देसी लड़की से मुझे मिल गया मेरा सच्चा प्यार

मेरी प्रिय साइट अन्तर्वासना पर हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ने वाले मेरे दोस्तो, आप सबको मेरा प्यार भरा नमस्कार।
मेरा नाम राज है मैं श्री गंगानगर से हूँ। मैं देखने में ज़्यादा आकर्षक तो नहीं हूँ पर मेरे हथियार का साइज़ औसत से काफी बड़ा है। मेरा कद भी पौने छह फुट का है। मैं बीए के सेकंड ईयर का स्टूडेंट हूँ।

मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ। आज मैं अपनी पहली और सच्ची कहानी लिख रहा हूँ।

यह बात पिछले महीने की है, मैं जॉब की तलाश में था।
मुझे सरकारी नौकरी की तलाश थी। साथ ही मुझे अपने रिज़ल्ट का भी इन्तजार था।

तभी मेरे एक फ्रेंड ने मुझे कोचिंग ज्वाइन कर लेने की सलाह दी। जिस कोचिंग के लिए उसने मुझसे कहा था उसमें मेरे कई साथी भी आ रहे थे।
मैंने उसके कहने पर कोचिंग ज्वाइन कर ली।

मैं पहले दिन गया.. तो मेरा परिचय उधर पढ़ने वाले लड़के-लड़कियों से हुआ। जैसे-जैसे मैं कोचिंग जाता रहा, वैसे-वैसे मैं उन सब में घुल-मिल गया।

मेरे दस दिन बाद अमृता ने क्लास ज्वाइन की।

पहले मैं आपको अमृता के बारे में बता देता हूँ। अमृता मेरे साथ 12वीं तक पढ़ी है.. पर मैंने कभी उससे बात नहीं की।
वो मुझे फेस और नाम से जानती है।

वो बड़ी कमाल की चीज है।
उसके क्या चूचे हैं.. आगे से देखो तो लौड़ा खड़ा हो जाए। पीछे से उसकी उठी हुई गांड लौंडों के हथियारों में आग लगा दे।
मतलब वो एक माल थी जिसे देख कर हर किसी का उस पर दिल आ जाए।

मैं उससे पहले से प्यार करता हूँ.. पर झिझक के मारे मैंने उससे अपने दिल की बात को कभी कहा नहीं।

अब मैंने दिल में ठान लिया कि अब मैं उसे प्रपोज करूँगा।

पहले जब मैं 12वीं में था तो शारीरिक रूप से अच्छा नहीं लगता था मैं थोड़ा दुबला-पतला सा था। मेरा आत्मविश्वास भी कमजोर था, पर अब मैं जिम में कसरत करने लगा हूँ जिससे मुझे खुद में अच्छा लगने लगा है।

अब मैं कोचिंग क्लास में भी ज़्यादा खुल कर रहने लगा हूँ। टीचर जी कुछ पूछते हैं तो मैं फट से जबाव देता हूँ..
सब मेरी हाजिर जवाबी से खुश थे।

अमृता भी क्लास में सबसे होशियार थी। वो कुछ बोलती तो मैं उसे ताकता.. उसे गुस्सा आता।
मुझे उससे पंगे लेने में मजा आता, वो मुझसे तंग सी आ गई थी।

मैं उसके सामने बैठने लगता.. तो वो जगह चेंज करती रहती।
मैं रोज ही उसे तंग करता।

एक दिन उसने मुझसे प्यार से बात की। मैंने उससे नोट्स माँगे उसने दे दिए। मैंने सोचा अब वो शायद मुझसे प्यार करने लगी है।
उस दिन मैंने सोच लिया कि आज तो उसे ‘आई लव यू’ कह ही दूँगा।

मैं इन्तजार कर रहा था कि कब क्लास से छुट्टी हो.. और मैं उसे ‘आई लव यू’ कहूँ।

जब क्लास से छुट्टी हुई.. तो सब बाहर आ गए। वो भी बाहर आई.. वो अकेली ही अपने घर जाती थी।

More Sexy Stories  लड़कियों की आजादी लेकिन किस कीमत पर?

मैंने मौका देखा.. उसके सामने गया और नीचे गर्दन झुका कर उससे कहा- अमृता, मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ।

उसे अचानक गुस्सा आया.. उसने मुझे थप्पड़ मारा और ज़ोर-ज़ोर से गालियाँ देने लगी।
सब लड़कियां, टीचर, लड़के वगैरह देखने लगे।
मैं तो वहाँ पानी-पानी हो गया।

वो बोलने लगी- मैं आपसे प्यार नहीं करती, अपनी शक्ल देखो.. मुझे मेरे माँ-बाप की इज्जत का ख्याल है।
सब मुझसे आकर पूछने लगे- क्या हुआ?

मुझे गुस्सा आया.. मैंने बाइक में किक मारी और घर आ गया।

मैं घर तो आ गया.. पर मेरा दिल उदास रहने लगा। मैं दुखी रहने लगा।

अब मैं कोचिंग भी नहीं जाता.. जाऊँ भी तो किस मुँह से।

पापा-मम्मी पूछने लगे कि जाता क्यों नहीं कोचिंग.. तो कुछ बहाना करके उन्हें टाल देता।
रोज सर का फोन आता.. फ्रेंड के फोन आते.. मैं उनसे बात ही नहीं करता।

एक दिन सर ने पापा को फोन कर दिया। पापा ने मुझे अगले दिन कोचिंग भेज दिया।

मैं गया.. सब मुझे देखने लगे। सब पूछने लगे कि क्या हुआ था?
मैं चुप रहा, कुछ नहीं बोला।

दिन गुजरते गए.. अब मैं क्लास में चुप रहता। सर कहते कि जो हुआ सो हुआ राज.. भूल जा उसे.. यार तू तो रौनक है क्लास की.. यार तू चुप मत रहा कर।
फ्रेंड भी मुझे कहने लगे, पर मैं उदास रहता।

अमृता को कोई फ़र्क नहीं पड़ा इस बात का.. वो खुश रहती।

मेरा बर्थडे आया.. दोस्तों के जिद करने पर मैंने सबको पार्टी दी.. क्लास में समोसे बंटे।
मैं समोसे बाँट रहा था.. तो जब मैं अमृता के पास पहुँचा.. तब तक समोसे खत्म हो गए थे। मजे की बात ये थी कि सबको मिल गए.. मैं और अमृता ही रह गए थे।

सर ने कहा- राज जाकर और ले आ ना।

मैंने बाइक में किक मारी.. और समोसे लेने चला गया।
रास्ते में मैंने सोचा अब कुछ और लेकर जाऊँगा अमृता के लिए।

मैंने बरफी ली और आ गया।
सब पूछने लगे कि बरफी क्यों लाया।
मैंने कहा- समोसे खत्म हो गए थे।

मैंने बरफी रख दी.. अमृता की सहेली ने बरफी अमृता को दी, उसने खाने से मना कर दिया।
मेरा दिल फिर उदास रहने लगा।

दिन गुजरते गए.. एक दिन अमृता कोचिंग क्लास से घर जा रही थी।
अचानक एक बाइक वाले ने उसे टक्कर मार दी।
मैं भी घर जाने के लिए तैयार था, उसी समय मैंने देखा कि अमृता का एक्सिडेंट हो गया है।

मैं भागा.. उसे अपनी बांहों में लिया और बाइक के पीछे बिठाया.. उसके पीछे उसकी एक फ्रेंड को बिठाया और उसे नजदीक के हॉस्पिटल ले गया।

डॉक्टेर ने पट्टी की.. उसके सिर पर काफ़ी चोट लगी थी। कुछ देर बाद उसे होश आया।
डॉक्टर ने कहा- ये ठीक है.. अब इसे ले जा सकते हो।

मैंने उसे पकड़ा और आराम से बाइक पर बैठा कर उसे घर ले आया।

उसकी माँ उसके सर पर पट्टी देख कर डर गईं।
मैंने सब बात बता दी।

More Sexy Stories  पहली चुदाई में मेरी जानम की चूत सूज गई

इसके बाद मैं जाने लगा और मैंने कहा- ठीक है, अमृता अब मैं चलता हूँ।
मैं घर जाने लगा तो उसकी माँ ने कहा- बेटा चाय तो पीकर जा।

मैंने अमृता का मुँह देखा और मना करके घर आ गया।

घर आकर मैं रोने लगा.. मेरा दिल उदास था।
दिल कर रहा था कि फिर से अमृता के पास चला जाऊँ पर मन नहीं मान रहा था।

इसके बाद अमृता कोचिंग में दस दिन बाद आई।
उसने मुझे ‘थैंक्स’ भी नहीं कहा।

जबकि सर ने मुझे शाबासी दी थी और अमृता से कहा भी कि उसको थैंक्स तो कहो पर उसने मुझे कुछ नहीं कहा।

दिन गुजरते गए।

एक दिन अमृता और उसकी फ्रेंड घर जा रही थीं, मैं उन दोनों के पीछे चल रहा था।

तभी मैंने देखा कि पीछे से दो गाय तेज रफ्तार से भागी आ रही थीं। मैं समझ गया कि ये पक्का उन दोनों को टक्कर मारेंगी। मैं तेजी से भागा.. गाय मेरे पीछे थीं। मैंने अमृता और उसकी फ्रेंड को धक्का मारा.. वो दोनों साइड में गिर गईं..

पर तब तक एक गाय ने मुझे टक्कर मार ही दी, मैं सड़क पर ज़ोर से गिरा, मेरे हाथ पर चोट लगी।

सब दौड़ कर मेरे पास एकत्र हो गए। मुझे कुछ पता नहीं.. मैं कैसे हॉस्पिटल पहुँच गया।

जब मेरी आँखें खुलीं.. तो अमृता और बाकी सब सामने थे।
सब मुझसे पूछ रहे थे कि कैसे हो..
अमृता ने भी पूछा।

मेरे हाथ पर ज़्यादा लगी थी।
मेरे पापा-मम्मी भी आ गए.. और भी सब लोग आ गए थे।

डॉक्टर ने कहा- इसे दस दिन हॉस्पिटल में रहना पड़ेगा।

वो दस दिन मैं कभी नहीं भूल सकता। अमृता रोज मुझसे मिलने आती.. फल लाती।

एक दिन अमृता को उसकी फ्रेंड ने मेरे सामने हॉस्पिटल में कहा- राज तुझसे कितना प्यार करता है.. और उसने तेरे लिए जान की बाजी लगा दी है और तुम?
उसकी सहेली यह कह कर चली गई।

अमृता भी बिना कुछ कहे वहाँ से चली गई।

अगले दिन अमृता अकेली हॉस्पिटल में आई और मुझे गले से लगा लिया.. रोने लगी ‘आई लव यू राज.. आई एम सॉरी.. मुझे माफ़ कर दो..’ वो मुझे चूमने लगी।

मैंने कहा- रो मत प्लीज़.. आई लव यू टू!
मैंने उसे माफ़ कर दिया।

मैं ख़ुशी के मारे पागल हो गया था।

मुझे अगले दिन छुट्टी मिल गई.. मैं ठीक हो गया था।

जब मैं अगले दिन कोचिंग गया.. तो देखा कि अमृता ने सलवार सूट पहना हुआ था.. वो परी लग रही थी।
मेरा प्यार मुझे मिल गया था।

मेरी कहानी आगे बढ़ने लगी और साथियों प्यार में वो सब भी हुआ जो आप अन्तर्वासना की अन्य कहानियों में पढ़ते हो।

मैं अपनी अमृता के लिए वो सब नहीं लिख सकता क्योंकि मैं उसे प्यार करता हूँ।
आपके ईमेल का तलबगार हूँ।
[email protected]

What did you think of this story??