जवान दिल मचल गया

मधु बोली- चल ना यार मजा ले ले!
यह कह कर उसने मेरा हाथ में राज का लंड पकड़ा दिया जो अब सोया हुआ था, गर्म तो था ही!
पहली बार किसी का लंड मेरे हाथ में था, मैंने घबराते हुए उसे छोड़ दिया- चल घर जल्दी!

किसी तरह से मैंने मधु का हाथ पकड़ा और मैं बाहर निकल आई. बाहर बारिश हो रही थी जो मेरे तपते बदन पर गिर कर मेरी वासना को और बढ़ा रही थी. मधु और उसके यार की चुदाई मेरी आंखों के सामने घूमने लगी, राज के लंड को देखने के बाद सेक्स की मेरी इच्छा और बढ़ने लगी.

मैं घर में आयी तो मन नहीं लग रहा था, मैं अपने गीले कपड़े उतार कर देखने लगी अपने बदन को… मधु के बदन से कहीं ज्यादा टाईट और मस्त लग रही थी मैं… मैंने अपने हाथ अपनी दोनों चुची पर रखे और धीरे धीरे मैं अपनी चूचियों को दबाने लगी और मस्त होकर मजा ले रही थी।

रात को मैंने बिस्तर में राज के नाम से चूत में उंगली की और मुठ मार कर शांत होकर सो गयी।

अब मैं पक्का इरादा बना चुकी थी कि मैं भी मधु की तरह राज से एक बार तो जरूर चुदाई करवाऊँगी. यह सोच कर मैं आगे की प्लान बनाने लगी.

फिर एक दिन आया जब मैं अपने कमरे में बैठी थी कि मधु का फोन आया- सुनीता, मेरे साथ चल, आज राज के घर जाना है!
मैं बोली- यार सुबह सुबह नहीं!
मधु बोली- यार ऐसी कोई बात नहीं, उसे काम है तो उसने मुझे बुलवाया है.
“अच्छा चल!” और मैं चल पड़ी.

मैं मधु के घर गई तो मधु घर पर नहीं थी. मैंने सोचा कि वो राज के घर जाने के लिए निकल चुकी होगी. और मैंने राज के घर पहुंच कर दरवाजा खटखटाया.

राज ने दरवाजा खोला, वो बाहर निकला, बोला- यार तुम? मधु कहाँ है?
मैं हैरानी से बोली- मधु यहाँ नहीं आयी? मैं उसे ही ढूँढती हुई यहाँ आयी हूँ.

More Sexy Stories  नौकरानी ने चूत की सील तुड़वाई

राज बोला- अच्छा चल अंदर आ… नहीं तो कोई देख लेगा!
यह सुन कर मैं घबरा कर एकदम से अंदर चली गई.
लेकिन तभी सोचा कि राज के घरवाले होंगे घर में… मैं बोली- तुम्हारे घर वाले?
वो बोला- चल तो सही… वो क्या है ना कि आज मैं अकेला ही हूँ, घर वाले बाहर गये हैं, 2 दिन बाद आयेंगे. इसी लिए तो मधु को बुलाया था. तू बैठ, मैं अभी आया नहा कर… फ्रेश हो जाऊँ।

मैं खाट पर बैठ गई, इधर उधर देखने लगी.
मैंने देखा कि राज सामने ही बने बाथरूम में कपड़े लेकर चला गया और मैं सामने खाट में बैठी मधु का इंतजार करने लगी.

वो अंदर जाकर अपने कपड़े निकाल कर बाथरूम के दरवाजे के ऊपर टांगने लगा, शर्ट बनियान और पेन्ट… और बाद में अंडरवियर भी दरवाजे पर तंग गया. उस अंडरवीयर को देख कर मैं विचलित होने लगी कि इतना बड़ा लड़का नंगा नहा रहा है…

मैं उत्सुकतावश उसकी ओर मुंह करके राज का दरवाजे से निकलने का इंतजार करने लगी.

फिर कुछ ही देर बाद राज बोला- यार सुनीता, तू मधु को काल तो कर!
मैं उठी और बाथरूम के दरवाजे के पास आकर खड़ी हो गई, दरवाजे की झिर्री से अंदर देखने का प्रयास करने लगी और साथ ही फोन कर रही थी मधु को…
मैं बोली- यार काल लग नहीं रहा है!

फिर अचानक वो दरवाजा खुला, मैंने देखा कि एक पतला सा तौलिया लपेटे राज बाहर आ गया. मैं फिर खाट पर बैठ गयी, वो मेरे पास आ गया और कुछ ढूँढने लगा.
मैंने पूछा- राज क्या ढूँढ रहे हो?
वो बोला- यार यहाँ मेरी चड्डी रखी हुई थी…

मुझे तौलिये में राज बहुत अच्छा लग रहा था, उसके लंड का हल्का सा उभार मुझे दिख रहा था, मैं बोल बैठी- तुम तो ऐसे ही सुन्दर लग रहे हो, चड्डी की क्या जरूरत है?
“यार मजाक मत कर… तेरे पास है क्या?”
“नहीं… देख लो!”

More Sexy Stories  छत पर दोस्त की चुदाई

वो मेरे एकदम नजदीक आ गया और मेरी जांघों में हाथ रख आसपास देखने लगा.
इतनी पास था राज मेरे… मैं उसे देखने लगी… अचानक मेरा हाथ उसके तौलिये पर पड़ गया और उसके लंड से छू गया.

राज का लंड इतने से ही कितना गर्म और टाईट हो चुका था… मैंने एक झटके से उसके तौलिये को खींच दिया और वो खुल गया, उसका लंड पूरा नंगा मेरे सामने खड़ा था, वो मेरी ओर देख रहा था, मैं उसकी ओर!
मुझे पता ही नहीं चला कि मेरा हाथ कब उसके लंड को पकड़ चुका था और मैं पूरी गर्म हो चुकी थी.

वो मेरे शर्ट के ऊपर मेरे चूचे को दबाने लगा, मैंने चुप होकर ये सब होने दिया और उसके सहलाने की अदा का मजा लेने लगी. मेरी सहेली के प्रेमी का लंड मेरी मुट्ठी में था, वो मेरे शर्ट के बटन खोलने लगा, मैं उसे रोक नहीं सकी और एक कर मेरे सारे कपड़े नीचे गिरने लगे.

मैं और वो अब बिना कपड़ों के खड़े थे.

वो बोला- सुनीता यार, कितनी हॉट हो तुम!
मैं बोली- तुम भी तो हॉट हो राज!
और उसके हाथ मेरी चुत तक पहुंच कर उसको सहलाना शुरू कर चुके थे. मेरी चूत गीली होने लगी थी और राज का लंड भी गीला होकर मेरी चूत के अन्दर फिसलने का तैयार था.

राज ने मुझे चूमते हुए खाट पर लेटा दिया, उसका बड़ा सा लंड मेरी बेचारी सी चूत के पास ही था, वो मेरी चूत को किस करता हुआ उसके अंदर प्रवेश करने लगा. थोड़ी ही देर में मेरी चूत के अंदर लंड समाने लगा और पूरा का पूरा अंदर घुस चुका था.

Pages: 1 2 3

Comments 0

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *