मामी की फ्रेंड को घोड़ी बनाके चुदाई

हेलो दोस्तो, मेरा नाम रजत है और मैं जैपुर में रहता हूँ, मैं इंजिनियरिंग कर रा हूँ ओर मुझे आंटी एंड भाभी बोहोत पसंद है एंड मैं उनको सीक्रेट्ली मज़े भी देता हूँ फोन पे एंड टेक्स्ट पे, हिन्दी सेक्स स्टोरी

अब मैं आपको कहानी सुनाने जा रा हूँ, मैं सम्मर हॉलिडेज़ में अपनी नानी के यहा गया हुआ था और वाहा पे मेरी मामी भी रहती थी, एक दिन उनकी एक फ्रेंड आई थी जो टीचर थी स्कूल में मेरी मामी के साथ.

उनका नाम नेहा था एंड जब उनको पहली बार देखा तो मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था, पहली बार में ही उन्हे चोदने का मंन कर गया, उनकी अभी नयी शादी हुई थी और उनकी उमर करीब 26 साल होगी, उनके हज़्बेंड देल्ही मे जॉब करते थे.

और 1 हफ्ते में सॅटर्डे संडे आजाया करते थे इसलिए वो ज़्यादातर टाइम मेरी मामी के साथ ही गुजरती थी.वो रोज घर आती और मैं रोज सीक्रेट्ली उनकी पिक्स क्लिक कर लेता मेरे फोन में, क्या गॅंड थी, मन करता था बस कपड़े फाड़ के चढ़ जाओ और बूब्स तो 34 और चूसने का मन करता लेकिन बस दूर दूर से ही उनको देख कर खुश होता रहता और रात को उनके नाम की मूठ मार लेता.

एक दिन मामी किसी काम से बाहर चली गई और उसके थोड़े देर बाद ही नेहा भाभी आ गई, क्या सूट पहन रखा था, डीप नेक गला और उनके बूब्स का क्लीवेज आराम से दिख रहे थे, मैने अपने आप को संभाला और उनके पास गया, मैने बताया की भाभी तो नही हैं घर पे तो वो जाने लगी, मैने हिम्मत करके उनको घर ड्रॉप करने का पूछा, उन्होने थोड़ी ना-ना के बाद हा बोल दिया.

मैने बाइक स्टार्ट करी और उनके पीछे बैठते ही मेरे लंड को एहसास हो गया जैसे ही भाभी के बूब्स मेरी पीठ पर लग रहे थे मन कर रा था अभी भाभी को घोड़ी बना के चोद दूं, हम घर पहुँचे और भाभी उतर गई, मैने मन मे सोचा की कैसे भाभी के घर के अंदर जाओ.

तो मैने जानबूझकर बाइक गिरा दी और पैर पे लगने का नाटक किया, भाभी एक दम आई और मुझे उठाने में हेल्प करने लगी, भाभी मुझे अपने घर लेकर गई और सोफा पे बिताया, मैं खुश हो चुका था, शाम के 7.30 बज रहे थे और अंधेरा भी हो चुका था, मैने भाभी से कहा की अब मैं बाइक तो नही चला पौँगा मेरे पैर की वजह से तो मैने मामी को झूठ बोल कर भाभी के घर रुक गया.

More Sexy Stories  बहन को बर्थडे पर चुदाई का गिफ्ट

रात को खाना खाने के बाद भाभी मुझे कमरे तक छोड़ कर चली गई.

जैसे ही जाने लगी मैने भाभी से कहा, “नेहा भाभी, कमर में दर्द हो रा है”

भाभी बोली मूव लगा दूं तो मैने बोला, “हान लगा दो”

भाभी मूव लेकर आई और मैं उल्टा हो गया और मैने अपनी टी शर्ट थोड़ी उपर करली, भाभी साइड में बैठी और मैने मूव लगाना शुरू कर दिया.

जैसे ही भाभी के नरम नरम हाथ मेरे बॉडी पे लगते ही करेंट सा दौड़ने लगा, मेरा लंडा धीरे धीरे खड़ा हो रा था.

में एक दम से मुड़ा तो भाभी मेरे उपर गिर गई, उनके डार्क ब्राउन बाल मेरे फेस पे आगये और उनके बूब्स मेरी चेस्ट से चिपक गये, मैने भाभी को पकड़ा और धीरे से उपर किया और भाभी ने एक दम नॉटी सी स्माइल दी.

मैने भाभी का हाथ पकड़ा और उन्हे मेरे उपर लेटा लिया, मैने भाभी की चुन्नी हटाके साइड में रखी और भाभी का फेस पकड़ के उन्हे किस करना चालू कर दिया.

क्या रसीले होट थेंऐने अपना एक हाथ धीरे से उनके सूट के अंदर डाला और उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उनकी ब्रा बाहर निकाल दी, अब उनके बूब्स फ्री हो चुके थे और मेरी चेस्ट पे एक दम चिपक गए थे.

मैने भाभी का सूट उतरा और भाभी को बेड पे लेटा दिया और उनकी सलवार भी उतारदी और उनकी पैंटी उतार कर उन्हे नंगा कर दिया, मैने भी अपने कपड़े उतार दिए और उनके उपर आके उन्हे स्मूच करने लगा.
मैने भाभी के दोनो हाथ पकड़े और मेरे एक हाथ से उनके बूब्स को दबाना चालू कर दिया ओर उसकी सासे फास्ट हो रही थी….आह्ह्ह अह्ह्ह्ह्ह कर रही थी एंड हम दोनो को मज़ा आ रहा था.

मैं भाभी के बुबू को चूसने लगा, वो धीरे धीरे साँसे बढ़ाने के साथ “आआआआ ह्म्म्म्म आआआः” करने लगी, भाभी को मज़ा आना शुरू हो गया था.

मैने अपने जीब से उनके बूब्स के निपल पे फेरने लगा और उनके बूब्स पे लव बाइट करने लगा.
भाभी धीरे धीरे “आआआआह्ह ऊऊऊऊऊः राजातत्तत्त” करने लगी, मुझे भी मज़ा आने लगा और मैं उनके पेट पे किस करते हुए उनकी चुत पे पोहॉंच गया, क्या चुत थी एक हल्के हल्के बाल और रस भरी.

मैने धीरे से एक उंगली उनकी चुत में डाली और वो एक दम चिल्लाई “आआआआआः रजत” और मैने उनकी चुत को किस किया फिर अपनी जीब से उनकी चुत चाटने लगा.
भाभी की चुत बड़ी ही रस भरी थी और मैं अपनी जीब अंदर बाहर करने लगा और भाभी “आआआआः आआआआः रजत और रजत” करने लगी.

More Sexy Stories  शादी शुदा दीदी की गरम चुदाई की कहानी

मैने धीरे से भाभी की चूत के क्लिट को मेरे मूह में लिया और भाभी एक दम चिल्लाई “आआआआआआः धीरे रजत मारोगे क्या बट बोहोत मज़ा आरहा है रजत प्लीज़ करो जो भी तुम कर रहे, खा जाओ मेरी चूत को रजत”

मैं और एग्ज़ाइटेड हुआ और भाभी के लेग्स स्प्रेड करके उनकी चुत को और चाटने लगा, भाभी की चुत अब गीली हो चुकी थी , क्या रस था.

भाभी ने मुझे बेड पे लेटया और मेरे लॅंड को पकड़के हैंडजॉब देने लगी, और फिर अपने जीब से मेरे लंड चाटने लगी.

भाभी ने मेरा पूरा 7 इंच का लंड मूह में ले लिया और चूसने लगी, क्या ब्लोवजोब दे रही थी भाभी एक दम जन्नत जैसे, भाभी ने मेरे लंड चूसने के बाद मैने भाभी को घोड़ी वाली पोज़िशन में लाया.

मैने भाभी के बाल अपने एक हाथ में पकड़े और एक हाथ से उनके लटकते बूब्स, मैने अपना गरम लंड उनकी वेट चुत में डाला और भाभी एक दम “ह्म्म्म्म रजत आआआः” चिल्लाई.

फिर मैं भाभी को घोड़ी बनाके चोदना स्टार्ट किया, भाभी की धीरे धीरे सिसकिया तेज होने लगी और वो “आआआः आआआआः आआआः फक मी रजत आआआः चोदो मुझे और तेज और तेज रजत” कहने लगी.

मुझे जोश चॅड गया और मैं उन्हे और तेज चोदने लगा, भाभी की मोनिंग रुक ही नही रही थी, आआआआः और चोदो रजत आआआः उम्म्म्ममम.

फिर भाभी ने मुझसे कहा “रजत मुझे तुम्हारे लंड चूसना हैं और उसका मूठ पीना है” मैने भाभी को चोदा और जब मुझे पता चला की मेरा पानी आने वाला है.

मैने उनकी रसभरी चूत में से लंड निकाल के भाभी के हाथ में दे दिया, भाभी ने मेरे लंड को उपर नीचे करना शुरू किया और मेरा एक दम मूठ भाभी के मूह पे गया.

भाभी ने सारा मूठ मेरे लंड पे लगाकर चूसने लगी और सारा मूठ पी गई.

भाभी बोली, “उम्म्म बोहोत अच्छा था रजत, प्लीज़ मुझे कल भी चोदना रजत”

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि देसीकाहानी पर कहानियों का ये दौर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

और मैं अब जब भी मामी के यहा जाता हूँ तो नेहा भाभी को हमेशा चोद के आता, कई बार वो जैपुर भी आजाती हैं और हम एक साथ रॉल्प्ले करके उन्हे चोदता हूँ.