मेरे जन्मदिन पर मेरे यार ने दिया दर्द-5

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    मेरे जन्मदिन पर मेरे यार ने दिया दर्द-4

  • View all stories in series

मैं उसके लन्ड को सहला रही थी और वो मेरे जिस्म पर हाथ फिरा रहा था, कभी मेरे बूब्स पर से हाथ ले जाता हुआ मेरी कमर पर और फिर मेरी गांड पर ले गया.
करन बोला- चलो न सुहानी, पीछे से कोशिश करते हैं आज।
मेरा माथा ठनका तो मैं बोली- तुम्हारा मतलब तुम मेरी पीछे से चोदना चाहते हो? पीछे से दर्द होता है बहुत।

करन बहुत ज़िद करने लगा तो आखिरकार मुझे ही उसकी ज़िद के आगे झुकना पड़ा और मैं बोली- अच्छा बाबा चोद लो, खुश?
करन एकदम उछल के खड़ा हो गया और बोला- झुक जाओ फिर!
मैंने कहा- ऐसे कैसे झुक जाऊँ, पहले तेल से चिकनी कर लो, गांड में चिकनाहट नहीं होती, और अपने लन्ड को भी चिकना कर लो तभी डलवाऊँगी, वरना नहीं! अब मैंने इतनी ज़िद मानी तो एक बात मेरी भी तो मानो।
करन बोला- चलो बाबू, आपके लिए इतना तो कर ही सकता हूँ। चलो झुक जाओ आगे की तरफ।

मैं बेड पर आगे झुक के घोड़ी बन गयी और चूत और गांड उसके हवाले कर दी।
करन ने कहा- ऐसे करो तुम मुंह शीशे की तरफ कर लो ताकि मैं तुम्हारे इस खूबसूरत चेहरे को देख सकूँ चोदते हुए।
तो मैं घूम गयी शीशे की तरफ और हम दोनों को देखने लगी।

अब थोड़ी ही देर में एक बार फिर मेरी दर्दनाक चुदाई होने वाली थी। करन मेरी गांड के बाहर तेल से मालिश करने लगा अपने हाथों से।
मैंने कहा- अंदर डालो तेल … वहाँ जरूरत पड़ेगी ज्यादा।
उसने बोला- ठीक है, टांगें खोलो.
थोड़ी सी तो मैंने खोल दी। मेरी गांड का छेद अब थोड़ा खुल गया।

करन ने अपनी उंगली तो तेल में तर किया और मेरी गांड पर रखी। जैसे ही उसने जरा सी उंगली अंदर डाली, मैं ऊई… सीईई… करते हुए मचल के आगे हो गयी और बोली- आराम से करन!
वो बोला- ठीक है डियर!
और वो भर भर के गांड में तेल लगाने लगा और खुद को असहनीय दर्द को बर्दाश्त करने के लिए मानसिक रूप से तैयार करने लगी।

करन बोला- लो जी तैयार है मैडम आपकी गांड और मेर लन्ड भी, शुरू करूँ?
मैं करन की तरफ मुंह करके बोली- ठीक है … पर आराम आराम से, जंगलियों की तरह नहीं।
उसने कहा- बिल्कुल डियर!

मैंने हम्म करके सर वापस शीशे की तरफ कर लिया और हम दोनों को देखने लगी। करन बहुत खुश लग रहा था जैसे किसी छोटे बच्चे को उसका मनपसंद खिलौना मिल गया हो, अब बस वो उस खिलौने से खेलना चाहता था।

करन ने अपने लन्ड का मोटा सुपारा मेरी गांड के छेद पर रखा तो मैंने हुंहह… करके एक गहरी सांस ली। जैसे ही करन ने अपना लन्ड का मुंह अंदर घुसाया, मुझे हल्का सा दर्द हुआ तो मेरा मुंह आ… करके खुल गया और आऊउ… की आवाज निकाल गयी और थोड़ा सा आगे बढ़ गयी।
मैंने कहा- आराम से आराम से … जल्दबाज़ी नहीं।
करन बोला- ठीक है!

और फिर धीरे धीरे धकेलने की कोशिश करने लगा तो उसका लन्ड ज़बरदस्ती मेरी गांड में जगह बनाता हुआ अंदर जाने लगा।
करन को भी लन्ड डालने में दिक्कत हो रही थी तो वो भी हम्म… हम्म… कर के ज़ोर लगा रहा था अपने लन्ड पर और मैं आँखें मीचे दर्द से आहह… आहह… कर रही थी।

करन को ये देखकर पता नहीं क्या भूत चढ़ा उसके मेरी कमर पकड़ के पूरी ताकत से एक झटके में ही अपना लन्ड मेरी गांड में उतार दिया और मैं ज़ोर की आआ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आअअअ… के साथ बेड पर आगे को झुक गयी।
करन मुझे ऐसे में देख रहा था शीशे में।

उस वक़्त वो करन वो नहीं था जिससे मैं प्यार करती थी, उस वक़्त तो वो कोई सेक्स का शैतान था और मैं कोई गुलाम जिस पर वो अपने लन्ड का हंटर चलाये जा रहा था।
करन ने कहा- उठ न रांड, ठीक से चोदने दे।
मुझे उसका इस तरह मुझे रांड बुलाना बुरा सा लगा … पर मैं उठकर घोड़ी बन गयी।

अब करन मेरी गांड में ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा और मैं शीशे में हम दोनों को देखते हुए चुदवाती रही। मेरी गांड में काफी दर्द हो रहा था पर शायद मैं इमोशनल होने की वजह से ज्यादा दुखी थी, और मेरी आंखों से 2-3 आँसू भी आ गए थे. पर मैंने उसे रोका नहीं और गांड में चुदवाती रही।

मैंने करन की ओर सर घुमा के देखा और बोली- ठीक है चोद भोसड़ी के … जितना चोद सकता है चोद! ऐसा है तो ऐसा ही सही, देखती हूँ कितना दम है।
यह सुनकर तो मानो करन की वासना की आग में जैसे पट्रोल पड़ गया हो, वो बोला- ले फिर रांड!
और उसने पूरा लन्ड बाहर निकाल के दुबारा घुसा दिया और बार बार पूरा लन्ड निकाल के पूरा डालने लगा गांड में और हम्म… हम्म… उन्नहह… उन्नहह… करते हुए आगे-पीछे धक्के मारने लगा।
मैं उसके जोरदार धक्कों से हिलने लगी, मेरा पूरा शरीर, मेरे सख्त बूब्स, बाल, झुमके सब ज़ोर ज़ोर से हिल रहा था और मैं मुंह खोले आहह… आहह… आह… आहह… और जो से… आहह… आहह… कर रही थी, बीच बीच में दर्द से मेरी आँखें भी मीच रही थी।

करन का लन्ड सच में काफी लंबा और मोटा था, ऊपर से इतना सख्त, जो चूत की दीवारों तक हलचल कर रहा था। धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा और मैं काफी तेज़ तेज़ आवाजों के चुदवाने लगी, मैं बोली- और तेज़ और तेज़।

पर करन थकने लगा था तो धीरे धीरे चोद रहा था. लेकिन मैं गर्म हो चुकी थी और चाह रही थी करन और तेज़ चोदे।

करन रुक गया और लन्ड निकाल के साइड में बैठ गया, मैं बोली- क्या हुआ, हो गया शौक पूरा या और करना है?
करन बोला- रुक जा बहन की लोड़ी … अभी फाड़ता हूँ तेरी गांड, सांस ले लेने दे फिर देख।

मैं बेड से पैर लटका के बैठ गयी और उसे हाँफते हुए देखने लगी और खुद भी सुस्ताने लगी। करन का लन्ड अब भी फड़फड़ा रहा था और ऊपर नीचे।
मैं करन से बोली- अब चोद भी पाओगे या बस करूँ।

करन जोश में उठा और मुझे पैरों से पकड़ के बेड पर लिटा के एकदम से मेरी टांगें चौड़ी कर के खोल दी। इतने में मैं कुछ समझ पाती और ऊपर देखती, करन ने मेरी गांड में फिर से लन्ड घुसा दिया घपक से।
मैंने एक ज़ोर की आआ आआहह … भरी और सिर बेड पर रख लिया वापस।

करन अब अपनी पूरी ताकत से हम्म… हम्म… हम्म… हम्म… करता हुआ ज़ोर ज़ोर से मेरी गांड चोदने लगा और मेरी भी ज़ोर ज़ोर से आहह … निकल रही थी। करन तो मानो रेलगाड़ी बना जा रहा था, मुझे पूरा हिला हिला के चोद रहा था और मैं बस दर्पण को देखती हुई आहह … आहह … आ … आ … आहह … कर रही थी।

ऐसे ही 2-3 मिनट तक चुदवाने के बाद मैंने करन से कहा- रुको … रुको एक मिनट!
करन बोला- क्या हुआ? फट गयी क्या मरवाने में? अभी तो बहुत बोल रही थी।

मैंने कहा- गांड में बाद में चोद लेना, पहले चूत में चोद लो, वरना तुम गांड में ही झड़ जाओगे तो फिर चोद नहीं पाओगे और मेरी चुदाई अधूरी रह जाएगी।
करन बोला- ठीक है चल!
और करन ने लन्ड निकाल के चूत में डाल दिया और दबा के चोदने लगा।

करन मेरे ऊपर पूरा झुक गया था और हम दोनों एक दूसरे की आंखों में देखते हुए चुदाई करने लगे। अब हम दोनों एक साथ ऊपर नीचे हो रहे थे और मैं आहह… आहह… आहह… करके सिसकारियाँ ले रही थी।
बीच बीच में हम दोनों एक दूसरे को ज़ोर ज़ोर से किस करते हुए होंठ से होंठ रगड़ रहे थे.

और 3-4 मिनट बाद मेरे झड़ने का वक़्त आने लगा, मैंने अपनी मुट्ठी से चादर को भींच लिया और मेरी आवाजें रुक रुक के आने लगी- आहह … आहह … आ…आ… आह … आहह… अहह… और ज़ोर से और ज़ोर… से, प्लीज… और तेज़… और तेज़… आहह… आ… आ…
और आखिरकार ‘ज़ोर से आआ आआहह हहह …’ करके कंपकपाते हुए ज़ोर से झड़ गयी और शांत होकर ढीली पड़ गयी।

मेरी हाथ की मुट्ठी भी खुल गयी और मैं आँखें बंद कर के ज़ोर ज़ोर से साँसें लेने लगी। करन ने लन्ड निकाल के मुझे थोड़ी देर के लिए छोड़ दिया और खड़ा हो गया।

लगभग एक मिनट बाद जब मेरी साँस सामान्य हुई तो देखा कि करन मुझे बड़े प्यार से देख रहा था बेड पर नंगी पड़ी हुई मछ्ली की तरह तड़पते हुए।
करन अपने लन्ड को सहला रहा था और वो अब भी अपने पूरे जोश में था।

मैंने मज़ाक में करन से कहा- मेरा तो हो गया, अब तुम हिला के झाड़ लो।
मेरी इस बात पर करन ने कहा- अच्छा साली ये ले!
और उसने मुझे टांगें पकड़ कर उल्टा घूमा दिया तो मैं ज़ोर का आऊऊऊ… करके खिलखिला के हंसने लगी.

करन ने मुस्कुरा कर मुझ कमर से पकड़ के उठा कर घोड़ी बना दिया। मैं समझ चुकी थी कि करन गांड में चोद के ही झड़ेगा.
मैंने फिर भी अंजान बनने का नाटक करते हुए कहा- अरे अरे … ये क्या कर रहे हो?
करन ने कहा- अभी बताता हूँ जानेमन!

और करन मेरी गांड में लंड डालने की कोशिश करने लगा पर तेल की चिकनाहट के करन उसका लंड बार बार बाहर ही फिसलने लगा।
मैंने उसका साथ देते हुए कहा- रुको रुको!
और अपने सर को बेड से टीका के हाथ गांड पर ले गयी और दोनों हाथों से गांड का छेद चौड़ा कर दिया और बोली- अब डालो।

करन ने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और मैं हाथ आगे लाकर फिर से घोड़ी बन गयी।
करन ने थैंक यू बोला और एक ज़ोर का झटका मार के अपना पूरा लन्ड मेरी गांड में घुसा दिया।

उसके इस धक्के ने मुझे बेड पर पूरा आगे तक हिला दिया तो मैंने ज़ोर के आहहह … करी. मेरा सर ऊपर को उठ गया झटके से और मेरे बाल उछल के कमर पर आकर लटक गए।
करन ने बिना मेरी परवाह किए ज़ोर ज़ोर से पट्ट पट्ट चोदना शुरू कर दिया और मैं बेड पर आगे पीछे हिलती रही।

अब मुझे ज्यादा दर्द नहीं हो रहा था और मैं ‘आहह … आहह … आ…आह करते हुए मजे से चुदवाती रही। करन ने मेरे खुले बालों को मुट्ठी में पकड़ के पीछे खींच लिया और मेरा सर झटके से और ऊपर उठ गया था. कमरे में बस मेरी ज़ोर की आहह … आहह … करन… आहह … करन … और तेज़ बेबी … और तेज़ … आ… आह… की सिसकारियों की आवाज़ आ रही थी और मैं उसके लन्ड के धक्कों से बेड पर आगे पीछे ज़ोर ज़ोर से हिले जा रही थी।

करन किसी जानवर की तरह मेरी गांड को हम्म … हम्म … उम्महह … उम्महह … कर के चोदे जा रहा था। करन भी ‘आह … सुहानी … आह … आहह सुहानी … मेरी जान … ये ले’ बोल रहा था और पट्ट पट्ट धक्के मारे जा रहा था।

ऐसे ही 2-3 मिनट तक चोदने के बाद करन ने बची खुची ताकत से और तेज़ चोदना शुरू कर दिया।
मैं समझ गयी थी कि अब ये भी झड़ने वाला है इसलिए मैं भी बेड पर आगे पीछे हिल के आहह … आहह … आ … आ…आहह… करते हुए अपनी गांड में लन्ड लिए उसकी जांघों पर टक्कर मार रही थी।

कुछ ही देर में करन एकदम से रुक गया और आहह … करके झड़ गया. उसके बाद उसने 2-3 झटके धीरे धीरे मारते हुए अपने बचे हुए वीर्य की पिचकारियाँ मेरी गांड में ही भर दी और मुझे आगे तो धक्का देकर छोड़ दिया।
मैं मुंह के बल बेड में आकर गिर गयी और ज़ोर ज़ोर से हाँफने लगी।

करन भी मेरे बगल में सीधा आकर गिर गया, छत की तरफ देखता हुआ मुंह खोल कर हुन्हह… उनहह… हुनहह… करके हाँफने लगा।

थोड़ी देर बाद मैंने उससे पूछा- अब तो खुश हो न?
करन ने मेरी तरफ देखा और मुझे होंठों पर एक प्यारी सी किस देते हुए कहा- हाँ जानू बहुत … आइ लव यू वेरी मच।
मैंने भी मुस्कुरा के कहा- आई लव यू टू।

मैंने गांड के छेद पर उंगली लगा के देखा तो वहां सब गीला और चिपचिप हुआ पड़ा था। मैंने कहा- तुम आराम करो, मैं बाथरूम जाकर आती हूँ।

मैं जैसे ही उठ के चलने लगी तो तो करन के वीर्य की बूंदें मेरी गांड से फर्श पर टपकने लगी। मैं गांड पर हाथ रख के तेज़ तेज़ बाथरूम में घुस गयी जाकर कमोड पर बैठ गयी।
मेरी गांड में से करन का वीर्य बह रहा था. मैंने ज़ोर लगाकर सारा वीर्य बाहर निकाल दिया। मैंने अपने आप को शावर के नीचे साफ किया और फर्श पर बैठ के अपनी चूत और गांड को भी साफ किया।

मैं कमरे में वापस आई तो करन बाथरूम में चला गया खुद को साफ करने और मैं नंगी ही आकर बेड पर लेट गयी.

थोड़ी देर में करन भी आकर नंगा ही मेरे बगल में लेट गया और बोला- थैंक यू जानू।
मैंने कहा- कोई बात नहीं!
और करन ने मेरी तरफ करवट लेकर अपनी टांग मेरे ऊपर रख दी और हम कब सो गए हमें पता ही नहीं चला।

सुबह तन्वी का फोन आया तो मेरी आँख खुली। मैंने उसे बताया- आज कॉलेज नहीं आ पाऊँगी, तू चली जा।
तन्वी बोली- लगता है रात भर जम के चुदी है?
मैंने कहा- हाँ यार … करन ने चोद चोद के हालत ही खराब कर दी, चल बाद में बताऊँगी सब, अभी सोने दे।

करन अब भी मुझे बांहों में लिए सो रहा था और मैं उसकी छाती में सर छुपाते हुए फिर से सो गयी।

तो दोस्तो, आप सबको मेरी ये बर्थडे वाली सच्ची कहानी कैसी लगी? मुझे कमेंट्स में या ईमेल में जरूर बताइएगा.
धन्यवाद।
[email protected]com

More Sexy Stories  इरोटिक बॉडी मसाज के बहाने मस्ती भरे पल-1