गर्लफ्रेंड की सहेली को चोदा

मैं कुछ भी उत्तर न देते सिर्फ मुस्कुरा दिया। ये सब बातें अब मुझे बहुत उत्तेजित कर रही थी जिस वजह से मेरा धक्के मारना लगातार रफ्तार पकड़ रहा था. थोड़ी देर बाद मैं थक गया तो काजल मुझे नीचे लिटाकर मेरे ऊपर आ गई, मेरे लंड को अपनी चूत पे सेट करके एक ही बार में पूरा अन्दर ले लिया।
अब वो उछल उछल कर मेरा लंड चूत में ले रही थी, मैं उसके चूचों को ऊपर नीचे होता देख रहा था और उसे दबा रहा था।

तभी शीतल जो फिर से गर्म हो चुकी थी, मेरे पास आकर मेरे मुंह पर अपनी चूत रगड़ने लगी, मैं भी उसकी चूत को चाटने लगा।
थोड़ी देर बाद काजल का पानी निकलने लगा जो मेरे लंड और जांघों से होता हुआ नीचे बहने लगा।

काजल ने कहा- तुम क्या खाते हो कि अब भी तुम्हारा नहीं निकला?
मैंने कहा- अब निकलने ही वाला है… इसे थोड़ी देर चूसो और इसका स्वाद अच्छे से लो।
काजल मेरे कहे मुताबिक लंड को चूसने लगी और मैं काजल की चूत चूसने लगा।

थोड़ी देर बाद मेरा निकलने वाला था तो मैंने नीचे से गांड को ऊपर करके लंड को उसके गले तक जाने दिया और पानी की तेज धार निकल गई। उसकी सांस रुकने की वजह से काजल खांसने लगी. जब नॉर्मल हुई, तब पता नहीं क्या हुआ, वो मेरे लंड को जानवर की तरह चूसने लगी और जांघ और लंड पर जो पानी था उसे चाटने लगी।

मैं अब शीतल की चूत चाट रहा था. थोड़ी देर बाद जब उसका भी पानी निकल आया तो वो भी निढाल हो कर मुझ पर ही लेटी रही। थोड़ी देर बाद उसको एक साइड किया तो दूसरी साइड काजल आ गई और दोनों मुझसे लिपटकर बातें करने लगी।
तब शीतल ने काजल से पूछा- कैसा लगा अपने नए यार का लंड?
और मुझे बताया कि काजल को मुझसे चुदाना था इसलिए उसको अपने साथ लेकर आई थी, दोनों प्लान बनाकर ही आई थी।

More Sexy Stories  मौसी की बेटी की सुहागरात से पहले

मैं उनकी बातें सुनकर सोचने लगा कि जब ऊपर वाला देता है तो छप्पर फाड़ के ही देता है।

मैंने काजल को भी पूछा- मेरे साथ सेक्स का मजा आया या नहीं?
तब काजल ने बताया- मेरे बॉयफ्रेंड का लंड बहुत छोटा था और वो चूत भी नहीं चाटता था। आज तुमने अपने मोटा लंड से और मेरी चूत चाटकर मुझे बहुत खुशी दी है।
ऐसे ही बातें करते हुए तीनों कब सो गए पता ही नहीं चला।

जब मेरी आंख खुली तो मुझे लगा कि मेरे लंड को कोई चूस रहा है. देखा तो काजल बड़े प्यार से मेरा लंड चूस रही थी.

मैंने घड़ी में देखा तो अभी 4 ही बज रहे थे तो मेरे पास टाइम था। मैंने फिर से काजल को गर्म किया और शीतल को भी जगा कर गर्म किया और एक बार फिर दोनों की चुदाई की और 5 बजे उनको उनके रूम पे छोड़ आया।

उसके बाद कई बार हम तीनों ने साथ मिलकर थ्रीसम चुदाई की, कभी शीतल अकेली की तो शीतल के न हो पर काजल की अकेली की चुदाई करता था। काजल की अकेली की चुदाई भी में शीतल की अनुमति लेकर ही करता था।
अब हम साथ नहीं है पर अब भी उनके मैसेज आते हैं, बातें होती रहती है।

आपने मेरी पिछली कहानी के बारे में अपनी राय मुझे बताई, इस तरह मेरी इस थ्रीसम सेक्स कहानी के बारे में भी बतायें कि आपको यह कहानी कैसी लगी।

Pages: 1 2 3