गोवा में सेक्स भरी मस्ती-1

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_right

    गोवा में सेक्स भरी मस्ती-2

  • View all stories in series

दोस्तो, मैं फेहमिना एक बार फिर आप सबके सामने अपनी नई कहानी लेकर हाजिर हूँ।
आप सबने मेल के जरिये अपना बहुत सारा प्यार मुझे दिया इसका आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद।

आप सभी मेरे बारे में जानते तो है ही। फिर भी मैं अपना परिचय दे देती हूँ। मेरा नाम फेहमिना इक़बाल हैं। मैं 26 साल की एक खूबसूरत लड़की हूँ। मेरा फिगर 32-27-34 हैं।

मेरी बहन का नाम आएशा है, वो 21 साल की एक सेक्स बम है, उसका फिगर साइज़ 34-28-34 है।
उसे देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो सकता है। जो भी उसे एक बार देख ले वो उसे जरूर चोदना चाहता है।

अब मैं अपनी कहानी पर आती हूँ।
जैसा आप सब जानते हैं कि मैंने और आएशा ने समलिंगी सेक्स किया हुआ था उसके बाद हमारे भाई साहिल ने हम दोनों को एक साथ चोदा था।

उसके बाद आएशा का कॉलेज खत्म हो गया था और वो मेरे पास आकर रहने लगी थी क्यूंकि हम दोनों को एक दूसरे का साथ बहुत अच्छा लगता था।
हम दोनों रोज रात को समलिंगी सेक्स करती थी।

फिर एक दिन साहिल घर आ गया उस दिन भी हमने जमकर सेक्स किया।
तभी साहिल ने कही घूमने जाने का प्लान बनाया तो हम तीनों ने गोवा जाने का तय किया।

मगर जिस दिन हमें गोवा जाना था, उससे 2 दिन पहले साहिल का जाने का कैंसिल हो गया तो मैंने कहा कि हम भी नहीं जायेंगी क्यूंकि मैं पहले भी गोवा जा चुकी थी।

मगर आएशा मुझसे ज़िद करने लगी और साहिल ने भी कहा- तुम दोनों घूम आओ।

तो मैंने और आएशा ने साथ चलने का तय किया।
हम दोनों ने प्लेन की टिकट बुक कर ली और अपनी पैकिंग कर ली।

हम लोग तय समय से गोवा पहुँच गए।
सबसे पहले हमने एक अच्छा से होटल देखकर उसमें रूम ले लिया।

रूम में घुसते ही आएशा बेड पर गिर गई और थोड़ी देर में सो गई।
हम दोनों ही बहुत थक गई थी।

आएशा थकान की वजह से कपड़े बदलना ही भूल गई तो मैंने उसके कपड़े उतार कर उसे नंगी कर दिया और मैं खुद भी नंगी होकर सोने लगी।
हम दोनों शाम तक सोती रही।

शाम को सबसे पहले आएशा उठी, उसने खुद को नंगी देखकर मेरे चूतड़ों पर एक थप्पड़ मारकर मुझे भी उठा दिया।
मैं उठ गई तो वो बोली- तूने मुझे नंगी क्यूँ किया?
तो मैंने कहा- मेरी जान, तुझे अच्छी नींद आये इसलिए तुझे नंगी कर दिया।

वो मुस्कुराने लगी, फिर बोली- अब हम क्या करने वाली हैं?
मैंने उसे कहा- सबसे पहले हम लोग कुछ खाते हैं।

तो हमने नाश्ता आर्डर कर दिया, थोड़ी देर में नाश्ता भी आ गया। हमने नंगी होकर ही नाश्ता किया।

उस वक़्त शाम के 5 बज रहे थे।

फिर मैंने आएशा को बोला- चल थोड़ा बाहर घूम कर आती हैं।
तो हमने कपड़े पहन लिए, हम दोनों ने बस टीशर्ट और शॉर्ट्स पहने थे, अंदर ब्रा पैंटी भी नहीं पहनी थी।

हम ऐसे ही घूमने चली गई, मगर हम बीच पर नहीं गई।

शाम को हम थोड़ी सी शॉपिंग करने के बाद वापस आ ही रहे थे कि हमको दो लड़के दिखे।
वो अफ्रीकन थे, काले थे मगर बहुत लंबे चौड़े थे।
वो दोनों हम दोनों की तरफ देखकर आपस में कुछ बात करते हुए हँस रहे थे मगर हम दोनों ने ही उन्हें इग्नोर कर दिया और अपने होटल आ गई।

रूम में आते ही हम अपने कपड़े उतारकर नंगी हो गई और अपनी लाई हुई नई ड्रेस पहनकर देखने लगी।

हम दोनों ने कल बीच पर पहनने के लिए बिकिनी पैंटी के कुछ सेट लिए थे।

जब हम दोनों ने वो ड्रेस पहन कर देखी तो हम दोनों ही गजब की माल दिख रही थी।
मैंने पिंक रंग की और आएशा ने नीले रंग की बिकिनी ली थी।

फिर हमने खाना आर्डर कर दिया।

थोड़ी देर में वेटर खाना लेकर आया, उसने दरवाजे पर आते ही घंटी बजाई तो आएशा बिकिनी पैंटी में ही दरवाजा खोलने जाने लगी तो मैंने उसको बोला- कुछ पहन ले, फिर दरवाजा खोलना।

वो कुछ नहीं बोली, बस मेरी तरह देखकर आँख मारकर मुस्कुरा दी।
मैंने भी उसको कुछ नहीं कहा।

आएशा ने दरवाजा खोला तो बाहर एक 22 साल का वेटर खाना लिए खड़ा था।
उसने जैसे ही आएशा को ब्रा पैंटी में देखा तो वो उसे घूर कर देखने लगा।

थोड़ी देर बाद आएशा ने उसे बोला- अब घूरता ही रहेगा या खाना भी देगा?
तो वो तो जैसे नींद से जागा। वो हड़बड़ाते हुए बोला- यह लीजिये मेडम आपका डिनर!
फिर बोला- मेडम, क्या मैं आपका डिनर अंदर रख दूँ?

तो आएशा उसे अंदर ले आई उस वक़्त मैं भी ब्रा पैंटी में थी तो वो लड़का मुझे देखकर भी लार टपकाने लगा।
मैंने देखा उसे पेंट में उभार बढ़ता जा रहा था, मतलब उसका लंड खड़ा हो रहा था।

यह देखकर आएशा और मैं हँसने लगे और उसे जाने को बोला तो उसने बोला- मेडम और कोई सेवा हो तो बताना, आपके लिए यह बंदा हमेशा हाजिर रहेगा।

तो आएशा ने उसे बोल दिया- लगता है तेरी जरूरत बहुत जल्दी पड़ेगी।वो यह सुनकर हंस दिया और चला गया।

उसके जाने के बाद मैंने आएशा से कहा- तू पागल है क्या? तूने उसे ऐसे क्यूँ कहा?
वो बोली- वो लड़का एकदम चूतिया है, उसे लोलीपोप दी है बस… ताकि जब तक हम लोग यहाँ हैं, तब तक एक फ्री का नौकर मिल जाये।
फिर वो हंस दी।

मैंने उसके बूब्स पकड़कर जोर से दबा दिए तो उसकी हल्की सी चीख निकल गई, वो बोली- साली क्या कर रही है? दर्द हो रहा है।
तो मैंने कहा- साली, तू तो आगे चलकर बहुत बड़ी रंडी बन जायेगी।

हम दोनों हंस पड़ी और हम खाना खाकर सोने जाने लगी क्यूंकि अगले दिन हम दोनों को बीच पर मस्ती करने जाना था।

हम बिस्तर पर गिर गई और सोने लगी मगर मुझे नींद नहीं आ रही थी।

आएशा अपने पेट के बल सोई हुई थी, उसकी गांड ऊपर की तरफ उठी हुई थी जो मुझे उत्तेजित कर रही थी।
मैंने धीरे से आएशा को आवाज दी मगर उसने कोई जवाब नहीं दिया तो मुझे लगा वो सो गई है।
तभी आएशा ने करवट लेकर अपना चेहरा मेरी ओर कर लिया और अपनी एक टांग मेरे ऊपर रख कर सो गई।

‘आएशा! सो गई क्या? मैंने धीरे से उसे आवाज़ दी।
जब कोई जवाब नहीं मिला तो मैंने सोचा कि आएशा सो गई है और अब मुझे बाथरूम में जाकर अपनी चूत को उंगली से शांत करना पड़ेगा।

मैंने बड़े आराम से उसकी बाँह को अपने ऊपर से हटाना चाहा ताकि आएशा की नींद ना खुल जाए और मैं बाथरूम जा सकूँ।

तभी आएशा हिली और बोली- फेहमी कहाँ जा रही है?
मैंने कहा- बाथरूम जा रही हूँ।

तो वो बोली- क्यूँ क्या हुआ?
तो मैंने उसे बोला- मेरी चूत में आग लगी हुई है उसे शांत करने जा रही हूँ।

आएशा ने मुझे अपने पास बुलाया, मैं उसके पास जाकर लेट गई।
फआएशा ने अपना चेहरा मेरे और पास किया और मेरे होठों को चूसने लगी।

अब मैं समझ गई कि आएशा भी उत्तेजित है, मैं उसका साथ देने लगी- ओह आएशा! तुझे नहीं पता कि तू कितनी सैक्सी है और तेरे गुलाबी होंठ कितने स्वादिष्ट हैं!
आएशा कुछ नहीं बोली और मुझे चूमती रही।

फिर उसने मुझे इशारे से अपने ऊपर आने को कहा।
मैं उसके ऊपर आ गई और अपनी चूत को आएशा की चूत पर दबाने लगी।

मैं अपना चेहरा थोड़ा नीचे कर के बिल्कुल आएशा के चेहरे के सामने ले आई और उसकी आँखों में देखने लगी।
मैं आएशा के होठों के आस पास चाटने लगी और उसके होठों को हल्के हल्के काटती हुई उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगी।

फिर मैं उसे नीचे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गई और अपनी चूत से उसकी चूत पर धक्के देने लगी।
आएशा ने मेरे एक चुचूक को अपनी उंगली से दबा दिया।

मैं जोर से चिंहुकी तो आएशा हँस कर कहने लगी- फेहमी, तुझे ऐसे मज़ा आता है?
मैंने हाँ में सिर हिलाया तो उसने दोबारा मेरे चुचूक दबा दिये।

‘तेरी चूत तो बहुत गर्म हो गई है! तेरी चूत के पानी से मेरी चूत गीली हो रही है! मुझे पता है कि अब तेरा दिल चुदाई का कर रहा है! है ना?’ कहते हुए आएशा ने मुझे नीचे किया और मेरे ऊपर आकर मुझे चूमने लगी।

आएशा अपने दोनों हाथों से मेरे मोम्मे दबा रही थी।
मेरी चूत बहुत गीली थी और मैं एक हाथ से आएशा के बालों को सहलाते हुए दूसरे हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी।
आएशा धीरे-धीरे अपना मुँह मेरे मोम्मों तक ले गई और उन पर टूट पड़ी- फेहमी, तेरे मोम्मे कितने बड़े हो रहे हैं! मोटे मोटे गद्दे जैसे! लड़कों को इनको चोदने में मज़ा आता होगा ना?

आएशा का पूरा ध्यान मेरे मोम्मों पर था, मेरी सिसकारियाँ निकल रहीं थीं- आह्ह! आएशा चूस, और जोर से चूस मेरे मोम्मे ! काट ले इनको!

और आएशा मेरे मोम्मों को और जोर से दबाने और चूस चूस कर काटने लगी।
मैंने अपने दोनों हाथों से आएशा की गांड को दबाना शुरू कर दिया।

धीरे से मैंने अपना एक हाथ आएशा की चूत पर रखा और उसकी चूत को सहलाने लगी।
उसकी चूत भी बहुत गीली थी। मैं अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल कर हिलाने लगी।

आएशा मेरे ऊपर से उतर कर मेरे साथ लेट गई और उसने भी मेरी चूत में अपनी एक उंगली डाल दी।
मैंने धीरे से अपनी दूसरी उंगली भी आएशा की चूत में डाल दी और अंदर-बाहर करने लगी।
आएशा आअह ह्हह उफ्फ आःह्ह्ह करने लगी।

आएशा ने अपनी उंगली मेरी चूत से निकाल कर मेरे बालों को खींचते हुए मेरे होंठों को जोर जोर से चूसना शुरू कर दिया तो मैं समझ गई कि अब वो मस्त हो गई है।

मैं अपनी उँगलियों को उसकी चूत के अंदर-बाहर करने की गति धीरे धीरे बढ़ाने लगी।
जैसे जैसे मेरे हाथ की गति बढ़ती, आएशा की सिसकारियों की आवाज़ भी उतनी जोर से आती।

मैं धीरे धीरे उसके चेहरे गर्दन और मोम्मे चूमती हुई उसके पेट से होते हुए नीचे तक आकर ठीक उसकी चूत के कुछ ऊपर उसको चूमने लगी।
कुछ देर तक वहाँ चूमने-चाटने के बाद मैं उसकी चूत के बिल्कुल ऊपर चाटने लगी।
मुझे बहुत मादक सुगंध आ रही थी।

मैंने जोर से वहाँ सूँघा और बोली- आएशा तेरी चूत की खुशबू से तो किसी भी लड़के का लंड खड़ा हो जाएगा!

मैंने उसकी चूत को उँगलियों से चोदने की गति बढ़ाई और साथ ही उसकी चूत को जोर जोर से चाटने लगी।
आएशा ने मेरे सिर को अपनी जांघों में दबा रखा था और दबी आवाज़ में जोर जोर से साँसें भर रही थी।
तभी आएशा झड़ गई और अपना सिर इधर उधर हिलाते हुए ओहह आहह्ह की आवाजें निकालने लगी।

मैंने अपनी उंगलियाँ बाहर नहीं निकालीं और उसकी चूत को चाट चाट कर साफ़ करने लगी।
जब उसका झड़ना शांत हो गया तो वो मेरा सिर पकड़ कर ऊपर खींचने लगी।

मैं उसके शरीर को अब नीचे से ऊपर की ओर चूमती हुई उसके चेहरे पर पहुँच गई और उसके होंठों को चूम कर बोली- आएशा तेरी चूत तो बहुत स्वादिष्ट है! दिल कर रहा है कि एक बार और चाट लूँ!

आएशा अपनी साँसें संयत होने के बाद मेरा चेहरा चाटने लगी और धीरे धीरे मेरे नीचे की ओर जाने लगी।
मेरी गांड को अपने दोनों हाथों से दबाते हुए मेरे मोम्मों तक पहुँच कर उनको चूसने लगी।
उसने मेरे चुचूक काटने शुरू कर दिये।
फिर नीचे आते आते वो मेरे पेट को चाटती हुई मेरी चूत तक पहुँच गई और मेरी जांघों को चाटने लगी।

मैं अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए अपनी चूत को उसके मुँह पर मारने लगी।
आएशा मेरी चूत से लेकर मेरी गांड के छेद तक चाटने लगी और फिर उसने भी अपनी दो उंगलियाँ मेरी चूत में डाल दीं और उन्हें मेरी चूत के अंदर-बाहर करने लगी।

कुछ देर वहाँ चाटने के बाद आएशा ने मुझे घोड़ी की तरह बनने को कहा।

मैं घोड़ी बन गई तो आएशा पीछे से मेरी चूत में अपनी उंगलियाँ डाल कर मेरी गांड को चाटने लगी।
मैं अपनी गांड को कभी आगे पीछे और कभी ऊपर नीचे कर रही थी।

आएशा ने अपना मुँह बिल्कुल मेरे नीचे कर के अपनी उँगलियों से मेरी चूत को चोदते हुए मेरी जांघों को चाटना शुरू कर दिया।

‘आह्ह आह्ह ! मेरी जान!’ मेरी आहें निकल रहीं थीं- आएशा, तू यह क्या जादू कर रही है?
मैं अपनी सांस संयत रखने की कोशिश कर रही थी- प्लीज़! अब बस कर, मैं झड़ने वाली हूँ !!!
मैंने कहा।

‘झड़ जा फेहमी मेरी जान !!! आज इतनी जोर से झड़ जा ताकि तुझे झड़ने का मज़ा आ जाए!!!’ आएशा कहने लगी।

मेरी आँखें आनन्द और उन्माद से पूरी खुली हुई थीं।
मैं जोर जोर से अपनी गांड को आगे-पीछे कर रही थी, मेरी गांड का छेद स्वयं खुल और बंद हो रहा था और मेरा दिल कर रहा था कि इस समय कोई लड़का अपना लंड मेरी गांड में घुसेड़ दे।

‘आह्हह्ह !!! ओह्ह्ह्ह !!! आएशा!!!’ मैंने अपना मुँह तकिये में दबा लिया ताकि मेरी चीख की आवाज़ बाहर ना जाए।
परंतु आएशा मेरी जांघों को सहलाते हुए मुझे उंगलियों से चोदती रही और मैं झड़ने लगी।
मेरा पानी मेरी चूत से निकल कर आएशा के हाथों को भिगो रहा था और नीचे बिस्तर पर गिर रहा था।

थोड़ी देर के बाद मैं वैसे ही बिस्तर पर गिर गई और जोर जोर से हांफने लगी।

आएशा मेरे ऊपर लेट कर मुझे चूमते हुए कहने लगी- फेहमी, अब किसी दिन दोनों मिल कर उन जैसे अफ्रीकन लड़कों के साथ मज़ा करती हैं!
मैंने कहा- तू पागल हो गई है, उनके लंड बहुत बड़े होंगे। वो दोनों हमारी हालत बुरी कर देंगे।
तो बोली- मेरी जान, बड़े लंड में ही तो मज़ा आता है।

वो बहुत ज़िद करने लगी। फिर मैंने सोचा की इससे अभी बात करने का कोई फायदा नहीं है, इससे कल बात करुँगी।

फिर आएशा ने मेरी चूत चाट चाट कर साफ़ कर दी और हम दोनों एक बार फिर से एक दूसरे की बाँहों में आ गईं।

आप सबके मेल का इंतज़ार रहेगा।
[email protected] पर आप अपने विचार मुझे भेज सकते हैं।
आप मुझसे facebook पर भी इसी ID को यूज करके जुड़ सकते हैं।
कहानी जारी रहेगी।

More Sexy Stories  कॉलेज की गर्लफ्रेंड की मस्त चुत की चुदाई फ़ीजिक्स लैब में