मेरी सील टूटने वाली चुदाई की कहानी

मैंने उसकी बात मान ली और लंड को मुँह में ले लिया. शुरू में लंड से मुझे स्मेल सी आ रही थी. लेकिन धीरे धीरे मुझे लंड अच्छा लगने लगा और मैं मदहोश होकर पूरा लंड चूसने लगी.
वो मुझे प्यार से गाली देने लगा. उसका इस वक्त मुझे गाली देना बड़ा अच्छा लग रहा था.

तभी उसने मुझे रोका और कहा- चल 69 में मजा करते हैं.
मैंने मान लिया और वो मेरी चूत को चाटने लगा. उसकी जीभ का खुरदुरा स्पर्श मुझे अपनी चूत पर बड़ा मादक लग रहा था. मेरी बड़ी कामना थी कि मैं अपने भोसड़ी वाले से अपनी चूत चटवाऊं … मगर मुझे उसके साथ कभी ऐसा मौका ही नहीं मिला था और न ही मैं संकोच के कारण उसके साथ ऐसा कह सकी थी.

उसका मेरी चूत को यूं मस्ती से चाटना, मुझे ज्यादा देर सहन नहीं हुआ. मेरे मुँह से सीत्कार निकलने लगीं. मैं ‘आह मोरी मइया … मर गई … आह..’ करने लगी.

वो पागल सा ही हो गया था और मेरी चूत पर बियर डालने लगा. मेरी चूत में बियर भर कर वो चूत चूसने लगा.

अब मुझे बड़ा मज़ा आने लगा था. मैं भी उसके लंड को पूरा अन्दर लेकर चूसे जा रही थी. उसका लंड पूरा कड़क हो गया था … मेरे मुँह में भी नहीं आ रहा था. पर मैं नशे में मस्त थी और लंड चूसे जा रही थी.

कुछ देर बाद मेरे भोसड़ी वाले का शरीर एकदम कड़क सा हो गया और उसी समय उसके लंड में से चिकना सफेद सा पानी से निकलने लगा, जिससे मेरा मुँह भर गया. मुझे उल्टी आने लगी, पर उसने मुझे वीर्य जबरदस्ती पीने को कहा.

More Sexy Stories  मेरा आंटी को चोदना का सपना

मैं उसकी बात मान कर लंड का रस पी गई. तभी मेरी चूत में से भी पानी निकला, उसको उसने चाट कर साफ कर दिया.

मुझे पहली बार सुकून मिला था. मैं निढाल हो गई थी. मुझे भूख भी लगने लगी थी. मैंने उसको बोला, तो उसने झट से पिज्जा का डिब्बा उठा कर मेरे सामने कर दिया. फिर हम दोनों ने मिल कर पिज्जा खाया और नंगे ही सो गए.

शाम को 6 बजे मेरी आँख खुली, तो मैंने देखा कि वो पैर पसारे हुए सो रहा था और उसका लंड तना हुआ खड़ा था.

मैंने उसे जगाया और उठ कर जाने लगी.

उसने मुझे पकड़ लिया और अपने पास खींच लिया. मैं कटे पेड़ सी उसकी बांहों में गिर गई.

उसने मुझे नीचे दबा लिया. अभी मैं कुछ समझ पाती कि भोसड़ी वाले ने अपना लंड मेरी चूत में झटके से पेल डाला.

लंड घुसते ही मैं चिल्ला उठी उम्म्ह… अहह… हय… याह… और रोने लगी. उसने मेरी एक नहीं सुनी और झटके मारने लगा. मैं दर्द के मारे मरी जा रही थी.

कुछ देर बाद मुझे अच्छा लगने लगा और मैं भी गांड उठा कर चुदवाने लगी. उसकी लम्बी चुदाई में मेरा दो बार पानी निकल गया और वो कुत्ते की तरह मुझे चोदे जा रहा था. मैं बेहोश सी हो रही थी. मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरी चूत में लोहे की रॉड घुसेड़ दी गई हो. कुछ देर बाद मेरी चूत में से सूसू निकल गई और वो झट से लंड बाहर निकाल कर मेरा सूसू पीने लगा.

More Sexy Stories  मेरी बेहन मेरी घरेलु रंडी

उसी समय उसने अपना लंड मेरे मुँह के पास लाकर पिचकारी मारते हुए अपना पानी मेरे मुँह पे निकाल दिया. उससे मेरा पूरा मुँह भीग गया.

फिर हम दोनों थक कर लेट गए.

कुछ देर बाद मैंने नीचे कुछ गीला सा महसूस किया. मैंने देखा तो बेड की चादर खून में सन गई थी. मैं डर गई.
उसने मुझे समझाया कि फर्स्ट टाइम ऐसा होता है.

फिर इसके बाद हम दोनों साथ में ही नहाए. उसने 8 दिन में मुझे रात दिन चोदा. मुझे अपनी सूसू भी पिला दी. मेरी गांड भी मारी. मुझे सेक्स का पूरा मजा दिया.

ये मेरे पहले सेक्स की कहानी थी. आपको कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करना. धन्यवाद.

Pages: 1 2