जवान भतीजी की चुदाई

मैंने उसे कहा प्रिया अब कब करवाएगी ? उसने कहा मौसा जी अभी रुको अभी तो मैं हूँ यहाँ आपके घर तीन दिन और अगर मम्मी फिर कहीं गयी तो तब करेंगे उसकी बातें सुनकर मेरा लौड़ा फिर से तमतमाने लगा था ,मैंने उसे कहा प्रिय क्यों न एक बार फिर कर लें उसने कहा मौसा जी नहीं मेरा पेट अभी थोड़ा थोड़ा दुःख रहा है ,आज दुबारा नहीं बस। मैंने कहा की ऐसा मैंने क्या करा जो तेरा पेट दुःख रहा है उसने कहा छी : भाई आप तो बहुत ही बेशर्म हो ,मेरा सारा बदन तोड़ कर रख दिया और पूछ रहे हो की दर्द क्यों हो रहा है ?

असल में मेरा लौड़ा चोदते समय एकदम लक्कड़ जैसा सख्त हो जाता है फिर भी मैंने उसे कहा देखूं तेरे कहाँ दर्द हो रहा है इतना कह कर मैंने उसकी कच्छी में हथेली घुसेड़ दी ,वाकई उसकी चूत फूल रखी थी साली की चूत की छितायी जो ढंग से हो गयी थी ,मैंने उसकी बुर में कुर ऊँगली घुसेड़ दी ऊँगली अभी भी थोड़ी टाइट थी पर उसका छेद मैंने हमेशा के लिए खोल दिया था ,उसने कहा आह। .. नहीं मौसाजी अंदर नाख़ून लग जायेगा ,मुझे उस पर दया भी आयी पर अगर लड़कियों पर ऐसे ही दया करते रहेंगे तो वो माँ कैसे बनेंगी ?बस मुझे यही एक डर था की कहीं उसकी बुर का छेद अगर लौड़े के बराबर नहीं खुला तो साली की फट जाएगी और फिर मुझे लेने के देने पड़ जायेंगे पर ऊपर वाले की दया से ऐसा कुछ नहीं हुआ ,
मैंने उसे चाय बनाने के लिए बोला उसने चाय बनायीं और फिर मैंने पेण्ट कमीज पहनी उसने पूछा की मौसा जी आप कहाँ जा रहे हो मैंने उसे कहा की वो दोनों चुड़ैलें आ रही होंगी तो उन्हें देख कर शक होगा की ये ऑफिस क्यों नहीं गया लंच के बाद इसलिए मैं अपने दोस्त के घर जा रहा हूँ ,
प्रिय ने कहा मौसा जी आप बहुत चालाक हो ठीक हो आप जाओ और मैं भी सो जाती हूँ ,मैंने उसे कहा की जब मैं आऊं तो बिलकुल पहले की तरह ही नार्मल रहना। और ये कह कर मैं चला गया और फिर शाम को पांच बजे ऑफिस से आ गया,
देखा तोसब कुछ नार्मल था और उन दोनों को बिलकुल भी भनक नहीं लगी।
अगली बार मैंने कब उसकी चूत में लौड़ा पेल कर अपनी हवस शांत की आगे बताऊंगा।
[email protected]

More Sexy Stories  Meri Pyari Bhabhi ki chudai

Pages: 1 2 3 4