बस मे चाचा के साथ चुदाई

Bus mai chacha ke sath chudai मेरा नाम पिंकी है और मैं देल्ही की रहने वाली हू और मैं बहुत सेक्सी हू मेरा फिगर 36 30 38 हे आज मैं आप सबको अपनी चुदाई की सच्ची कहानी बताने जा रही हू कैसे चाचा के साथ बस मे चुदि मेरे चाचा चाची दोनो लोग मेरे घर आते रहते हे और मैं भी अपने चाचा चाची के घर जाती हू और वो लोग भी मेरे घर आते रहते हे.

मेरे चाचा और चाची दोनो लोग जॉब करते हे लेकिन चाची ज़्यादा ही अपने जॉब मे बिज़ी रहती हे और वो कभी कभी मीटिंग के लिए भी जाती हे तो चाचा घर मे अकेले रहते हे और मैं कभी कभी उनके घर जाती हू तो उनके लिए खाना बना देती हू.

चाचा भी मुझसे बहुत बातें करते हे और हम दोनो लोग की अच्छी बातें होती हे और हम दोनो लोग एक दूसरे से सब कुछ शेर करते हे लेकिन कभी भी हम दोनो लोग ग़लत बात नही करते हे एक दूसरे से.

मैं आपको बता दू मैं एक दम गोरी हू और मेरी चुची और गान्ड बहुत बड़े बड़े हे. मेरी चुची एक दम टाइट हे और मेरी गान्ड एक दम बहुत बड़ी बड़ी हे और जब भी मैं चलती हू तो लोग मेरी गान्ड को देखते हे.

मैं हमेशा टाइट सलवार सूट पहनती हू जिसमे से मेरी चुची और गान्ड एक दम सॉफ सॉफ दिखती हे. एक दिन चाची अपने ऑफीस के काम के लिए बाहर गयी थी इसलिए चाचा घर मे अकेले थे और ठंडी का मौसम था और मैं चाचा के घर गयी थी और हम दोनो लोग घर मे अकेले थे.

मैं और चाचा दोनो लोग शॉपिंग करने के लिए बस से माल जा रहे थे क्यू की घर की शॉपिंग करनी थी चाचा को इसलिए मैं और चाचा दोनो लोग बस से शॉपिंग करने के लिए गये और मैं और चाचा दोनो लोग साथ साथ बस मे बैठे थे.

More Sexy Stories  मम्मी के यार ने मेरी पहली चुदाई की

हम दोनो लोग बस मे जा रहे थे और कभी कभी बस मे हम दोनो एक दूसरे से चिपके जा रहे थे और एक दूसरे को देख कर स्माइल कर रहे थे. चाचा बस मे ग़लती से मेरी चुची पकड़ लिए बस मे बहुत भीड़ थी और चाचा मेरी चुची को पकड़ लिए और मैं भी कुछ बोल नही रही थी.

क्यू की बस मे जगह नही थी सब लोग खड़े थे और कैसे भी करके मुझे और चाचा को सीट मिली थी इसलिए लोग एक दूसरे को धक्का दे रहे थे और बार बार चाचा मेरी चुची को दबा रहे थे और मैं समझ रही थी चाचा ग़लती से कर रहे थे और मैं भी धीरे धीरे गरम होने लगी थी और मेरी साँसे तेज चल रही थी.

मैं चाचा को कुछ बोल भी नही सकती थी क्यू की जो लोग बस मे खड़े थे वो जब धक्का दे रहे थे तो चाचा मेरी चुचि दबा दे रहे थे और मेरी उपर ही चिपके जा रहे थे.

मैं चाचा के पॅंट को देखी तो उनका लंड पॅंट मे एक दम खड़ा था और मैं समझ गयी की चाचा जान बूझकर मेरी चुची को दबा रहे थे और मज़ा ले रहे हे.

मैं चाचा के खड़े लंड को उनकी पॅंट के उपर से देख रही थी और जब चाचा ने देखा की मैं उनके खड़े लंड को उनके पॅंट के उपर से देख रही हू तो वो मुझसे नाटक करने लगे और बोलने लगे बस मे बहुत भीड़ हे और वो बार बार मेरी तरफ देख रहे थे और मुझे देख कर स्माइल कर रहे थे.

मुझे उनकी नजरो मे हवस वाली फीलिंग आ रही थी. हम दोनो लोग शॉपिंग माल थोड़ी देर मे पहुचने वाले थे क्यू की हमारा घर शॉपिंग माल से थोड़ा दूर हे और बस मे धीरे धीरे सब लोग उतर गये और बस मे बहुत कम लोग थे और मैं और चाचा दोनो बस की पीछे वाली सीट पर चले गये और आराम से बैठ कर शॉपिंग माल जाने लगे.

More Sexy Stories  लाहोर मे मस्त भाभी की चुदाई

लेकिन चाचा का लंड उनकी पॅंट मे खड़ा था और मैं बार बार उनके लंड को देख रही थी और चाचा मुझसे बोले की तुम को कुछ चाहिए और मैं उनको देख कर बोली हा और स्माइल करने लगी और चाचा मेरी चुचि को दबाने लगे और हम दोनो लोग बस की पीछे वाली सीट पर एक दूसरे को किस करने लगे बस मे अंधेरा था.

इसलिए कुछ दिख नही रहा था लेकिन चाचा मुझे किस करते करते मेरी चुचि को दबाने लगी और मैं चाचा का लंड उनकी पॅंट के उपर से दबाने लगी और उनका लंड बहुत टाइट हो गया था और मुझे लग रहा था की वो एक दम गरम हो गये हे.

क्यू की उनके लंड से उनका पॅंट भी एक दम तंबू बन गया थे और मैं उनके पॅंट के बटन को खोल दी और उनके लंड को अपने हाथ मे लेकर हिलाने लगी और चाचा झड़ गये हे और अपना माल बस मे ही गिरा दिए और उसके बाद चाचा ने मेरी सलवार खोली और मैं बस की पीछे वाली सीट पर आराम से लेट गयी.

चाचा ने मेरी टॅंगो को थोड़ा उपर किया और मेरी चूत मे उंगली डालने लगे और उसके बाद वो मेरी चूत को चाटने लगे. हम दोनो लोग एक दम गरम हो गये थे और एक दूसरे को किस कर रहे थे

चाचा का लंड एक दम खड़ा हो गया था और चाचा मुझे अपने लंड पर बैठने के बोल रहे थे और मैं अपने चाचा के लंड पर नही बैठ रही थी तो चाचा ने मुझे अपने लंड पर बैठा लिया और मुझे बस मे अपना लंड मेरी चूत मे डालने लगे और अपना लंड मेरी चूत मे डाल कर मुझे चोदने लगे और मैं बस मे अपने चाचा के लंड पर बैठ कर चुद्वा रही थी.

Pages: 1 2

Comments 28

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *