!

यही हाल नीचे था, आज रेखा ने कमरा ऐसा महका लिया था जैसे उसकी सुहागरात को भी नहीं महका होगा।

पंद्रह मिनट में ही चरों ड्राइंग रूम में इकट्ठे हो गए… अनिल और समीर ने ड्रिंक्स बनाये और रेखा और प्रिया ने कोल्ड ड्रिंक में थोड़ी सी व्हिस्की डाल ली।
हंसी मजाक कब अश्लीलता तक पहुँच गया पता ही नहीं चला। समीर के पास तो नॉन वेज जोक्स का खजाना था।

प्रिया ने एक तकिया उठाया और बोली- इसे पास करती हूँ और किसी गाने की दो लाइन दूँगी, गाना ख़त्म होते ही जिस के पास ये पिलो होगा उसे बराबर वाला जो कहेगा करना होगा।

उसने गाना गाया ‘सरकाय लो खटिया जाड़ा लगे…’ गाना समीर पर ख़त्म हुआ और उसके बराबर रेखा बैठी थी।

अब तक चारों को नशे का सुरूर हो चुका था, शर्म लिहाज बची नहीं थी, रेखा ने समीर से कहा की उसे टी शर्ट उतार कर आमिर खान की एक्टिंग करनी है। समीर एक्टिंग वैक्टिंग तो क्या करता, हाँ, उसकी टी शर्ट जरूर उतर गई।

अब गाना समीर ने गाना शुरू किया ‘आओ मिल जाएँ दो बदन…’
और अबकी बार गाना ख़त्म हुआ अनिल पर और बताना था प्रिया को… उसने तो सीधे ही कह दिया की अनिल को अपनी हाफ पेंट पीछे से नीचे कर के थ्री इडियट्स वाली स्टाइल में कहना होगा ‘तुस्सी ग्रेट हो…’

मरता क्या ना करता… अनिल ने हाफ पेंट नीचे करके अपने चूतड़ दिखाते हुए डायलोग बोला।
सबका हंसते हंसते बुरा हाल था।

रेखा ने तो उसकी हाफ पेंट पूरी नीचे खींच दी जो सबको अनिल ने अपना लंड भी दिखाते ही ऊपर करी।
अब अनिल ने गाना गया ‘अँधेरी रात में दिया तेरे हाथ में…’ और गाना ख़त्म हुआ रेखा पर और बताना था समीर को…

समीर बोला कि रेखा और प्रिया एक दूसरे को चूमते हुए एक दूसरे के मम्मे दबाएँ।
प्रिया को बड़ी शर्म आ रही थी… अनिल ने लाइट धीमी कर दी… रेखा और प्रिया चिपक गई और हंसते हुए यह शर्त भी पूरी हो गई।
डिनर का टाइम था… डिनर वहीं लगा लिया और डिनर करते समय रेखा ने कहा- डिनर के बाद कॉफ़ी है और कॉफ़ी मग में नीचे एक मग पर आर लिखा है और एक मग पर पी लिखा है। अगर दोनों आदमियों के पास जो भी मग जाएगा कॉफ़ी पीते समय पोर्न मूवी देखेंगे तो उस आदमी के पास उस लैटर वाली लड़की उसकी गोदी में बैठ कर मूवी देखेगी।

प्रिया दिखाने को बोली- नहीं मैं नहीं…
तो समीर बोला- शर्त तो सबके लिए एक जैसी है!
रेखा डिनर के बाद काफी लाई और टेबल पर रख दी और अनिल और समीर से एक एक मग उठाने को कहा।

समीर ने जो मग उठाया उसके नीचे आर लिखा था और अनिल वाले के नीचे पी।

प्रिया तो ऊपर भागने को हुई तो रेखा ने उसे पकड़ लिया और सब हंसते हुए मूवी देखने के लिए सेटल हुए।
रूम की लाइट बंद कर दी थी, स्क्रीन की ही रोशनी काफी थी।

पहले समीर ने रेखा को गोदी में बिठाया, फिर प्रिया भी सकुचाते ही अनिल की गोदी में बैठ गई।

पांच सात मिनट की मूवी में ही सब इतनी गर्म हो गए की समीर ने अपना लंड बहार निकल लिया था जो रेखा की फ्रॉक के अंदर उसकी चूत पर टक्कर दे रहा था।

अनिल और प्रिया के होठ मिले हुए थे और शायद अनिल का लंड भी प्रिया के हाथों में था।
बर्दाश्त चारों को नहीं हो रहा था, तो रेखा बोली- अब फटाफट तय करो कौन किसकी चुदाई और कहाँ करेगा… अब चूत आग छोड़ रही है।

समीर बोला- अनिल, आज रात को तू प्रिया के साथ मस्ती कर ले और मैं रेखा को ऊपर ले जाता हूँ…
अनिल ने खुश होकर प्रिया को जोर से चिपटा लिया और समीर और रेखा हंसते हुए गुड नाइट कह कर एक दूसरे की कमर में हाथ डाल कर ऊपर चल दिए।

अनिल प्रिया को लेकर बेड रूम में गया, दोनों बहुत खुश थे।
अनिल ने प्रिया से कहा- भाभी, जब से तुम को देखा था, तभी से मैं तुम्हारा आशिक हो गया था, पर हिम्मत नहीं कर पा रहा था।
प्रिया ने उसे चूम कर कहा- मुझे भी तुम पहली नजर में भा गए थे और जब रेखा ने तुम्हारे सेक्स के बारे में बताया तो मेरा मन कर गया था तुम्हारे साथ सेक्स करने का!

अनिल ने उसकी फ्रॉक उतार दी और खुद भी नंगा हो गया और उसके मम्मे मुँह में ले लिए।
प्रिया बोली- इतनी बेताबी मत दिखाओ, मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ, आज पूरी रात मस्ती करेंगे, पहले मुझे मेरा लोलीपॉप चूसने दो!
और वो नीचे बैठ गई और अनिल का लंड मुह में ले लिया।

प्रिया पूरा लंड मुँह में लेकर धीरे धीरे चूस रही थी और अनिल उसके बालों में हाथ फिरा रहा था। प्रिया कभी पूरा मुँह में ले लेती कभी चूसते चूसते बाहर निकाल देती।
उसने सुपारा पूरा खोल लिया था और अपनी हथेलियों से भी मसल देती थी।

उसने थोड़ा ऊपर उठकर लंड को अपने मम्मों के बीच में रख कर अपने हाथों से दोनों मम्मों को दबाया और लंड की मसाज करने लगी, अनिल को लगा वो तो यहीं छूट जायेगा।
अनिल ने प्रिया को बेड पर लिटाया और अपना मुह उसकी चूत में कर दिया।

प्रिया की चूत चिकनी तो थी ही, प्रिया ने उसे सेंट लगाकर खुशबूदार भी कर रखा था।
अनिल ने उसकी टांगों को चौड़ा करके अपना लंड पूरा ठेल दिया उसमें और लगा धक्के पर धक्के लगाने!प्रिया भी उछल उछल कर उसका जोश बढ़ा रही थी।

कुछ देर बाद प्रिया ने अनिल से नीचे आने को कहा तो अनिल पलटी खाकर नीचे हो गया और प्रिया चढ़ गई उसके ऊपर और चुदाई करने लगी अनिल की।

अनिल भी नीचे से धक्के लगा रहा था।
प्रिया का होने को था और अनिल पर तो जैसे पागलपन सवार था उसकी चूत फाड़ने का, अनिल ने प्रिया को फिर से नीचे किया और उसकी टांगों को ऊपर पंखे की तरफ करके पूरा चौड़ा दिया और घुसा दिया अपना लंड प्रिया की चूत में और इस बार उसकी स्पीड इतनी थी कि प्रिया जोर जोर से बोल रही थी- मजा आ गया… उम्म्ह… अहह… हय… याह… माई लव फाड़ दो आज मेरी चूत को… रुकना नहीं! और जोर से… और जोर से!

और उसकी हर आवाज पर अनिल का जोश और धक्के बढ़ते गए और एक धमाके से उसने प्रिया की चूत अपने माल से भर दी और निढाल होकर प्रिया के ऊपर ही लेट गया।

उधर ऊपर जाते समय ही बीच रास्ते में ही समीर ने रेखा को गोदी में उठा लिया और दोनों के होंठ मिल गए… कमरे में पहुंचते ही समीर ने अपने और रेखा को कपड़ों से अलग कर लिया और दोनों चिपट गए खड़े खड़े ही।

समीर तो रेखा के मम्मों का दीवाना था ही… आज रेखा ने अपने मम्मों पर गुलाब जल की मालिश की थी तो समीर को चूसने में अलग ही मजा आ रहा था।

रेखा एक मिनट को वाशरूम में होकर आई और आते ही समीर के लंड को मुख में लेकर बैठ गई, उसने अपनी हथेलियों से उसके लंड को ऐसा रगड़ा कि समीर को अपना लंड उससे छुटाना भारी पड़ गया।

अब समीर ने वहीं रेखा को नीचे लिटा दिया और उसकी चूत में अपनी जीभ दे दी।
पर यह क्या… रेखा की चूत तो चॉकलेट से भरी थी!
रेखा ने वाशरूम में जाकर अपनी चूत में चॉकलेट भर ली थी।

अब समीर के लिए चूत चूसना और मजेदार हो गया था, उसने चूत से चॉकलेट मुह में रखकर रेखा से होठ मिला लिए।
रेखा ने समीर का लंड अपनी चूत से खूब रगड़ा जिससे उसके लंड पर भी चॉकलेट का स्वाद आ जाए और रेखा ने समीर का लंड अपने मुहं में ले लिया।

अब समीर का लंड रेखा की चूत फाड़ने को और रेखा की चूत अपनी खुजली मिटाने को तरस रही थी।
समीर ने रेखा को बेड पर पटका और उसके मम्मों को चूसते हुए उसके बगल में लेट गया और अपनी एक टांग रेखा की टांग के ऊपर रख दी और अपने होंठ रेखा के होंठों से मिला दिए, उसका लंड रेखा की चूत पर टक्कर मार रहा था।

रेखा ने वैसे तो अपने हाथों से समीर के बाल पीछे से पकड़े ही थे पर लंड की पुकार सुन कर रेखा ने अपने एक हाथ से उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत में कर लिया, दोनों लगे धक्के देने।

रेखा पलटी और चढ़ कर समीर की चुदाई करने लगी और समीर भी नीचे से धक्के देने लगा।
रेखा जल्दी ही धीमी पड़ गई तो समीर ने उसे नीचे पटका और घमासान तरीके से उसकी चुदाई शुरू करी।

हालाँकि यह उनकी पहली चुदाई नहीं थी पर आज की रात की बात ही कुछ और थी।
थोड़ी ही देर में समीर ने रेखा की चूत और पेट पर सारा माल निकाल दिया और अपना लंड रेखा के मुँह में दे दिया जिसे रेखा ने चाट कर साफ़ कर दिया।

दोनों थक चुके थे… ऐसे ही नंगे चिपट कर सो गए।

अगले दिन सुबह नाश्ते में चारों ने एक दूसरे को इस हसीं रात के लिए थैंक्स बोला… समीर और अनिल ने यह तय किया कि अब जब भी मन होगा, दोनों ऐसे ही अदला बदली करके अपनी रात को हसीं बनाया करेंगे।

तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह हिन्दी सेक्स स्टोरी? मेरी सभी कहानियाँ आप इस लिन्क पर पढ़ सकते हैं।
मुझे मेल कीजिए और नीचे कमेंट्स भी लिखियेगा।

[email protected]

More Sexy Stories  बुआ की ननद बड़ी मस्त मस्त