विलेज सेक्स: गाँव में आंटी ने मेरी सील तोड़ी

मैंने भी पूरी उंगली अन्दर डाल दी और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा. वो पूरे जोश में आ गईं और उंगली को और जोर जोर से करने को बोलने लगीं. मैं भी जोर जोर से उनकी चूत में उंगली करता रहा.

फिर आंटी ने मेरी जिप खोलकर लंड बाहर निकाल लिया और हिलाने लगीं. मैं खुद के हाथ से हिलाता हूं, तो 10-15 मिनट से पहले कभी नहीं निकलता.. पर उनके हाथ से तो साला 6-7 मिनट में ही निकल गया.

वो बोलीं- देखने में तो दमदार लग रहा है.. तेरा तो 6.5-7 इंच से थोड़ा ज्यादा ही है.. पर मेरे हाथ कि गर्मी भी नहीं झेल पाया.
मैं बोला- आंटी मैं अभी आपकी तरह एक्सपर्ट नहीं हूं ना.
तो बोलीं- कोई चिंता मत कर.. मैं किसलिए हूं, कर दूंगी एक्सपर्ट.. पर अब क्या करूँ.. मुझे तो आग लगी है.
मैं बोला- थोड़ी देर में फिर तैयार हो जाएगा.

आंटी बोलीं- मुझसे इतना वेट नहीं होगा, तू मेरी चुत को चाटकर रबड़ी निकाल दे.
मैं बोला- नहीं.. मैंने ऐसा कभी नहीं किया है और ना ही करूंगा.
वो थोड़ा गुस्से से बोलीं- बेटा तेरी मरजी नहीं चलेगी, चुत चाहिए तो चाटनी भी पड़ेगी.
मैं फिर भी नहीं माना तो बोलीं कि अब तो चटवा कर ही रहूंगी.. वरना शोर मचा दूंगी कि मुझे अकेली देखकर छेड़ रहा था.

उनकी इस बात से तो मेरी भी गांड फट गई. ये कौन सी आफत ले ली. मैंने जैसे तैसे नीचे बैठकर आंटी की चुत पर एक दो किस ही किए थे कि किसी के आने की आवाज हुई और मैं नीचे भाग गया.

साली की चुत का बहुत गंदा सा टेस्ट था, अगर कुछ देर और चाटता तो उल्टी आ जाती.

शाम को उसका फोन आया कि बच्चू एक बार तो बच गया.. पर अगर रात को नहीं चाटी.. तो तेरी जो मिस कॉल आई है ना, वो सबको दिखा दूंगी.

More Sexy Stories  शादी का मंडप और चुदाई

मैं भी आंटी का नेचर देखकर थोड़ा संभल गया था. मैंने बोला- साली अब तू जो मरजी कर.. लेकिन जो तू ये बोल रही है ना.. वो मैं भी रिकॉर्ड कर रहा हूं.

ये बात अलग थी कि कोई रिकार्ड नहीं कर रहा था. तो वो डरते हुए बोलीं- अरे मैं तो मजाक कर रही थी, तेरी शक्ल देखकर ही पता चल गया था कि तूने कभी कुछ नहीं किया होगा और थोड़ा नर्वस भी लग रहा था. तुझे मैं धमकी न देती.. तो तू चाटता भी नहीं. अगर किसी को मैंने बताया तो मेरी भी तो बेइज्जती होगी.

तो मैं बोला- साली आंटी.. तेरे मजाक के चक्कर में मेरी तो गांड फट गई थी ना.. मैं तो अपने गांव भागने वाला था.
तो वो बोलीं- अब और बात नहीं कर सकती.. कोई आ रहा है.. चल रात को मिलते हैं.

मेरा भी कुछ हौसला बढ़ा और लंड फिर से खड़ा होने लगा. मैंने भी घर जाने से पहले 2 बीयर पी लीं.. रात को आंटी की चूत की ठुकाई जो करनी थी.
कंडोम तो मैं शर्म के मारे खरीद ही नहीं पाया.

रात को 12.30 के आस पास वो ऊपर आ गईं. मैं उन्हें लेकर बगल के टॉयलेट में घुस गया. क्योंकि ऊपर और भी लोग थे. मैं आंटी को पकड़ कर जोर जोर से सीधा किस करने लगा.
वो बोलीं- क्या हो गया है.. ऐसे जंगलियों की तरह क्यों कर रहे हो?
मैं थोड़ा नशे में बोला- चुप कर साली.. और जो कर रहा हूं, करने दे.
आंटी चुप हो गईं.

मैं आंटी को कभी किस करता, कभी गाल पर कट्टू करता.. तो कभी कान पर काटता. मैंने कहानियों में पढ़ जो रखा था कि औरत का सबसे सेन्सिटिव पार्ट ये ये होता है.
आंटी पूरी गर्म होने लगीं और उन्होंने मेरा लंड बाहर निकाल लिया.

फिर आंटी बोलीं- पहले लंड चुसाने का मजा ले.. फिर चुत चाटने को अपने आप तेरा दिल करेगा. बहुत सालों के बाद कोई जवान छोकरा हाथ आया है, वरना पांच सालों से पड़ोस के बुड्डे से ही काम चला रही हूं.
मैंने बोला- जल्दी से चूस साली.. पहले ऐसा कभी नहीं किया मैंने.

More Sexy Stories  मौसी की बेटी की चूत चुदाई की वो हसीन रात

वो मेरा लंड चूसने लगीं, एकदम ब्लू फिल्मों की हीरोइन की तरह लंड चूसे जा रही थीं. आंटी ऐसे चूस रही थीं जैसे बचपन से ही लंड चूसती आई हों.

जब मैं झड़ने लगा तो मैंने लंड बाहर निकाल दिया. मैं बोला- रस भी पी लेतीं ना.. फिल्मों में तो लौंडियां लंड की रबड़ी पीती ही है ना.
आंटी लंड चाटते हुए बोलीं- मुझे पसंन्द नहीं है.. चल अब तेरी बारी है तू चाट जल्दी से.

उनकी चूत चूसने का मेरा मन तो नहीं था, पर नशे के कारण थोड़ी हिम्मत करके चाटने लगा. वो मेरे बाल पकड़ कर अपनी चुत में घुसाए ही जा रही थीं.

कुछ देर बाद मुझे भी आंटी की चुत चाटने में मजा आने लगा. अब तो मैं अपनी पूरी जीभ उनकी चुत में घुसाये जा रहा था. मेरी चुत चाटने से उनकी गर्मी उतनी ही बढ़ती जा रही थी.
मुझे तो पता ही नहीं था कि चुत चाटने भी इतना मजा आ सकता है क्या.

वो धीमे धीमे आहें भरती रहीं और ‘आआह.. उउउउउ..’ करती रहीं.

इस वक्त मेरा ध्यान तो सिर्फ चुत चाटने पर ही था, दिल कर रहा था खा ही जाऊँ. कुछ देर बाद जब आंटी झड़ गईं तो थोड़ा सा रज मेरे मुँह में चला गया. मैं एकदम से पीछे हट गया तो उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर फिर से चूत पर मुँह लगा दिया. उनकी चूत नमकीन सा टेस्ट था तो अच्छा था.. और कुछ नशे की वजह से भी अमृत सा लगने लगा था. मैंने आंटी की चूत को पूरा चाट चाटकर साफ कर दिया.

Pages: 1 2 3 4