बाप खिलाड़ी बेटी महाखिलाड़िन- 7

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    बाप खिलाड़ी बेटी महाखिलाड़िन- 6


  • keyboard_arrow_right

    बाप खिलाड़ी बेटी महाखिलाड़िन- 8

  • View all stories in series

इस गन्दी कहानी हिंदी में पढ़ें कि कैसे एक बाप ने अपनी कालगर्ल बेटी से उसके जिस्म का सौदा किया. पूरे दिन घर में बेटी को नंगी रख कर उसके साथ क्या क्या किया!

कैसे हो दोस्तो? मैं राकेश फिर से हाजिर हूं गन्दी कहानी हिंदी में नये भाग के साथ। पिछले भाग में आपने देखा कि रिया अपने पिता की सारी शर्तें मानने के लिए तैयार हो गयी.

रमेश ने उससे एग्रीमेंट साइन करवा लिया जिसके मुताबिक रिया को रमेश का हर हुक्म मानना था. उस दिन रमेश ने चार बार रिया की चुदाई की और उसकी चूत और गांड को चोद चोद कर सुजा दिया.

अब आगे की गन्दी कहानी हिंदी में:

सुबह के वक्त रमेश और रिया उठे. नाश्ते के बाद वो दोनों फिर से तैयार थे। रमेश ने रिया को पूरा नंगी कर दिया और खुद भी सिर्फ अंडरवियर में था।

रमेश रिया को पीछे से जकड़े हुए अपना लौड़ा अंडरवियर से बाहर निकाल कर रिया की गांड पर रगड़ने लगा। रिया को अपनी गांड पर अपने पिता का चुभता लौड़ा बहुत मस्त लग रहा था। उसका एक हाथ रमेश के लौड़े को अंडरवियर के ऊपर से ही महसूस करने लगा।

फिर रमेश ने रिया को झटके से अपनी ओर घुमा लिया। रिया की गांड की दरार में उसने उंगली घुसा दी. ऊपर से वो रिया के अंगूर समान निप्पल को मुंह में रखकर चूसने लगा।

रिया को अपनी चूचियों को चुसवाने में बड़ा मजा आ रहा था। वो अपनी चूची को उठा उठाकर अपने डैड के मुंह में देने लगी।
रमेश उसकी चूचियों को पूरे आनंद से चूस रहा था।

रिया सिसकारने लगी- आआआ … आआहह … डैड … चूस … स्सो.. ऊफ़्फ़ … आआहह … खूब चूसो। बहुत … अच्छा लग रहा है।
रमेश ने उसके आनंद को बनाये रखा और खूब चूसा।

रिया की बुर से पानी लगातार बह रहा था। रमेश ने उसकी दोनों चूचियों को खूब चूसा। रिया रमेश के लण्ड को सहला रही थी।

उसके बाद रमेश ने अपना अंडरवियर उतारना चाहा तो रिया ने उसे रोक दिया। वो खुद ही सिंक के पास फर्श पर घुटनों के बल बैठ गयी। रमेश के लण्ड को अंडरवियर के ऊपर से ही चाटने लगी। वो उसके लण्ड की खुशबू सूंघ रही थी।

रमेश का अंडरवियर रिया ने अपने थूक से गीला कर दिया। फिर उसने रमेश के लण्ड को अंडरवियर से बाहर निकाला। रमेश ने अंडरवियर को फिर निकाल ही दिया।

रिया ने अपने डैड के लण्ड को अपने चेहरे पर लगा कर उसके साइज को नापा. लगभग पूरा चेहरा लंड की लंबाई से कवर हो गया। रिया हंस रही थी.
वो बोली- डैड हमारे चेहरे के बराबर है आपका लण्ड।
रमेश- इसी ने कल रात तुम्हारी चुदाई की थी. अब खूब चुदोगी इससे!

रमेश के लण्ड को रिया ने अपने मुंह में भर लिया। रमेश को लण्ड चुसवाने का बहुत अनुभव था। रिया ने बिल्कुल वैसे ही चूसना शुरू किया जैसे ब्लू फिल्मों में करते हैं।

रिया ने उसके लण्ड को पूरा थूक से नहला दिया। उसका थूक रमेश के लण्ड से धागों की तरह लटकता हुआ टपक टपक कर नीचे गिर रहा था. वो पूरा मन लगा लगा कर अपने पापा के लण्ड को चाट रही थी।

कभी लण्ड के सुपारे को जीभ से रगड़ती और चूसने लगती। लण्ड के छेद को जीभ से छेड़ती। फिर लण्ड पर थूक कर अपने हाथों से मलती और फिर लण्ड को मुंह में भरकर चूसने लगती।

रिया चूसते हुए बोली- डैड तुम्हारा लण्ड बहुत मस्त है। एकदम कड़क है. आह्ह … अम्म … ओम्म … आह्ह … चप … चप …
करते हुए वो लंड को चूसती रही.
रमेश कुछ नहीं बोल पा रहा था. उसके मुंह से केवल आनंद के सीत्कार निकल रहे थे- आह्ह … हाय … अम्म … आह्ह … आह्हा …कमाल की चुसक्कड़ हो बेटी।

रिया ने फिर रमेश के लण्ड को पूरा मुंह में घुसा लिया और रमेश को देखती रही। मुंह में लण्ड होने की वजह से उसके गाल फूल गए थे। वो तिरछी नज़रों से रमेश को देख रही थी। कुछ देर वैसे ही रुकने के बाद उसको उबकाई आयी और पूरा लण्ड बाहर आ गया।

लौड़ा पूरा थूक से सन चुका था। रिया की आंखों में इस वजह से आंसू थे और हांफ रही थी।
रिया ने रमेश को देखा और कहा- इसे गैगिंग कहते हैं डैड। मैंने ऐसा खीरे के साथ कई बार किया हुआ है और अब लंड के साथ कर रही हूं.

रमेश ने जोश में कहा- हाँ, पता है मुझे. मैं भी इस क्रिया का बहुत फैन हूं. तुम बहुत मस्त कर रही हो. बिल्कुल ब्लू फिल्म की रंडियों की तरह।
रिया- डैड चुदाई का मज़ा तो गालियों के साथ ही आता है। मुझे गालियों से कोई ऐतराज नहीं है. आपका मन करे तो गाली भी दो.
ऐसा कह कर रिया ने फिर से रमेश के लंड को मुंह में भर लिया.

रमेश- क्या बात है साली रंडी! मेरे मुंह की बात छीन ली, आज से तू मेरी रंडी है साली। अब तू बेटी से रंडी बन गयी है।

रिया लण्ड चूस रही थी. तब रमेश ने उसके बालों का गुच्छा बनाकर कसकर पकड़ लिया जिससे उसके बाल हल्के खिंच रहे थे।

तब उसने लण्ड को बाहर निकाल लिया. रिया का मुंह अभी भी खुला था. रमेश ने उसके खुले मुंह में थूक की गेंद बनाकर फेंक दी.
रिया ने उसे अपने डैड को दिखाते हुए पी लिया और बोली- और थूको डैड। प्लीज और दो।
उसने मुंह खोल दिया।

रमेश ने फिर वैसे ही किया। इस बार भी रिया ने वही किया। वो सारे थूक को मस्ती से चाट कर अंदर पी गयी.
रमेश- रिया तुम कितनी बड़ी रंडी हो, मुझे तो विश्वास नहीं हो रहा है कि मेरी बेटी के अंदर इतनी बड़ी रंडी रहती है।

रमेश अपना लण्ड रिया के मुंह पर रगड़ने लगा। उसके पूरे चेहरे को अपने लण्ड पर लगे थूक से भिगो दिया। रिया को ये बहुत ही उत्तेजक लग रहा था।

कुछ देर उसके चेहरे पर ऐसा करने के बाद उसने रिया को बालों से पकड़कर किचन की दीवार से लगा दिया, जिससे वो पीछे पूरी तरह से चिपक गयी. अब वो और पीछे नहीं जा सकती थी।

रमेश ने रिया के मुंह में लौड़ा डाल दिया। रिया का मुंह पूरा उसके लौड़े से भर गया।

रिया के मुंह को रमेश बेरहमी से चोदने लगा। रमेश ठोकर मारता तो उसके आंड रिया की ठुड्ढी और होंठों से टकरा जाते थे। रिया की आंखें बिना पलक झपकाए रमेश की आंखों को निहार रही थीं।

गर्मी की वजह से दोनों पसीना पसीना हो चुके थे। मगर दोनों में से कोई भी रुकने का नाम नहीं ले रहा था। रमेश लौड़ा निकालता और उस पर लगा थूक रिया के चेहरे पर मल देता। रिया के मुंह से थूक के धागे बन बनकर फर्श पर गिर रहे थे।

रमेश- क्यों रंडी बेटी? मज़ा आ रहा है चुदाई में?
रिया सिर्फ हल्का सिर हिलाकर- गूँ-गूँ … गूँ-गूँ … गूँ-गूँ.. गूँ … गों गों करके जवाब दे रही थी।

फिर रमेश ने रिया को बालों से पकड़े हुए ही उठाया और उसे पकड़ कर किचन से बाहर ले आया।
रमेश कामुकता से बोला- क्या मस्त रंडी छुपी थी इस घर में और मैं ब्लू फिल्में देखता था। सच में लड़की में त्रियाचरित्र के गुण होते ही हैं। साली ऊपर से ढोंग रचती है पवित्र होने का और अंदर से उतनी बड़ी रांड के गुण छुपाये रहती है।

फिर रमेश रिया को अपने कमरे में ले गया और उसको बिस्तर पर धकेल दिया।

रिया- अब क्या करोगे डैड?
वो मुस्कुराते हुए कामुकता से बोली।
रमेश- तुम्हारी चूत का स्वाद चखना है। चल अपना पैर फैलाकर चूत को खोल साली कुतिया।
रिया- वाह डैड, तुम मेरी चूत को चूसोगे, आ जाओ। इस चूत को और गर्म कर दो. अभी तक कितनों ने चूसा है इसको, आज आप भी स्पेशल चुसाई कर डालो मेरी गर्म गर्म तपती हुई चूत की। आह्ह चूस लो डैडी।

रमेश ने रिया की टांगों के बीच में जगह बनाई और बैठ गया। उसने रिया के करीब आकर उसकी चूत को पहले सूँघा। सूंघने से उसमें चूत की सौंधी सी खुशबू आ रही थी।

रिया की चूत गीली हो चुकी थी। उसमें से लसलसा पदार्थ बह रहा था जो कि चूत को चिकना कर रहा था. चूत की दोनों फाँकों को रिया ने अलग कर रखा था। अंदर सब गुलाबी गुलाबी था।

फैलाने से चूत का छेद हल्का हल्का दिखाई दे रहा था. उसने चूत के ऊपर थूक दिया और उस पर खूब मल दिया। उसने करीब 5 – 6 बार थूका। फिर चूत की चुसाई में लग गया।

उसने जीभ से चूत की लंबी चिराई को सहलाना शुरू किया और अपने दायें हाथ की मध्य उंगली उसकी चूत में घुसा दी।
रिया चिहुंक उठी- ऊफ़्फ़ … आआहह.. ऊईईईई … आआहह … आऊऊ डैड बहुत अच्छा लग रहा है।

उसके हाथ रमेश के सर के पीछे थे जो रमेश को चूत की तरफ लगातार धकेल रहे थे।
रमेश तो रिया की रसीली चूत चूसने में तल्लीन था। रमेश के मुंह से केवल लप लप लप लप लप … लुप-लुप … सुनाई दे रहा था।

रिया कामुकता से लबरेज़ अब बकते जा रही थी- डैड और चूसो … खूब चूसो … आआहह ऐसे ही … ऊफ़्फ़ … ऊउईईई मर गयी … आह्ह डैडी … चूसते रहो … आह्ह मा … आह्ह ओह्ह।

रमेश की उंगलियां उसकी चूत की गहराई में उतर रही थी। रमेश कभी उसकी चूत के दाने को चूसता, कभी दांतों से हल्का काट लेता। ऐसा करके वो रिया को चरम सुख की ओर ले जा रहा था।

तभी रिया ने उसके सर को अपनी जांघों के बीच में जकड़ लिया और दोनों हाथों से उसके सर को चूत पर धकेलने लगी।
एक चीख उसके मुंह से फूटी- आहहह आईईई … आह्हह …हाहह … गईईई …
करके वो जोर से चिल्लाई और फिर निढाल हो गयी.

रिया ने अपने बाप को अपनी बांहों में भर लिया।
रमेश बोला- बिना लण्ड लिए ही झड़ गयी साली रंडी?
रिया ने अपने डैड के सर को पकड़ लिया और चूमने लगी। अब रमेश रिया के ऊपर लेटा था।

एक हाथ से रिया ने रमेश के लण्ड को पकड़ लिया और सहलाने लगी। रमेश ने रिया की आंखों में देखा. वो मदहोश हो चुकी थी।

रमेश ने रिया को खड़ी होने के लिए कहा और खुद उठकर बैठ गया। उसने रिया की नाभि को चूमा और उसमें जीभ घुसाकर चाटने लगा। रिया खड़ी खड़ी आहें भर रही थी।

वो अपने दोनों हाथ रमेश के कंधों पर रखे हुए थी। उसकी आंखें बंद थीं और भवें कामुकता से तनी हुई थीं। रमेश ने रिया की चूत में उंगली घुसा रखी थी. वो रिया की चूत में तेजी से उंगली चला रहा था.

रिया इतनी गर्म हो गयी कि उसकी सिसकारियां कमरे की दीवारों को जैसे तोड़ने पर उतारू हो गयीं.
रमेश- बेटी इस समय क्या मस्त लग रही हो तुम। मन कर रहा है, तुमको हमेशा ऐसे ही देखूं, रुको कैमरा लाता हूं.

रमेश को रोकते हुए रिया बोली- नहीं डैड अभी नहीं, प्लीज बाद में … इस वक़्त तो मुझे तुम्हारा लौड़ा चाहिए। मैं बहुत चुदासी हो गई हूं. उफ़्फ़ … कितना अच्छा लग रहा है. लौड़ा डालोगे तो और मज़ा आएगा। हाय … डैडी मेरी चूत को चोद दो ना प्लीज.. आपकी रंडी बेटी की रिक्वेस्ट है.. डैडी प्लीज चोद दो मुझे।

रमेश- तेरा यही एक्सप्रेशन तो चाहिए साली रंडी। बस तुरंत आ जाऊंगा और जितना चाहेगी उतना पेलूँगा तुमको। रमेश ने उसकी चूत से उंगली निकाली और चाट गया।

रिया इतनी चुदासी थी कि वो अपने अंग अंग को खुद ही सहला रही थी। रमेश फौरन अपने कमरे में गया और अलमारी से कैमरा ले आया। रिया खड़ी खड़ी अपनी चूत को सहला रही थी। रमेश ने उसको बिना बताए कुछ फ़ोटो ली उसी अवस्था में। फिर उसने रिया को सोफे पर लेट कर छत की ओर देखने को कहा.

वो सोफे पर लेट गयी. रमेश ने उसे सर को सोफे के हैंडल पर रखने को बोला. उसके बाल समेटकर बाहर लटका दिए। फिर रिया ने एक हाथ से अपनी चूत को फैला दिया और दूसरे हाथ की पहली उंगली मुंह में दबा ली.

पोज देख कर रमेश बोला- परफेक्ट!
रिया- डैड जल्दी से मुझे लंड दे दो. ये फोटो बाद में भी ले सकते हैं. मैं लंड लिये बिना नहीं रह सकती हूं. जैसा तुम कहोगे वैसा करूंगी. बस मुझे एक बार चोद दो डैडी।

रमेश- साली रंडी … तेरे चेहरे पर अभी जो चुदने की प्राकृतिक लालसा है, जितनी चुदासी तू हो रही है लण्ड लेने के लिए, जो तुम्हारे मन की प्यास है, ये बहुमूल्य भाव तुम्हारे चेहरे पर किसी गहने की तरह तुम्हारी अंदर की रांड को निखार रहे हैं।

कहते हुए रमेश ने 4-5 तस्वीरें क्लिक कीं। रिया अपनी बुर को रगड़ते हुए भिन्न भिन्न मुद्राओं में तस्वीर खिंचवा रही थी। रमेश उसकी नग्नता को तस्वीरों में कैद कर रहा था।

उसने रिया को करवट लेकर लिटाया जिससे उसकी गांड रमेश के सामने आ गई। रिया ने रमेश का इशारा पाकर चूतड़ों को फैलाया। उसने कुछ और तस्वीरें ली।

फिर रिया फर्श पर घुटनों के बल बैठ गयी और दोनों हाथों से अपनी चूचियों को पकड़ कर उसने जीभ बाहर निकाल ली। रमेश खुश होकर फोटो लेता रहा।

रमेश ने फिर बोला- बेटी अपने बालों को हाथों से पकड़ कर ऊपर उठा लो और कैमरे की तरफ देखो. हाँ … थोड़ा सर को झुकाओ। हाँ और चुदासी लाओ चेहरे पर … हहम्म … सही एकदम।
रिया ने वैसे करके पूछा- ठीक है ये?

अब रमेश ने रिया को फर्श पर कुतिया की तरह दोनों हाथों और घुटनों पर आने को कहा.
रमेश- हहम्म वाह … क्या लग रही हो। अपनी पीठ झुकाओ और पीछे चूतड़ को और उठाओ।

अब रिया ने वैसा ही किया. इन सब के दौरान दोनों बहुत उत्तेजना में आ चुके थे। रिया करीब 15 मिनट तक रमेश जैसे बताता गया वैसे पोज़ देती रही। फिर रिया को ये बर्दाश्त के बाहर होने लगा।

रिया ने रमेश से कहा- प्लीज अब ना तड़पाओ, देखो चूत से कितना पानी चू रहा है. अपनी रंडी बेटी को आपने कितनी चुदासी कर दिया है. लंड की प्यास बढ़ती जा रही है डैडी. अगर आपने अब लंड नहीं डाला तो मैं खुद ही उठ कर आपके लौड़े पर बैठ जाऊंगी.

रमेश- अच्छा, आ जा साली कुतिया आ। ये काम अभी पूरा नहीं हुआ है। तुम्हारी और तस्वीरें लेनी है मगर बाद में लेंगे इससे भी मज़ेदार तरीके से। अभी प्यास बुझा ले अपनी चूत में लंड लेकर मेरा।

रिया कुतिया की हालत में थी. उसने रमेश की ओर घूम कर अपने चूतड़ों पर एक कसकर थप्पड़ मारा और बोली- दे दो अपना लौड़ा मेरी चूत में डैडी।

रमेश भी घुटनों पर आकर रिया के चूतड़ों के पीछे आ गया जिससे उसका लण्ड रिया की चूत से टकरा रहा था। रमेश ने अपने लण्ड पर थूका और पूरा मल दिया। फिर उसने रिया की चूत पर थूका, जिसकी जरूरत ही नहीं थी क्योंकि रिया की चूत पहले से ही काफी चिकनी हो चुकी थी।

रिया की चूत का रंग उसके शरीर से गहरा सांवला था. उसकी चूत पर हल्के बाल होने की वजह से वो और भी मस्त लग रही थी. उसकी चूत चमचमा रही थी। रमेश ने उसकी चूत की फांकों को अलग किया तो अंदर से गुलाबी दिखने लगा।

रमेश ने रिया की चूत पर अपने लौड़े का शिश्न छुआ दिया। रिया की सिसकारी निकल गयी। रमेश ने फिर उसे हटा लिया और आगे करके फिर से छुवाया।

रिया पीछे मुड़कर बोली- हटा क्यों लिया?
रमेश हँसकर बोला- दो ही दिन में मेरे लण्ड की आदत लग गयी है, क्या बात है?
रिया- शैतान कहीं के! बेटी को तड़पा रहे हो। अरे पेलो ना डैड!

रमेश- जैसी तुम्हारी मर्ज़ी, डार्लिंग।
लण्ड को धीरे से रमेश अब रिया की चूत में घुसाने लगा. रिया को अपनी चूत में जाता हुआ लंड बड़ा ही आनंददायक अहसास देने लगा. उसके मुंह से लम्बी सी आह्ह निकल गयी- आहहहहहह … डैडी … आपका लण्ड … आह्ह।

लण्ड को रमेश ने अभी आधा ही घुसाया था. उसे अपनी बेटी की चूत में लण्ड घुसाने में स्वर्ग सा आनंद लग रहा था। चूत अंदर से गर्म थी जैसे लण्ड के स्वागत के लिए चूत ने तैयारी कर रखी हो।

चूत को लण्ड का पूरा पूरा अहसास हो रहा था. रमेश ने जैसे ही लण्ड को पूरा उतारा तो रिया उन्माद में भर कर सिसकारी- उफ्फ … कितना भरा भरा महसूस हो रहा है आपका लंड डैडी। ये लंड आज थोड़ा बड़ा लग रहा है … आह्ह … लंड का मजा कितना सुखदायी होता है डैडी।

रमेश- लण्ड तो वही है साली रंडी, पर आज जो तुमने मॉडल की तरह जो फोटोज़ खिंचवाई है ना, उससे और कड़क हो गया है ये।
रिया- पता नहीं डैड, जो भी हो लण्ड से मेरी चूत पूरी भर चुकी है.

अब रमेश ने रिया के बालों को गुच्छा बना कर कस कर पकड़ लिया और उसकी चूत में धक्के मारने लगा. रिया भी अपनी कमर से पीछे धक्के लगा रही थी।

रमेश रिया को अभी प्यार से धक्के लगा रहा था। रमेश की नज़र रिया की गांड के छेद पर गयी। उसने रिया से बिना बताए अपनी एक उंगली को उसकी गांड में घुसा दिया।

रमेश- ऊफ़्फ़ … ये गांड कितनी टाइट है!
रिया की आवाज़ में धक्कों की वजह से कंपन थी- मुझे पता था कि तुम फिर से इसकी डिमांड करोगे. आजकल मर्द औरतों की चूत के साथ गांड जरूर चोदते हैं. चुदाई का ये नया स्वरूप आ गया है. चूत के साथ सबको गांड कॉम्पलीमेंट्री चाहिए. तुम भी चोद लेना मगर पहले चूत मारो मेरी।

रिया के कहने पर रमेश अपनी स्पीड बढ़ाता जा रहा था। रिया मस्ती में चुदवा रही थी। इस तरह रमेश रिया की गांड में भी उंगली तेज़ी से कर रहा था। दोनों एक दूसरे को खुश करने में लगे थे।

रमेश ने रिया की गांड से उंगली निकाली और अपनी उंगली को सूंघने लगा। रमेश ने जैसे ही उसे सूँघा मानो पागल हो उठा और खूब ज़ोरों से धक्के मारने लगा। रिया की गांड की खुशबू ने उसको दीवाना कर दिया था.

अब रिया भी बहुत ज्यादा कामुक हो उठी थी क्योंकि बढ़ते धक्के उसकी चूत में और ज्यादा आनंद दे रहे थे. उसकी चूत पर उसका कंट्रोल नहीं रह गया था. उसकी चूत धीरे धीरे रिया को परम सुख की ओर ले जा रही थी.

रमेश के धक्कों से चूत के अंदर का लावा फूटने लगा और रिया चीखते हुए झड़ गयी। रमेश ने महसूस किया कि रिया की चूत जैसे उसके लण्ड को निचोड़ रही हो। उसके लण्ड पर चूत का सारा रस निकल गया, पर रमेश ने किसी तरह लण्ड को झड़ने से रोक ही लिया।

रिया फर्श पर ढेर हो गयी, जैसे उसके शरीर में कुछ बाकी ही ना रहा हो।
रमेश भी रिया के ऊपर लेट कर थोड़ी देर शांत होकर लेट गया। वो जानता था कि रिया की गांड मारने में जल्दी करेगा तो ज्यादा देर तक नहीं मार पायेगा।

रिया मुस्कराते हुए लेटी हुई थी। रमेश उसके बालों को सहला रहा था।

कुछ देर तक ऐसे ही लेटने के बाद रमेश उठा और फर्श पर ही बैठ गया। रिया में उठने की हिम्मत ही नहीं थी। रमेश ने उसे उठाया और अपने सीने से लगा लिया। रिया ने आंखें आधी खोलीं और रमेश को देख कर हल्का मुस्कराई।

उसके चेहरे को देख कर रमेश बोला- क्या बात है साली रंडी। थक गई क्या? क्यों साली रंडी की बच्ची … अभी इतनी ही चुदाई में तेरी गांड फट रही है? अभी तो मुझे तेरी गांड की ऐसी चुदाई करनी है कि साली तू जमीन से उठ भी नहीं पायेगी. तेरी गांड में मैं अपना लंड पूरा पेल के रहूंगा और तुझे बताऊंगा कि एक रंडी का क्या काम होता है.

यह कह कर रमेश ने रिया की गांड पर एक लात मारी और रिया गिर गयी.

मगर रमेश ने फिर से रिया को उठाया और उसकी गांड पर दो-तीन थप्पड़ लगाये और बोला- अभी ठीक से अपनी गांड को मेरे लंड के सामने रख दे क्योंकि तेरी गांड मुझे बहुत पसंद है।

रमेश- फ्री के पैसे नहीं दिए मैंने. तेरी गांड मारने के लिए ही पैसे दिए हैं. तुझे जितनी ज्यादा तकलीफ होगी मुझे उतना ही ज्यादा मज़ा आएगा।
ये कह कर रमेश ने रिया की गांड में थूक दिया और अपनी दो उंगलियों से रिया की गांड के छेद को ढीला करने लगा.

जब रिया की गांड कुछ खुल गई तो तब रमेश ने अपने मोटे लंड को रिया की गांड में एकदम से पेल दिया. रिया एकदम से जोर से चिल्लाई और नीचे गिर गयी. मगर रमेश को कोई फर्क नहीं पड़ा.

उसने दो-तीन थप्पड़ रिया की गांड पर लगाये जिससे रिया फिर उठ गयी. फिर रमेश ने दोबारा से उसकी गांड चुदाई शुरू कर दी. वो इतनी बेदर्दी से उसकी गांड को चोदने लगा जैसे कि वो उसकी बेटी ना होकर कोई सचमुच की रंडी हो.

रिया को समझ में नहीं आया कि उसका बाप इतना जालिम कैसे हो सकता है? वह दर्द को बर्दाश्त करने लगी.

कुछ ही देर की चुदाई के बाद रिया को थोड़ा मजा आने लगा. वह गांड को पीछे धकेल धकेल कर अपनी गांड मरवाने लगी. रिया को गर्म देखकर रमेश ने रिया की गांड पर थप्पड़ों की बरसात कर दी.

लगातार थप्पड़ लगने से रिया की गांड पूरी लाल हो गयी. रमेश पूरे जोर जोर से रिया को चोदने में लगा हुआ था. 1 घंटे तक रिया की गांड मारने के बाद रमेश ने अपना पूरा माल रिया की गांड में गिरा दिया.

रमेश ने रिया को कुतिया ही बने रहने के लिए बोला. इससे रिया की गांड से रमेश के लंड का वीर्य धीरे धीरे बहता हुआ नीचे आने लगा और बाहर गिरने लगा. रमेश ने रिया को नीचे गिरा हुआ वीर्य चाटने के लिए कहा.

रिया ने वीर्य को चाटने से मना कर दिया लेकिन रमेश ने फिर उसे दो थप्पड़ लगा दिये. रिया फिर अपनी जीभ लगा कर अपनी ही गांड से निकले वीर्य को चाटने लगी.

इस सीन को देख कर रमेश उसकी वीडियो बनाने लगा.
वो बोला- वाह … साली। तेरी जैसी दो टके की रंडी कहीं नहीं मिलेगी जो अपनी ही गांड से निकले हुए वीर्य को फर्श पर से चाट ले. मुझे पूरा विश्वास है कि देश में तेरे जितनी बड़ी रंडी शायद कोई नहीं होगी. चल अब मेरे लंड पर लगे हुए माल को भी चाट जा। चल … चाट साली कुतिया।

रिया ने कुतिया बनकर अपने डैड के लंड पर लगे माल को किसी पालतू जानवर की तरह अपनी जीभ से चाट चाट कर साफ कर दिया. रमेश उठकर कुतिया बनी रिया की गांड देखने लगा.

रमेश- वाह … साली रंडी। तेरी गांड कितनी खूबसूरत लग रही है। चुदकर पूरी खुल गयी है। अंदर का गुलाबी हिस्सा अब बाहर से भी दिख रहा है। दस मिनट में ही मेरे लण्ड ने इसकी खूब खबर ले ली।
उसने उसकी गांड में उंगली घुसाते हुए कहा।

रिया- मेरी इस चुदी हुई गांड की एक फोटो ले लो डैडी, अच्छा रहेगा.
रमेश- हां. सही कहा.
रमेश ने फौरन कैमरे से रिया की गांड की तस्वीर ले ली। उसने रिया को गांड फैलाने के लिए कहा.

रिया गांड फैला कर लेट गयी. रमेश ने कभी करवट लेते हुए उसकी फोटो निकाली तो कभी पेट के बल लेटा कर उसकी नंगी गांड को कैमरे में कैद किया.
काफी फोटो लेने के बाद वो बोला- चल मेरी रंडी बेटी, अब मेरे लिये खाना लगा दे.

वो उठी और डैड का हुक्म मानते हुए तैयारी करने लगी.
गन्दी कहानी हिंदी में अगले भाग में जारी रहेगी. कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें.
[email protected]

More Sexy Stories  चूत चीज़ क्या है… मेरी गांड लीजिए-3