किराएदार भाभी का चुत चोदन हो गया

मेरा नाम अभी है, प्यार से घर में सब मुझे सैंडी भी कहते हैं। मैं गुजरात के अमदाबाद में रहता हूँ। मेरी उम्र 22 साल की है।

यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है जो कि पिछले साल की है।

हमारे दो घर हैं, एक में हमारी फैमिली रहती है और दूसरे में हमारे किरायेदार है.. जो कि एक भैया-भाभी हैं।
भाभी एकदम बम हैं, उनका मस्ताना सा फिगर 36-28-38 का है और उनकी उम्र 23 साल की है। भाभी का रंग इतना गोरा है.. कि जो भी उन्हें एक नजर देखे.. तो बस उनको चोदना चाहे।

चूंकि भैया आर्मी में हैं और वो दोनों यहाँ के लिए नए थे, इसलिए उन्हें यहाँ के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं था। उन्हें कोई भी काम होता, तो वो मुझे ही बोलते थे।

एक दिन भैया ने कहा- अभी कल अपनी भाभी को अक्षरधाम घुमा लाओ यार.. मुझे टाइम नहीं मिलता।
मैंने ‘हाँ’ बोल दी।

अगले दिन मैं भाभी को बाइक पर घुमाने ले गया, उस दिन बारिश का मौसम था.. दिन में कई बार बारिश आई।

भाभी ने सफ़ेद रंग का सूट पहना हुआ था, बारिश की वजह से उसमें से भाभी की समीज़ और पैंटी दिख रही थी। बाइक चलाते समय भाभी के चूचे मेरी पीठ पर कई बार टच हुए। मेरा मन तो ऐसा कर रहा था कि भाभी को यहीं पकड़ कर अपने नीचे ले लूँ।

जब हम अक्षरधाम पहुँचे.. तो हम दोनों पूरे भीग चुके थे। भीगने से भाभी बहुत सेक्सी लग रही थीं।

हम दोनों वहाँ घूमे और बाद में लंच किया। मैं वहाँ पर भाभी से जानबूझ कर बार-बार टच हो जाता था, कभी उनके चुतड़ों को टच करता.. तो कभी उनकी कमर को!

घूमने के बाद हम शाम को घर आ रहे थे, तो उस वक्त फिर बारिश हुई और हम दोनों फिर से भीग गए।

घर आते आते करीब दस बज गए थे. भैया रात को देर से घर आते हैं, तो 11 बजे के करीब मैं भाभी को घर छोड़ कर जाने लगा।
भाभी ने कहा- चाय पी कर जाना अभी..!

हम दोनों ही पूरे भीगे हुए थे.. इस समय भाभी इतनी सेक्सी लग रही थीं कि मेरा लंड बार-बार मुझसे उन्हें अभी चोदने के लिए कह रहा था।

भाभी बाथरूम में जाने लगीं.. मैं पीछे से उनकी मटकती हुई गांड देख रहा था.. मेरा लंड पेंट को फाड़ कर बाहर निकलने को मचल रहा था। मेरा लंड औसत से काफी लम्बा और मोटा है, सो मैं अपने लंड को पैंट के ऊपर से ही मसलने लगा। भाभी ने भी ये नोट कर लिया था।

जब भाभी बाथरूम गईं.. तो मैं उनके पीछे चला गया और की-होल से उन्हें देखने लगा।

भाभी कपड़े उतार रही थीं, उनके गोरे मम्मों और चिकनी गांड देख कर मैं पागल सा हो रहा था। मैंने देखा कि भाभी की चुत पर एक भी बाल नहीं था। उन्होंने अपनी चुत की झांटें साफ़ कर रखी थीं।

मैं वहीं अपने लंड को निकाल कर मुठ मारने लगा।

More Sexy Stories  माउंट आबू में गुजराती कपल के साथ 3सम मस्ती-4

तभी मैंने देखा कि भाभी ने अपने पैर चौड़े किए और अपनी चुत को मसलने लगीं.. साथ ही भाभी अपनी चुत में उंगली डालने लगीं।

यह देख कर मैं हैरान हो गया और खुश भी! तभी मैंने सोचा कि आज भाभी को चोद कर ही मानूँगा।

कुछ ही देर में भाभी ने अपनी प्यास उंगली से बुझा ली.. लेकिन मेरी चुदास तो और ज़्यादा हो चुकी थी।

भाभी बाथरूम से बाहर आईं और मुझसे कहा- सैंडी जाओ तुम भी नहा लो.. तुम्हारे भी कपड़े भीगे हुए हैं.. मैं तुम्हें तुम्हारे भैया के कपड़े दे देती हूँ।

भाभी ने अब पिंक कलर का सूट पहन लिया था। इसमें भाभी और गजब माल लग रही थीं। उन्हें देख कर मैं ये सोच रहा था कि भाभी को कैसे चोदूं।

मैं बाथरूम में चला गया.. वहाँ पर मैंने भाभी की ब्रा देखी और उसी को उठा कर मैं फिर से मुठ मारने लगा.. कुछ ही पलों में मैंने सारा माल भाभी की ब्रा में निकाल दिया.. लेकिन मेरी प्यास अभी भी नहीं बुझी थी, मुझे तो भाभी की गांड दिख रही थी।

कुछ देर बाद मैंने भाभी को आवाज़ लगाई- भाभी.. कपड़े देना!

फिर भाभी कपड़े देने आईं, तो मैंने दरवाज़ा खोल दिया, जैसे ही भाभी ने अपना हाथ आगे किया.. मैंने उनका हाथ पकड़ कर बाथरूम में खींच लिया।
भाभी बोलीं- सैंडी.. ये तुम क्या कर रहे हो?
मैंने कुछ भी नहीं पहना हुआ था, मैंने कहा- भाभी मुझे आप बहुत अच्छी लगती हो.. मैं आपको पाना चाहता हूँ।
भाभी ने कहा- ये ग़लत है, मुझे छोड़ दो.. नहीं तो मैं तुम्हारे भैया और पापा को बोल दूँगी।

भाभी कुछ ज़्यादा ही नखरे कर रही थीं।
तभी मैंने कहा- अभी जो आप अपनी चुत में उंगली पेल रही थीं.. वो सही था?
वो कुछ नहीं बोलीं.. और मैं उनके होंठों को चूमने लगा।

भाभी ने मुझसे खुद छुड़वाने की काफ़ी कोशिश की.. पर मैंने उन्हें नहीं छोड़ा और उन्हें किस करता रहा।

जब वो थोड़ी देर बाद शांत हो गईं और मेरी किस का जबाव देने लगीं, तब बोलीं- सैंडी, तेरी भाभी बहुत प्यासी है.. आज उसकी प्यास बुझा दे।

अब भाभी ने मेरे होंठों को अपने मुँह में ले लिया। फिर हम दोनों ऐसे ही देर तक क़िस करते रहे। अब मैंने भाभी का सूट उतार दिया और उनकी एक चूची को चूसने लगा। इसी के साथ मैं एक हाथ से भाभी की दूसरी चूची को दबाने भी लगा। भाभी के मुँह से सिसकारियां निकलने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…

फिर चूसते-चूसते मैंने भाभी की सलवार में हाथ डाल दिया और उनकी चुत को रगड़ने लगा। थोड़ी देर बाद मैंने भाभी को पूरी नंगी कर दिया। मैंने उन्हें बाथरूम के फर्श पर लिटा लिया और उनके पूरे शरीर को चूमने लगा।

भाभी ने मेरे लंड को पकड़ कर कहा- इतना बड़ा है तेरा लंड.. इतना तो तेरे भैया का भी नहीं है!
यह बोल कर वो मेरे लंड को रगड़ने लगीं, मैं उनके ऊपर लेट कर उनके होंठों को चूस रहा था।

More Sexy Stories  मेरी सहेली की मम्मी की चुत चुदाइयों की दास्तान-4

फिर मैंने भाभी को मेरा लंड चूसने के लिए कहा.. तो उन्होंने मना कर दिया, तो मैंने ज़बरदस्ती उनके मुँह में लंड घुसेड़ दिया। शुरुआत में तो भाभी नखरे करने लगीं, फिर दो मिनट के बाद भाभी मेरा लंड ऐसे चूस रही थीं, जैसे उसको लंड चूसने का कई साल का अनुभव हो।

कुछ देर बाद चुदास बढ़ गई और हम दोनों 69 की पोज़िशन में हो गए। अब मैं भाभी की चुत चाटने लगा और बीच-बीच में चुत में फिंगरिंग भी कर देता था।

मैंने भाभी के पैरों को अपने हाथों में पकड़ा और थोड़ा चौड़ा दिया। भाभी ने भी अपनी चुत मेरे लंड के लिए पूरी खोल दी, मैंने अपना लंड उनकी चुत पर टिकाया और एक ज़ोर का झटका मार दिया, लेकिन पहली चोट में लंड फिसल गया।

भाभी ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चुत पर रखा ओर बोलीं- अब करो।
मैंने फिर ज़ोर से झटका मारा, इस बार पूरा लंड एक ही बार में भाभी की चुत में घुसता चला गया।

भाभी को दर्द होने लगा, बोलीं- आराम से अभी.. नहीं तो तेरी भाभी की चुत फट जाएगी।
मैं भाभी की चुत में आराम से झटके मारने लगा, तो भाभी के मुँह से गरमागरम आवाजें निकलने लगीं ‘आआह.. ओउ मर गइई.. एयाया..’

भाभी की चुत से से ‘फच.. फच..’ की आवाजें आ रही थीं, वो बुरी तरह से सिसकारियां लेने लगीं।

ऐसे मैंने भाभी को कुछ मिनट तक धमाधम चोदा।

फिर मैंने भाभी को घोड़ी बनने को कहा.. तो वो घोड़ी बन गईं। मैंने भाभी के पीछे से आकर उनकी चुत में लंड पेल कर तबियत से चोदा।
इस आसन में भी मैंने भाभी को कई मिनट तक चोदा, इस दौरान भाभी दो बार झड़ चुकी थीं।
फिर मैंने कहा- मेरी जान.. अब तू मेरे ऊपर आ कर मजा ले!

मैं फर्श पर लेट गया और भाभी मेरे ऊपर मेरे लंड को अपनी चुत में लेकर बैठ गईं। अगले ही पल भाभी मेरे लंड पर ऊपर-नीचे हो रही थीं, उनकी मदमस्त चूचियां हवा में डिस्को कर रही थीं।

भाभी बोल रही थीं- आह्ह.. आज अपनी भाभी की सारी प्यास बुझा दे अभी.. आह्ह.. तेरा लंड कितना मोटा है.. मजा आ गया!

कुछ देर बाद भाभी हांफने लगीं, तो मैंने भाभी को चित्त लिटाया और उनकी चुत को चोदने लगा।

अब मैं झड़ने वाला था.. मैंने कहा- मैं झड़ने वाला हूँ!
तो भाभी ने कहा- मैं भी.. सारा माल मेरी चुत में ही निकाल देना अभी!

यह सुनकर मैं भाभी की चुत में ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा। अगले कुछ मिनट बाद मैं भाभी की चुत में ही झड़ गया.. और भाभी भी तीसरी बार मेरे साथ में ही झड़ गईं।

मैं थक गया था.. इसलिए भाभी के ऊपर ही ढेर हो गया।

किराएदार भाभी संग चुत चुदाई की सेक्सी कहानी आपको कैसी लगी प्लीज़ मुझे ईमेल कीजिएगा।
[email protected]

What did you think of this story??