ट्रेन में मिली भाभी की चोदन स्टोरी

फिर हम दोनों उठे और टॉयलेट में चले गए. टॉयलेट के अन्दर जाते ही उसने मेरा कच्छा नीचे किया और एकदम से लंड उछल कर उसके सामने आ गया. अपने सामने खड़ा लंड देख कर उसकी आंखों में चमक आ गई. इतना बड़ा और मोटा लंड उसने शायद पहले कभी नहीं देखा था. वो झट से अपने मुँह में लंड लेकर चूसने लगी. मुझे तरन्नुम आ गई.

वो काफी देर तक लंड चूसती रही. वो अपने गले तक लंड ले जा रही थी … जिस वजह से उसकी गाढ़ी लार से मेरा पूरा लंड गीला हो गया था. उसके लंड चूसने से अब मेरा पानी निकलने वाला था.

मैंने उससे कहा- छोड़ दो … नहीं तो आपके मुँह में ही रस छूट जाएगा.

पर उसने लंड चूसना नहीं छोड़ा. नतीजा ये हुआ कि मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. वो भी बिना रुके मेरा पूरा पानी पी गई. उसने लंड को चाट कर अच्छी तरह साफ कर दिया. हम दोनों बाहर आ गए.

उधर ट्रेन के टॉयलेट में इससे ज्यादा कुछ कर भी नहीं सकते थे. किसी के भी आ जाने का खतरा था. ट्रेन भी अपने अगले स्टेशन पर पहुंचने वाली थी. सो कम्पार्टमेंट में भी चोदन का खेल नहीं हो सकता था. इसके अलावा उसकी बेटी भी सोई हुई थी.

हम दोनों ने अपने नंबर एक्सचेंज किए और अपनी जगह बैठ गए.

रिंकी ने कहा- दिल्ली पहुंचते ही मैं आपसे मिलने आउंगी.

जब तक हमारा गंतव्य नहीं आ गया, हम दोनों प्यार भरी बातें करते रहे … एक दूसरे को किस करते रहे. हम दोनों को जिस बात की आशंका थी, वही हुआ. अगले स्टॉपेज पर दो यात्री और हमारे कूपे में आ गए. इसके बाद हम दोनों अपनी अपनी बर्थ पर सो गए.

हम लोग अगली सुबह दिल्ली पहुंच गए. जाने से पहले उसने मुझे एक किस किया और कहा कि शाम को कॉल करती हूँ. मुझे आप बता देना कि कौन से होटल में रुके हो, मैं उधर ही आ जाउंगी.

More Sexy Stories  पड़ोसन भाभी की चूत मारी

मैंने उससे कहा- मैं पीतमपुरा में एक होटल में रुका हूँ.
उसे मैंने होटल का नाम बता दिया.

यह सुनते ही उसके मुखड़े पर एक प्यारी स्माइल आ गई.
उसने कहा- मैं आपके ठीक पीछे ही जाऊँगी, शालीमार बाग से इस होटल से बस 10 मिनट का ही रास्ता है.
फिर हम दोनों अपनी मंजिल की ओर चल दिए.

मैं भी होटल पहुंच कर सो गया. क्योंकि मैं बहुत थका हुआ था.

दिन में 2 बजे मेरी नींद खुली. मैंने खाने का आर्डर किया और नहाने चला गया. मैं नहा कर आया तब तक खाना भी आ चुका था. मैं खाना खा कर अपने काम में लग गया.

तक़रीबन 4:30 बजे रिंकी का कॉल आया- स्वीट हार्ट, क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- कुछ नहीं … बस आपके फोन का इन्तजार कर रहा था.
उसने कहा- मैं 30 मिनट में आपके पास आ रही हूँ.
मैंने उसे अपना रूम नंबर दिया और कहा कि आप इस रूम में आ जाना.

उसने ओके कहा और कॉल कट कर दिया. फिर उसके आने तक मैं अपने काम में लगा रहा.

ठीक 5:15 पर मेरे रूम की घंटी बजी. मैंने गेट खोला, तो सामने रिंकी खड़ी थी.
क्या बताऊं … वो इतनी गजब की खूबसूरत लग रही थी कि मेरा लंड खड़ा हो गया. उसने ब्लू कलर का सूट पहना हुआ था, वो भी पूरा बॉडी से चिपका हुआ था.

उसने होंठों पर गहरे लाल रंग की लिपस्टिक लगाई हुई थी. आंखों में आईलाइनर लगा था. देखने में लग रहा था मानो कोई हूर की परी खड़ी हो.
मैंने उसे अन्दर बुलाया और गेट लॉक कर दिया.

दरवाजा बंद करते ही मैं उससे चिपक गया और होंठों को किस करने लगा. हमारा किस काफी लम्बा चला. फिर अलग हो कर हम दोनों ने गहरी साँस ली.
तभी रिंकी ने मुझे बेड पर धक्का दे दिया और रिंकी मेरे ऊपर आ गई. वो भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ी.

More Sexy Stories  निशा भाभी की मस्त चुदाई

धीरे धीरे उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए. मैंने भी उसका कुरता उतार दिया और सलवार का नाड़ा खोल कर उसे भी अलग कर दिया. अब वो सिर्फ ब्लैक कलर की ब्रा और पैंटी में मेरे सामने थी.

मैं उसकी रेशमी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मे दबा रहा था और उसके होंठों को किस कर रहा था. कुछ ही पल बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल कर ब्रा भी अलग कर दी. उसके बड़े बड़े मम्मे पिंजरे से आजाद हो गए थे. उसके मदमस्त एकदम शेप्ड मम्मों को यूं खुली हवा में फुदकता देख कर मुझसे रहा ही नहीं गया और मैं मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा. उसके मुँह से मदभरी चीखें और सिसकारियां निकल रही थीं.

फिर मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी. वो अब तक काफी गर्म हो गई थी. उसकी चुत से झरना सा बह रहा था. मैंने उसका एक दूध अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा. साथ ही मैं 2 उंगलियां उसकी चुत में डाल कर अन्दर बाहर कर रहा था, जिससे वो और भी ज्यादा गर्म हो गई थी. उसकी चुत ने और भी ज्यादा पानी बहाना शुरू कर दिया था.

कुछ देर बाद हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए. उसने मेरे मुँह पर अपनी चुत रख दी और मेरे लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी. उसकी चुत चूसते हुए, कभी मैं उसकी चुत के दाने को सहला देता, कभी पूरी जीभ उसकी चुत में डाल देता, जिससे वो देर तक काबू न कर सकी और झड़ गई. मैं उसकी चुत का पानी पूरा पी गया. वो भी मेरा लंड पूरी स्पीड से चूस रही थी, जिससे मेरे भी सब्र का बांध टूट गया और मैं उसके मुँह में झड़ गया.

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *