Hindi Porn Kahani रात कब होगी

हाय ऑल रीडर्स सबको मेरा नमस्कार.. इस साइड पे मेरी पहली कहानी है. आशा करता हू की आपको वो ज़रूर पसंद आएगी. मेरा नाम रवि है और मैं पुणे महाराष्ट्रा का रहने वाला हू. मेरी एज 24 ईयर है. मैं एक इंजिनियरिंग स्टूडेंट हू. अब कहानी पे आता हू. मेरी मामी का नाम जया है और उनकी एज 28 की है.. लेकिन दिखने मे आज भी वो 22 की दिखती है. अगर कोई मर्द उसे अकेले मे देख ले तो किसी की भी नज़र पहले उसकी फूली हुई गॅंड और बूब्स पे ही जाएगी. ये कहानी आज से 1 साल पहले की है. मामी और मामा की शादी हुए 7 साल हो गये थे लेकिन उनको कोई बच्चा नही हुआ था . तो मामी बहुत उदास रहती थी. मैं उनकी परेशानी समझता था लेकिन कुछ कर नही सकता था. मैं हमेशा से ही मामी को बहुत रिस्पेक्ट देता था और वो भी मुझे बहुत प्यार करती थी लेकिन मैने उनको चोदने के बारे मे कभी सोचा नही था.

एक दिन की बात है जब मामा कही बाहर गाओं जाने वाले थे 2 दिन के लिए तो मामी हमारे घर रहने आई थी. हमने सब ने उनका स्वागत किया और आराम से बाते करने लगे. फिर ऐसे ही बाते ख़त्म हो गयी और रात का खाना खाने के बाद सब अपने अपने रूम मे सोने की तैइय्यारी करने लगे. हमारे घर मे 4 रूम्स है. 1 मे मम्मी पापा सोते थे और 1 रूम मे दादा दादी और 1रूम गेस्ट के लिए था और 1 मेरा रूम. मामी को गेस्ट रूम मे सोने का इंतज़ाम किया गया था लेकिन मामी को अकेले सोने मे डर लग रहा था तो मामी ने मेरी मम्मी को कहा की मैं हॉल मे सो जाती हू तो मम्मी ने कहा की अरे हॉल मे क्यू सोती हो उपर रवि के कमरे मे सो जाओ. तब मामी ने मुझसे कहा की “अगर रवि को कोई परेशानी ना हो तो मैं तैइय्यार हू” तब मैने कहा ” भला मुझे क्या परेशानी होगी, चलिए” फिर मामी और मैं मेरे रूम मे आ गये.

More Sexy Stories  मालकिन की चुदाई देखी

और मैने मामी से कहा की “आप उपर बेड पे सो जाओ मैं नीचे सो जाउन्गा ” तब मामी ने कहा की ” अरे नही रवि तुम नीचे सोवोगे तो मुझे अछा नही लगेगा तुम भी मेरे साथ उपर बेड पे सो जाओ.” तो मैने कहा ” मामी ये तो सिंगल बेड है यहा जगह नही हो पाएगी” तो मामी ने कहा हम अड्जस्ट कर लेंगे”. मैने भी हा मे हा भर दी और एक साइड मामी और एक साइड मैं सो गया. सोते समय मामी कुछ सोच रही थी तब मैने पूछा ” मामी आप क्या सोच रही हो ” तब मामी ने कहा ” कुछ नही बस ऐसे ही” और कहा ” जल्दी सो जाओ सुबह कॉलेज भी तो जाना होगा” और मैने भी गुड नाइट कहके लाइट ऑफ कर दी और सो गये. फिर करीब रात के 01:30 बजे मुझे मेरे शरीर पर कुछ दबाव महसूस हुआ तो मेरी आँख खुल गयी तो मैने देखा की मामी ने अपनी नाइटी उपर की हुई है और मेरे लंड पे अपना हाथ रख के दबा रही है. मेरी तो सास ही रुक गयी लेकिन मैने कुछ रेस्पॉन्स ना करते हुए वैसे ही सोने की आक्टिंग की. फिर मामी ने मेरे बरमूडे का नाडा धीरे से खोल दिया और मेरी अंडरवेर भी नीचे कर दिया.

मेरा तो लंड एकदम से लोहे की तरह कड़क हो गया था.. मुझ से भी रहा नही जा रहा था फिर भी मैने कंट्रोल करके वैसे ही लेटा रहा. शायद मामी को भी पता चल गया होगा की मैं भी मज़े ले रहा हू इसलिए मामी पूरे जोश मे मेरा लंड मसल रही थी और सिसकिया भी भर रही थी. लेकिन मैने कुछ भी रेस्पॉन्स देना ठीक नही समझा और वैसे ही लेटा रहा. करीब 10 मिनट लंड मसल ने के बाद मामी उठी और मेरा लंड अपने मूह मे लेके धीरे धीरे चूसने लगी. उस टाइम मैं तो जन्नत मे था. फिर मामी बहुत ही जोश मे आकर मुझे जगाने के लिए कह रही थी ” रवि उठ भी जाओ ” लेकिन मैं नही जगा तो मामी ने अपनी नाइटी उतार फेकि और मेरे लंड के उपर आके बैठ गयी और धीरे धीरे उपर नीचे होने लगी. मतलब मामी ही मुझे चोद रही थी और मैं चुपचाप लेटा रहा. मामी अब होश से बाहर हो गयी थी और ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड पर उछल रही थी और बोल रही थी ” ” ऊहह रविई याहह उऊहहाअ रवि मुहज़हे एक बच्चा चाहिए आहह एयाया”.

More Sexy Stories  मेरी पड़ोसन कच्ची काली की चूत फाड़ी

तब मैं समझा की मामी ये सब बच्चे के लिए कर रही है. फिर भी वैसे ही लेटा रहा क्योंकि अगर मैं उठ कर उन्हे चोद भी देता तो अगले सुबह मैं उनसे नज़र नही मिला पाता इस लिए मैने कुछ रेस्पॉन्स नही दया. करीब 10 मिनट हो रहे थे मामी मेरे लंड पर अपनी चुत ज़ोर ज़ोर से उछाल रही थी.. मेरा पूरा लंड उनकी चुत मे अंदर बाहर हो रहा था. अब मामी ने भी स्पीड बढ़ा दी और ज़ोर ज़ोर से सिसकिया भी भरने लगी.” “आआहह ऊओ अर्र्राावविई म्‍महाअ” मेरा भी पानी निकलने वाला था लेकिन मैं जानता था की अगर मामी उपर रहेगी तो मेरा पानी ठीक से उनकी चुत मे नही जा पाएगा इसलिए ना चाहते हुए भी मैं एक झटके से अपनी आँखे खोली और मामी को ज़ोर से पकड़ कर बेड पे लिटा दिया इस दौरान मेरा लंड उनकी चुत मे ही था. अब मामी मेरे नीचे पैर फैलाए पड़ी थी और मैं ज़ोर ज़ोर से आखरी धक्के लगा रहा था और मामी बेकाबू हो के मेरे बाल खिच रही थी और मेरे सिर को अपनी सिने पे रगड़ रही थी “रात”.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *