मनाली ट्रिप में चूत चुदाई का मजा

दोस्तो … आज मैं फिर एक बार अपनी सेक्स कहानी लेकर आई हूँ. ये कहानी उस दौरान की है, जब मैं अपने फ्रेंड्स के साथ मनाली ट्रिप के लिए गई थी.
मेरी पिछली कहानी थी
मेरा फर्स्ट सेक्स बॉयफ्रेंड के साथ
हम सब फ्रेंड्स कॉलेज ट्रिप के लिए मनाली के लिए निकले थे. ये ट्रेन का सफ़र था. हम सब फुल मस्ती में हंसी मज़ाक कर रहे थे. हम सभी अमृतसर से एक ट्रॅवेलर से निकले. आगे के सफ़र के लिए ट्रॅवेलर में सीटें कुछ इस तरह से सैट की गई थीं कि हर सीट पर एक लड़का और लड़की बैठे. हम सब ऐसे ही बैठ कर आगे का सफ़र तय करने लगे. सुबह 3 बजे हम वहां से निकले थे. उस वक्त रात का धुंधलका छाया हुआ था.

मेरी सीट पर एक लड़का बैठा था, उसका नाम संतोष था. मैं थकान के कारण नींद में ऊंघने लगी और इस वजह से मैं संतोष की गोद में सो गई. वो भी थका हुआ था, तो वो भी मेरे ऊपर सो गया. मुझे सोने के थोड़े देर बाद महसूस होने लगा कि वो मेरे मम्मों को दबा रहा था. बस में अंधेरा था और वो इस अँधेरे का फायदा उठाकर मजा ले रहा था. मैं चुपचाप वैसे ही पड़े रही, जिससे उसकी हिम्मत बढ़ गई और वो और ज़ोर ज़ोर से मेरे मम्मों को दबाने लगा. मुझे भी मज़ा आने लगा.

फिर थोड़ी देर बाद उसने अपना हाथ मेरी पैंट में सरका दिया और मेरी चुत को मसलने लगा. अब मैं भी बेकाबू हो गई थी. थोड़ी देर बाद मेरी चुत ने पानी छोड़ दिया और मैं वैसे ही सोई रही.

थोड़ी सुबह होने के बाद हम सब एक होटल के पास रुके, वहां फ्रेश होकर हम आगे के लिए निकल पड़े.

मंजिल पर पहुँचने के बाद हम सभी अपने पहले से बुक किए हुए एक होटल में पहुँच गए और नहाने के बाद घूमने के लिए निकल पड़े. संतोष ने मुझे रात को अपने कमरे में आने का कह दिया. मुझे भी चुदने की चुल्ल थी, तो मैंने उसकी बात पर हामी भर दी.

More Sexy Stories  कज़िन सिस्टर साक्षी की चुदाई

कुछ देर हम घूम कर वापस आ गए. सारा दिन मस्ती चलती रही. शाम को खाना खाकर सोने के लिए सब अपने अपने कमरों में जाने लगे. मेरे रूम में हम 5 लड़कियां थीं. जिनमें से एक मैडम भी थीं.

सबके सोने के बाद मैं संतोष के रूम में चली गई. संतोष बड़ी बेसब्री से मेरा इंतजार कर रहा था. उसके रूम में जाते ही उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया. मुझे हैरानी हुई कि वो अपने कमरे में अकेला कैसे है … पर मैंने उस वक्त उससे कुछ नहीं पूछा.

उसने एक एक करके मेरे कपड़े निकालना शुरू कर दिए. पहले उसने मेरी जैकेट उतारी, फिर पैंट उतार दी. अब मैं सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में रह गई थी. मुझे दो कपड़ों में रह जाने के कारण ठंड का अहसास होने लगा. उधर के मौसम में बहुत ठंडक थी. कुछ ही देर में मुझे ज़ोर की ठंड लगने लगी.

मैंने उससे कहा- मुझे बड़ी जोर से ठंड लग रही है.
उसने मुझे अपनी बांहों में समेटते हुए कस कर गले से लगा लिया और चूमने लगा. उसके जिस्म से रगड़ने के कारण मुझे भी गर्मी महसूस होने लगी.

इसके बाद हम दोनों में वासना की लहरें उठना शुरू हुईं, तो उसने मेरे मम्मों को मसलना शुरू कर दिया मैंने भी उससे लिपटी जा रही थी. उसने मेरी ब्रा और पैंटी निकाल दी. मैंने भी उसके सारे कपड़े उतार फेंके.

अब वो मेरे नंगे मम्मों को ज़ोर से दबा रहा था और मसल रहा था. कुछ ही पलों बाद वो मेरे गुलाबी निप्पलों को बारी बारी से चूसने लगा. मैं मस्त होने लगी. जब वो मेरे निप्पल चूस रहा था, तब मैं उसके सर पर हाथ रखे हुए उसको अपना दूध पिलाने में बड़ी तसल्ली महसूस कर रही थी.

More Sexy Stories  सुमन भाभी ने लंड में तेल लगा के चुदवाया

फिर उसने नीचे आते हुए मेरी नाभि को चूम लिया. मैं एकदम से सिहर उठी. इसके बाद वो रुका ही नहीं और उसने आगे बढ़ते हुए मेरी चुत के पास अपना मुँह लगा दिया. वो मेरी चूत को चाटने लगा.

अपनी चूत पर मैंने आज पहली बार किसी मर्द का अहसास किया था. मेरे रोंगटे खड़े हो गए, मैं मस्त होने लगी और मेरी टांगें खुद ब खुद खुलने लगीं. मैं उसके सर को अपनी चूत में दबाने लगीं.

दो तीन मिनट में ही मेरे मुँह से आवाजें आने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और ज़ोर से चूसो … बस अब मेरा निकलने वाला है.
उसने मेरी चूत को और भी बेदर्दी से चूसना शुरू कर दिया. तभी मैं झड़ गई. मैं एकदम से निढाल हो गई और उसके ऊपर ही ढेर हो गई. उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और खुद भी मेरे साथ लेट गया. हम दोनों यूं ही पड़े रहे.

कुछ देर बाद वो अपना लंड मेरे मुँह के पास लाया और मेरे होंठों से लगा दिया. मैं आंखें बंद किए हुए पड़ी थी. उसने लंड का सुपारा मेरे होंठों से टच किया और अपने एक हाथ से मेरे एक दूध को जोर से भींच दिया. इससे मेरे मुँह से एक चीख निकली और इसी चक्कर में मेरा मुँह खुल गया. उसने झट से अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और ज़ोर से पेलने लगा. मुझे कुछ समझ ही नहीं आया कि ये क्या हुआ. वो मेरे गले तक लंड पेल रहा था. हालांकि मुझे कुछ ही पलों में उसके लंड का स्वाद अच्छा लगने लगा और मैंने मस्ती से उसका लंड चूसने लगी.

Pages: 1 2 3 4