पति के दोस्त ने मेरी कामवासना जगायी

मैं तो जैसे अधमरी सी हो गई. मुझे जोर का दर्द हुआ लेकिन वो मेरे चूचों को जोर से भींचने लगा और मेरा ध्यान चूचे दबवाने में चला गया. कुछ ही देर में मेरा दर्द कम होने लगा और फिर वो मेरी गांड में अपने लंड को आगे पीछे करके मेरी गांड की चुदाई करने लगा. अब मैं दर्द से रोने की बजाय हंस रही थी.

वो बोला- साली रंडी, तेरी हंसी को मैं रोने में बदल दूंगा. तेरी चूत तो अब इतनी टाइट नहीं रही लेकिन तेरी गांड तो मस्त मजा दे रही है. मुझे भी गांड में उसका मोटा लंड लेने बहुत मजा आ रहा था. मेरा मन कर रहा था कि मैं ऐसे ही उसके लंड को अपनी गांड में लेती रहूं.

वो बोलने लगा- रंडी तुझे तो रोज़ चोदने का मन करता है.
मैंने कहा- तो फिर इतने दिन से क्यूं रुके हुए थे.
वो बोला- मैं बस सही मौके का इंतजार कर रहा था.
मैंने कहा- जब भी तुम्हारा मन किया करे तुम मेरी चूत की चुदाई कर सकते हो.
वो बोला- मैं तो तेरी गांड की चुदाई भी रोज ही करूंगा साली रंडी. तुझे बहुत बड़ी रांड बना कर छोड़ूंगा साली.

ऐसा कहते हुए वो अपने लंड को मेरी गांड में पूरा घुसाने लगे थे. उसके बाद उन्होंने दोबारा से मुझे सीधा किया और मेरी चूत में अपना लंड घुसा दिया. अब वो दोगुने जोश में मेरी गांड में धक्के लगाने लगे. फिर कई मिनट तक मेरी चूत को चोदने के बाद उसने मेरी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया.
मेरी चूत जैसे फट ही गई थी.

More Sexy Stories  पार्क मे मिली एक अंजान आंटी

हम दोनों ऐसे ही नंगे पड़े रहे और फिर सो गये. शाम को उठे तो सच में मुझसे चला नहीं जा रहा था. उसने मेरी चूत और गांड का बाजा बजा दिया था.
उसके बाद मेरे सास और ससुर के आने का टाइम हो गया तो विकास चला गया.

जब तक मेरे पति घर नहीं आये मैं विकास के लंड से चूत और गांड की चुदाई करवाती रही. मैंने अपने सास और ससुर की मौजूदगी में भी एक रात को चुदाई करवा ली. लेकिन उस रात को एक बार ही चुदाई हो पाई क्योंकि उनके उठने का डर था. इस तरह विकास ने मेरी चूत और गांड को चोद-चोद कर ढीली कर दिया.

यह थी मेरी कामवासना से भरपूर सेक्स कहानी. कहानी के बारे में मुझे आप जरूर बताना. मैं आपके मैसेज का इंतजार करुंगी.

Pages: 1 2 3