जवान दिल मचल गया

मैं सुनीता हूं और मेरी दोस्त मधु मेरी पक्की सहेली है. अक्सर हम दोनों साथ साथ ही रहती हैं. कभी मैं उसके घर तो कभी वो मेरे घर… बाजार जाती शौपिंग करने तो साथ साथ..

मधु का एक लवर यानि प्रेमी है राजकुमार… मैं हमेशा उन दो प्रेमियों को आपस में मिलने की मदद करती, अक्सर वे दोनों एक सूने पड़े घर में मिलते और आपस में प्यार करते थे.
शाम को मैं मधु को उसके घर से बुला कर ले जाती और उस सूने मकान में मिलने में उन दोनों की मदद करती. वे दोनों अंदर बातें करते और मैं बाहर घूम घूम कर निगरानी करती रहती थी.

एक रात ऐसे ही मैं घर के बाहर निगरानी कर रही थी कि अचानक बारिश आ गई. भीगने से बचने के लिए मैं भाग कर घर के अंदर चली गई.
अंदर गयी तो देखा कि मेरी सखी मधु अपने प्रेमी राज को अपने निप्पल चुसाने में व्यस्त थी, गोल गोल टाईट चूचियां थी मधु की… राज उन्हें बारी बारी से अपने मुंह में लेकर चूस रहा था और उसका एक हाथ दूसरी चुची को दबा रहा था.

राज की पैन्ट खुली हुई थी, उस्ल्का लंड बाहर निकला हुआ था, मधु का हाथ उसके लंड पर था जो लंबा मोटा सा, काफी बड़ा था, मधु उसे सहलाने में लगी थी, आगे पीछे करके उसके लंड की जैसे मुठ मार रही थी.
लेकिन मुझे देखते ही वे दोनों प्रेमी अलग हो गये पर उन दोनों के कपड़े अस्त व्यस्त हो चुके थे, मधु की कमीज उसके वक्ष से ऊपर तक उठी हुई थी मतलब उसकी दोनों चूचियां नंगी थी, मधु की चड्डी नीचे खिसकी हुई थी, वहीं राज की पेन्ट घुटने के नीचे तक सरकी हुई थी और चड्डी से निकला हुआ बड़ा लंड मधु के सामने तन कर खड़ा हुआ था.

मेरे मुख से निकला- ये क्या कर रहे हो तुम लोग? मधु… तू तो कह रही थी कि तुम लोग बाते करने आते हो?
मधु सिटपिटाती हुई सी बोली- हं… हाँ सुनीता… मगर मैं क्या करती यार, इसकी बात ना मानो तो बुरा मान जाता है ये…
राज बोला- सुनीता आ जाओ ना… नहीं तो तुम भीग जाओगी.

More Sexy Stories  बिहारी नौकर ने मेरी कुंवारी चूत को चोदा

और मैं उनके पास आ गई. मोबाईल की लाईट जल रही थी जिससे साफ साफ दिख रहा था.
मैं बोली- जल्दी करो यार… लेट हो रहे हैं.

और फिर वे दोनों लवर आपस में लिपट गये और एक दूसरे के बदन को सहलाने लगे.
कुछ ही देर में राज ने मधु को नीचे लिटा लिया, मधु की सलवार खोल कर उतार दी, मधु ने पैंटी नहीं पहन रखी थी तो मधु की चूत मोबाइल की रोशनी में चमक रही थी , उसकी चूत एकदम चिकनी क्लीन शेव थी.

मधु अब तक अपनी टांगें फैला चुकी थी, राज अपना लंड अपने हाथ में पकड़ कर मदु के ऊपर लेट गया, मधु ने राज के लंड को हाथ में लेकर अपनी चुट के ऊपर रखा ही था कि राज ने एक शॉट मार कर मधु की कमर को अपनी ओर खींच लिया और राज का लंड मधु की चूत के अंदर चला गया.

लंड के चूत में जाते ही मधु ‘ओे उम्म्ह… अहह… हय… याह… आइ इइइ…’ करके उससे लिपट गई- ओ राज… कितना गर्म है तुम्हारा लंड!

और फिर मेरे सामने ही बेशर्म चुदाई शुरू हो गई. राज मधु को चोद रहा था और उम्म आह कर रहा था, मधु भी राज के लंड के नीचे पढी चुत चुदाई करवा रही थी और सिस्कारियां भर रही थी- अह… हाह.. हाँ.. हाँ.. जोर से… उम्म्ह… हह!

मेरी हालत उन दोनों की चुदाई को देखते देखते बिगड़ने लगी, मैं खुद गर्म होने लगी थी, मेरी चूत से सुरसुराहट होने लगी थी, मेरी चुत पानी छोड़ने लगी थी. मेरा मन कर रहा था कि मैं अपनी सहेली मधु को राज के नीचे से हटा कर खुद लेट जून और उससे ऐसे ही चूत चुदाई का मजा लूं.

More Sexy Stories  कॉलेज के सिर के साथ चूत चुदाई

लेकिन मैं ऐसा कुछ नहीं कर सकती थी, मैं फिर उन दोनों का चोदन देखने लगी. राज शॉट पे शॉट मारता चला गया और मधु उस जोरदार चुदाई का मजा लेने लगी.

मधु अब चरम सीमा पर होने को थी, वो बोली- यार मैं कितना तड़पती हूं तेरे प्यार में…
राज बोला- सच मैं भी यार तुमसे बहुत प्यार करता हूँ मधु!
यह कहता हुआ वो तेजी से धक्के मारने लगा और अब मधु के मुख से आवाजें निकल रही थी- आई… ईई… इइय अइइ… अअह… अअअअ… राज जल्दी जल्दी करो… मैं मर जाऊँगी राज… तेज तेज चोदो मुझे!

और वो और तेजी से चुदाई करने लगा और थोड़ी देर बाद जब राज झड़ने लगा तो उसने अपना लंड मेरी सहेली की चूत में से निकाला और उसका माल मधु की जांघों में लग गया.
मधु मुंह बनाती हुई बोली- छी यार… यही तो अच्छा नहीं लगता! कितने गंदे हो तुम!
पर राज कुछ नहीं बोला-, वो मधु के होंठों पर अपने होंठ रखा कर उसे किस करने लगा. अब मधु उसे अपने दोनों हाथों से अपने ऊपर से हटा रही थी, कुछ पल बाद राज मधु के नंगे बदन से अलग हो गया और मधु की नंगी जांघों पर लंड से गिरा हुआ माल उसने मधु की सलवार से ही साफ़ कर दिया.
मधु बोलती रह गई- ये क्या कर रहे हो राज… मेरी सलवार गन्दी कर दी।

अब मैं बोली- चल यार मधु, देर हो गई है, जल्दी कर!
फिर अचानक से मधु बोली- यार सुनीता, तू भी चुदाई करवा ले राज से… हम घर तो अभी जा नहीं पायेंगे… पानी तो गिर रहा है!
मैं घबराती हुई बोली- नहीं बाबा… ये मेरे भाई का दोस्त है, भाई को पता लगा तो घर में मार पड़ेगी और बदनामी हो जाएगी.

Pages: 1 2 3

Comments 6

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *