पढ़ाई के बहाने चुदाई

मेरे किस करते ही वो एक दम गरम सी हो गयी. उसने भी मेरे होठों को एक दम बदहवास सा चूमना शुरू कर दिया जैसे इसके लिए वो कब से तड़प रही हो.
मैने भी उसके होठों के रस को बुरी तरह से निचोड़ डाला. मै तो पहले से ही गरम था पर जैसा आप जानते हैं की लड़कियो को गरम होने मे थोडा टाइम लगता है तो वो भी धीरे धीरे ही सही पर गरम होने लगी थी.

उसने अचानक से सिसकते हुए मेरे कानो मे कहा अश्विन मेरी इस चुदास की भूखी बुर जो जन्म से ही चुदने को तड़प रही है आज उसकी प्यास बुझा दो. और मचलते हुए वो भी मेरा साथ देने लगी. उससे और ज़्यादा जल्दी गरम करने के लिए मैने धीरे से उसके टॉप नीचे की ओर खिसका दिया .
उसका बदन एक-दम दूध के जैसे सफेद था. और उसकी चुचि जिसके दर्शन मुझे हो रहे थे एक-दम तने हुए संतरे जैसे लग रहे थे. उसकी चुचियो को मैं धीरे धीरे सहलाने लगा,मै कभी उसके निपल को दांतो से काटता तो कभी उससे मुह मे भर कर उसके दूध को पीने की कोशिश करता.

वो एक-दम से अजीब अजीब सी आवाज़ें निकाल रही थी प्लीज़ ऐसा मत करो, मुझसे अब बर्दाश्त नही होता अया उहह उम्मह कुछ करो. उसकी ऐसी कामुक आवाज़ से मुझे और भी उससे तड़पने मे मज़ा आ रा था. वो बुरी तरह से बुर चुदवाने को तैयार हो चुकी थी.

मैने उसके बुर को चाटना शुरू कर दिया, जवाब मे उसने भी मेरा लंड अपने मुह मे भर कर उससे पूरी तरह अपने मुह मे समाने की कोशिश करने लगी. हम दोनो एक दूसरे के उपर 69 के पोज़ मे थे.
मैने उसकी बुर को चाटना तब तक नही छोड़ा जब तक की वो सीत्कारे मार के मेरे लंड को उसके बुर मे डालने को ना कह दे. वो बार बार सीत्कार मार रही थी और मुझे चोदने को कह रही थी. “फक मी हार्डर अश्विन फक मी अब मेरी इस चुदसी बुर को और ना तड़पाओ, वो एक-दम से जैसे जंगली बिल्ली बन गई हो, कहने लगी फाड़ डालो मेरे इस चूत को चोदो मुझे खूब चोदो मेरे राजा..

More Sexy Stories  आंटी ने मेरी सील तोड़ी

प्लीज़ मुझे अपने इस लंड के लिए मत तड़पाओ. ऐसा कहकर वो खुद ही मेरे लंड के सुपादे को अपने बुर मे डालने की कोशिश करने लगी. मैने भी अपनी तरफ से धक्का लगाना शुरू किया.
लेकिन उसकी टाइट बुर मे अचानक से मेरा 6 इंच का लंड जगह नही बना पा रा था. अब मैने उसके बुर के उपर ही अपना लंड रगड़ना शुरू कर दिया. फिर धीरे धीरे थोडा थोडा लंड उसके बुर मे पेलने लगा. अब किरण और ज़ोर ज़ोर से सीत्कारे मारने लगी.

फिर मैने अचानक से एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसके बुर के अंदर घुस गया. उसकी तो चीख ही निकल गयी एक-दम से. वो लंड से हुए दर्द से तड़प रही थी. वो रोने लगी मैने फिर एक बार धक्का दे दिया. वो बुरी तरह से रोने लगी थी और च्चटपटए .
लेकिन मुझको उसे इस हाल मे तड़पने मे और भी ज़्यादा मज़ा आ रहा था. उसके बुर से हल्का खून भी निकल रा था. लेकिन मैं उससे नज़रअंदाज़ कर बस चोदे जा रा था और वो भी बदहवास सी इस बात से अंजान थी.

मैं उससे कभी कुटिया बना कर चोदता तो कभी वो मेरे लंड पर बैठ कर उच्छलती. पहले तो उसे दर्द हो रहा था पर चार पाँच झटको के बाद वो भी चुदाई का मज़ा लेने लगी. हम दोनो ने उस दिन बहुत ही ज़्यादा मज़े किए.
अब किरण के पापा का ट्रान्स्फर देल्ही मे हो गया है जिस कारण हम अब नही मिल पाते हैं लेकिन फिर भी मुझे किरण से मिलकर उसे दोबारा चोदने का इंतेज़ार रहेगा.

More Sexy Stories  मेरी रंडी बहन की चुदाई

Pages: 1 2