भरपूर प्यार से देल्ही भाभी की चुदाई की

Bhabhi ki Chudai kahani मेरा नाम राज है. मैं राजकोट का रहनेवाला हू. ये मेरी पहली देल्ही सेक्स इंडियन भाभी की चुदाई है जिसने मेरी ज़िंदगी मे काफ़ी बाहर आगयी थी. ये जो घटना आज से 8 साल पहले की है. मेरी कझन भाई था जो केशोद का रहनेवाला था. उसकी वाइफ नाम यासमीन से मेरी दोस्ती हो गई हम दोनो अच्छे दोस्त बन गये थे.

देर रात तक कभी कभी जब मौका मिलता हम बाते करते रहते थे. भाभी का मायका वंकनेर था जो की मेरे सिटी के बजुमे ही था. वो हर साल वेकेशन मे मायके आती थी तब हम देर रात तक बात करते थे और मेरी वाइफ भी अपने मायके जाती थी.

तो हम एक दिन मिले. एक रेस्टोरेंट मे मिले और हम एक दूसरे को पसंद करने लग गये. सच मे हम एक दूसरे के हो गये थे सच्चा प्यार करने लगे थे वो दो बच्चो की मा है और मैं भी 2 लड़को का बाप हू.

फिर हमारा प्यार काफ़ी परवान चढ़गया. हम कई बार मिलने लगे वो भी राजकोट आने के बहाने ढूँढने लगी और मैं भी केशोद के चक्कर काट रहा था.

एक दिन हम दोनो ने अपने पीर साहब की तस्वीर के सामने अपने आप को एक दूसरे को जीवन साथी चूनलीया मानो हम ने निकाह ही करलिया. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

तब एक दिन हमने एक होटेल मे कमरा बुक करवा के वही चले गये. हम वाहा जा के आराम से लेटे थे एक दूसरे की बाहो मे और एक दूसरे की आँखो मे खोए हुए थे उनकी ज़ुल्फो को मैं सहला रहा था उनके हाथ पकड़कर मैं उनको अटखेलिया कर रहा था.

पता नही कब हमारे होट एक हो गये और हम ने सब कंट्रोल खो दिया एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे और उनकी गर्दन पे बॅक नेक पे चेस्ट के उपर शोल्डर पे हर जगह मैं प्यार कर रहा था. उसने मेरी शर्ट निकाल ने बोला की इसे हटा दो प्लीज़.

मैने शर्ट निकाल दी और मैने उनकी कुर्ता को निकालना चाहा पर वो मुझसे नही निकली तो उसने उठके खुद ही निकाल ली और मैं उसको हर जगह चूमने लगा यासमीन भी अब गरम हो चुकी थी और मैं उनकी छाति के बीच मे अपना मूह छुपा के चूम रहा था.

फिर धीरे से मैने उसकी सलवार का नाडा खोल दिया वो बोली की राज क्या कर रहे हो मैने कहा तुम्हे पूरी तरह पाना चाहता हू तुम्हे अपना बनाना चाहता हू वो समझ गई मुझे अपनी बहो मे खीच लिया और मुझे काफ़ी सारी किस देने लगी.

तो मैने सलवार को सरका के दोनो पैरो से निकाल के फेक दिया और मैने भी अपनी जीन्स को खोल के उतार दी अब हम दोनो सिर्फ़ अंडरगार्मेंट्स मे ही थे. वो शर्मा रही थी पहली बार था. उसने वाइट ब्रा और पर्पल कलर की पैंटी पहनी थी और मैं तो वाइट ही यूज़ करता हू.

मैने बनियान निकाला और उसको अपने से सटा के काफ़ी सारा प्यार करने लगा उनकी आँखो मे देखते हुए उनके गुलाबी पंखुड़ी जैसे होटो के रस पी रहा था और उनके बूब्स दबा रहा था वो मचल उठती थी जब भी मैं बुब्स दबाता था तब.

More Sexy Stories  सेक्सी एयर होस्टेस्स की कामुकता

फिर मैने हाथ पीछे लेजाके ब्रा को खोल दिया और उनके दोनो बूब्स को आज़ाद कर दिया एक दम नरम मुलायम गोलाई और बड़े चुचे देख मैं खुशी से पागल हो गया और झट से मूह मे ले लिया और सक करने लगा वो तड़प उठी और मुझे आई लव यू आई लव यू कहने लगी.

मैने उनको बहो मे देर तक सक किया जब तक मन नही भरा तब तक वो भी मस्त होके पूरा साथ दे रही थी मुझे. फिर मैं किस करता हुआ हर जगह उनके पेट और जाँघो को चूमते हुए हर जगह घूम रहा था तभी एक दमसे मैने उसकी चुत पे अपना मूह रख के ज़ोर से सूंघने लगा.

वो एक दम से चीख उठी हाइईईईई करके और दोनो पैरो के बीच मे मेरे सिर को दबा दिया मैने देखा की उसकी पैंटी गीली हो गई है तो मैने धीरे से उतारी वो मना करने लगी पर मैं नही माना. और मैने आख़िर उतार ही दी अब वो पूरी नंगी थी मैं उसको चूमे जा रहा था मुझे पूरा साथ दे रही थी.उसने मेरा अंडरवेर को पकड़के उतारा और मेरा लंड हाथ मे लेके सहलाने लगी मुझे बड़ा मज़ा आने लगा था.

तब मैने धीरे से उसकी चुत पे ज़ीभ फेरनी शुरू की .दोस्तो मैं एक अछा पुसी सकर हू. मैं इस कदर उसको सक कर रहा था की वो कहा पहुच गई थी उसको भी नही पता था. थोड़ी देर बाद उसकी चुत से पानी निकलने लगा मैने सब पानी चाट लिया नमकीन टेस्ट अछा लगा. फिर वो खड़ी हो गई और हम 69 पोज़िशन पे आ गये.

और उसने अछे से लंड को चूसा और कसाव भी अच्छा देने की वजह से मेरा 7 इंच का लंड एक दम से टन गया. वो बोली की आज तुम मेरी बॅंड बजा दोगे तुम्हारे भाई का इतना बड़ा और शानदार नही है.

मैने कहा अछा तो तुम्हे मज़ा आएगा. फिर मैने उसको लेटा दिया और उसकी चुत पे लंड को सेट किया मुश्क़िल से थोड़ा हिस्सा ही जा पाया मैं हैरान था दो बच्चो की मा है नॉर्मल डेलिवरी हुई है.
फिर भी एक वर्जिन चुत. वो बोली की तुम्हारे भाई का बहोत छोटा और पतला है ना तो मेरी साइज़ इतनी ही रह गई है. मैं धीरे धीरे अंदर डालने लगा कसाव की वजह से मुझे भी दर्द हो रहा था पर आख़िर मे पूरा लंड अंदर डाल दिया उनकी आँखो मे आसू आ गये थे.

पर वो रुके हुए थी थोड़ी देर बाद मैने अंदर बाहर किया तो पानी का झरना फुट पड़ा और स्मूद्ली इन आउट होने लगे उसको भी मज़ा आ गया मैं शुरू से स्लो करता हू धीरे धीरे अपनी रफ़्तार तेज़ करता हू काफ़ी देर बाद मुझे लगा वो झड़ने वाली है तो मैने रफ़्तार बढ़ा दी और एक साथ मे ही हम दोनो ने अपनी पहली चुदाई एंजाय की एक साथ सातवे आसमान पे थे.

More Sexy Stories  भाभी ने अपनी कामुकता शांत की

थोड़ी देर ऐसेही रहने के बाद मैने लंड बाहर निकाला और उसको अपने पास खीच के बहोत प्यार और दुलार दिया. थोड़ी देर ऐसेही लेटे रहने के बाद हम दोनो के बीच काफ़ी बात चीत हुई. और फिर हम फिर से एग्ज़ाइटेड हो गये और एक दूसरे को चूमने लगे यासमीन तो मेरा लंड छोड़ ही नही रही थी.

उसने मेरे लंड को चुस्स चुस्स के लाल कर्दिया और बोल रही थी काश ये मुझे रोज़ मिले तो मज़ा आजाए मैने कहा ये तेरा ही है वो बोली राज तुमने मुझे जीवन का सच्चा सुख दिया है. फिर मैने उसकी चुत को आछे से सक किया अपनी जीभ को काफ़ी अंदर तक डाल के उसको खुशियो के आसमान तक पहुचाया.

वो पागलो की तरह कर्राह रही थी फिर वो मेरे उपर चढ़ गई और लंड हाथ मे लेके अपनी चुत पे रखके उसपे बैठ गई और धीरे धीरे उपर नीचे होने लगी. वो काफ़ी चूद्दास हो गई थी. दोनो बूब्स को उछाल उछाल कर मुझे चोद रही थी. अब शरम जैसी कोई चीज़ ही नही बची थी हमारे बीच मेरे होटो पे किस कर रही थी

और मैं उसके दोनो बूब्स को हल्के से दबा रहा था और कमर उठा के उसके धक्के को सही और करारा जवाब दे रहा था अब लंड पूरा का पूरा अंदर जा चुका था. चूत का कसाव इतना मस्त था की मानो ऐसा मन करता था की लंड को बाहर ही ना निकालु मैं.

फिर वो थकने लगी तो मैने उसको लेटा दिया और उसकी टाँग को मेरे कंधे पे रखके अपना लंड उसकी चुत पे लगाया और वापस अंदर डाल दिया और अब मैं उसको घनघोर तरीके से चोद रहा था मेरे हर झटके को वो खुशी से झूमकर एंजॉय कर रही थी.

उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था पर मैं अपना पूरा ज़ोर लगा के काफ़ी तेज़ी से उसको चोद रहा था. मेरा लंड स्टील का रोड हो चुका था वो अब ठहरने वाला नही था. हम दोनो एसी के होते हुए भी पसीने से नहा रहे थे पर दोनो बस एक दूसरे को लूट रहे थे नौच रहे थे. खा रहे थे.

मुझे अपना फीडबॅक देने के लिए कृपया कहानी को ‘लाइक’ ज़रूर करे, ताकि कहानियों का ये दौर देसी कहानी पर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

फिर एक दम से हम दोनो के जिस्म अकड़ गये और हम झड़ने लगे एक बार फिर हम एक साथ झडे थे सो मज़ा आगया था. वो और मैं अब निढाल हो चुके थे.फिर हम खड़े होके बाथरूम मे गये एक दूसरे को सॉफ किया और मस्त शोवर लेके बाहर आ गये फिर एक दूसरे को कपड़े अपने हाथो से पहनाए और काफ़ी देर तक हग किया और निकल गये.

आज 8 साल के बाद भी हमे जबभी मौका मिलता है मिलते है और मस्त चुदाई करते है. हम एक दूसरे को काफ़ी चाहते है पर मेरी ज़िंदगी मे उसके बाद कई सेक्स पार्ट्नर आई है. मैं सभी को अब भी चोद रहा हू.