जवान नौकरानी को जवान लड़के ने चोद

ही फ्रेंड्स, ये मेरी पहली स्टोरी है. बुत ये स्टोरी बिल्कुल रियल है, 100% रियल. ये कहानी 2010 में शुरू हुई. मैं उस वक़्त 20 साल का था. काफ़ी नौकरणिया चेंज करने के बाद, हमने एक नौकरानी फाइनल की. बसंती नाम था उस नौकरानी का. और हा, ये रियल नामे है उसका.

वो उमर में मेरे से एक साल छ्होटी थी. बहुत सेक्सी फिगर था उसका. बूब्स छ्होटे थे उसके, लेकिन गांद फैली हुई थी. चलिए अब स्टोरी शुरू करते है.

तो जब उसने जाय्न किया, तब तो मैने ज़्यादा कुछ सोचा नही था. सब कुछ नॉर्मल चल रहा था. बुत एक दिन मेरे को रीयलाइज़ हुआ, की बसंती शायद मेरे में इंट्रेस्टेड थी. आप सोच रहे होंगे, की मुझे कैसे पता चला?

तो जवाब ये है, की वो एक्सट्रा प्यार दिखाती थी मेरे को. पहले मेरे को उसका ये बिहेवियर नॉर्मल लगा. धीरे-धीरे मुझे समझ आया, की नही, वो तो मुझमे इंट्रेस्टेड थी. फिर मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया.

मैने सोचा, की यार ये साली सेक्सी तो बहुत है. ये नौकरानी है, लेकिन अगर मैं वो भूल के उसको देखु, तो एक ही थॉट आता था दिमाग़ में. और वो थॉट था, की बस एक बार वो बेहन की लोदी मुझसे चुड ले.

अब मैने प्लान बनाया, की उसको कैसे छोड़ूँगा. पहले मैं अपने बारे में तोड़ा आप सब को बता डू. मेरी लुक्स आवरेज से बेटर है, बुत असली है. मेरा लंड 8.3 इंच का है और लंड मोटा भी है.

फिर मैने सोचा, की उसको पहले मैं अपना लंड दिखा डू किसी तरह. इससे मेरे को ये पता चल जाएगा, की वो मुझमे इंट्रेस्टेड थी या नही. क्यूकी मेरा लंड देख कर ही आधी लड़किया मुझे खुद ही उन्हे छोड़ने को बोल देती है. अब मैं अपना प्लान बताता हू.

मैने उसको रोज़ रात को, सब के सोने के बाद, अपने रूम में बुलाना शुरू किया. मैने उसको बोला –

मैं: रात को जब मैं खाना खा लेता हू. उसके बाद मेरे रूम से तुम अगले दिन ढोने वाले कपड़े ले जाया करो.

अब वो रोज़ आती, और कपड़े लेके चली जाती. फिर मैने इसको आयेज बढ़ाया. जब वो आती थी, तब मैं कपड़े पहन कर वेट करता था. फिर मैं अंडरवेर के अलावा सब उसके सामने उतारता था. एक दिन मैने उससे पूछा-

मैं: अर्रे चड्डी भी देनी है, अभी उतार डू?

और उसने आयेज से कहा: जो उतारना है उतार दो. मुझे तो एसी की हवा से मतलब है.

More Sexy Stories  ट्यूशन टीचर से प्यार और सेक्स

ये बोलते ही हम दोनो ने एक-दूसरे की तरफ देखा और मैने उससे पूछा-

मैं: मतलब तुम्हे फराक नही पड़ता अगर मैं तुम्हारे सामने पुर कपड़े उतार डू तो?

उसने बहुत धीमी आवाज़ में कहा-

बसंती: नही.

ये मेरे लिए ग्रीन सिग्नल था. फिर क्या था, मैने चड्डी भी उसके सामने ही उतार दी. अब मेरा लंड पूरा तन्ना हुआ था. उसके बाद वही हुआ, जो मैने सोचा था. वो मेरे पास आई और बोली-

बसंती: इतना बड़ा हो जाता है क्या ये? मैने इतना बड़ा कभी नही देखा.

ये सुन कर मुझे लगा वो पहले चुड चुकी होगी. लेकिन वो अपने छ्होटे भाइयो की बात कर रही थी. वो वर्जिन थी, लेकिन गर्मी बहुत थी उसमे. फिर वो मेरे पास आई और बोली –

बसंती: मुझे आचे से देखना है.

मैने कहा: देख लो, सब तुम्हारा ही है.

फिर उसने पूछा: क्या मैं चू सकती हू इसको?

मैने कहा: हा ज़रूर.

फिर उसके छूटे ही मेरा लंड पूरा का पूरा खड़ा हो गया था. यहा मैं क्लॅरिफाइ कर डू, की मैं वर्जिन नही था. लेकिन सिर्फ़ 2 बार किया था मैने उसके साथ करने से पहले.

तो मुझे जब ये शुवर था, की वो वर्जिन थी, तो मैने कॉंडम का भी नही सोचा. मैने बस ये सोचा, की उसको छोड़ूँगा कैसे. फिर मुझे लगा, की वो भी गरम हो रही थी. और मैने उससे पूछा –

मैं: बसंती, क्या हुआ?

वो कहती: पता नही.

मैने कहा: बताओ ना.

तो उसने कहा: मेरा पेशाब वाला एरिया पूरा गीला हो गया है.

मैने कहा: वो पेशाब नही है. वो ये सबूत है की उसको मेरा लंड अपने अंदर चाहिए.

ये सुन कर वो पहले तो घबरा गयी. फिर वो मेरा लंड पकड़ के बोली-

बसंती: अछा तो लग रहा है मुझे.

उसके ये बोलते ही मैने उसके बूब्स पकड़ लिए, और उसको किस करना शुरू कर दिया. उसको बहुत मज़ा आ रहा था, और हम दोनो एक-दूसरे में खो गये थे. फिर मैने उसके कपड़े उतारने शुरू किए. जब मैने उसकी छूट पे हाथ मारा तो साली पूरी गीली थी. फिर मैने उसको कहा-

मैं: इसका मतलब तुम्हे भी मज़ा आ रहा है.

इस्पे वो कुछ नही बोली, और बस किस करती रही. फिर मैने उसके बूब्स चूज़ बहुत देर तक. उसके बाद मैं उसकी छूट चाटने गया, तो उसको समझ नही आया. लेकिन मेरी जीभ उसकी चूत में लगते ही उसकी बॉडी में करेंट दौड़ना शुरू हो गया. फिर मैने उसको कहा-

More Sexy Stories  मेरे पड़ोस की चुदासी लड़कियां

मैं: तुम्हे भी मेरा लंड चूसना पड़ेगा.

फिर जब उसने मन किया तो मैंने भी सोचा कही मौका हाथ से ना चला जाये. ये सोच कर मैंने भी उसके साथ ज़बरदस्ती नहीं की. अब वो पूरी नंगी मेरे बिस्तर पे लेती हुई थी. फिर मैंने अपना लुंड उसकी छूट पे रगड़ना शुरू किया.वो सांस तक नहीं ले पा रही थी. जैसे ही मुझे लगा अब मौका सही था मैंने अपना लुंड उसकी छूट में दाल दिया. पहले तो वो चिल्लाई लेकिन उसकी छूट इतनी गीली थी की दो झटको में ही उसका दर्द ख़तम हो गया. उस दिन ३ बार छोड़ा मैंने उसको.

मैने कभी उसको घोड़ी बना के, तो कभी अपने उपर बिता के छोड़ा. फिर रोज़ रात को वो मेरे रूम में आती थी, और हमारी चुदाई चलती थी. उसको एक बार मैने छोड़ते हुई गाली डेडी थी. मुझे लगा उसको पसंद नही आई, लेकिन उसने मुझे बाद में बताया की उसको गालिया बहुत पसंद थी.

उसने कहा, की छोड़ते हुए मैं उसको गालिया दिया करू. बस उसने ये बोला और उस दिन से उसको बसंती तो बोला ही नही मैने. उसको मैं रंडी, कुट्टी, मेरी फ्री की रांड़, बड़े लंड की दीवानी, फटी हुई छूट, मेरी सेक्स नौकरानी, रांड़ की पैदाइश कहता था.

बस ऐसे ही गालियो से बुलाता था मैं. मैं अपने लंड से भी उसके मूह पे बहुत छानते मारता था. एक बारी मैने उसके अंदर ही झाड़ दिया था. फिर साली प्रेग्नेंट हो गयी थी. बच्चा भी गिरवाया था उसका मैने. काफ़ी बार तो वो एक-दूं छूट से निकला हुआ लंड भी चूस लेती थी. अफ वो सबसे सेक्सी याद है उस रंडी बसंती की.

ये सब 6 साल चला. इन सालो में उसने मेरा लंड भी चूसा, और मूह में मूठ भी लिया. फिर वो मूठ पिया भी उसने. फिर 2016 में उसकी शादी हो गयी, और वो चली गयी. और उसके पति को मिली मेरे से फटी हुई छूट, जो मैने फादी थी.

कभी-कभी मुझे बसंती की चूत की बहुत याद आती है.

ओर भी जवान भाभी ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.