नींद की गोली का फायदा

हेलो दोस्तो, मेरा नाम सुमित है. और मेरी उमर 25 साल है. मैं एक गाँव मे रहता हूँ. और आपको तो पता ही है की गाँव की हरियाली कितनी अच्छी होता है. हमारे 2 बड़े बड़े आम के बाग भी है.

दोस्तो, मैने बचपन मे आम के पेड़ पर चॅड कर काफ़ी आम तोड़े है और काफ़ी मज़े भी किए है. चलो ये तो मैने कुछ अपने बारे बताया तो कुछ अपने गाँव के बारे मे बताया.

अब मैं आपको अपनी कहानी पर ले कर चलता हूँ. इस कहानी मे मैने अपने ताउ जी के लड़के की बीवी को चोदा. मतलब की अपनी भाभी को चोदा.
मेरी भाभी का नाम पूनम है. और वो दिखने मे काफ़ी सुंदर है. या तो आप ये भी समज सकते है की आसमान से उतरी कोई पारी आई है.

अभी मैं आपको अपनी कहानी पर ले चलता हूँ क्योकि मैं अपनी प्यारी भाभी के बारे मे धीरे धीरे करके ही बताऊंगा.

चलो अब कहानी शुरू करते है.

ये कहानी तब की है जब मैं 22 साल का था. और मेरे भैया भाभी देल्ही मे रहते थे. देल्ही मे भी उन्हे इसलिए रहना पड़ता था क्योकि भैया का काम ही कुछ ऐसा था. इसलिए वो बहोत ही कम घर पर आते थे.
उनकी शादी को अभी 3 साल ही हुए थे और जब मैं अपनी भाभी को घर पर ले कर आया था, मेरा दिल तो तभी से उनके उपर लट्टू हो गया था. पर मुझमे इतनी हिम्मत नही थी की मैं अपना प्यार उनको दिखा पाउ.

पर हाँ मैने भाभी से काफ़ी अच्छी दोस्ती कर ली थी. या तो आप ये भी कह सकते है की देवर भाभी का मजाकिया रिश्ता था. क्योकि ये तो आप जानते ही हो की देवर भाभी मे कितना मज़ाक ओर कितनी शरारत होती है.

बस ऐसे ही कुछ हमारा रिश्ता भी बन गया था. वैसे तो उनका घर गाँव मे था और मेरा घर भी गाँव मे था पर वो किसी और गाँव मे रहते थे.
हमारा उनसे मिलने का बहोत दिल करता था तो हम अक्सर फोन कर दिया करते थे. और उसने बस एक ही जिद्द किया करते थे की वापिस गाँव भी चक्कर लगा जाओ.

More Sexy Stories  इंस्टाग्राम पे मिली वर्जिन लड़की को चोदा

हमारी बात का एक दिन उन पर असर हो ही गया और वो फिर दोनो कुछ दीनो के लिए गाँव आ गये. ये बात जब मुझे पता चली तो मैं बहोत ही ज़्यादा खुश हुआ. मैने उनसे मिलने के लिए देर ना लगाई और अपने गाँव से उनके घर के लिए निकल पड़ा.

पहले मैं ताउ जी के घर भी गया ताकि उनसे मुलाकात हो जाए. और फिर मैं भैया भाभी के घर जा पहुचा.
वाहा पहुचते ही भैया और भाभी मुझे देख कर बहोत ही ज़्यादा खुश हुए. और तभी उन्होने मुझे बिठाया और मेरे लिए कोल्ड्रींक ले आए.

उस समये मैं तो भाभी को देखता ही रह गया. क्या मस्त फिगर थी और क्या लंबे बाल, गोरा बदन, बड़े-बड़े बूब्स, ओर एक दम गोल चिकनी गांड. ये सब देख कर मेरा लंड फन-फनाने लग गया. पर भैया के सामने बैठने की वजह से मैने जेसे तेसे लंड को बिठाया.

मैं फिर उन दोनो से बाते करने लग गया और वो भी अपनी सुनने लग गये. मैं भाभी को देख कर ही पागल हुआ जा रा था और मन ही मन सोच रा था की भाभी को चोदना है.
इसलिए शाम के समये मैं बाहर आया और मेडिकल की शॉप से नींद की गोलियाँ ले ली. वो मेडिकल वाला मेरा दोस्त था इसलिए वो कुछ नही बोला और गोलिया मुझे दे दी.

फिर मैं घर आ गया और इतने मे रात का खाना भी बन कर तैयार हो गया तो हमने एक साथ मिल कर खाना खाया. खाना खाने के बाद हमने कुछ देर बाते मारी और फिर भाभी ने आँगन मे 3 खट्ट बिछा दी.

More Sexy Stories  बुआ को उसके घर जा कर चोदा

हम तीनो एक-एक खाट पर जा कर लेट गये और बाते करने लग गये. तब मैने भाभी से खा की क्यो ना एक- एक कप चाय हो जाए.
भैया- हाँ हाँ क्यो नही, तुम मेरी, सुमित और अपनी तीनो की चाय बना लाओ.

भाभी- जो हुकुम मेरे सरकार.

अब भाभी अंदर चाय बनाने चली गई तो मैने भी एक नये नंबर से भाभी के फोन पर रिंग मारी. जिसको उठाने के लिए भाभी बाहर आई तो मैने अंदर जा कर तीनो के कप मे नींद की गोलिया मिला दी और बाहर आ गया.

फिर भाभी चाय ले कर आ गई और मैने ये कहते हुए छाए नीचे रख दी की अभी चाय गरम है ठंडी होने पर पियुंगा.
इसी बीच मैं लेट गया और सोने का नाटक करने लग गया. जिससे उन्हे ये लगा की मैं सच मे सो गया हूँ. तो भैया ने मेरे कप की चाय भी उठा कर पी लिया.

पर उन्हे ये कहा पता था की मैं सो नही रा बल्कि सोने का नाटक कर रा हूँ. फिर वो दोनो भी ये देख कर खुद के साथ रोमॅंटिक होने लग गये. पर कुछ ही पल बाद उन पर गोलियो का असर होने लग गया तो वो अपनी- अपनी खाट पर जा कर सो गये.
करीब 30 मिनिट बाद मैं उठा और देखा की दोनो के दोनो काफ़ी गहरी नींद मे सो रहे है. मैने भी देखने के लिए भैया को हिलाया और भाभी को आवाज़ देकर पुकारा. पर दोनो मे से कोई भी नही उठा तो मैं भाभी की खाट पर आ कर लेट गया.

मैने एक दम से अपने सारे कपड़े उतार दिए और भाभी के सीने से लग कर लेटा रा. मैने नींद मे ही भाभी के होंठो को चूसा और जी भर कर उन्हे खाया.

Pages: 1 2

Comments 1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *