मेरी सेक्सी कज़िन सिस्टर कमला

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम सिद्धार्त है और ये मेरी पहली कहानी जो आई होप आपको पसंद आएगी अगर आपको मेरी मदमस्त कहानी पसंद आए तो मुझे मैल ज़रूर करे, ओके तो अब मैं आपको सीधे कहानी पर लाता हूँ, तो बात उन दीनो की है जब मैं 19 साल का था और मैं अपने 11थ के पेपर के बाद अपनी मौसी के घर पर समर की वेकेशन मे उनके घर गया था और मेरी मोसी के यहा मेरे मौसाजी और मौसी के अलावा उनके 2 बेटी और 2 बेटे रहते है और मेरी मौसी की बड़ी बेटी बहुत ही सुंदर और स्मार्ट थी और उसके चुचे मुझे बहुत ही आकर्षण लगते थे वो मुझसे 2 साल बड़ी थी उनका नाम कमला था और वो मुझको बहुत अछा मानती थी क्योकि मैं पढ़ने मे बहुत अछा था और मेरे 10 वी मे 72% थे और मैं अपने घर मे सबसे कम बोलता था इसलिए वो मुझसे ज़्यादा बात करती जिससे मेरा वाहा मन लग जाए लेकिन तब मेरे मन मे उनके लिए खुच बुरे विचार नही थे,

और हम रात को डेली गर्मी की वजह से बाहर बरान्दे मे कूल्लर चला कर सोते थे सभी भाई बहन और मेरी खाट बिल्कुल उनके बगल मे होती थी और हम डेली रात को 11 बजे तक बाते करते थे मेरे कॉजिन भाई लगबग 10 बजे के आस पास सो जाते थे, एक दिन वो अपने घर नहा कर नल पर अपने कपड़े धो रही थी और उन्होने अपना दुपट्टा नही डाला था और मैं कमरे मे टीवी देख रहा था की तभी लाइट चली गयी और मैं भी बाहर आ गया और दीदी मुझसे बात करने लगी और मुझसे उनके सामने पड़े स्टूल पर बैठने के लिए बोल दिया और मैं बैठ गया, तभी कपड़े धोते समय जैसे ही नीचे झुकती और उनके पूरे मोटे मोटे चुचे लकीर सहित दिखते और मुझे अजीब फील होने लगी और मैं उनको ना देकने की कोशिश करने लगा लेकिन मेरा मन फिर से उनके चुचे देखने को करने लगा और मैं उनकी बातो पर ज़्यादा ध्यान ना देकर उनके चुचो पर देने लगा.

तभी मुझे उन्होने अजीब सी नज़रो से देखा और मेरी पैंट की तरफ देख कर मुस्कुराने लगी क्योकि मेरी पैंट फूली हुई थी और उसके बाद भी वो वैसे ही कपड़े धोती रही और फिर जब हम रात को बात कर रहे थे तो अपनी अपनी खाट पर एक दम किनरो पर ही थे और जिससे मेरे पैर उनको लग गया और मुझे अजीब सी सिरहन हुई फिर थोड़ी देर बाद उनका पैर मेरे मेरी लेग से उपर था और थोड़ी देर बाद तुरंत हटा लिया जिससे मैं और बेचैन होने लगा, फिर हम सो गये और सोते वक्त मेरा हाथ उनके चुचो पर पहुच गया जिससे मेरा लॅंड खड़ा हो गया और मैं धीरे से उनको दबाने लगा फिर डर के मारे मैने हाथ हटा लिए और बेचैन होता रहा और फिर मेरी कमला दीदी के पैर ने मुझको एक दम से जाकड़ लीया शायद वो नींद मे थी तो ये देख कर मैं उनके और पास आ गया शायद उस 3-4 बजे के आस पास का टाइम था और मुझे ठंड भी लग रही थी और शायद उनको भी इसलिए मैं उनसे चिपकते चिपकते उनके खाट पर पहुच गया और कंबल ओढ़ लिए.

More Sexy Stories  दोस्त की बहन की चुदाई

और उन्होने मुझे पैरो से जाकड़ लिया और मेरा मूह उनके बूब्स पर था और मैं उनको चाट रहा था धीरे धीरे और लॅंड की हालत खराब थी जिससे मैने अपने पैंट को खोल कर लॅंड को आज़ाद किया और धीरे धीरे उनके सलवार के उपर से ही उनकी चुत और चूतडो को सहलाने लगा और मैं धीमे धीमे उनका नाडा धुन्दने लगा और मुझे उनका नही मिला लेकिन धीरे धीरे उसके अंदर हाथ डाल कर सलवार को ढीला कर दिया और उनकी पैंटी के अंदर से चुत सहलाने लगा, तभी दीदी ने करवट ली और उनके चुत्तर मेरे लॅंड की तरफ सॅट गये और तभी शायद दीदी की नींद भी टूट गयी और वो अब शांति से लेटी हुई थी, तो मैने अपना लॅंड उनकी गॅंड पर लगाया और मेरी एक उंगली उनकी चुत पर लगाई तभी उनके मूह से ओह ओह श्ह श्ह की आवाज़ सुनाई दी मैं समझ गया दीदी जाग गयी है पर मैं उंगली करता रहा और फिर तभी वो मेरी तरफ हुई और अपना सलवार और पैंटी नीचे कर दी और मुझसे फिर चिपक कर सो गयी क्योकि वो भी अब पूरी गरम हो चुकी थी.

और तभी वो मुझसे चिपक कर मुझको किस करने की कोशिश करने लगी और मैं उनके उपर आ गया और उनके होटो पर होट रख कर उनके बूब्स मसलने लगा और तभी वो बोली धीमे धीमे कोई जाग जाएगा, तो मैं अपना लॅंड उनकी चुत मे लगाने लगा की तभी कोई दूसरी खाट से उठा और अंदर कमरे मे चला गया वो मेरा भाई था और उसके बाद छोटी बहन भी कमरे मे चली गयी क्योकि ठंड लग रही थी सुबह का टाइम था और हम रुक गये और मैं एक दम डर गया, तभी मेरी दीदी बोली करो वो गये अब तो और मेरा लॅंड बैठ गया और फिर मेरी बहन ने उसे पकड़ कर उस पर हाथ फिराया मेरा लॅंड फिर खड़ा हो गया और मेरी बहन ने उसे अपनी चुत के छेद पर लगा दिया और मैने एक धक्का मारा तो वो आधा अंदर चला गया और दीदी के मूह से सस्स्स्स्सस्स सस्स्स्सस्स सस्स्स्सस्स ओह सस्स की आवाज़ आने लगी और वो छटपटाने लगी और मैं उनको किस करता रहा, मैने फिर एक धक्का मारा लॅंड पूरा चुत के अंदर.

More Sexy Stories  भाभी की चुदाई इन गुजरात

और वो फिर सस्स्स्स्सस्स सस्स्स्स्सस्स सस्स्स्स्स्स्सस्स न्स्स्स्स्स्स सस्स्स्सस्स ओह ओह करने लगी और थोड़ी देर बाद उनको मज़ा आने लगा और वो भी अपनी गॅंड उछाल उछाल कर चुदति रही और हमने 20 मिनट तक चुदाई की और थोड़ी देर हम ऐसे ही एक दूसरे को पकड़े पड़े रहे और फिर मैं अपनी खाट पर आ गया और जब मैं सुबह उठा तो उन्होने मुझे चाय दी और उनको व्यवहार बिल्कुल वैसा ही जैसा पहले था लेकिन मैं उनसे नज़रे नही मिला पा रहा था, आगे की कहानी बाद मे लिखूंगा मैल ज़रूर करना अगर कहानी पसंद आई हो तो मेरी आईडी है “[email protected]”. – कहानी को रेटिंग ज़रूर दीजिएगा – कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके