दोस्त की ज़ोरदार गांद चुदाई

हेलो फ्रेंड्स! मैं आर्यन हू. मैं बंगलोर का रहने वाला हू. मैं इस का बहुत बड़ा फॅन हू. सेक्स स्टोरीस पढ़ कर मुझे भी ख़याल आया की क्यूँ ना मुझे भी अपनी कहानी शेर करनी चाहिए. सो मैं अपनी पहली सच्ची कहानी शेर करने जा रहा हू! ये कहानी मेरे इंजिनियरिंग कॉलेज लाइफ की है. मैं कॉलेज मे अड्मिशन लेते ही लड़किया खोजने लगा बट सब एंगेज्ड निकली या कमिटेड निकली. लेकिन एक दिन कॉलेज मे एड देते हुए मैं एक नयी लड़की को आते देखा. वो लड़की का नाम दीपिका था. वो कोलकाता की रहने वाली थी. देखने मे असली दीपिका पादुकोण से भी सुंदर. एक टाइट कुरती और लेगैंग्स पहन रखी थी. वो कुरती सफेद रंग की थी और हल्की सी ट्रॅन्स्परेंट भी थी. उसमे उसके चूचियों का उभार समझ आ रहा था. वो मटक मटक के चलती थी मानो गॅंड उसकी पतली कमर से अलग हो जाए.

मेरे एक दोस्त ने झट से कहाँ, “इसको तो कुतिया मापी चोद. क्या गॅंड है इस रंडी का!” मैने अपने दोस्त को लाफा मारा और कहा, “हरामी, भाभी है तेरी.” उसका फिगर तो क़यामत था. 36-28-36 का बॉडी फिगर था. उसके चूचियाँ देखकर ऐसा लगता था की ये सारे लड़को को दूध सप्लाइ करती है. बहुत ही बड़े थे. मन कर रहा था की उसकी कुरती फाड़के उसे नंगा कर चूचियाँ मसल मसल के सारा दूध निगल जाउ. मैं पहले दिन से इसे चोदने का प्लॅन बनाया. मैं भी ठीक ठाक दिखता था. मैं एक नं. का हरामी, लेकिन दिखने मे बहुत शरीफ था. इसलिए सब मुझपर जल्दी विश्वास कर लेते थे. तो लॅब मे एक दिन मुझे पता चला की उसका पहले बाय्फ्रेंड भी रह चुका है. मेरा दिल वही टूट गया था. मैने तो इसे अपना जीएफ़ बनाने का सोचा था. और मैं दीपिका की मोटी चुतताड (गॅंड) मारने के सपने देखता था.

मैने एक प्लॅन बनाया की जीएफ़ ना सही, इस टनाक माल को तो चोद के ही छोड़ूँगा. मुझे दीपिका अपने एक्स-बीएफ के सारी बातें बताती थी. मुझे पता चला की उसका बीएफ एक नं. का गंजेली था. दीपिका को बहुत मारता था. तो एकदिन एक पार्क मे मैने पूछा, “क्यूँ? वो तुम्हे क्यूँ मारते रहता है.” उसने पहले हिचकिचाया. मैने उसका हाथ पकड़ा, और फिर वो रोते हुए बोली, “वो ड्रिंक करते हुए मेरे घर पे आ जाता है रात को. और मुझे… और मुझे ज़बरदस्ती चोदता है.” पब्लिक्ली चूचियाँ दबा देता था. बस मे वो और उसके दोस्त मिलके उसे चोदा भी करते थे. मैने पूछा तो तुम घर पर कुछ क्यूँ नही बोलती थी. वो बोली की वो अकेली पड़ जाती थी, इसलिए वो बीएफ को बुला लेती थी. उसे सेक्स करना अछा लगता था लेकिन उसका बीएफ नशे मे नही कर पता था. बाद मे वो उसके घरवालो ने उसका शादी एक इंजिनियर से फिक्स करवा दी. वो रोते रोते मेरे गले लग गयी.

More Sexy Stories  स्टोरी रीडर को दिया सेक्स का परम आनद

उसके बूब्स मेरे चेस्ट मे दब रहे थे. ऐसा अहसास ज़िंदगी मे ना हुआ, मेरा 3 इंच का लंड 7 इंच लंबा हो गया. और गले लगते हुए मैं ईक हाथ उसके बड़े बड़े गोल गोल गॅंड पे रख दिया. मेरा लंड बेताब हो रहा था. बट वो फॅमिली पार्क था इसलिए हम अलग हो गये. मैं उसे गर्ल्स हॉस्टिल ड्रॉप कर के चला गया. मुझे उस्दीन बहुत बातें पता चली की दीपिका का बीएफ बहुत कमीना था. मैं बहुत अछा था. उसे सेक्स करना बेहत पसंद था. और मुझे तो उसे चोदना ही था. सेमेस्टर एग्ज़ॅम्स ख़तम हो रही थी. और मैं रोज़ दीपिका के नाम का मूठ मारता था. मैने बोला की छुट्टियों पे एक कंप्यूटर कोर्स कर लेते है. दीपिका मेरा कोई बात नही टाल सकती थी. तो कोलकाता मे एक ट्रैनिंग इन्स्टिट्यूट पर हम क्लास करने लगे. बट एक दिन क्लास बहुत रात तक हो गया.

तो उसके घर जाने का लास्ट बस मिस हो गया. उसका घर बहुत दूर था, और उसके पापा भी शहर मे नही थे. तो मैने उसे कहा की तुम मेरे साथ पीजी मे रुख़ जाओ. वो पहले हिचकिचाई. फिर घर मे बोली की वो एक फ्रेंड के घर पे है. मैं बहुत एग्ज़ाइटेड था की आज मुझे चोदने का मौका मिलेगा. तो हम दोनो बाहर ही खाना खा लिए थे. रूम मे घुसते ही मैं बाथरूम मे चला गया. फ्रेश होके निकला तो उसे बोला तुम भी फ्रेश हो जाओ. वो बाथरूम चले गयी. लेकिन टॉवेल लेना भूल गयी. तो दरवाज़ा खोला और टॉवेल माँगा. उसे देख कर मेरा खड़ा हो चुका था, वो ब्लॅक ब्रा मे थी. उसके बूब्स बहुत बहुत बड़े थे. 19 साल की लड़की के इतने बड़े बड़े बूब्स, फिर याद आया की ये बहुत दबवाई है. मुझे उसे बस चोदना था. मन मे बस यही ख़याल आ रहा था की इसे कैसे चोदा जाए. वो बाथरूम से निकली और मैने उसे अपना एक टी-शर्ट दे दिया.

More Sexy Stories  मेरे ही दोस्त मेरी मेरी सगी बहन के साथ क्या सेक्स

उसके पास टॉप नही था. टी-शर्ट से उसके निप्पल्स नज़र आ रहे थे. उसने अपना ब्रा खोल लिया था. मैने कहा की चलो मूवी देखते है. वो मान गई. मैं लॅपटॉप पे “राज़” मूवी लगाया, वो मेरे आगे और मैं उसके पीछे बिस्तर पे बैठा था. एक सीन में वो डर गई और पीछे आ गयी और मैने उसे पकड़ लिए. उसे डर लग रहा था इसलिए मैने उसे कासके पकड़ लिया. मैने अपने गाल से उसके गाल मे सटा रहा था. और अपने हाथ उसकी पेट पे रखा था. उसे बहुत गुदगुदी सा हो रहा था. मुझे ग्रीन सिग्नल मिल रहा था. मैने फिर उसकी कान पे धीरे से बोला,”अब डर नही लग रहा है ना?” उसकी साँसे तेज़ हो रही थी. मैने अपने जिब से उसकी कान चाटना शुरू कर दिया. और मेरे हाथ उसकी लेफ्ट बूब्स दबा रहे थे. वो गरम हो रही थी. फिर मैने दोनो हाथो से उसके बूब्स को दबा रहा था. उसकी टी-शर्ट को उतारने के बाद.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *