चाची के साथ बस का सफ़र

फिर मेरी नज़र चाची के मंमौन पे पड़ी जिसमे से उनकी दूध की छोचिया कपड़े के थ्रू नज़र आ रही थी और क्यूकी वो झुकी हुई थी तो उनकी क्लीवेज भी बड़े अच्छे से नज़र आ रही थी.

इस्स से मेरा लंड और मज़बूत हो गया और चाची ने उससे ज़्यादा ज़ोर से पकड़ लिया और मेरी मुठ मारने लगी. मे थोड़ी देर और रुक ना सका और फिर मेरी मूठ अंडरवेर और चाची के हाथ पे ही निकल गयी.

चाची चोंक गयी क्यूकी मेरी इतनी ज़्यादा मुठ निकली थी के मेरी पॅंट आगे से गीली हो गयी थी. मे लंबे साँस लेता हुआ पीछे हो के अपनी सीट मे लेट गया और चाची ने अपना हाथ मेरी पॅंट के अंदर से निकाल लिया.

उनके हाथ पे बहुत सारा मुठ लगा हुआ था और वो उस्स्को देखने लगी. फिर उनकी नज़र पड़ी की कंडक्टर उठ के हमारी तरफ आ रा है.

चाची को कुछ समझ नि आया तो उन्होंने अपने हाथ से मेरी मुठ चाटना शुरू कर दिया ताकि कंडक्टर देख ना ले के क्या हो रा है. उन्होंने 4-5 सेकेंड मे अपने हाथ से सारी मुठ चाट ली और फिर वो भी सीधी हो के बैठ गयी.

इतनी देर मे कंडक्टर आ गया और कहने लगा ” बस 20 मिनिट बाद एक स्टेशन पे रुकेगी, जल्दी से जा के टाय्लेट से हो आना.”

मगर क्यूके अब मेरी पानी भी निकल आई थी तो मेरी सूसू की फीलिंग वापिस आ गयी थी और मुझे नई लग रा था के 20 मिनिट और रोक सकूँगा.

मेने फिर चाची से कहा ” चाची मुझसे 20 मिनिट नई रोका जाएगा टाय्लेट, प्ल्ज़ मेरी कोई और मदद करो ना.”

” अब और क्या मदद करू मे, इतनी जल्दी तुम्हें दोबारा एरेक्षन देना भी मुश्किल है क्यूके तुमने अभी अभी मुठ मारी है.”

चाची ने कहा मेने ज़िद्द करते हुए कहा “मुझे नई पता चाची आपको मेरी मदद करनी होगी, वरना मेरा सूसू यही सीट पे निकल जाएगा.”

More Sexy Stories  दोस्त की गर्लफ्रेंड छीन के चोदने का मज़ा

चाची सोच मे पड़ गयी और फिर लंबी साँस ले के कहती हैं “चलो ठीक है मे तुम्हारी गोध मे सर रख के सो जाती हूँ.”

मुझे समझ नई आई पर उन्हों ने सर मेरी गोध मे रखा और उपर अपने बाग से निकाल के एक चादर डाल दी. फिर उन्हों ने अपनी नर्म उंगलीयूं से मेरी पॅंट खोली और अंडरवेर नीचे किया.

फिर उन्हों ने मेरा चिप चिपा लंड निकाला और अपने मूह मे डाल लिया. उन्हों ने लंड को मूह मे सहला के थोड़ा सख़्त किया मगर वो पूरी तरहा से खड़ा नई हो रा था. फिर चाची ने एक हाथ मेरे नीचे डाला और मेरी गान्ड भी सहलाने लगी.

अब मेरा लंड थोड़ा और खड़ा हो रा था और मे वो उनको मूह मे ही देता जा रा था. चाची अपनी दो उंगलियों से मेरी गान्ड सहला रही थी और मेरा लंड ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी. इस्स से मेरा लंड काफ़ी ज़्यादा खड़ा हो गया और मेरी पेशाब की फीलिंग कम होने लगी.

मगर अब भी फीलिंग पूरी तरह नीचे नई जा रही थी और मेरा लंड पूरी तरह खड़ा नई था. अचानक से चाची ने अपनी एक उंगली मेरी गान्ड के छेद मे डाली और मेरी छोटी सी चीख निकल गयी.

मेरा लंड पूरी तरहा खड़ा हो गया और चाची मेरी गान्ड मे उंगली हिलने लगी और मेरे लंड को और ज़ोर से चूसने लगी. अब मेरी पेशाब की फीलिंग कम हो गयी थी मगर थोड़ी ही देर मे मेरी मुठ फिर से निकल गयी. इस्स बार चाची ने सीधी मेरी पानी निगल ली और मेरे लंड को वापिस पॅंट मे डाल के अपना सिर उपर कर लिया.

“अब बस रुकने मे सिर्फ़ 10 मिनिट हैं तुम बस सूसू रोक के रखो बेटा दानिश, फिर तुम टाय्लेट जा सकोगे.” मेरी चाची ने कहा. मगर जैसे ही मेरा लंड वापिस नरम हुआ मुझे फिर से ज़ोर का पेशाब लग गया.

More Sexy Stories  चचेरी बेहन पूजा की चुदाई

अब बस 10 मिनिट इंतेज़ार करना था और अब चाची भी मेरी कोई और मदद नई कर सकती थी तो मेने अपने लंड को अपनी टाँगौन के बीच दबा लिया ताकि मे पेशाब रोक सकौन.

मेने अपने लंड को टाँगौन के बीच छुपाया था और उसको नीचे की तरफ किया हुआ था. मे बार बार अपनी हिप्स हिला रा था क्यूके मुझे बहुत ज़ोर का सूसू आ रा था और अभी भी बस रुकने मे 5-6 मिनिट थे.

अचानक से मुझे बोहुत ज़ोर का पेशाब आया और थोड़ा सा पेशाब मेरी पॅंट मे ही निकल गया. क्यूके मेरा लंड नीचे की तरफ था तो पेशाब अंडरवेर की निचली साइड पे लगा और मेरी पॅंट नीचे से गीली हो गयी.

“बेटा दानिश तुमसे सूसू नही रोका गया?” उन्हों ने अपने मूह पे हाथ रखते हुए कहा.

“बस चाची थोड़ा सा निकला है बाक़ी मे बाहर कर लौंगा” मेने शर्मा के जवाब दिया.

जेसे ही बस रुकी मे भागता हुआ गया और बस से उतर गया. मुझे बस के लोगों की आवाज़े सुनाई दे रही थी.

“उस लड़के ने पॅंट मे ही पेशाब कर दिया.” एक औरत ने कहा.

“इतने बड़े हो कर भी लौग पॅंट मे सूसू कर देते हैं मा?” एक बच्चे ने अपनी मा से पूछा.

और बस का कंडक्टर ट्स्क ट्स्क कर रा था.

मे बस रुकते साथ ही बस से उतर गया, इतने ही टाइम मे मेरा थोड़ा और पेशाब छूट गया और मेरी ऐक टाँग घुटने तक गीली हो गयी. इतनी देर मे मेने बस से दूसरी ऑर देख कर अपनी पॅंट नीचे खेंची और ज़ोर से पेशाब करने लगा.

Pages: 1 2 3