बेटी के साथ मॉं की चुदाई कहानी

beti ke sath maa ki chudai kahani हेलो दोस्तो, मैं विक्रम आज मैं अपनी पहली इंडियन ग्रूप सेक्स स्टोरीस आप सब को बताने जा रहा हूँ. उस टाइम मेरी उमर 25 साल थी मैने अपने कॉलेज से बी.टेक कर के देल्ही आ गया और जॉब के लिए इधर उधर धक्के खाने लग गया.

कुछ दिन मैने स्ट्रगल किया पर बाद मे मुझे एक जॉब मिल गई. मेरे पास रहने के लिए कोई रूम नही था इस लिए मैं एक दोस्त के घर पर ही रहता था और मैं अपने लिए एक रहने के लिए रेंट पर रूम ढूंड रहा था.

आख़िर मुझे मेरे ऑफीस के पास ही एक रूम मिल गया उस घर मे 4 लोग रहते थे. एक हज़्बेंड वाइफ और दूसरे उनकी दो बेटियाँ. मुझे वाहा रहना बहोत अछा लगा क्योकि वो मुझे अपने फॅमिली मेंबर की तरह मानते थे. मुझे करीब 2 साल रहते हुए हो गये थे.

जैसा की मैने बताया की उनके घर मे दो बेटियाँ थी एक बड़ी थी रोमा थी जिसकी उमर करीब 23 साल थी और दूसरी बेटी सीमा थी जिस की उमर 19 साल थी. मेरे सामने ही बड़ी बेटी रोमा की शादी हुई थी और उसकी शादी को 2 साल होने वाले थे पर अभी तक उसको कोई बच्चा नही हुआ था.उनके घर की दोनो बेटियाँ मुझसे बहोत बातें करती थी. पर मैं कभी उनसे खुद नही बोलता था वो मुझे खुद ही अपने पास बुला लेती थी और काफ़ी देर तक मेरे साथ बैठ कर बातें करती थी.

पर बड़ी बेटी रोमा शादी करके अपने ससुराल चली गई थी. अब मैं उसकी सीमा से ही ज़्यादातर बातें करके टाइम पास करता था. हम दोनो काफ़ी आछेसे घुल मिल गये थे. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

एक दिन मैं बाथरूम मे नहा रहा था और जल्दी जल्दी मे दरवाजा लॉक करना भूल गया था और ये मेरी आदत है मैं नहाने से पहले अपने लंड को खूब आछे से सॉफ करता हूँ. उस दिन भी मैं अपने लंड को साबुन से खूब आछे से सॉफ कर रहा था. तभी सीमा ने दरवाजा खोल दिया और जैसे मैने पीछे मूड कर देखा तो वो सीमा थी और मेरे लंड को ही देख रही थी जो की उस टाइम खड़ा हुआ था.

उसी दिन उसके पापा यानी मेरी मकान मलिक, मैं उन्हे अंकल कहता था वो मेरे पास आए और बोले – बेटा विक्रम देखो मुझे एक हफ्ते के लिए बहोत ज़रूरी काम से यूपी जाना है वाहा पर मेरी ज़मीन का कुछ पंगा पड़ गया है इस लिए मैं जब तक ना आउ तब तक तुम कही नही जाना और घर पर रह कर अपनी आंटी और सीमा का ध्यान रखना.

मैं बोला – ठीक है अंकल जी आप बिल्कुल भी फिकर मत करो मैं सबका ध्यान रखूँगा आप बे- फिकर हो कर जाइए.

जब मैं शाम को घर आया तो अंकल जा चुके थे, मैं फ्रेश हो कर अपने रूम मे बैठा तभी मेरे कमरे मे आंटी आई और वो बोली – बेटा आज तुम नीचे ही डिन्नर कर लेना हमारे साथ.

मैं बोला – ठीक है आंटी जी मैं आता हूँ थोड़ी देर तक.

रात हो चुकी थी मैं नीचे चला गया और आंटी सीमा और मैं तीनो बैठकर डिन्नर कर रहे थे. अभी मैने डिन्नर ख़तम ही किया था की तभी आंटी बोली – बेटा आज तुम नीचे दूसरे वाले कमरे मे सो जाना जिस कमरे मे तुम्हारे अंकल सोते है असल मे हम दोनो को अकेले डर लगता है रात को, हमने तुम्हारा बिस्तर लगा दिया है ओके बेटा.

More Sexy Stories  शादी मे एक बुड्ढे से चुदाई की

मैं – कोई बात नही आंटी मैने तो सोना ही है चाहे मैं उपर सो जाउ या नीचे.

डिन्नर करने के बाद मैं बेडरूम मे आ गया और सारे दिन की थकान की वजह से मुझे जल्दी ही नींद आ गई. मैं बहोत गहरी नींद मे था की तभी मुझे लगा की कोई मेरे लंड को छेड़ रहा है. पहले मुझे लगा की शायद मैं कोई सपना देख रहा हूँ पर जब मुझे फिर से महसूस हुआ की कोई मेरा पैजाम खोल रहा है. तब मेरी आँख खुल गई और मैने चुपके से देखा तो सीमा बेड पर चढ़ कर बैठी हुई है और मेरे लंड को पैजामे से बाहर निकाल रही है.

मैने फिर से अपनी आँखें बंद कर ली और जान कर सोने का नाटक करने लग गया. मैं देखना चाहता था की ये साली कहातक जा सकती है. कुछ ही देर मे उसने मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसे उपर नीचे करने लग गई. मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा होने लग गया कुछ देर अपने हाथो से खेलने के बाद उसने मेरा लंड अपने मूह मे डाल लिया और अपने मूह मे डाल कर उसे उपर नीचे करने लग गई, वो लंड को ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी मानो वो मेरे लंड मे से कुछ निकालना चाहती हो.

अब मुझसे और बर्दाश नही हो रहा था मैं तभी उठा और बोला – सीमा तुम ये क्या कर रही हो ?

सीमा – विक्रम तुम ज़्यादा भोले मत बनो तुम आज सुबह बाथरूम मे मेरे नाम की मूठ मार रहे थे मुझे सब पता है अब मैं खुद आ गई हूँ तुम्हारे पास चलो अब जल्दी करो जो करना है मेरे साथ तुमने.

मैं उसकी बात सुन कर हैरान हो गया मैं सोच रहा था की ये पागल क्या सोच रही है और फिर मैं बोला – तुम यहा से जाओ अगर तुम्हारी मम्मी ने मुझे तुम्हारे साथ इस टाइम देख लिया ना तो वो मुझे जान से मार देगी.
सीमा बोली – मम्मी की टेन्षन ना लो तुम, उन्हे तो मैं खुद देख लूँगी.

ये कहते ही उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और खुद के भी. मैं अब खुद को नही रोक पाया इतनी सुंदर लड़की खुद मेरे सामने नंगी हो रही थी. मैने झट से उसके बूब्स पकड़ लिए और ज़ोर ज़ोर से दबाने लग गया. उसको बहोत मज़ा आ रहा था वो बोली – और ज़ोर से दबाओ और मेरे बूब्स मे से दूध निकाल दो बस तुम. अब मैने अपनी एक उंगली उसकी चूत मे डाल दी और ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लग गया.

वो मस्त होने लग गई और उसके मूह से आह्ह अह्ह्ह उई की मस्ती वाली आवाज़े निकलने लग गई. वो बोली – बस अब और कुछ अपना लंड डालो चूत मे मुझसे और नही रहा जाता.

मैं देखा की अब उसकी चूत मे से पानी निकलने लग गया वो पूरी गरम हो चुकी थी. मैने उसे सीधा लेटा दिया और उसकी चूत मे एक बार के जोरदार धक्के से अपना लंड पूरा अंदर डाल दिया. वो बहोत ज़ोर से चिल्लाई पर मैने उसके मूह पर हाथ रख दिया और उसे ज़ोर ज़ोर से चोदने लग गया. कुछ देर वो रोती रही पर 5 मिनिट बाद ही अब वो अपनी गॅंड उठा उठा कर मेरा साथ देने लग गई.

अब वो मस्त हो चुकी थी और उसके मूह से आह्ह अह ह आस्स्स और ज़ोर से चोद फाड़ दो मेरी चूत को आह्ह ऐसे ही आहह हान ऐसे ही आिइ माआ स आहास्स.

More Sexy Stories  मामा की लड़की को कामुकता शांत की

मैं अपनी ताक़तसे उसे चोद रहा था जब मैं उसे धक्के मार कर चोद रहा था तो बेड भी मेरे हर धक्के से हिल रहा था. करीब 30-40 की चुदाई के बाद वो एक दम अकड़ गई और अपनी चूत का सारा पानी मेरे लंड पर निकाल दिया. अब उसकी चूत और भी गरम और चिकिनी हो गई थी की उसकी वजह से मेरे लंड ने भी जल्दी से अपना सारा पानी उसकी चूत मे ही निकाल दिया.

मैने जैसे ही पीछे मूड कर देखा तो आंटी मेरे पीछे ही खड़ी थी उन्हे देख कर तो मेरी गॅंड ही फट गई और वो मुझे घूरते हुए बोली – बेटा विक्रम तुम तो बहोत खराब हो सीमा की ही प्यास भुझाओगे मेरी नही ?

ये सुनते ही मुझे शांति मिली और मैं बोला – क्यो नही आंटी आ जाओ आप की भी प्यास भुजा दूँगा मैं.

अब सीमा ने अपने कपड़े डाले और वो अपने रूम मे चली गई. और अब आंटी अपने सारे कपड़े उतार कर मेरे पास आ गई और मेरे लंड को पकड़ उसे प्यार करने लग गई. अब आंटी ने मुझे सीधा बेड पर लेटा दिया और मेरे मूह पर अपनी चूत रख कर 69 की पोज़िशन मे आ गई. आंटी की चूत एक दम चिकिनी थी मैं उनकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चाट रहा था और वो मेरे लंड ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी.

मुझे अपना फीडबॅक देने के लिए कृपया कहानी को ‘लाइक’ ज़रूर करे, ताकि कहानियों का ये दौर देसीकाहानी पर आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

करीब 10 मिनिट हम दोनो एक दूसरे के उपर 69 की पोज़िशन मे रहे इतने मे आंटी पूरी गरम हो चुकी थी और मेरा लंड भी पूरा खड़ा हो चुका था. अब आंटी सीधी लेट चुकी थी और मैं उनके उपर आकर अपना लंड चुत पर सेट कर के उनके उपर आ गया और उनके बूब्स को चूसने लग गया.

फिर आंटी को बातो मे लगा कर मैने एक ज़ोर से धक्का मारा जिससे मेरा लंड एक ही बारी मे उनकी चूत मे घुस गया. वो एक दम चिल्ला पड़ी और बोली – तुम्हारा लंड तो तुम्हारे अंकल से भी बहोत बड़ा है ऐसा क्या खाते हो.

मैने कहा – कुछ नही आंटी बस आप के ही घर का आटा ख़ाता हूँ और कुछ नही.

ये कहते ही मैने उन्हे ज़ोर ज़ोर से चोदना शुरू कर दिया और वो अपनी गॅंड उठा उठा कर मेरा साथ देने लग गई. करीब 45 मिनिट तक मैने उसे ऐसे ही चोदा और फिर आंटी ने अपनी चूत का पानी निकाला और बाद मे फिर हम दोनो बाथरूम मे गये और एक दूसरे को आछे से सॉफ किया और फिर आंटी बोली – बेटा तुम बहोत अछी चुदाई करते हो, कल रोमा भी घर आ रही है तुम उसे भी चोद लेना क्या पता तुम्हारे चोदनेसे उसको बच्चा हो जाए.

और अगले दिन रोमा आगई और मैने शाम होते ही उसकी ठुकाई शुरू कर दी. वो आज हाल ये है की उसके दो लड़के है जो की पूरे मुझ पर ही जाते है. और उस दिन के बाद मुझे चूत की कमी नही हुई और नाही मैने कोई रूम रेंट दिया सब कुछ आंटी खुद अड्जस्ट कर लेती और आए महीने मुझे 10000 रूपॅये देती है की तुम पूरा महीने हम दोनो को आछेसे चोदते रहो.