गर्लफ्रेंड को होटल में चोदा

यह मेरी गर्लफ्रेंड नीलोफर के साथ पहले सेक्स की कहानी है. मेरा नाम गुलाम ग़ौस है, मैं इलाहाबाद का रहने वाला हूँ. मेरी उमर 19 साल की है और मैं बहुत जल्द 20 का हो जाऊंगा क्योंकि मेरा बर्थडे आने वाला है.

मेरा लंड 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. मेरी गर्लफ्रेंड का नाम नीलोफर है, उसे मैं प्यार से नीलू कहता हूँ. यह 2 महीने पहले की सेक्स स्टोरी है.

मैं बी.टेक कर रहा हूँ और मेरी नीलोफर भी बी.टेक कर रही है. हम लोग साथ में पढ़ते हैं. उसकी फैमिली में बहुत सख्त अनुशासन है. उसको घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाता है, सिर्फ़ कॉलेज जाने के लिए ही घर से निकलती है.

हम दोनों में फोन पर काफ़ी सेक्सी बातें होती थीं. रात में 2-3 बजे तक भी फोन चैट हुआ करती, जिसमें कभी कभी सेक्सी बातें भी हुआ करती थीं. जब वो फुल जोश में होती थी तो मुझसे पूछती बहुत जोश चढ़ा है.. सेक्स करने का मन कर रहा है.

वो जल्दी मुझसे मिल नहीं पाती थी इसलिए वो अपनी चूत में उंगली भी चला लिया करती थी. पहले तो वो ये सब नहीं जानती थी, लेकिन मैंने उसको सब कुछ बता दिया था. मैंने उसको बताया था कि जब जोश चढ़ा करे, तो अपनी चूत में उंगली डाल कर अन्दर बाहर किया करो, इससे तेरी पिपासा शांत हो जाएगी और तुम झड़ जाओगी.

उस वक्त उसने मुझसे पूछा कि ये झड़ना क्या होता है?
फिर मैंने झड़ना भी बताया कि चूत से पानी निकल जाना और उसी वक्त शरीर शिथिल हो जाना ही झड़ना होता है.

एक दिन की बात है, उस दिन मैंने उसको मिलने के लिए बोला.
तो उसने बोला- कैसे मिलें यार?
मैंने कहा- तुमको कॉलेज के बहाने से ही मिलना पड़ेगा.

वो नहीं मान रही थी और डर रही थी. मैंने काफ़ी समझाया तो वो मान गयी. हम लोगों के मिलने की बात होने लगी कि मिलने पर क्या क्या करेंगे.

मैंने उसको बोला कि तुमको मैं सबसे पहले किस करूँगा, फिर नीचे आ कर तुम्हारे दूध पियूंगा, चूसूंगा और कमर सहलाऊंगा, चूत चाटूंगा और चूत को भी चूसूंगा.

वो इस तरह की बातों से फिर से गर्म होने लगी. हम लोगों की ऐसे ही सेक्सी बातें होने लगीं.
उसने चुदास भरी आवाज में पूछा- हम दोनों कहां मिलेंगे?
तो मैंने बोला- होटल बुक करते हैं.
वो खुश हो गई.

मैंने उसके अगले दिन के लिए एक होटल में रूम बुक किया. दूसरे दिन हम लोग कॉलेज नहीं गए, मैं उसको लेकर होटल आ गया.
वो बहुत डर रही थी, मैंने उसको समझाया कि डरो मत.. मैं हूँ न.

हम लोग होटल में पहुँचे और अपने रूम में आ गए. जैसे ही हम लोग रूम में पहुँचे, तो मैंने उसको एक टाइट हग किया और किस करने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी और दोनों लोग किस करने लगे.

अब मैं एक हाथ से उसके दूध मसल रहा था. उसके दूध बहुत छोटे छोटे थे. मैं कपड़ों के ऊपर से ही उसके दूध को चूसने लगा.
उसने बोला- अरे सब्र करो, भाग नहीं जाएंगे.. आज आराम से सेक्स करेंगे.

More Sexy Stories  मेरी पहली चुदाई दीदी के साथ

उसने अपना टॉप उतारा, मैंने उसकी ब्रा खोल कर पूरे चूचों को खोल दिया. अब मैं उसके एक दूध को चूसने लगा. मुझे उसका नर्म दूध बड़ी मस्ती दे रहा था. मैं उसके दूध को चूसने के साथ काट भी रहा था.
नीलोफर ने बोला- आराम से करो यार.. दर्द हो रहा है.

अब मैं थोड़ा संयत हुआ और उसकी चूची को आराम से पीने लगा. वो गरम तो हो ही गई थी.. अब बोल रही थी कि आह.. बड़ा मजा आ रहा है.. पूरा भर लो अपने मुँह में.. आह.. और जोर से पियो दूध.. आह..

मैं उसके मम्मे को खूब चूस रहा था.
उसने बोला कि तुम तो बच्चे की तरह पी रहे हो.
उसकी इस बात पर हम दोनों लोग हंसने लगे.

फिर मैंने उसकी पैंट को उतारा और उसके पैर को चूमने लगा. पैर चूमते हुए उसकी चूत तक आ गया. वो खूब कामुक सिसकारियां ले रही थी. मैं उसकी कमर को चूमने लगा, वो अब तक बहुत ही ज्यादा गरम हो गई थी और आआआह कर रही थी. वो अपने हाथों से मेरे बाल को सहला रही थी.

मैं फिर उसकी चूत पर आ गया और चूत को अपनी जीभ से चूसने लगा. उसने अपनी टांगों को फैला दिया और चूत चुसवाते हुए खूब ‘आआआह आआआह अयाया..’ करने लगी.

मैंने उसकी चूत को देखा, सील पैक माल थी. उसमें लंड तो क्या उंगली घुसेड़ने के लिए भी जगह नहीं थी.

मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रखा और अपनी जीभ उसकी चूत के अन्दर डालने लगा. मस्ती से मैं उसकी पूरी चूत को ऊपर से नीचे तक जुबान फेरते हुए चूसने लगा.

वो भी खूब मचल रही थी और मादक सिसकारियां ले रही थी, उसके मुँह से जबरदस्त ‘आआह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अयाया आह..’ की आवाज़ निकल रही थी.

फिर मैंने अपने कपड़े उतारे और पूरा नंगा हो गया.
उसने मेरा लंड देख कर बोला- इतना बड़ा और मोटा भी बहुत है.
मैंने बोला- मेरी जान टेन्शन न लो.. ये अभी तुम्हारी चूत में जाएगा तो तुमको बहुत मज़ा आने वाला है.
वो मुस्कुरा दी.

मैंने उसको बोला- मेरा लंड चूसो.
तो उसने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और खूब चूसने लगी. मैं व्हाटसैप पर उसको सेक्सी वीडियो भेजता था तो वो जानती थी कि लंड कैसे चूसते हैं. वो मेरे लंड को बहुत अच्छे से चूस रही थी. मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था. उसको भी मजा आ रहा था.

फिर हम लोग 69 की पोज़िशन में हो गए. अब मेरा लंड उसके मुँह में था और उसकी चूत मेरे मुँह में थी. मैं उसकी चूत को चूस रहा था, वो मेरे लंड को मजे से चूस रही थी.
मैंने उसको बोला- तुम अब सीधी लेट जाओ.
वो मान गई, मैंने उसको चित लेटाया और अपना लंड उसकी चूत पे रख दिया. अब मैं उसकी चूत को अपने लंड से सहलाने लगा.

वो गर्म हो कर बोली- डाल भी दो यार तड़पाओ मत अब…
मैंने हल्के से उसकी चूत में अपना लंड डाला, मेरा टोपा उसकी चूत में चला गया. वो दर्द के मारे रोने लगी. मैं उसको किस करने लगा.

More Sexy Stories  मेरे पहले प्यार की कामुकता भरी चुदाई

जब उसको दर्द होना कम हुआ, तो मैंने एक और झटका मारा और मेरा लंड उसकी चूत में आधा चला गया. वो फिर चिल्लाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन इस बार उसका मुँह मेरे मुँह में था तो वो चिल्ला नहीं पा रही थी.
फिर मैं आराम आराम आगे पीछे होने लगा था, तो कुछ धक्कों के बाद उसको भी अच्छा लगने लगा. अब वो कुछ नहीं बोल रही थी.

फिर मैंने एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया तो उसकी चूत में मेरा पूरा लंड चला गया. मैं थोड़ा रुका और किस करने लगा, फिर मैं आराम आराम से लंड को चूत में अन्दर बाहर करने लगा. थोड़ी देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. अब वो अपनी गांड उठाते हुए बोली- और तेज़ करो.
मैंने स्पीड बढ़ा दी.

हम दोनों लोग चुदाई का खूब मज़ा लेने लगे. करीब 5 मिनट बाद वो झड़ गयी. लेकिन मैंने स्पीड को कम नहीं किया और खूब मज़े से उसे चोदता रहा.
वो ‘आआआह आआआह ईईईईईई उ उह..’ कर रही थी.

मैंने उसको उठाया और डॉगी पोज़िशन पर खड़ा करके पीछे से चोदने लगा. वो अपनी चूत पीछे कर कर के चुदवा रही थी.
फिर मैंने उसको बोला- मैं लेट रहा हूँ, तुम मेरे लंड पर बैठ जाओ.
उसने ऐसा ही किया और मेरे लंड पर बैठ गयी. अब वो मेरे लंड पर उछल रही थी. मैं भी खूब उसको उछाल कर चोद रहा था. वो ‘अयाया अयाया उ उ आईएआह..’ कर रही थी. जब वो मेरे लंड पे उछल उछल कर बैठती थी तो चुदाई के कारण ‘थप तप..’ की आवाज़ आ रही थी.
ऐसे ही हम लोग खूब मज़े से चुदाई कर रहे थे.

फिर दस मिनट बाद वो फिर से झड़ गयी. मैं उसको लगातार चोदता ही जा रहा था. फिर मैं भी झड़ने वाला था. मैंने उसकी चूत से लंड निकाला और उसके मुँह में दे दिया, वो गरम लंड चूसने लगी. उसके बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और उसके मम्मों के ऊपर ही झड़ गया.

नीलोफर मस्ती से बोली- आज का दिन मेरी लाइफ का सबसे ज़्यादा खुशनुमा दिन है, मुझे तुमसे इतना प्यार मिला है.
फिर उसने मेरा लंड चूस चाट कर रस साफ कर दिया. उसके बाद वो मेरे लंड को सहला रही थी. कुछ देर बाद मेरा लंड फिर खड़ा हो गया. हम लोगों ने फिर चुदाई की. इस बार देर तक चुदाई चली.

दो घंटे बाद हम दोनों होटल से निकल आए और अपने अपने घर चले गए.

अब हम लोगों का जब भी मन करता है, हम लोग उसी होटल में जा कर चुदाई कर लेते हैं. हम लोगों ने 2 महीने में अभी तक 12 बार से ज़्यादा चुदाई की है.

हालांकि अब हम लोगों के बीच कोई रिश्ता नहीं है. अब मैं किसी और को ढूंढ रहा हूँ. मुझे चोदने का बहुत मन करता है लेकिन लंड के पास कोई चूत है ही नहीं.

अगर मेरी सेक्स की कहानी मस्त लगी ना? तो मुझे मेल कीजिएगा, मैं वेट करूँगा.