बेटी के साथ मॉं की चुदाई कहानी

beti ke sath maa ki chudai kahani हेलो दोस्तो, मैं विक्रम आज मैं अपनी पहली इंडियन ग्रूप सेक्स स्टोरीस आप सब को बताने जा रहा हूँ. उस टाइम मेरी उमर 25 साल थी मैने अपने कॉलेज से बी.टेक कर के देल्ही आ गया और जॉब के लिए इधर उधर धक्के खाने लग गया.

कुछ दिन मैने स्ट्रगल किया पर बाद मे मुझे एक जॉब मिल गई. मेरे पास रहने के लिए कोई रूम नही था इस लिए मैं एक दोस्त के घर पर ही रहता था और मैं अपने लिए एक रहने के लिए रेंट पर रूम ढूंड रहा था.

आख़िर मुझे मेरे ऑफीस के पास ही एक रूम मिल गया उस घर मे 4 लोग रहते थे. एक हज़्बेंड वाइफ और दूसरे उनकी दो बेटियाँ. मुझे वाहा रहना बहोत अछा लगा क्योकि वो मुझे अपने फॅमिली मेंबर की तरह मानते थे. मुझे करीब 2 साल रहते हुए हो गये थे.

जैसा की मैने बताया की उनके घर मे दो बेटियाँ थी एक बड़ी थी रोमा थी जिसकी उमर करीब 23 साल थी और दूसरी बेटी सीमा थी जिस की उमर 19 साल थी. मेरे सामने ही बड़ी बेटी रोमा की शादी हुई थी और उसकी शादी को 2 साल होने वाले थे पर अभी तक उसको कोई बच्चा नही हुआ था.उनके घर की दोनो बेटियाँ मुझसे बहोत बातें करती थी. पर मैं कभी उनसे खुद नही बोलता था वो मुझे खुद ही अपने पास बुला लेती थी और काफ़ी देर तक मेरे साथ बैठ कर बातें करती थी.

पर बड़ी बेटी रोमा शादी करके अपने ससुराल चली गई थी. अब मैं उसकी सीमा से ही ज़्यादातर बातें करके टाइम पास करता था. हम दोनो काफ़ी आछेसे घुल मिल गये थे. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

एक दिन मैं बाथरूम मे नहा रहा था और जल्दी जल्दी मे दरवाजा लॉक करना भूल गया था और ये मेरी आदत है मैं नहाने से पहले अपने लंड को खूब आछे से सॉफ करता हूँ. उस दिन भी मैं अपने लंड को साबुन से खूब आछे से सॉफ कर रहा था. तभी सीमा ने दरवाजा खोल दिया और जैसे मैने पीछे मूड कर देखा तो वो सीमा थी और मेरे लंड को ही देख रही थी जो की उस टाइम खड़ा हुआ था.

More Sexy Stories  मस्तराम चुदाई कहानी - मेरा राज़

उसी दिन उसके पापा यानी मेरी मकान मलिक, मैं उन्हे अंकल कहता था वो मेरे पास आए और बोले – बेटा विक्रम देखो मुझे एक हफ्ते के लिए बहोत ज़रूरी काम से यूपी जाना है वाहा पर मेरी ज़मीन का कुछ पंगा पड़ गया है इस लिए मैं जब तक ना आउ तब तक तुम कही नही जाना और घर पर रह कर अपनी आंटी और सीमा का ध्यान रखना.

मैं बोला – ठीक है अंकल जी आप बिल्कुल भी फिकर मत करो मैं सबका ध्यान रखूँगा आप बे- फिकर हो कर जाइए.

जब मैं शाम को घर आया तो अंकल जा चुके थे, मैं फ्रेश हो कर अपने रूम मे बैठा तभी मेरे कमरे मे आंटी आई और वो बोली – बेटा आज तुम नीचे ही डिन्नर कर लेना हमारे साथ.

मैं बोला – ठीक है आंटी जी मैं आता हूँ थोड़ी देर तक.

रात हो चुकी थी मैं नीचे चला गया और आंटी सीमा और मैं तीनो बैठकर डिन्नर कर रहे थे. अभी मैने डिन्नर ख़तम ही किया था की तभी आंटी बोली – बेटा आज तुम नीचे दूसरे वाले कमरे मे सो जाना जिस कमरे मे तुम्हारे अंकल सोते है असल मे हम दोनो को अकेले डर लगता है रात को, हमने तुम्हारा बिस्तर लगा दिया है ओके बेटा.

मैं – कोई बात नही आंटी मैने तो सोना ही है चाहे मैं उपर सो जाउ या नीचे.

डिन्नर करने के बाद मैं बेडरूम मे आ गया और सारे दिन की थकान की वजह से मुझे जल्दी ही नींद आ गई. मैं बहोत गहरी नींद मे था की तभी मुझे लगा की कोई मेरे लंड को छेड़ रहा है. पहले मुझे लगा की शायद मैं कोई सपना देख रहा हूँ पर जब मुझे फिर से महसूस हुआ की कोई मेरा पैजाम खोल रहा है. तब मेरी आँख खुल गई और मैने चुपके से देखा तो सीमा बेड पर चढ़ कर बैठी हुई है और मेरे लंड को पैजामे से बाहर निकाल रही है.

More Sexy Stories  Marathi Sex Story – Anapekshit Laabh

मैने फिर से अपनी आँखें बंद कर ली और जान कर सोने का नाटक करने लग गया. मैं देखना चाहता था की ये साली कहातक जा सकती है. कुछ ही देर मे उसने मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसे उपर नीचे करने लग गई. मेरा लंड धीरे धीरे खड़ा होने लग गया कुछ देर अपने हाथो से खेलने के बाद उसने मेरा लंड अपने मूह मे डाल लिया और अपने मूह मे डाल कर उसे उपर नीचे करने लग गई, वो लंड को ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी मानो वो मेरे लंड मे से कुछ निकालना चाहती हो.

अब मुझसे और बर्दाश नही हो रहा था मैं तभी उठा और बोला – सीमा तुम ये क्या कर रही हो ?

सीमा – विक्रम तुम ज़्यादा भोले मत बनो तुम आज सुबह बाथरूम मे मेरे नाम की मूठ मार रहे थे मुझे सब पता है अब मैं खुद आ गई हूँ तुम्हारे पास चलो अब जल्दी करो जो करना है मेरे साथ तुमने.

मैं उसकी बात सुन कर हैरान हो गया मैं सोच रहा था की ये पागल क्या सोच रही है और फिर मैं बोला – तुम यहा से जाओ अगर तुम्हारी मम्मी ने मुझे तुम्हारे साथ इस टाइम देख लिया ना तो वो मुझे जान से मार देगी.
सीमा बोली – मम्मी की टेन्षन ना लो तुम, उन्हे तो मैं खुद देख लूँगी.

Pages: 1 2