कॉलबॉय के साथ अमेरिका में सुहागरात का मजा-1

This story is part of a series:


  • keyboard_arrow_left

    कॉल ब्वॉय के साथ बितायी पूरी रात


  • keyboard_arrow_right

    कॉलबॉय के साथ अमेरिका में सुहागरात का मजा-2

  • View all stories in series

मेरी पिछली सेक्स कहानी
कॉल ब्वॉय के साथ बितायी पूरी रात
में आपने पढ़ा कि मैंने अपने पति के बाहर जाते ही एक बढ़िया कॉलब्वॉय सुहास के साथ पूरी रात चुदाई की और फिर फ्लाइट लेकर उसके साथ कैलीफोर्निया आ गई मौज मस्ती करने!

अब आगे:

वहां एयरपोर्ट पर हमें होटल की कार लेने आ गयी थी. मैंने ऑनलाइन ही होटल की बुकिंग करवा ली थी. हम दोनों को लेने के लिए एक पिकअप कैब आ गई थी.

उसके बाद हम दोनों होटल पहुंच गए. वहां होटल का स्टाफ हमें हमारे रूम तक ले गया. हम लोग रूम में आ गए.

सुहास और मैं बेड पर बैठ गए. मैंने सुहास से कहा- पहले हम लोग फ्रेश हो जाते हैं.
सुहास ने कहा- ओके बेबी.

मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और सुहास ने भी अपने कपड़े निकाल दिए. फिर सुहास और मैं बाथरूम में एक साथ ही नहाने चले गए.

कुछ देर बाद हम लोग रूम में आ गए. मैंने अपना बदन पौंछा. तब तक सुहास ने ब्रेकफास्ट मंगवा लिया. हम लोगों ने ब्रेकफास्ट किया. उसके बाद सुहास और मैं बेड पर आकर लेट गए. अभी मैं बिल्कुल नंगी थी और सुहास भी नंगा ही मेरे बाजू में आकर लेट गया. हम लोग थके हुए थे, इसलिए सो गए.

हम दोनों शाम को उठे. कुछ ही देर में सुहास और मैं रेडी हो गए.

मैंने सुहास से बोला- सुहास, तुम ये समझो कि आज हमारी सुहागरात है. तुम मुझे आज पूरी रात मजा दोगे.
सुहास ने कहा- ओके बेबी.

हम लोग नीचे आ गए. सुहास बाहर लॉन में टहलने लगा. इसी बीच मैंने मैनेजर को हमारा रूम भारतीय दुल्हन की सुहागरात के हिसाब से रेडी करने को बोला. यह बात मैंने सुहास को नहीं बताई थी. यह उसके लिए सरप्राइज था.

हम लोग डिस्को चले गए. वो हमारे होटल में ही था. हम लोगों ने वहां खूब डांस किया और हमने वापस होटल में आकर खाना खाया.

उसके बाद मैंने सुहास से कहा- मैं रूम में रेडी होने जा रही हूँ, ज़ब मैं तुम्हे फ़ोन करूं, तब तुम रूम में आ जाना.
सुहास ने कहा- ओके बेबी.

मैं ऊपर रूम की तरफ आ गयी और ज़ब में रूम में आयी तो मैं बहुत शॉक रह गयी. हमारा रूम बहुत ही सुन्दर सजा हुआ था और हमारी सेज़ भी सजी हुई थी, जिस पर आज रात मेरी जमकर चुदाई होने वाली थी.

मैंने रूम लॉक कर लिया और मैंने अपने बैग से एक साड़ी और ब्लाउज निकाला. आप लोगों को याद होगा कि मैंने पैकिंग करते समय एक साड़ी भी रख ली थी. साड़ी ब्लाउज के साथ मैंने एक लाल कलर की ट्रांसपेरेंट ब्रा पैंटी भी निकाल ली और बाथरूम में आ गयी.

मैंने अपनी ड्रेस और पैंटी निकाल दी फिर मैंने शॉवर लिया. मेरी बॉडी पर एक भी बाल नहीं था और मेरी चुत भी एकदम चमक रही थी. शॉवर लेने के बाद मैंने अपना बदन साफ किया और फिर पूरी बॉडी पर क्रीम लगाई. अपने जिस्म को एकदम चिकना और खुशबूदार करने के बाद मैंने पैंटी पहन ली. ये पैंटी सिर्फ मेरी चुत को ही कवर कर पा रही थी.

पैंटी के बाद मैंने अपनी ब्रा भी पहन ली. मैंने ब्रा लेस वाली पहनी थी.. क्योंकि ब्लाउज मेरा बैकलेस था. मैंने ब्रा की लेस बांध ली. ये छोटी सी ब्रा मेरे मम्मों को संभाल नहीं पर रही थी. मेरे चूचे ब्रा से बाहर आ रहे थे.

मैंने अपनी हील्स भी पहन लीं और फिर मैंने अपना मेकअप किया. हील्स पहनने के बाद मेरी गांड उठ कर तोप सी लगने लगी थी और मैं एकदम पोर्नस्टार की तरह लग रही थी.

आज मैंने अपने बाल भी खुले छोड़ रखे थे. उसके बाद मैंने काले रंग का अपना ब्लाउज पहना. मेरा ब्लाउज पूरी तरह से बैकलेस था. उसमें सिर्फ दो ही हुक थे और मेरे ब्लाउज का क्लीवेज भी बहुत बड़ा था. मेरे चूचे आधे से ज्यादा बाहर आने को तड़प रहे थे.
मेरी ब्रा और ब्लाउज का साइज 36 है, पर मैंने सिर्फ 32 साइज के ही पहने थे. दोनों शोल्डर पर ब्लाउज की सिर्फ डोरी थी, वो ब्लाउज कम.. एक सेक्सी ब्रा ज्यादा लग रहा था.

उसके बाद मैंने अपना पेटीकोट भी पहन लिया और फिर मैंने अपनी लाल रंग की साड़ी भी पहन ली.

मैं पूरी तरह से तैयार हो चुकने के बाद एकदम नई नवेली दुल्हन की तरह लग रही थी. इसके बाद मैंने पूरे कमरे में मोमबत्तियां जला दीं और हमारा पूरा बिस्तर और रूम भी गुलाब के फूलों से सजा हुआ था. इसके बाद मैंने कमरे की लाइट बुझा दी. अब कमरे में सिर्फ मोमबत्तियों की रोशनी थी.

फिर मैंने सुहास को फ़ोन करके ऊपर आने को बोल दिया.

दो मिनट के बाद मेरे रूम के गेट की घंटी बजी. मुझे पता था सुहास ही होगा. मैंने जाकर गेट खोला, सुहास मुझे और रूम को देख कर एकदम शॉक हो गया क्योंकि कमरा पूरी तरह से सुहागरात के हिसाब से सजा हुआ था.

उसने मुस्कुराते हुए रूम का गेट बंद कर दिया और मुझे अपनी गोद में उठा लिया. वो मुझे बेड की ओर ले जाने लगा.
मैं उससे लिपट गई थी. सुहास ने मुझे बेड पर बैठा दिया और मेरे पास आने लगा.

फिर सुहास ने अपने होंठों को मेरे गुलाबी रस भरे होंठों पर रख दिए और हमारी चूमाचाटी शुरू हो गयी. हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में थीं. सुहास मेरे होंठों को चूसे जा रहा था. मैं भी उसके होंठों को चूस रही थी. मेरा एक हाथ उसके बालों को सहला रहा था. हमारी लार एक-दूसरे के मुँह में मजा दे रही थी. मुझे सुहास के होंठों से बहुत ही मजा आ रहा था.

कुछ देर किस चलने के बाद सुहास ने मुझे अपनी तरफ पीठ करके बैठा दिया. सुहास मेरी पीठ की तरफ बैठा था. उसने पीठ पर से मेरे खुले बालों को हटा दिया.

Suhagrat Ka Maja
Suhagrat Ka Maja

मेरे बाल हटते ही मेरी पीठ उसके सामने बिल्कुल नंगी हो गयी. सुहास ने अपने होंठों को मेरी नंगी पीठ पर रखा और मेरी पीठ को इधर उधर किस करने लगा. मैं तो बहुत ही ज्यादा गर्म हो चुकी थी क्योंकि उसका अंदाज़ बहुत अलग था.

कुछ देर मेरी पीठ के साथ खेलने के बाद सुहास ने मुझे लेटा दिया और फिर हमारा फोरप्ले शुरू हो गया. सुहास ने मेरी साड़ी उठायी और अपनी गर्दन मेरी साड़ी के अन्दर डाल दी. सुहास मेरी गर्म जांघों को इधर उधर किस करने और चाटने लगा. मैं भी उसका साथ दे रही थी.

मेरे मुँह से ‘आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… सुहास आह.. उउउफ..’ की आहें निकल रही थीं. उसने मेरी जांघें गर्म कर दी थीं. उसकी गर्म सांसे मेरे जिस्म को तड़पा रही थीं.

उसके बाद सुहास मेरी साड़ी से बाहर आ गया और अब उसने मेरे सीने से मेरा पल्लू गिरा दिया. मेरी नंगी छाती उसके सामने थी. मैं अपने मम्मों को छुपा रही थी.

सुहास ने मेरी साड़ी भी खोल दी. अब मैं सुहास के सामने ब्लाउज और पेटीकोट में थी. मेरे चूचे ब्लाउज से बाहर आने को तड़प रहे थे. मैं सिर्फ ब्लाउज पेटीकोट में थी. मैं सुहास के सामने नई नवेली दुल्हन के तरह शर्मा रही थी और अपने हाथों से अपने मम्मों को छुपा रही थी.

सुहास ने मुझे वासना से देखा और हल्के से धक्का देते हुए मुझे बेड पर लिटा दिया. मेरे गिरते ही उसने मेरी नाभि पर एक चुम्मी कर दी. मैं तो वहीं सहम गयी. उसके बाद सुहास मुझे इधर उधर चाटने चूमने लगा.

मैं आहें भर रही थी- आह सुहास सुहास.

सुहास ने मुझे लगभग 30 मिनट तक चूमा. उसके बाद मैंने सुहास को बेड पर लेटा दिया और उसकी शर्ट के बटन खोल कर उसकी शर्ट उतार दी. शर्ट के बाद मैंने उसकी पैंट का हुक खोल कर उसकी पैंट भी उतार दी. उसका मोटा मजबूत शरीर मेरे सामने सिर्फ एक ब्लैक फ्रेंची में था.

अब मैं उसके ऊपर आकर बैठ गयी और उसके सीने को इधर उधर चूमने चाटने लगी. उसके जिस्म से मुझे बहुत ही मदहोश कर देने वाली खुशबू आ रही थी. मैं उसके बालों को भी सहला रही थी और सुहास भी मेरा पूरा साथ दे रहा था. उसका एक हाथ मेरी जांघ को सहला रहा था और दूसरा हाथ मेरी नंगी पीठ को.

कुछ देर बाद सुहास ने मुझे बेड से नीचे खड़ा कर दिया. फिर सुहास ने एक झटके में मेरे पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया. मेरा पेटीकोट मेरी चिकनी जांघों से सरकता हुआ नीचे गिर गया. मैं नीचे से नंगी हो चुकी थी.

सुहास खड़ा हुआ और अब उसने मेरे ब्लाउज के हुक खोलना शुरू किए. सुहास ने मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिए. जैसे ही हुक खुले, मेरे चूचे हवा में उछलने लगे. सुहास ने मेरा ब्लाउज निकाल कर सोफे पर फेंक दिया. फिर सुहास ने मेरी ब्रा की लेस पकड़ कर खींच दी और मेरी ब्रा कंधे से होते हुए नीचे गिर गयी. मेरे बड़े बड़े बूब्स आज़ाद हो चुके थे.

फिर सुहास ने मेरी पैंटी की डोरी भी पकड़ कर खींच दी और पैंटी भी मेरी बात न सुनते हुए नीचे गिर गयी.

अब मैं सुहास के सामने पूरी तरह से नंगी थी. मैं अपने हाथों से मम्मों को छुपा रही थी और जांघों से अपनी चुत को छुपा रही थी. मुझे आज सुहास के सामने बहुत शर्म आ रही थी. सुहास ने मेरे मम्मों पर से मेरा हाथ हटाया और मुझे गोद में उठा कर बेड पर लेटा दिया.

अब सुहास मेरे ऊपर आ गया. सुहास ने मेरे एक चूचे को अपने मुँह में भर लिया और उसे चूसने लगा. मेरा दूसरा बूब उसके हाथ में था. वो उसे जोर जोर से दबा रहा था.
मैं भी आहें भर रही थी ‘आह आह्ह सुहास!’

कुछ देर चूसने के बाद मेरे चूचे एकदम लाल हो चुके थे और मेरी चूचियों के निप्पल भी बिल्कुल टाइट हो गए थे. कुछ देर बाद सुहास ने अपने दोनों होंठ मेरी चुत पर रख दिए और चुत चूसने लगा.
मेरी तो सांसें तेज हो चुकी थीं. मैं बहुत तेज तेज हांफ रही थी ‘आह सुहास आह!’

वो मेरी चुत को अन्दर तक चूसे जा रहा था. मुझे भी चुत चुसवाने में मजा आ रहा था. मैं उसके सर को पकड़ कर मेरी चुत के अन्दर धक्का दे रही थी. सुहास ने मेरी चुत चूस चूस कर एकदम लाल कर दी थी. मेरी चुत एकदम फूल गयी थी.

कोई 20 मिनट तक चुत चुसवाने के बाद मैंने सुहास को बेड पर लेटा दिया और मैं उसकी जांघों के पास आ गयी. अब मैंने उसके लंड को उसकी फ्रेंची के ऊपर से ही टच किया. उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो चुका था. वो उसके छोटे अंडरवियर से बाहर आने को तड़प रहा था.

मैंने उसकी फ्रेंची पकड़ कर नीचे खींच दी और पूरे से उतार कर बेड के नीचे गिरा दी. सुहास भी मेरे सामने बिल्कुल नंगा हो गया था.

मैंने सुहास का लंड अपने हाथ में ले लिया और उसे अपने गुलाबी होंठों से किस किया. फिर मैंने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी. सुहास के लंड से मुझे बहुत ही अच्छी महक आ रही थी. शायद उसने भी कुछ मदहोश कर देने वाला सेंट लगाया था. मैं उसके लंड को बहुत मजे से चूस रही थी.

उसका 9 इंच का लंड पूरा मेरे मुँह के अन्दर था. मैं उसके टोपे को चूस चूस कर एकदम लाल कर चुकी थी. वो भी मेरे बाल पकड़ कर अपना लंड मेरे मुँह में पेल रहा था. मैंने उसके बॉल्स के साथ खेलना शुरू कर दिया. मैं उसकी एक बॉल को चूसने लगी. फिर मैंने उसका लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी. वो भी बहुत मजे ले रहा था. मुझे उसके लंड से खेलने में मजा आ रहा था.

काफी देर तक लंड चुसवाने के बाद सुहास ने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया और मुझे बेड पर लेटा दिया. सुहास अब मेरी चुत के पास आ गया और मेरी दोनों टांगों को खोल कर सुहास ने अपने लंड के टोपे को मेरे मुँह में देकर गीला किया.

फिर सुहास ने अपना मोटा लम्बा लंड मेरी चुत पर रख कर धक्का मार दिया. उसका आधा लंड मेरी चुत में उतर गया.
मेरी चीख निकल गयी- आह सुहास … धीरे बेबी धीरे बेबी!

फिर सुहास ने दूसरे झटके में अपना 9 इंच का पूरा लंड मेरी चुत में उतार दिया और धक्के देने शुरू कर दिए. मैं जोर जोर से चिल्ला रही थी ‘आह आह आह सुहास बेबी धीरे बेबी बाबू धीरे आह!’

सुहास मेरी कराहें सुनकर और जोर जोर से धक्के लगा रहा था. आज उसका लंड एक अलग ही दर्द दे रहा था. मेरी आंखों से आंसू आ रहे थे. सुहास मुझे किसी घोड़े की तरह चोदे जा रहा था.

मैं आहें भरते हुए चिल्ला रही थी. लेकिन कुछ देर बाद मुझे भी मजा आने लगा था. सुहास मुझे धकापेल चोदे जा रहा था. सुहास का 9 इंच का लंड मेरी चुत में तांडव मचा चुका था. सुहास की स्पीड और तेज हो गयी.

मैं चीख रही थी- आह सुहास बेबी धीरे सुहास … धीरे बेबी.

लगभग 35 मिनट चुदने के बाद मैं झड़ चुकी थी. पूरा बिस्तर मेरे पानी गीला हो चुका था लेकिन सुहास मुझे अभी भी चोदे जा रहा था.

कुछ देर बाद सुहास भी अपनी चरम सीमा पर आ गया. दस मिनट और चोदने के बाद सुहास भी झड़ने वाला था. उसने अपना लंड निकाल कर मेरे मुँह में डाल दिया और उसके बाद सुहास ने मेरे मुँह में ही धक्के देने शुरू कर दिए.

कोई 5 मिनट बाद सुहास मेरे मुँह में ही झड़ गया. सुहास ने मेरा पूरा मुँह अपने पानी से भर दिया. उसके बाद सुहास बेड पर गिर गया.

मैंने भी दस मिनट बाद सुहास के लंड को फिर से चूसना शुरू कर दिया. उसका लंड बैठ चुका था, मैंने उसके लंड को अपने मुँह में लिया और उसके लंड के ऊपर लगा सारा पानी चूस कर चाट लिया.

मेरे लगातार चूसने से कुछ देर बाद सुहास का लंड फिर से खड़ा होने लगा था. मुझे पता था अब अगर इसका लंड खड़ा होगा, तो ये मुझे बहुत लंबा और बुरी तरह चोदेगा.

अब सुहास का लंड पूरी तरह खड़ा हो चुका था. सुहास बेड पर लेट गया और मुझे अपने ऊपर बैठा लिया. मैंने सुहास का लंड अपने हाथ में लेकर अपनी चुत पर फिट किया. उसके बाद मैं उसके लंड पर बैठ गयी. एक ही झटके में उसका पूरा लंड मेरी चुत में प्रवेश कर चुका था.

सच में आज सुहास का लंड लोहे का लग रहा था. मैंने सुहास के लंड पर उछलना शुरू कर दिया था. सुहास भी मेरा साथ दे रहा था. मेरे दोनों चूचे हवा में जोर जोर से उछल रहे थे.

मैंने अपनी स्पीड और तेज कर दी और सुहास के लंड पर उछलने लगी. साथ ही मेरी आवाजें निकलने लगीं ‘आह सुहास बेबी.. सुहास बेबी धीरे बेबी … आह आह उउफ … फ़क मी स्लो बेबी … धीरे चोदो मुझे आह सुहास.’

मगर सुहास मुझे घोड़े की तरह चोदे जा रहा था. दो मिनट बाद मैं भी उसका साथ देने लगी थी. सुहास मेरी चुत का भोसड़ा बनाने पर तुला हुआ था. मैंने भी आखिर अपनी स्पीड तेज कर दी थी.

लगभग एक घंटा लगतार चोदने के बाद सुहास और मैं एक साथ ही झड़ गए. उसके बाद हम दोनों अलग हुए.

कुछ देर बाद सुहास मेरी चुत के पास आ गया और उसने मेरी चुत को चाटना शुरू कर दिया. मैं आहें भर रही थी ‘आह सुहास ऊफ्फ … आह.’

थोड़ी देर चुत चूसने के बाद सुहास ने मुझे घोड़ी बना दिया और अपना लंड मेरी गांड पर रख कर 2 झटकों में पूरा अन्दर उतार दिया.
मैं सुहास पर जोर जोर से चिल्लाने लगी- आह मर गई सुहास … मादरचोद लंड बाहर निकालो प्लीज!

पर सुहास नहीं रुका और धकापेल चोदने लगा.
मैंने उसे बहुत रोका- आह बेबी … धीरे बेबी … धीरे चोदो मुझे.
पर सुहास नहीं रुका और मुझे और जोर जोर से चोदने लगा. सुहास ने मेरी गांड में बहुत ज्यादा दर्द कर दिया था. मैं जोर जोर से चीख रही थी और चिल्ला रही थी.

कुछ देर चोदने के बाद हम दोनों एक साथ ही झड़ने लगे. इस तरह सुहास ने मुझे 3 राउंड और चोदा सुबह 5 बजे के बाद सुहास ने मुझे छोड़ा.

उसके बाद सुहास और मैं बेड पर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर सो गए.

अगले दिन क्या हुआ इसके बारे में मैं आपको आगे लिखूँगी. तब तक आप मेरी इस सेक्स कहानी को लेकर अपने मेल मुझे जरूर लिखिएगा.
आपकी अपनी अंजलि शर्मा
[email protected]
कहानी जारी है.

More Sexy Stories  दुल्हन बन कर भाभी ने सुहागरात मनाई-2