कामसूत्र के खजुराहो में मौजां ही मौजां-3

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    कामसूत्र के खजुराहो में मौजां ही मौजां-2

  • View all stories in series

सुबह रीमा की आँख सबसे पहले खुली तो उसने अजय का लंड मुह में लेकर जैसे दातुन करने लगी।
अजय उठा तो सुनील भी उठ गया, उसने रिंकी को दबोच लिया।
एक बार मोर्निंग गुड हो गई।

चूत पोंछकर रीमा उठी और वाशरूम गई। सुबह सबको वाशरूम जाना था, तो जिसके हाथ जो कपड़ा आया, वो पहना और रिंकी और सुनील दूसरे कमरे में चले गए।

अजय और रीमा इधर रह गए, रीमा ने जाते समय सुनील को कहा- अब चुदाई करने मत लग जाना, मैं चाय बना रही हूँ, जल्दी आ जाना।
चाय बन चुकी थी और सुनील रिंकी का अता पता नहीं था, फोन वो उठा नहीं रहे थे, रीमा ने अजय से कहा- देख कर आओ वो कर क्या रहे हैं।

अजय ने दूसरा रूम की बेल बजाई तो दो बार बजाने पर सुनील ने खोला, वो टॉवल में था।
अंदर आये तो रिंकी बिस्तर पर नंगी पड़ी थी, उनकी चुदाई चल रही थी।
अजय हंसते हुए बोला- चलो, चाय ठंडी हो रही है।

चाय पीकर फ़्रेश होकर 12 बजे करीब वो होटल लॉबी में पहुंचे तो बाकी के दोनों कपल्स वहीं थे। वो एक बार म्यूजियम घूम भी आये थे।
कुमुद ने रिंकी से पूछा- रात को तुम लोगों ने खूब मस्ती की है, हमें सब अंदाज हो गया।
रिंकी मासूम होकर बोली- कैसी मस्ती?
तो विशाल बोला- हमने रात को एक बजे रिंकी के रूम की कई बार बेल बजाई, रूम नहीं खुला तो हम समझ गए की आज तो…
लंच चूंकि पैकेज में ही था इसलिए सभी सीधे होटल के रेस्तरां में चले गए, वहाँ से सब एक साथ ही घूमने गए।

रास्ते में विशाल ने एक प्रस्ताव रखा कि आज रात को सब लोग एक रूम में इकट्ठे होंगे और अन्ताक्षरी खेलेंगे, मस्ती करेंगे।
शाम को होटल लौट कर विशाल ने वेटर को 500 की टिप दी और कहा कि उसके कमरे में चार एक्स्ट्रा गद्दी नीचे डाल दे और रात को 11 बजे करीब पकोड़े और व्हिस्की भेज दे।

हालाँकि रूम सप्लाई 10 बजे के बाद नहीं होती पर 500 के लालच में वेटर ने विशाल का रूम महका भी दिया और नीचे चार एक्स्ट्रा गद्दे और तकिये डाल दिए।
उसने फ्रिज में कोल्ड ड्रिंक और वाटर बोतल भी भर दी। मतलब रात भर के 8-10 लोगों का नाश्ते ड्रिंक्स का पूरा इंतजाम वहां हो गया।
विशाल ने सबकी नजर बचा कर 10-12 हैण्ड टोवेल्स भी तकियों के पास रखवा दिए और बाथरूम में भी चार फ्रेश तौलिये रखवा लिए। शाम को 8 बजे सब टेरेस पर इकट्ठे हुए और तय ड्रेस के अनुसार गर्ल्स फ्रॉक में और जेंट्स टीशर्ट में थे।
हाँ, शर्म कुछ तो थी और वहाँ वेटर्स भी थे, इसलिए गर्ल्स ने अंडरगारमेंट्स पहने थे।

वहां होटल की ओर से कुछ स्नैक्स और ड्रिंक्स थे, उनको एन्जॉय करके सबने डिनर लिया और विशाल के रूम में जा पहुंचे।
आज का कार्यक्रम का संयोजक विशाल और कुमुद थे।

सब लोग गोले में नीचे बैठ गए, अन्ताक्षरी शुरू हुई। अब माहौल रंगीन करना था तो कुमुद ने नीचे चार अखबार बिछा दिए और म्यूजिक चला दिया।
सबको जोड़े से उन अख़बारों पर खड़े होकर डांस करना था। नियम यह था कि जिस भी कपल का पैर अखबार से बाहर गया, पहली गलती पर तो उसकी बीवी का चुम्बन सब लेंगे और दूसरी गलती पर सब लड़कियाँ उस आदमी के लंड को हिलाएंगी।
हर एक गाने के ख़त्म होने के बाद अखबार को मोड़ कर आधा कर दिया जाएगा।

वहाँ व्हिस्की सर्व हुई, आदमियों ने स्ट्रोंग और गर्ल्स ने लाइट पेग मारा।
म्यूजिक शुरू हुआ, सभी कपल्स अपने अपने जोड़े से डांस करने लगे। एक बार मानसी का पैर डगमगाया और बाहर हो गया, फाउल हो गया था, उसको सभी को चुम्बन देना पड़ा, अब गेम में मजा आना शुरू हो गया था।

एक गाना ख़त्म हुआ तो अखबार आधे हो गए, अब सबको चिपक कर डांस करना पड़ रहा था।
इस गाने में तो कोई फाउल नहों हुआ।

अगले गाने में अखबार काफी छोटा हो गया था और अब तो सब लोग भींच कर ही डांस कर पा रहे थे, इतने में ही सुनील का पैर बाहर आ गया और उसे देखते देखते राहुल का पैर भी बाहर आ गया, दोनों से फाउल हो गया।

लड़कियां हल्ला मचाने लगीं। रिंकी ने तो राहुल के बरमूडा में हाथ डाल भी दिया और फिर तो सभी लड़कियों ने सुनील और राहुल के लंड जोर जोर से हिलाए।
हिलाने से दोनों के तम्बू खड़े हो गए।

डांस दोबारा शुरू हुआ। अब गाना ख़त्म होते हे अखबार इतनी छोटे हो गए कि बिना अपने पार्टनर को गोदी में लिए अखबार पर खड़ा होना संभव ही नहीं था।
और इस बार शर्त यह थी कि जिसका भी पैर बाहर गया, उस जोड़ी को कपड़े उतार कर डांस करना पड़ेगा और जब तक दो गाने ख़त्म नहीं होंगे, कोई गेम नहीं छोड़ेगा।

डांस शुरू हुआ सबने अपने पार्टनर को गोदी में उठाकर डांस करना था। सबसे पहले रिंकी और अजय फाउल किये तो उन्हें पूरे कपड़े उतारने पड़े।

लाइट पूरी जल रही थी और अनजाने लोगों के बीच रिंकी और अजय नंगे हो गए… डांस शुरू हुआ।

अबकी कुमुद और विशाल फाउल किये तो उन्हें भी नंगा होना पड़ा। विशाल का लंड खूब मोटा था और कुमुद के मम्मे भी भारी थे। विशाल ने तो कुमुद को उठाकर उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और डांस करने लगा।

तभी मानसी और रीमा का भी बैलेंस बिगड़ा, अब चारों जोड़े नंगे थे और अब चिपट कर डांस कर रहे थे, कुमुद ने ये गेम यहीं ख़त्म किया और एक बार ड्रिंक और सर्व हुई।
अबकी बार की ड्रिंक के बाद सबक नशे का सुरूर हो गया था।

कुमुद ने लाइट बंद कर दी, नाममात्र की रोशनी थी कमरे में और एक बहुत ही सेक्सी सा इंग्लिश म्यूजिक चल गया।
जो रोशनी थी कुमुद ने वो भी बंद कर दी और आवाज देकर कहा की सब लोग जोड़े बदल बदल कर डांस करें और अगर पार्टनर को एतराज ना हो तो किस भी कर सकते हैं और जैसे ही म्यूजिक चेंज होगा, सब पार्टनर्स बदल लेंगे और अब जो जिसके साथ जैसे चाहे सेक्स कर सकता है, बशर्ते दोनों सहमत हों। और अगर कोई सिर्फ अपनी पत्नी या पति के साथ ही सेक्स करना चाहे तो वो जोड़ा बेड पर चला जाए और वहां सेक्स कर ले।

डांस शुरू हुआ, हल्की रोशनी फिर जल गई।

मानसी अजय की बाँहों में थी, रीमा राहुल से चिपटी थी, रिंकी को तो विशाल का लंड भा गया था तो वो तो उसे ही पकडे खड़ी थी और कुमुद सुनील को चूम रही थी।

डांस होते होते सभी के होंठ मिले ही थे और बिना गाना ख़त्म हुए रिंकी तो नीचे झुकर विशाल का लंड मुह में ले चुकी थी और सुनील भी कुमुद को नीचे लिटाकर उसके मम्मों को खाने की तैयारी में था।
रीमा राहुल का लंड चूस रही थी और मानसी की चूत में अजय घुस चुका था। अब चारों ओर से सीत्कार आनी शुरू हो गई थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह…’

कुमुद ने बगल में चुद रही मानसी के मम्मे पकड़े तो राहुल ने कुमुद की चूत में लंड पेल दिया।
अब आलम यह था कि जैसे ही कोई चूत खाली होती, तुरंत दूसरा लंड उस चूत में घुस जाता।
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

सबसे ज्यादा चुदाई कुमुद और रिंकी की हो रही थी। एक बार कुमुद की चूत में अजय और गांड में विशाल घुस गए, वो चीखती रही तो राहुल ने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया।

बदला लेने को रीमा और मानसी ने मिल कर विशाल का लंड निचोड़ा।
अब चारों लड़कियाँ नीचे थीं और उनके ऊपर लंड की पेलम पेली हो रही थी।

फाइनल राउंड था, रिंकी के ऊपर राहुल चढ़ा था, मानसी के ऊपर विशाल और सुनील कुमुद की चूत में था तो अजय रीमा के ऊपर!

सभी ने चूत अपने अपने माल से भर दी।
विशाल के रखवाए हैण्ड टॉवल अब काम आये। एक बार चूत पोंछ कर सब लोग वाशरूम में घुस गए और शावर खोल दिया।
अब होटल का जरा सा बाथरूम और उसमें आठ आठ लोग!

फ्रेश होकर सबने कपड़े पहने 11 बज चुके थे, बेल बजी, वेटर आर्डर लाया था।
विशाल और अजय ने गेट पर से ही सारा सामन ले लिया क्योंकि अंदर का माहौल वेटर को अंदर बुलाने का नहीं था।
खा पीकर 12 बजे सब लोग अपने अपने रूम में जाने लगे तो विशाल ने कहा- क्यों नहीं आज रात के लिए हम पार्टनर्स बदल लें।
सब तैयार हो गए।

विशाल के साथ रिंकी गई, कुमुद सुनील के साथ गई और रीमा राहुल के साथ और मानसी अजय के साथ!
रात भर कमरों में धमाचौकड़ी मची।

शायद कुमुद की इतनी चुदाई सुहागरात या उसके बाद के दिनों में भी नहीं हुई होगी जितनी आज हुई। रात भर सुनील ने उसे चोदा, पता नहीं सुनील के लंड के पास बार बार माल कहाँ से आ जाता था। कुमुद को उसने हर स्टाइल में चोदा और कुमुद ने भी चुदाई में उसके लंड को खूब निचोड़ा।
कुमुद तो हर बार उसका लंड चूसकर साफ कर देती और माल गटक जाती।

उधर रीमा ने राहुल का लंड चूसकर खाली किया और मलाई पी गई।
राहुल की जिन्दगी में पहला मौका था जब किसी लड़की ने उसका लंड चूसकर खाली किया हो।

रिंकी की तो गांड विशाल ने दो बार मारी और चूत में वाइब्रेटर चलाया। वाइब्रेटर रिंकी लाई थी। रिंकी के मम्मे आज इतनी चुसे थे कि सुबह तक उसके मम्मों में दर्द हो गया था।

मानसी और अजय की प्रेम लीला अलग थी, एक बार घमासान चुदाई करके दोनों चिपट कर सो गए और रात को जब 3 बजे मानसी की आँख खुली तो उसने अजय का लंड चूस कर उसे जगाया और मस्ती में दोनों ने नंगे ही बराबर वाले रूम की डोर बेल बजाई।
उसमें सुनील और कुमुद थे।

अब कमरे में घुस कर चारों ने मिल कर चुदाई की और वहीं सो गए।

सुबह सब लोग अपने अपने कमरों में गए। नहा धोकर 9 बजे रेस्टोरेंट में मिले।
दोपहर को चेकआउट करना था, सब ने जम कर मस्ती की थी… पर आपस में कोई फोन नंबर नहीं लिया और रात गई बात गई का एट्टीटयूड बनाया और आपस में विदा ली।

दिल्ली पहुँच कर सुनील और रीमा ने भी विदा ली और फिर मस्ती का प्रोग्राम बनाने का वायदा कर के घर आये।

बताइए दोस्तो, कैसी लगी यह चार चूत और चार लंड की बीवी बदलकर चूत गांड चुदाई की कहानी।
लिखें मुझे :
enjoysunny6969gmail.com

More Sexy Stories  बहन की चुदाई: मामी की लड़की की चूत मारी