लिफ्ट लेने वाली की सहेली को भी चोदा

दोस्तो! पिछली कहानी
लिफ्ट लेकर दिल्ली के रास्ते में चुदी
में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने सिमरन नाम की एक लड़की, जो शादीशुदा थी, को दिल्ली जाते हुए अपनी कार में लिफ्ट दी और उसे पटा कर रास्ते में एक होटल में मजे से चोदा. वह अपने पति से झगड़ कर अपनी दिल्ली में रहने वाली सहेली रश्मि के घर जाने के लिए निकली थी. अब उससे आगे:-

हमने खाना खाया और होटल से निकल कर रश्मि के घर 5 बजे रोहिणी पहुँच गए.
रश्मि ने सिमरन से बड़े रूठे अंदाज में कहा- चंडीगढ़ से 7 बजे की निकली हुई तुम अब पहुंची हो?
फिर मेरी तरफ देख कर बोली- गाड़ी पंचर हो गई थी क्या?
सिमरन कहने लगी- तू अन्दर तो आने दे, सारा हिसाब दे दूंगी.

रश्मि गजब की सुन्दर 34-35 साल की पैसे वाली लेडी थी, जो गोरी और थोड़ी ‘चबी’ यानि गदराये बदन की थी. उसके गाल, मम्मे, चूतड़ और गाण्ड सब कुछ सेक्स से सराबोर था. उसकी गोल गर्दन और मस्त पट देख कर वह हस्तिनी औरत लग रही थी, जो मर्द को देखते ही खा जाए और आदमी भी उसे देखते ही चोद दे.

सिमरन ने उसे फ़ोन पर सुबह ही बता दिया था कि वह एक बड़ी कंपनी के अफ़सर के साथ गाड़ी में लिफ्ट लेकर आ रही है. रश्मि ने उसी वक्त ब्यूटिशियन को बुला कर अपना फेशियल, बिकनी वैक्सिंग वगैरह करवाया और दरवाजे पर ही चुदने को तैयार खड़ी थी.

मैं ड्राइंगरूम में बैठ गया और रश्मि उसे अन्दर ले गई. काफी देर बातें करने के बाद वे बाहर आई और रश्मि मेरी तरफ देख कर स्माइल देती रही.
वे दोनों हम सबके लिये चाय लेकर आई, हमने बैठ कर चाय पी.

मैंने कहा- अब मैं चलता हूँ!
तो रश्मि ने कहा- यह कैसे हो सकता है? यहाँ मैं सुबह से आप लोगों की इन्तजार कर रही हूँ और आप अभी जाने की बातें कर रहे हो? आप आये अपनी मर्जी से हैं, जाएंगे मेरी मर्जी से!
मैंने कहा- मेरी एक क्लाइंट से आज सायं को मीटिंग है, अतः मैं कल आऊंगा.
रश्मि ने मुझसे हाथ मिला कर वायदा किया और मैं वहां से कंपनी के गेस्ट हाउस में चला गया.

More Sexy Stories  साली ने जीजाजी का प्यार पा ही लिया

अगले दिन लगभग 4 बजे शाम को मैंने सिमरन को फ़ोन किया और बताया कि मैं फ्री हो गया हूँ.
सिमरन ने कहा- आ जाओ.
मैं उसी वक्त रश्मि के घर के लिए निकल लिया. मेरा प्लान रश्मि को चोदने का था.

घर पहुँचते ही मेरा लण्ड रश्मि को देखते ही खड़ा हो गया था. उन्होंने मुझे ड्राइंग रूम में बैठाया, रश्मि लण्ड लेने के लिए बेताब थी.
सिमरन ने मुझसे कहा कि मैं बैडरूम में आराम कर लूँ.
मैं बेडरूम में चला गया. बेडरूम काफी बड़ा और करीने से सजा हुआ था.

सिमरन दूसरे कमरे में रश्मि की लड़की के साथ चली गई. मेरे बैडरूम में जाते ही रश्मि अन्दर आ गई और बोली- राज साहब! मेरे और सिमरन के बीच कुछ भी छिपा नहीं है, उसने सब कुछ बता दिया है, तो क्या आप मुझे सूखा ही रखेंगे?
यह सुनते ही मैंने रश्मि को बाँहों में ले लिया और उसके होठों को चूसने लगा.
वह बड़ी मस्त माल थी. उसकी हर चीज मांसल थी. उसने बड़ी टाइट स्कर्ट और टॉप पहन रखा था.

रश्मि ने बताया कि उसने रात बड़ी मुश्किल से करवटें बदल बदल कर काटी है, उसने कई बार उंगली से चूत को चोदा परंतु तसल्ली नहीं हुई.
मैंने कहा- अब आप मेरे सामने थोड़ी अदा से नंगी होकर अपना हुस्न दिखाएँ तो मजा दुगना हो जाएगा.
उसे मेरा प्रस्ताव पसन्द आया. वह मेरे लिए एक व्हिस्की का लार्ज पेग बना कर लाई और उसने म्यूजिक सिस्टम पर ‘जॉनी मेरा नाम’ फ़िल्म का गाना ‘हुस्न के लाखों रंग, का कौन सा रंग देखोगे’ लगाया जिस पर फ़िल्म में पद्मा खन्ना डांस करती है और अपने शरीर से एक एक कपड़ा उतारती है.

More Sexy Stories  बीकानेर वाली गर्लफ्रेंड के साथ मस्ती

उसने दरवाजा बंद किया और डांस करना शुरू किया. वह उस डांस में माहिर थी. सबसे पहले डांस करते हुए उसने अपना टॉप निकाला. टॉप निकाल कर वह ब्रा में अपने मम्मों को हिलाने लगी. फिर उसने अपनी गाण्ड मटकाते हुए अपनी स्कर्ट उतारी. मैं पूरा उत्तेजित हो चुका था. वह केवल ब्रा और पैंटी में रह गई और डांस करती रही और एक टांग को उठा उठा कर पद्मा खन्ना की तरह घुमाती रही.

मैंने भी अपनी शर्ट उतार दी. डांस करते हुए रश्मि ने अपनी ब्रा भी धीरे धीरे थोड़े थोड़े मम्मे दिखाते हुए उतार कर फैंक दी और अपनी दोनों बड़ी बड़ी खड़ी चूचियों को अपने हाथों से हिलाने लगी. मैंने भी अपनी पैंट उतार दी और मेरा लण्ड मेरे अंडरवियर में तन कर खड़ा हो गया.

म्यूजिक चलता रहा और रश्मि ने धीरे धीरे अपनी पैंटी उतारनी शुरू की. उसने बड़ी अदा से कभी थोड़ा ऊपर करके और कभी थोड़ा नीचे करके अपने बदन से पैन्टी भी उतार फैंकी और कमरे में मेरे सामने चूत को अपने दोनों हाथों से ढक कर डांस करने लगी.
बहुत ही सेक्सी माहौल बन चुका था. उसके भारी भारी गोल चूतड़ और मम्मे तेजी से हिल रहे थे.

जैसे ही मैंने अपना अंडरवियर निकाला और उसने मेरा 8 इंची लौड़ा देखा, उसने भागकर बेड पर छलांग लगा दी. मैं भी उसके ऊपर झपट पड़ा. वह फिर भाग कर नीचे उतर गई, मैंने उसे पकड़ लिया.
वह झट से लण्ड को पकड़ कर उल्टी घूम गई और उसे अपनी गाण्ड पर रगड़ने लगी. दो तीन बार रगड़ने के बाद उसने अपना मुँह मेरी तरफ किया और मेरे लण्ड को अपनी गोरी, चिकनी और पाव रोटी सी फूली चूत में रगड़ने लगी और कमर मटकाती रही.
मैं उसके मम्मे और सारा शरीर चूमता और हाथों से मसलता रहा.

Pages: 1 2 3

Comments 0

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *