हब्बी ने नीशी को रंडी बनाया

हेलो दोस्तो, आप सबकी पर्सनल रखेल नीशी मेहरा वापिस एक नयी स्टोरी लेके आई है, मेरा नाम नीशी मेहरा है और पहले भी काफ़ी स्टोरीस लिख चुकी हू, एज 24 और फिगर 34-26-34 है, शादी हो गयी है और शादी के बाद इतनी मस्ती नही कर सकती जितना पहले करती थी. पर नॉटी पहले से ज़्यादा हो गयी हू.

तो स्टोरी स्टार्ट करती हू, शादी के बाद भी मेरी हवस बढ़ती जा रही है, मै कभी एक लंड से खुस रह ही नही सकती, हू ही रंडी, कभी हब्बी के दोस्तो को सेडूस करती, या फिर पड़ोसी कॉलेज बॉय को, बट सेक्स नही कर पा रही थी, क्यूकी हब्बी को पता चल जाएगा वो डर था.

हब्बी का दोस्त तनवीर घर पे आता जाता रहता था, सब दोस्तो को मै सेडूस करती, लेकिन तनवीर मुझे सेडूस करता, चाहे हम डिनर करने गये हो या फिर दोस्तो के साथ मूवी देखने, वो मेरे पास बैठ जाता, और धीरे से मेरी चूत सहलाता, पर कभी अकेले मै मिलना नही हुआ, वरना पक्का मुझे अपनी रखेल बनाकर चोदता वो.

जब भी मैच देखने या फिर शराब पीने हब्बी के साथ, वो घर आता तो कोई ना कोई तरीके से मुझे सेडूस कर देता, किचन मे आके ओवर दी क्लोथ्स फक करता, या फिर स्मूच करता, और आते जाते बूब्स और गांड दबाता, एंड मच मोर.

मुझे हब्बी के बर्थडे पर सर्प्राइज़ देना था, पूरा घर सज़ा के, कैंडल्स से, बट मै अकेली तो कर नही सकती, सो मैने हब्बी के जाने के बाद तनवीर को कॉल किया, की कैंडल्स के साथ कंडोम्स भी लेके आ जाओ.

थोड़ी ही देर मे वो आ गया, अंदर आते ही उसने एक सॉलिड किस किया, और फिर मेरे ड्रेस की ज़िप खोल के बूब्स दबाने लगा.

मै – सुनो तनवीर, रूको.

उसने मेरी एक ना सुनी, और किस करता रहा, उसे मै पहली बार इतनी फ्रीली मिल रही थी.

मैने धक्का दिया, – सुनो, रात को 9 बजे हब्बी आएँगे, इस लिए पहले सब डेकोरेट कर देते है, और कैंडल्स रख देते है, फिर मै तुम्हारी 9 बजे तक,वो खुस हो गया और जल्दी से सब डेकोरेट करने लगा, मै कैंडल्स लगाने लगी.

2 घंटे मै तो सब ख़तम हो गया, फिर हमने लंच किया, कुत्ते ने यहा भी सेडूस करने का मौका नही छोड़ा, मुझे अपनी गोद मे बिठाकर चूत सहलाते हुए खिलाया, मै पूरी गरम हो चुकी थी, तनवीर मुझे हमारे ही बेडरूम मे ले गया.

तनवीर – नीशी, आज के दिन मे मैं तेरा पति, साली कमाल की है तू, क्या फिगर है, रोज़ बुला लिया कर जानेमन.

मै – सिर्फ़ बाते ही करेगा, या और कुछ भी?

वो ज़ोर से कूद पड़ा मुझपे और मेरी बॉडी पे हर जगह बाइट करने लगा, ओ.एम.जी, पागल कुत्ते की तरह मुझे चाट ने लगा, मै भी कम नही थी, मैने उसका लंड पकड़ के सहलाना स्टार्ट किया, उसको सेडूस करने लगी, ओ.एम.जी, कितना बड़ा, आज तो मै मर गयी समझो, उसने किस करते हुए बूब्स दबाने स्टार्ट किया और एक हाथ से फिंगरिंग करने लगा.

मै पूरी मदहोश हो कर उसके कंट्रोल मे आ गयी, फिर उसने नीचे जा कर मेरे टॅंगो के बीच अपना सर रख के चूत चाटना शुरू किया, ओ.एम.जी दैट फीलिंग, ! मै पागलो की तरह चिल्लाने लगी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

येस तनवीर, आहह फुक्ककक, यू आर ऑसम, ओएमजी, लव्ली, यअहह.

फिर उसने लंड मेरी चूत पे रखा, और बाते करने लगा.

आइ वास लाइक – सेक्स के बीच मे कौन बाते करता है, फिर भी.

वो मेरी तारीफ़ करने लगा, किस करने लगा, इस बीच पता ही नही चला की कब उसने लंड घुसा दिया, ओएमजी, स्मार्ट मूव, आधा लंड चूत मे घुसा दिया और मुझे पता भी नही चला, और फिर चुदाई शुरू, वॉव, उसने स्लोली स्लोली स्पीड बढ़ाई, और मै आसानी से चुदने लगी, यअहह फुक्ककक तनवीर, यू आर रियली सुपर्ब.

More Sexy Stories  एक ही बाग़ के फूल-6

तनवीर – मैने बोला ना, तेरा पति बना दे, रोज़ आऊंगा.

मै – वो तो मै बिना पति बनाए बुला सकती हू.

तनवीर – तो फिर ये ले.

अहह उसने रियल चुदाई स्टार्ट की, फास्ट एंड डीप, ओएमजी, यअहह फुक्ककक, आहह यअहह माइ गॉड, फक मी फास्टररर, ओह यअहह दैटस मा बॉय, उसने और तेज़ी से चुदना शुरू किया आहह ओएमजी, मुम्माआ, आधे घंटे तक चुदाई करता रहा और फिर पूरा स्पर्म मेरे बूब्स पे निकाला, और फिर हम साथ मै नहाने गये, वाहा उसने फिर से क्विक्ली मेरी चुदाई की, फिर थोड़ी मस्ती की और हब्बी के आने से पहले वो चला गया, मैने हब्बी को बर्तडे सर्प्राइज़ दी, और हमने कैंडल लाइट डिनर किया

थोड़े दिन बाद हब्बी के दोस्त विवियन का मुझे मेसेज आया, – रंडी, मै भी तेरे पति का दोस्त हू.मेरा नंबर कब आएगा.

मै डर गई, मैने तनवीर को फोन किया, उसने बताया की विवियन ने हमारी फोटो देख ली उस दिन की..

ओ शीट, मैने मेसेज का कुछ रिप्लाइ नही किया, थोड़े दिन बाद विवियन घर पे आया हब्बी के साथ कुछ काम से, मै किचन मे थी, विवियन पानी पीने के बहाने किचन मे आया और सीधा मुझे किस करने लगा, मैने धक्का दिया.

विवियन – अच्छा, हब्बी घर पे है तो डर लगता है? कोई बात नही, बाद मे आऊंगा, डर मत.

ये बोल कर उसने मेरा सर पकड़ के एक स्मूच कर लिया.

विवियन – बहोत हॉट है तू रंडी.

और फिर वो चला गया, मेरे जान मे जान आई.

मै डरने लगी की विवियन हब्बी को कुछ बता देता.

और एक दिन हुआ भी वैसा ही, विवियन ने मुझे मेसेज किया, और हब्बी ने देख लिया.

मेसेज: रंडी, बहोत दिन हो गये, आज घर आऊं? अपने पति को भगा देना कही पे, इस बार बिना कॉन्डोम के करेंगे, लव यू मेरी नीशी रखेल.

मै भी सर्प्राइज़ थी, क्यूकी उसने पहली बार ऐसा मेसेज किया, मैने अभी तक उसके साथ कुछ नही किया, फिर भी.

हब्बी गुस्सा हो गया और हमारा झगड़ा हो गया, हब्बी ने भी मुझे बहोत गालिया दी, मै गुस्से से अपने रूम मे चली गई.

हब्बी विवियन के घर चला गया झगड़ा करने, मैने सोचा आज तो फिर रियल मे सेक्स करके रहूंगी किसी के साथ, बिना कुछ किए इतनी गालिया सुनाई, !!

मै शॉर्ट ब्लॅक वन – पीस पहन के बार मे गयी, वाहा 2 ग्लास विस्की पी, और फिर वाहा नज़र घुमाई तो एक अमीरज़ादा मोटा अपने चम्चो के साथ बैठा था, मै वाहा जाके उसके पास बैठ गयी.

मै – आइ एम नीशी, मेरा मूड ऑफ है, क्या मै यहा आप लोगो के साथ एंजाय कर सकती हू?

ही – येस, वाइ नॉट, माइ नेम इस प्रिन्स, आजा.

उसने मुझे अपनी और खिच लिया.और अपने ग्लास की सारी वोड्का मुझे पीला दी, और फिर पीछे से मेरी गांड सहलाने लगा, मैने कुछ नही कहा तो उसने और एक ग्लास मुझे पिलाया, इस बार मेरे मना करने पर भी मेरी कमर पकड़ के पीला दिया, और वाहा पे वो मुझे किस करने लगा.

मैने सोचा थोड़ी देर के लिए उसकी जीएफ बन जाऊ तो वो झगड़ा भी भूल जाऊंगी, मै भी किस करने लगी, प्रिन्स ने मुझे उठा के अपनी गोद मे बिठाया और फिर मेरे वन – पीस के अंदर हाथ डाल के बूब्स दबाने लगा, उसके दोस्त भी हमे देख के एंजाय कर रहे थे.

थोड़ी देर एसा ही चलता रहा, फिर उसकी गोद मे ही बैठ कर हम बाते करने लगे, वो मेरे बॉडी को टच करता रहता था, कभी बूब्स तो कभी कमर, कभी गांड, मैने माइंड नही किया, रात के शायद 11 बजे होंगे, मैने सोचा अब मुझे चलना चाहिए.

More Sexy Stories  दिव्या मेडम के साथ होली मे

मै – चलो गाइस, मै चलती हू, घर जाने का टाइम हो गया..

प्रिन्स – रुक रंडी, अभी हमे कही और जाना है, साली, खड़े लंड पे धोखा देगी.

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया, और खिच के अपनी गोद मे बिठा दिया.

वो लोग मुझे ज़बरदस्ती शराब पिलाने लगे, पता नही वो क्या था बट बहोत स्ट्रॉंग था, तब मै क्या कर रही थी वो मेरी समाज के बाहर था, मुझे कुछ याद नही है उसके बाद क्या हुआ.

जब मेरी आँख खुली दूसरे दिन तो मै एक सी फेसिंग होटेल के रूम मे थी, मै पूरी नंगी थी, और मेरी चूत और गांड दर्द कर रहे थे, और मेरे बूब्स और टमी पे मार्कर से कुछ लिखा था.

“नीशी तू रंडी है. छीनाल है, वेश्या साली, ” मैने देखा मेरा फोन पर्स सब गायब है, ईवन मेरे कपड़े भी वाहा नई थे, थोड़ी देर बाद प्रिन्स और उसका दोस्त आए.

प्रिन्स – चल रंडी, फिरसे चुदने के लिए रेडी हो जा, कल तो मज़ा आ गया साली, पी कर क्या कमाल चुदि है तू.

मै – शट अप. मै कहा हू? और मेरे कपड़े दे मुझे, घर जाना है मुझे.

प्रिन्स – जाएगी ना बेबी, शादी के लिए मान जा तो घर भी ले जाऊंगा.

और फिर उसने मेरे बाल खिच के किस किया मुझे, उसके दोस्त ने मेरे बूब्स दबाने स्टार्ट किया, दोनो के बीच मै फँस गई, प्रिन्स ने लंड निकल के मेरे मूह मे ज़बरदस्ती घुसा दिया, आहह ओएमजी.

प्रिन्स – चुस्स साली वेश्या कही की, हमारे जैसे अमीरो के पैसो से शराब पीटी है फिर चुदवाने से मना करती है, रंडी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

थोड़ी देर मै चुस्ती रही, और उसका दोस्त मेरी चूत मे उंगली करता रहा, फिर उसने मुझे बेड पर फेका और मुझपे चढ़ गया, आहह कुत्ते, मर गईइई, उसने धक्के से पूरा लंड चूत मे घुसा दिया आआअहह, ओह फुक्कक, ओएमजी, आहह.

उसने अपने दोस्त को कुछ इशारा किया और वो फिर वीडियो रेकॉर्डिंग करने लगा फोन मे, अहहह प्रिन्स और ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा, ओएमजी फुक्ककक उहह, आआहह उहह यअहह.

प्रिन्स – आहह रंडी मज़ा आ रहा है ना? एम.सी, तू सामने से चुदवाने आई कल, और आज नाटक कर रही है, हलकट वेश्या.

मै – सुनो, आअहह मै रंडी नही हू, आउच माइ गॉड, मेरे हब्बी से कल झगड़ा हो गया था आआहह, ओह फुक्कककक कुत्ते, इस लिए मूड स्विंग करने आई थी आहह.

प्रिन्स – जो भी है तू, साली, तू मेरी रखेल बन कर रहेगी, रंडी कुतिया.

आअहह फुक्ककककक मर गाइिईई, मुमह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह.

फिर उसने मेरी गांड मे लंड डाला, और उसके दोस्त ने मेरे बाल खिच कर किस करना स्टार्ट किया, ओएमजीजीजी, आउच कल का दर्द अभी भी था और फिर से, 20 मिनिट बाद प्रिन्स ने फिरसे चूत मारना शुरू किया, कुतिया आहह ओएमजी, मेरा पानी निकल गया, फिर भी वो मुझे चोदता रहा, अहहह ओएमजी, ओ येस, फुक्ककक उहह, ईडियट.

थोड़ी देर बाद वो भी झड़ गया, फिर शाम को उसने मुझे मेरे कपड़े मोबाइल पर्स दिया..

प्रिन्स – रंडी, कॉल करू तब आ जाना चुदने, पैसे मिल जाएँगे.

ये बोल कर उसने अपना कार्ड और कैश मेरे पर्स मे रख दिए, मै चुपचाप हब्बी के आने से पहले घर आ गयी.

अब जाने का टाइम हो गया, गाइस, फिर से मिलूंगी देसीकहानी.नेट पर, एसी ही सेक्सी हिन्दी स्टोरी के साथ, मुझे और नये डीटेल मे आइडियास चाहिए, और तुम सब के कॉमेंट्स भी, मुझे मैल करिये ऑन “निशहिमेहरा[email protected]गमाल.कॉम” लव यू ऑल, आपकी प्यारी रंडी, छीनाल, वेश्या, सबके लंड लेने वाली नीशी.