मौसी की बेटी की चूत चुदाई की वो हसीन रात

मैंने बड़ी मुश्किल के बाद वहां से अपना हाथ निकाला।

थोड़ी देर शांत रहने के बाद मैंने हल्के से अपना हाथ फिर से उसकी दूसरी चूची के ऊपर रखा और हल्के हल्के सहलाने लगा। कुछ देर सहलाने के बाद मैंने धीरे-धीरे अपने हाथों का दबाव अर्चना की चूचियों के ऊपर बढ़ाया और दबाने लगा.

तभी अचानक मेरी बहन का हाथ मेरे हाथ के ऊपर आया, मेरी तो फिर से गांड फट गयी… डर के मारे मेरी जान निकली जा रही थी. अब तो मैं गया!
कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ!

तभी अर्चना उठकर बैठ गयी और मुझसे बोली- ये क्या कर रहा है?
मैं चुप रहा, डर के मारे तो जैसे मेरी जबान ही कट गयी हो!
अर्चना ने दुबारा पूछा तो मैं डरते हुए उससे माफी मांगने लगा और गिड़गिड़ाते हुआ उससे बोला- माफ कर दो दीदी… गलती हो गयी! मैं अब से कभी सपने में भी ऐसा नहीं करूँगा! करना तो दूर, सोचूंगा तक नहीं! बस एक बार माफ कर दो!

इस पर वो बोली- चुप हो जा… भैया जाग जाएंगे! और तू डर मत, मैं किसी से नहीं बोलूंगी लेकिन एक शर्त पर!
मैंने पूछा- कैसी शर्त?
तो अर्चना ने पूछा- तेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?
मैंने ना में सिर हिलाया तो अर्चना बोली- तभी ये सब कर रहा है!
तो मैं भी थोड़ा खुलते हुए बोला- दीदी, क्या करूँ, कोई होती तो ये नौबत न आती!

इस पर मेरी बहन मुस्कुराई और बोली- अच्छा बेटा, तो क्या नौबत आती? हाँ?
इस पर मैं हंसते हुए बोला- तब तो गर्लफ्रेंड के साथ ही सारी नौबत आती और सब उसके साथ ही होता।

फिर अर्चना ने पूछा- कभी कुछ किया है?
मैंने ना में सिर हिलाया तो उसने हंसते हुए कहा- मेरी तरह ही कुंवारा निकला तू तो… अच्छा तो अब मेरे साथ करेगा?
इस पर मैंने अनजान बनते हुए पूछा- क्या?
तो वो बोली- वही जो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ करता!

मेरी तो खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा, मैंने जल्दी से हाँ में सिर हिलाया और उसे पकड़ कर चूमने चाटने लगा.
तो दीदी मुझे दूर करके बोली- इतनी हड़बड़ाहट किस बात की है? मैं भागी नहीं जा रही! और ऐसे ही करेगा सब ऊपर से? कपड़े तो निकाल ले।

More Sexy Stories  एक जल्दी वाला राउंड

लेकिन तभी हमें ख्याल आया कि हमारा बड़ा भाई हमारे साथ सोया हुआ है तो मैंने अर्चना को उसके कमरे में चलने को कहा. हम दोनों दूसरे कमरे में चले गए और मैंने तुरंत अपने कपड़े उतार दिए और अर्चना ने अपने!
फिर मैं अपनी बहन के नंगे बदन के ऊपर चढ़ गया और पागलों की तरह उन्हें किस करने लगा और उसकी एक चूची को बायें और दूसरी चूची को दायें हाथ में जकड़ कर जोर जोर से दबाने लगा जिससे अर्चना को दर्द हो रहा था।
वो बोली- आराम से कर… दर्द होता है! यहीं हूँ मैं!

कुछ देर ऐसे चूमने और दबाने के बाद मैं अपनी बहन की चूची को चूसने लगा और एक हाथ से दूसरी चूची दबा रहा था। कुछ देर बारी बारी से दोनों चूचियों को चूसने के बाद में उसके पैरों के बीच आ गया.

वैसे तो मुझे चुदाई का कोई अनुभव नहीं था, ना ही उसको… लेकिन मुझे सब पता है क्योंकि मैं लगभग हर दिन अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ता हूँ और सेक्स की वीडियो देखता हूं।
फिर मैंने अपनी बहन की पैंटी पकड़ कर नीचे सरकाई और निकाल कर उसकी चूत को सूंघने लगा.
वाह… क्या खुशबू थी… मेरी बहन की चूत की खुशबू ने मुझे और पागल बना दिया, मैंने उसकी चूत को चाटना चूमना शुरू किया और उसके मुँह से ‘आह… उम्म… आह… की आवाज़ की सिसकारियां निकलने लगी.

धीरे धीरे मेरी बहन भी मेरी तरह काफी गर्म होने लगी और काफी तेज सिसकारियां लेने लगी और मेरे सिर को पकड़ के अपने चूत पे दबाने लगी. कुछ देर बाद उसकी चूत के सब्र का बांध टूट गया और उसकी चूत से उस बांध का पानी बहने लगा.
मैंने बहन की चूत चाट चाटकर साफ की.

More Sexy Stories  सेक्सी चुदाई चाची की

उसके बाद मैंने उसको बोला मेरा लन्ड चूसने को!
लेकिन वो मना करने लगी. काफी देर मनाने के बाद भी जब वो नहीं मानी तो मैं उसे समझाने लगा, कुछ देर समझाने के बाद वो मान गयी और आधे मन से उसे मुँह में लेकर चूसने लगी.

कुछ ही देर चूसने के बाद उसने मेरे लन्ड को बाहर निकाल दिया और बोली- मुझसे न होगा!
तो मैंने भी जोर नहीं दिया।

अब बारी मेरी बहन की चूत चुदाई की थी तो कुछ देर उसे चूमने और फिर से गर्म करने के बाद मैंने थोड़ा सा थूक अपने लन्ड और उसकी चूत पे लगाया और लन्ड का सुपारा पकड़ कर उसकी चूत पे रगड़ने लगा.

मेरी बहन कामवासना से पागल सी हो गयी और कमर ऊपर उठाकर मेरे लन्ड को अपनी चूत में लेने की नाकाम कोशिश करने लगी.
कुछ ही देर में वो गिड़गिड़ाते हुए मुझसे बोली- अब इंतज़ार नहीं होता भाई… डाल दे अपना लन्ड मेरी चूत में!

उसे कुछ देर ऐसे ही उसे तड़पाने के बाद मैंने अपने लन्ड का सुपारा बहन की चूत के मुंह पे फंसाया. मुझे पता था कि हम दोनों का पहली बार है तो इसलिए मैं उसके मुंह को अपने मुंह में लेकर चूमने लगा और अचानक ऐसे ही उसे चूमते हुए एक जोर का धक्का लगाया, मेरा लन्ड उसकी चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया.

मैंने अपनी कमर को पीछे खींचकर फिर से एक जोरदार धक्का लगाया, इस बार मेरा लन्ड उसकी चूत की सील तोड़ते हुए उसकी चुत में और अंदर घुस गया और उसकी एक बहुत जोर की चीख मेरे मुंह में ही रह गयी, उसकी आंखों में आंसू आ गए थे।

Pages: 1 2 3